बांग्ला एक्स एक्स बीएफ

छवि स्रोत,लड़की दीवानी लगे

तस्वीर का शीर्षक ,

अम्रपाली सेक्स: बांग्ला एक्स एक्स बीएफ, उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- आप कहां जा रहे हो जानू, यहीं रहो ना मेरे पास.

सोनी समाज की लड़कियां

और मैं 27 का हो चुका था तो मेरे घर वालों ने भी मेरे लिए लड़की खोजना शुरू कर दिया था. हिन्दी पिक्चर फिल्म तिरंगामगर इस निगोड़ी चूत को कौन समझाए कि अपने और पराए लंड में जरा तो शर्म करना सीख ले.

मैंने देखा कि भाभी गर्म हो चुकी थीं, भाभी का सेक्स जाग उठा था तो मैंने भी मौके पर चौका मारने का सोच लिया. सेक्सी बच्चेतभी अचानक से लाइट चली गयी और ब्लू फिल्म की सीडी प्लेयर के अंदर ही रह गयी।उसी वक़्त अचानक से ऑन्टी के पति का कॉल आ गया.

थोड़ी देर बाद बुआ उठकर तेल की शीशी ले आई और मेरे लंड पर मालिश करने लगी.बांग्ला एक्स एक्स बीएफ: फ़ज़लू ने शीरीं को घोड़ी बनाकर जब गांड में लंड घुसाया, तो शीरीं और फ़ज़लू दोनों के मुँह से आवाज निकलने लगी.

उसने बताया कि वो गोवा के कॉलेज में सेकंड इयर की स्टूडेंट है और उधर रूम लेकर रहती है.फिर मैंने उसकी बगल से हाथ डालकर उसको स्ट्रेच किया जिससे उसकी चूचियां मरे हाथ को टच होने लगी थीं.

सेक्सी वीडियो राजपूती - बांग्ला एक्स एक्स बीएफ

साथ ही मैंने एक हाथ से उसकी पैंटी उतार दी और धीरे से उसकी न्यू चूत सहलाने लगा.मैंने पीछे से उसके बाल पकड़े और उसकी चूत में लंड घुसा कर उसे चोदने लगा.

मैं फिर से अपने पोजीशन में आ गया और नीता की कमर पकड़ कर आधा लंड ही गांड के अन्दर बाहर करने लगा. बांग्ला एक्स एक्स बीएफ कुछ देर तक मेरा लौड़ा चूसने के बाद पॉल अब मेरे दोनों टट्टे मुँह में लेकर चूसने लगा.

उसने बताया कि वो गोवा के कॉलेज में सेकंड इयर की स्टूडेंट है और उधर रूम लेकर रहती है.

बांग्ला एक्स एक्स बीएफ?

अब मैं लंड अन्दर बाहर करने लगा; उसकी चूत में लंड के धक्के मारने लगा. अंजलि- आप अपने परिवार के बारे में बताइए … कौन-कौन हैं आपके परिवार में?मैं- मेरे परिवार में मैं, मेरी पत्नी और मेरे दो बच्चे हैं. अगर आप मेरी और मेरी जेठानी की एक साथ वाली चुदाई के बारे में जानना चाहते हैं, तो कमेंट में जरूर बताएगा.

मुझे ऐसे देख कर वो बोली- क्या देख रहे हो … नहीं लगती न मैं इतनी उम्र की?मैंने कहा- हां यार … इसका क्या राज़ है?सुहानी बोली- इसका राज़ है योग और आराम … और काम से काम. वो हंस कर बोली- और मैंने किस में पूछा कि कैसी लगी!मैंने कहा- चूसने में और चोदने में देखना बाकी है. बस तुम्हें थोड़ा इंतजार करना पड़ेगा ताकि मैं अपनी लाइफ में कुछ हासिल कर सकूं और तुम्हें अपनी बना कर घर ले जा सकूं.

वो भी पढ़ाई में इतना अच्छा नहीं था तो उसके मामा उसको डांटते रहते थे. इस Xxx फर्स्ट ऐनल सेक्स कहानी में आपको मेरा प्रस्तुतिकरण कैसा लगा, कृपया मेरे ईमेल पर बताएं. वो 69 के पोज़ में स्नेहा की चूत को चूसने लगा और स्नेहा को अपना लंड चुसाने लगा.

