बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी

छवि स्रोत,साड़ी वाली औरत की चुदाई बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

ओपन सेक्सी बीपी पिक्चर: बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी, फिर आबिदा ने कहा- अब मुझसे रहा नहीं जाता, प्लीज़ अब मुझे चोद दो जल्दी… प्लीज़ अब कंट्रोल नहीं होता!आबिदा ने अलमारी से कण्डोम का पैकेट निकाला और उसमें से एक कण्डोम निकालकर मेरे लंड पर लगाया.

बीएफ छोटी लड़की की

अच्छा सुमन सब हो गया या कुछ और भी लेना है?सुमन- मुझे क्या पता पापा. हिंदी बोलने वाला बीएफ वीडियोये खड़ा होकर अच्छे ख़ासे इंसान को सोचने पे मजबूर कर देता है।वही हाल संजय का हुआ.

तभी उनकी कुंडली में वो दोष आया होगा। एक बात बताओ तुम्हारी उससे लड़ाई क्यों हुई थी?सुधीर- अब क्या बताऊं उसका जुनून इतना बढ़ गया था कि एक दिनमेरी छोटी बहनके बारे में वो गंदी बात कहने लगा। बस मैंने भी उसको जमा दिया एक और जब से हम अलग हो गए। उस दिन के बाद मैंने उसे देखा ही नहीं है।मोना- छी: गोपाल इतना गंदा है. सेक्सी बीएफ हिंदी देहाती एचडीअब मेरा लंड मुझे भी लम्बा लग रहा था, लंड के टोपे की स्किन अपने आप पीछे रहने लगी थी.

और वैसे भी अब मेरे हाथ दुखने लगे हैं।टीना ने थोड़े गुस्से में ये कहा तो मॉंटी डर गया और चुपचाप कैप्री पहन कर सो गया क्योंकि अंडरवियर को पहनने के लिए टीना ने उसको मना किया था।टीना को पता था उसने मॉंटी के अन्दर के मर्द को जगा दिया है, अब उसको सुकून नहीं मिलेगा मगर वो अपने भाई के साथ ये सब नहीं करना चाहती थी.बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी: मैं बड़ी मुश्किल से उनको अंदर लेकर गई और ससुर जी को कहा- पिता जी, आप जाओ, मैं फूफा जी का लिटा कर आ जाती हूँ.

’‘हाँ सविता इसे नरम होंठों से सहलाओ न… तुम्हारे ये बड़े-बड़े दूध से भरे थैले भी बाहर आना चाहते हैं.तब मैं लंड चूस रही थी और दूध वाला मेरे बाल पकड़ कर मुँह में लंड ठूंस रहा था.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ सेक्सी - बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी

क्या आप भी मेरे साथ किसी से चुदना चाहती हो?मैंने भी सब शर्म भूल कर साफ़ शब्दों में कहा- हाँ जिस डिलीवरी बॉय का लंड तूने चूसा था.यह देखने के लिए की वह कौन सी वीडियो देखने में इतनी लीन थी, मैं कंप्यूटर के सामने गया तो मेरे होश उड़ गए और मेरा सिर चक्कर खाने लगा तथा मेरा शरीर पसीने से भीग गया.

मैं चाहता था कि सुमित जल्दी से फारिग हो ताकि मैं कीकू को चोदने का मज़ा ले सकूँ. बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी जो भी बात है खुल कर बताओ, चाहे कैसी भी बात हो?सुधीर- अब क्या बताऊं उसने तो सारे ही काम ग़लत किए हैं.

मैंने एकाएक लंड को पीछे लाकर जोरदार धक्का दिया जिससे मेरा लंड उसकी चूत में पूरा चला गया.

बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी?

अनिता के मम्मे एकदम उठे हुए और उन पर हल्के भूरे नोकदार निप्पल जैसे कोई सुई की नोक जैसे नुकीले हों. अपने बन्दों की नुमाइश के लिए कभी गुलफाम कली उनके पास भी जाती तब वे लोग उसकी चूचियों को ऊपर से ही दबा कर आनन्द प्राप्त कर लेते थे. इसमें 10 भी हो तो बड़ी बात नहीं।मेरे प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी इस सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स कर सकते हैं.

पर मैंने उनको पकड़ लिया। कुछ देर की पीढ़ा के बाद भाभी ने मेरे लंड को अपनी चुत में ले लिया. साधु बाबा ने उनकी कुंडली देख कर बताया था मगर उन्होंने बस इशारा दिया था, अब बाकी की बात आप मुझे बताओ ताकि मैं उसका इलाज ढूँढ सकूं और उनकी जान बचा सकूं. शालू मेरे सिर को पकड़ कर चुत के अन्दर घुसी मेरी जीभ का मजा लेने लगी.

जब वाइब्रेटर रिया के चुत में घुसाया था तो उसके चहरे पे काफी सेक्सी हावभाव दिख रहे थे. प्लीज़ मोना आप बताओ आप कौन हो और इसका कोई उपाय तो होगा?दोस्तो, सुधीर एक बाबाजी का पक्का भगत है और ये कुंडली वगैरह में बहुत ज़्यादा यकीन रखता है, तभी तो उसने मोना की बात एक झटके में मान ली. अब उन्होंने पैरों पर जाने को कहा तो मैं उनके पेटीकोट को घुटनों तक उठाकर पैरों की मालिश करने लगा.

ह्ह्हह