मैंने उसकी चूत सहलाते हुए एक उंगली चूत में डाल दी और अन्दर बाहर करने लगा. आज मैं कितनी उत्तेजित हो चुकी थी और उनको भी उस दाग से पूरा 100 टका पता चल गया हो कि मैं बहुत ज्यादा चुदासी हो चुकी हूं; मेरे अन्दर बहुत ज्यादा खुजली हो रही है.

मैं किसी नशे में उन्मत्त सांड की तरह अपने लंड को मां की गांड में पेलता रहा.

वो शीशे में खुद को देख कर थोड़ा मुस्करायी और फिर ड्राइंग रूम में जाकर उसने ड्रिंक के लिए गिलास बोतल सजा दिए.

दोस्ती का ख्याल आते ही मोहिनी ने अपने आप को एक बार शीशे में निहारा तो उसे खुद से ही प्यार हो गया. जब मैंने कारण पूछा तो उसने बताया- अभी आज ही हम इस लॉज में जाकर आए हैं, अगर कल फिर गए तो लॉज वाले भी सोचेंगे कि कितनी ठरक चढ़ी है दोनों को. एनल फक़ का मजा मैंने पहली बार दिया अपनी गर्लफ्रेंड की शादीशुदा सहेली को! उसने पहले कभी गांड नहीं मरवाई थी तो उसे दर्द हुआ पर बाद में उसने इसका मजा लिया.

मैं घुटनों के बल बैठा और मुस्कान की एक टांग को उठा कर अपनी जीभ मुस्कान की चूत में रगड़ने लगा. उसने अपनी एक उंगली मेरी चूत के ऊपर रख दी और उसे चूत के दोनों होंठों के बीच घुमाने लगा. कुछ देर मेरी गांड मारने के बाद उसने अपना पानी मेरी गांड में ही छोड़ दिया और लंड बाहर निकाल लिया.

दोस्तो, इस तरह से मैंने उन दोनों अजनबी मजदूरों से अपनी चूत और गांड की जबरदस्त चुदाई करवाई.

पुसी फिंगरिंग सेक्स कहानी में पढ़ें कि पूरी रात दो दोस्तों से चुदाई के बाद सुबह मैं उठी तो मेरे नंगे बदन पर वीर्य की पपड़ियाँ जमी हुई थी. तभी मेरे फोन पर नेहा का मैसेज आया- आज तू मेरे घर आ जा, घर पर कोई नहीं है. गीता हंस कर बोली- हां अब तो लड़ाई होनी ही चाहिये हर्षद … और जल्दी से चोदो, नहीं तो नीता नाश्ता लेकर आ जाएगी.

यह इरोटिक लव स्टोरी एक ऐसी लड़की के साथ सेक्स की है जिसे मैं 20 साल पहले मिला था. उन्होंने अपनी 4 सहेलियों से भी मेरा संपर्क करवाया था, जिनको मैंने चोदा था. पर फिर भी जैसे चुदाई में सब होना चाहिए था, वैसा कुछ नहीं हो पा रहा था.

मुझे पता है तुम्हारी उम्र के लड़के ये सब करते हैं, पर तुझे आज ये करते देख मैं दंग रह गयी क्योंकि तू कॉफ़ी भोला टाइप का है इसलिए.

सबने मिलकर डोंगरगढ़, बम्लेश्वरी माता मंदिर जाने का प्रोग्राम पक्का किया था. उन आंटी ने मेरा लंड कैसे लिया अपनी चूत में!दोस्तो, यह मेरे जीवन की सत्य कहानी है।यह हॉट MILF आंटी सेक्स कहानी उन दिनों की बात है जब आज से 18-19 साल पहले छोटे कस्बों और गांवों में मोबाइल फोन नहीं होते थे.

बांग्ला एक्स एक्स बीएफ फिर उसने ट्यूबवेल की हौदी की तरफ इशारा करते हुए कहा- देखो दीदी, ये होता गांव का स्विमिंग पूल. फूफा जी बोले- हां हां क्यों नहीं, जाओ खेतों में घूम आओ, तुम शहर के बच्चों को गांव की ताज़ी हवा कम ही मिलती है.

बांग्ला एक्स एक्स बीएफ दोनों हाथों को भाभी के पीछे ले जाकर मैंने उनकी ब्रा के हुक खोल दिए और ब्रा को साइड में रख दिया. थोड़ी नानुकुर के बाद मजबूरन उसने मेरे लंड के सुपारे को पहले होंठों से छुआ, मेरे लंड के सुपारे को अपने होंठों पर फिराने लगी, फिर जीभ से उसे छुआ और जीभ सुपारे पर घुमाने लगी, सुपारे को धीरे से चूसने लगी.

तब मैं सोचने लगा कि मेरी बहन वंदना और अंकित की सैटिंग चल रही है … और मुझे मालूम तक नहीं है.

क्सक्सक्स बांग्ला

बुआ की गांड का छेद अब खुल चुका था और लंड आसानी से सटा सट सटा सट अन्दर बाहर अन्दर बाहर कर रहा था. मैंने एक दूध को मुँह में भर लिया और जोर से चूसने लगा जिससे मामी की आह निकल गई. मैंने उसकी बात से सहमति जताई कि हां अन्तर्वासना पर सेक्स का मजा लेना बहुत ही आनन्ददायक है.

मैंने अपना हाथ आगे किया, उसने भी हाथ मिला कर कहा- अगर तुमने मेरे घर को छोड़ दिया, तब तुम जैसे कहोगे, मैं वैसा करूंगी. अपनी जीभ उसके होंठों पर फेरते हुए मैं उसे किस कर रहा था और हम एक दूसरे में खो चुके थे. फ़ज़लू मियां के पास 9 इंच का लौड़ा था और शीरीं की चूत के नाम छोटा सा चीरा लगा था, जिसे और चीर कर लंड के लिए भोसड़ा बनना बाकी था.

वो तो मेरे होंठों से वह दबी थी, अन्यथा चीख की आवाज पूरे घर में चली जाती.

अभी लंड का सुपारा ही अन्दर गया होगा कि उसने कराह कर कहा- आंह … बस जीजू … रुको थोड़ा. मैंने अपने हाथ में थूक लेकर नीता की गांड के छेद पर मल दिया और थोड़ा सा थूक उंगली में लगा कर उसकी गांड के छेद मे डालकर अन्दर से भी मल दिया. अब नेहा से रहा नहीं जा रहा था, उसने मुझे अपनी गांड उठाकर इशारा कर दिया.

पॉल ने बिना किसी शिकायत अपनी बीवी के मुँह से मेरा मूत भी निगल लिया. और जैसे ही लॉकडाउन खुला, उसके अगले दिन ही मैं उससे उसके बताए हुए पते पर मिलने पहुंच गया. मेरे कंधे पर पैर रखते ही सोनी की बुर की दरार खुल सी गयी और मैंने बुर के निचले हिस्से में अपनी जीभ को नुकीला बना कर घुसेड़ दिया.

अपने वादे के मुताबिक़ मैंने उस रात को भी दारू के जाम का मज़ा लेते हुए रीना और उसके गांडू पति पॉल की जमकर चुदाई की. अर्णव उसे लगातार चूम रहा था, मोहिनी की पीठ पर लगातार चुम्बनों की बरसात कर रहा था.

उसने मेरी काफी तारीफ की और बात बात में बोला- मैं रोज आपके देर से आने पर भी आपकी अटेंडेन्स लगाता हूँ. मैंने फिर से अमित को आवाज़ दी, तो वो जैसे नींद से जाग गया और मुझसे बात करने लगा. फिर मैं भाभी के पेटीकोट से बाहर आ गया और भाभी मेरी गर्दन में अपने दोनों हाथ डाल कर मुझे स्मूच करने लगीं.

थोड़ी देर बाद मैंने अपने हाथ से उसकी पीठ पर दबाव बनाया और उसकी पीठ को दबा दिया ताकि उसकी बुर थोड़ी बाहर की तरफ आ जाए.

जैसे ही सोनी फिर से अपना हाथ योनि पर रखने गयी, मैंने उसके दोनों हाथों को पकड़ लिया और उसकी बुर के भगनासे के ठीक ऊपर बालों वाले हिस्से को चूम लिया. तो मैंने भी अपने कपड़े उतार कर फेंक दिये और उसका लण्ड पकड़ कर सहलाने लगी, पेल्हड़ भी चूमने लगी. ऐसे ही एक बार मम्मी सुबह से ही बहुत उत्तेजित हो रही थीं और प्यार भरे गीत गुनगुना कर काम कर रही थीं.

मैंने अपने लंड पर थूक लगाया और लंड को चूत पर सैट करके एक झटके में ही पेल दिया. मैं अभी अपने घर के नीचे थी और पार्किंग में बिल्कुल मदहोशी में चूत में उंगली करवा रही थी.

जैसे तैसे मैंने अपना खाना खाया और मुंबई जाने की तैयारी करके सो गया. हो सकता है आप में से कुछ पाठकों ये सब गलत लगे, पर आप सबमें से कुछ लोगो के साथ तो ऐसा जरूर हुआ होगा कि अपनी रिश्तेदारी में ही किसी पर दिल आ गया होगा … या कम से कम अच्छा तो लगने लगा होगा. ऐसा नहीं था कि मुझे लौड़ा नहीं चाहिए था … मेरी फुद्दी पूरी तरह से गीली हो चुकी थी.

इंडियन हिंदी बीएफ वीडियो

लेकिन जब तक चूत में लंड नहीं घुस जाता, तब तक कुछ भी कहना ठीक नहीं था.

मुझे भी देर करना ठीक नहीं लगा तो मैंने अपने होंठों से सोनी के होंठों को लॉक किया और धीरे धीरे लंड को सोनी की बुर में घुसाने लगा. मैंने अपनी मां को बहुत मना किया लेकिन वो नहीं मानीं और उन्होंने उसे अगले हफ्ते भेजने के लिए कह दिया. मैंने ब्रा डाली ही नहीं थी और ना ही पैंटी पहनी थीफिर मैंने हल्के पीले रंग का ब्लाउज पहना जो हमेशा की तरह स्लीवलेस और बैकलेस था.

मैं समझ गया कि भैया ने भाभी को चोदना छोड़ रखा है इसलिए भाभी की चूत लंड के लिए तरस रही है. तब नीता ने उसे अपनी जकड़ से आजाद कर दिया और वो बाजू होकर गीता की गांड सहलाने लगी. हिंदी मूवी डाउनलोडिंगफिर उसने अपने लंड को मेरी चूत में रगड़ा और झटके से लंड अन्दर पेल दिया.

मैंने उन्हें गाल पर काट लिया और कहा- अब तुम्हें रोज मेरे लंड से चुदना पड़ेगा. तभी अमित मेरे ऊपर आया और उसने मुझे राकेश के ऊपर थोड़ा सा और झुका दिया.

अब आगे पोर्न चूत की चुदाई कहानी:मैंने सर की गोलियों को भी खूब चूसा और अपने मुँह में लेकर उन्हें तर कर दिया. आपा पूरी तरह से मुझसे चिपक गई थीं, उनके मुँह से बस कुछ ही शब्द निकल रहे थे- आंह भाई ओ भाई हां भाई चोद आह आह आह. फिर भैया ने मैनेजर से पूछा कि यहां कोई जगह है, जहां बेबी कपड़े बदल सके?मैनेजर ने कहा कि नहीं सर, ये तो बस एक रेस्टोरेंट है.

मैंने उसके ऊपर झुककर उसके दोनों स्तन अपने दोनों हाथों से मसलते हुए कहा- नीता, मेरा शैतान पूरा तुम्हारे बिल में घुस चुका है. उस समय 3 बज रहे थे, तो मैंने रीमा से कहा- यार चलो मूवी देखने चलते हैं. उस दिन मम्मी तो सारे दिन से अपनी चाहत दिखाती ही रहती थीं कि उनकी मस्त चुदाई हो.

मैंने अदिति को सोफे पर लिटा दिया और उसकी चूत पर ढेर सारी क्रीम टपका दी.

मैंने देखा कि जॉन और सुदिति किस कर रहे थे और जॉन सुदिति के बूब्स दबा रहा था. दोस्तो, आज मैं जो आपको गाँव की लड़की की चूत चुदाई कहानी सुनाने जा रहा हूँ, वो एक सच्ची घटना पर आधारित है.

एक बार बातों को विश्राम देकर दोनों ने कपड़े पहने और कमरे से बाहर निकल कर दरवाजा को लॉक कर दिया. मैंने नाराज़ होकर उससे कहा- यार, तुझे मुझसे मिलना ही नहीं है तो मना कर दो न. तो मैंने उसको रिप्लाई किया- आपका बहुत बहुत शुक्रिया कि आपको मेरी कहानी पसंद आई.

मुझे लग रहा था कि वो मेरी चुदाई की बात सुनकर मुझसे गुस्सा हो जाएगी. उसने उनकी फोटो भी खींच के पीटर को भेज दी।पीटर का निर्देश था कि मुझे नशे में धुत्त करना है इसलिए सलीम बीयर की बोतल लाया था, उसने मुझे वो पिलाई. [emailprotected]लेख्किका की पिछली कहानी थी:मैंने अपने अब्बू की बीवी को चोद दिया.

बांग्ला एक्स एक्स बीएफ मगर मेरे भी जिस्म में आग है, अब मैं इसे कैसे बुझाऊं, इसलिए ये सब करती हूँ. इसलिए मैंने इंटरनेट से पहली बार चुदाई के कई वीडियोज डाउनलोड किए और उन्हें ध्यान से देखा, कई बार देखा.

देसी भाभी एमएमएस

अभी मैं अपने मुँह में जीभ का अहसास कर ही रहा था था कि भाभी का हाथ मेरे लौड़े पर आ गया था. इसी के साथ मैं अपने कंठ से उत्तेजना भरी आवाज निकालने लगी- उफ्फ उफ भैया, चोदो मुझे … और ज़ोर से भैया … और तेज़ … भैया फक़ मी … प्लीजचोद डालो अपनी बहना को… अहह फक मी!मेरी कामुक आवाजें मेरे भैया के उत्साह को बढ़ावा देने में लगी थीं. खैर … मैं संगीत के लिए बहुत ज्यादा गम्भीर हूँ, इसलिए संगीत के समय कुछ और नहीं सोचता.

उनके जाने के दो दिन बाद मेरे घर का पाइप टूट गया, मेरे पूरे बाथरूम से पानी बाहर निकलने लगा. मैंने हाथ हटाया तो उन्होंने कराहती हुई आवाज में कहा- रागिनी के भैया के लंड से आपकालंड मोटा हैइसीलिए मुझे तकलीफ हुई. सेकसिविडियपॉल अब भी रीना की गांड अपनी जीभ से चोद रहा था और मेरा लौड़ा उसकी बीवी की चूत की मां चोद रहा था.

मैं बोला- ठीक मैडम आप बाबूलाल को जगाओ … वो फिर से परीक्षा देने को तैयार है.

उसने पूछा- क्या कर रही हैं दीदी?मैंने भी चुदास भरे स्वर में कहा- मैं अभी छत पर नंगी लेटी हुई हूँ. लेकिन फिर थोड़ी देर बाद मैं बिल्कुल उसकी पीठ से चिपक कर बैठा था और वो स्कूटी चला रही थी.

मैंने उसके मम्मों को ब्रा के ऊपर से मसलने के साथ साथ उसकी ब्रा को खोल दिया. सर के लंड से निकले वीर्य का स्वाद पहली बार में मुझे बड़ा अजीब सा लगा मगर मैं गटक गई. फ्रेंड्स, अर्णव और मोहिनी की दबी हुई वासना को इस सेक्स कहानी के माध्यम से आप मजा ले रहे थे.

मोहिनी भी अर्णव से ख़ासा इम्प्रेस थी और चोर निगाहों से उसे देख रही थी.

मैं पूरे जोर से अपना लंड रीना के बच्चेदानी के अन्दर घुसाते हुए गुर्राने लगा और उस नर्म नर्म मख़मली स्पर्श का स्वर्गसुख लेते हुए रीना के बच्चेदानी में अपने वीर्य की बौछार करने लगा. मैंने कहा- ब्रा में लोशन लग जाएगा तो ख़राब हो जाएगी, पैंटी आलरेडी ख़राब हो गयी है. Xxx लेडी टीचर सेक्स कहानी में मैंने एक स्कूल की प्रिंसिपल को उसके घर में आगे पीछे से चोदा.

लड़कियों का नंगा डांसधीरे धीरे उसने अपने हाथ को ऊपर उठाना शुरू कर दिया और मेरी चूत के चारों ओर घुमाने लगा. मैंने देखा कि पिंकू मुझे जोर जोर से किस कर रही है और अपनी गांड धीरे-धीरे ऊपर नीचे करने लगी।मैं उसका इशारा समझ गया, फिर मैंने धीरे धीरे उस की चुदाई शुरू कर दी.

मारवाड़ी देहाती बीएफ

पर मैंने तुरंत ही दूसरे धक्के के साथ अपना पूरा लंड रसिका भाभी की चूत के अन्दर कर दिया. कमरे में कपड़े बदलते हुए वो बोली- चन्दन, अगर एक बात कहूँ, तो बुरा मत मानना. आज मैंने उसके मम्मों को चूसा तो कुछ अलग बात थी बल्कि अभी तक छुआ तक नहीं था.

तीसरे दिन मैं सो रहा था तो मैंने पाया कि रानू दीदी का हाथ मेरे लंड के ऊपर है और वो उसे मसल रही है. मैंने उसकी तरफ देखा, तो उसने खेद जताने के अंदाज में कहना शुरू किया. शुरू में वो हर दो महीने मुझे चोदने आया करते थे पर मेरी प्यास दो महीने में एक बार से कहां बुझने वाली थी.

मैंने वहां से खिसकने का सोचा लेकिन जैसे ही मैं खिसक रहा था, हफ्ज़ा ने मुझे पकड़ लिया. मैं अब कुछ हद तक उसके बारे में सोचने लगी और वो अहसास मेरे लिए नया था तो वो मुझे उस अकेलेपन की आदत लगने लगी. साथ ही मैंने अपने लंड पर भी वैसलीन लगा ली और लंड का सुपारा उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

मोहिनी के मुँह से मादक सिसकारियां निकल रही थीं, उसकी आंखें बंद थीं. शैली की आंखों में देख कर लगा कि वो चाहती तो थी साथ में सोना, पर मेरे मना करने के कारण आगे कुछ नहीं कह पाई.

उसने अपने दोनों हाथों में मेरा मूसल जैसा लंड पकड़ लिया और सहलाने लगी.

मैं जान बूझकर सनी को जलाने के लिए राजीव की गोद में बैठ जाती थी और राजीव को बोलती- सनी के जीजू, मेरी गांड में बहुत खुजली हो रही है. मां बेटे की ब्लू पिक्चर हिंदी मेंअब गीता मेरी तरफ गांड करके नीचे झुककर अपने घुटनों और पैरों को साबुन लगाने लगी तो मेरा तना हुआ लंड उसकी गांड के छेद पर रगड़ने लगा. सनी लियोन का ओपन सेक्सी वीडियोमैं डॉगी बन गयी और उसने अपना लंड फिर से मेरी गांड में डाल कर चुदाई शुरू कर दी. आंटी ने मम्मी से कहा- आज भाईसाहब ऑफिस नहीं गए क्या?मम्मी बोलीं- वो गए तो हैं!आंटी बोलीं- मुझे तो वो रूम में लेटे हुए दिख रहे हैं.

वहां क्या हुआ?मेरा नाम आकाश है और मैं उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ.

जैसे मैं लड़खड़ा कर चल रही थी, उससे मेरे बूब्स उछल उछल कर मेरे टॉप से बाहर आ रहे थे और मेरी गोल मटोल गांड मेरी स्कर्ट से दिख रही थी. जब उसने झुक कर पैंटी को अपनी टांगों से बाहर निकाली तो उसके झूलते बूब्स को देख कर रिक्की पागल ही हो गया था. बहुत सोचने के बाद मैंने खुद अपनी मां के साथ चिपक कर उनको जिस्मानी गर्मी देने का सोचा.

मेरे पापा एक कॉलेज में प्रोफेसर हैं और पापा कस्टम में जॉब करते हैं. आज कुछ ज्यादा ही जल्दी में थी लड़की!जब मैं मज़ाक में बोला- क्या बात है? आज कुछ ज्यादा ही जल्दी में हो?तो सोनी भी मुस्कुराती हुई बोली- आज पूरा मज़ा लेना है ना इसलिए. रात के लगभग 8:00 बज गए, मैंने और पिंकू ने साथ में खाना खाया इसके बाद टीवी देखने लगे।मैंने टीवी पर एक हॉरर फिल्म लगा दी जिससे पिंकू को डर लगने लगा और वह उठकर मेरे पास आकर बैठ गई.

बिलासपुर के बीएफ

कुछ देर बाद मेरा भी काम रस निकल गया।मैं समझ चुका था कि मेरी प्यारी पिंकू को भी लंड की जरूरत है. इन्द्रेश अंकल मज़े से मम्मी की बड़ी बड़ी चूचियों का आनन्द उठाने लगे. आपने सारे मजे ले लिए हैं, तो क्या मुझे मौका नहीं दोगे?मैं- हां जान क्यों नहीं दूँगा.

मैंने रीमा को अपनी तरफ थोड़ा खींच लिया जिससे मेरा लंड रीमा की गांड के बीच में घुस गया.

मैं ज़ोर-ज़ोर से आवाज़ कर रही थी और साथ में मुझे चुदते हुए मज़ा भी आ रहा था.

लेकिन यह मेरा पहला अनुभव होने कारण में कुछ देर तक ऐसे ही निढाल होकर बिस्तर पर पड़ा रहा. मेरे मुँह में भी दूसरा लंड घुसा होने से मेरी आवाज नहीं निकल पा रही थी. नंगी सीरियलमैंने आंटी को खिड़की की तरफ सर करके लिटाया हुआ था जिस वजह से आंटी को खिड़की की तरफ का कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था.

जब तक मेरे लंड की एक एक बूँद नहीं निकल गई तब तक मैंने अपना लंड मुँह से बाहर नहीं निकाला. उसके बाद उसने भी अपने कपड़े उतार दिए और अपने लंड को मेरे मुँह में डाल दिया. उनमें से एक ने मुझे मुँह खोलने का इशारा किया तो मैंने खुशी खुशी उसके लौड़े को अपने मुँह में ले लिया और उसे लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

कुछ देर बाद जॉन ने लंड चूत से निकाला और सुदिति की गांड में चपत मारकर उसे चौपाया बनने का कहा. अब सोनी ने मेरा सर कसकर अपनी योनि पर जोर से दबा दिया जिससे मुझे सांस लेने में दिक्कत होने लगी.

उसने मेरे सामने अपने पढ़ाई के और पुराने अनुभव के कुछ सर्टिफिकेट रख दिए.

उनकी इस हरकत से मैंने खुद पर से अपना आपा खो दिया और उनकी तरफ घूम कर अपने लबों को उनके लबों में घुसा दिया. ऑफिस से ही हम मुंबई के लिए रवाना होने वाले थे, इसलिए हमारा सामान भी हमारे साथ ही था. कुछ देर किस करने के बाद मैं उसे बेड पर सीधा लिटा कर सीधे उसकी चूत चाटने लगा।पिंकू की प्यारी चूत एक फूल की तरह थी जिसमें गुलाबी पंखुड़ियां दिखाई दे रही थी, अब पिंकू भी गर्म होने लगी और अपने हाथों से मेरे सर को दबाने लगी।मुझे उसकी चूत चाटने में बहुत मजा आ रहा था.

कॉल गर्ल लड़कियों के नंबर मैंने देखा कि सुदिति के बाल बिखरे हुए थे और वह पसीने में नहाई हुई थी. मैंने अपनी कामुक सिसकारियों को धीरे धीरे निकाल रही थी क्योंकि बाहर सब आते जाते रहते थे.

अंकित ने हैरान होकर कहा- तू उसका भाई है, एक बार फिर से सोच ले … तू अपनी बहन को चोदेगा?मैंने कहा- मुझे वो बहुत हॉट माल लगती है. अम्मी को लंड पर बैठाकर गंदी गंदी गालियां देते हुए उछालने की, मेरे लंड से चुदते वक़्त अम्मी के चहरे पर कामुक भाव देखने की, जिसके लिए मैं रोज़ कुछ न कुछ नया तरीका अपनाता. मोहिनी को ये सब पसंद आया और उसके मुँह से बरबस ही निकल गया- बड़ी ही बढ़िया जगह है, आपकी पसंद मुझे भी पसंद आई.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी चोदा चोदी

हमने खुलकर एक दूसरे को अपनी बातें बता दीं और मुझे लगा कि पॉल और रीना वही जोड़ा है, जिसकी तलाश में मैं इतने दिनों से था. मैंने अनजान बनते हुए कहा- क्या पहली बार … किस बारे में बात कर रही हो तुम?दीदी ने कहा- बड़ी हूं तेरे से और तेरे से ज्यादा एक्सपीरियंस है मुझे … अब चल तुझे सुसु करवा लाऊं, तुझसे तो चला नहीं जाएगा. मैं अपने दोनों हाथों से उसकी गांड को पकड़कर उठाने लगा, तो दोनों तरफ से उंगलियों से खींचने के कारण नीता की गांड का छेद खुलने लगा था.

जॉन उसकी चूत में अपना पूरा लंड झटके से डाल रहा था और उसकी गांड पर जोर से थप्पड़ मार रहा था. अब वो बेड से नीचे उतरकर बोली- हर्षद चलो बाथरूम में जाकर फ्रेश होते हैं.

नमस्ते दोस्तो, मैं आपकी अपनी अंजलि भाभी, जामनगर, गुजरात से हूं।उम्र 32 साल एक घरेलू महिला हूं लेकिन हूं बिल्कुल ठरकी। मुझे हर बार एक नया लन्ड चाहिए होता है।मैंने अपनी सारी इंट्रो पहली कहानी में दे दी थी।मेरी पहली कहानीबुर की सील की डील टीचर सेआपने पढ़ी होगी।उसमें मैंने बताया था कि कैसे मैं एक कमसिन लड़की अपनी मॉम का ठरकपन देखते हुए बड़ी हो रही थी।यह Xxx माँ बेटी सेक्स कहानी बहुत समय पहले की है.

फिर हमारे बीच हालात बनते चले गए और सपना भाभी मेरे लंड के नीचे आने को मचल गईं. मैंने अभी अपने एक हाथ को अपने भाई के जिस्म पर लपेटा था और मैं उसके रिएक्शन का इन्तजार कर रही थी. इस पर वो मुझे काफी कुछ उल्टा सीधा बोलती रहीं, मैं चुपचाप उनकी सारी बातें सुनता रहा.

मैं उनकी गोद से उठी, तो सर ने अपना मुँह बढ़ा कर मेरी एक चूची को अपने मुँह में भर लिया. अब हर बार जब भी मैं अपनी चुत में उंगली करती, तो मुझे अपना बड़ा भाई ही नज़र आता. उसे मैंने बाथरूम में पूरी नंगी देख लिया तो मेरा मन उसे चोदने का हो गया.

दोस्तो, अब मेरी देसी चूत का पानी की कहानी में आपको मजा आने लगा होगा.

बांग्ला एक्स एक्स बीएफ: जब मैंने पूछा- अब इस तरह क्यों रो रही हो?तब उसने रोते रोते बताया कि मेरे पास दौलत, शोहरत, नाम सब कुछ है. हालांकि मैं भी चाहती थी कि मेरी चूत और गांड आज चुद चुद कर फट जाए पर उनको यह सब अभी नहीं पता था.

मुझे दीदी के मुँह से ये बात सुनकर कुछ अच्छा सा लगने लगा था कि चलो भाई के साथ ये होता है. भाभी ने पूछा- देवर जी आजकल किसके ख्यालों में खोए रहते हो?मैंने कहा- भाभी कोई नहीं है, बस ऐसे ही पढ़ाई की ही टैंशन रहती है. मैं उसकी चूचियों पर किस करने लगा तो उससे रहा नहीं गया, उसने मुझे तुरंत अलग करके बेड से सहारा लेकर अपनी पीठ को थोड़ा उठा लिया और अपनी शर्ट उतारने लगी.

अब हाल ये था कि रेशमा और किरण एक दूसरे पर विपरीत दिशा में लेटी थीं.

तय दिन पर इधर से मैं और उधर से रीना और पॉल भी गोवा के लिए रवाना हो चुके थे. उस देख कर मन किया कि इस बला की तो जीवन में एक बार चुदाई जरूर की जानी चाहिए. अब गर्लफ्रेंड की गांड फक़ में मजा आने लगा था, तो वो भी जोर जोर से अपनी गांड से लंड पर धक्के मारने लगी थी.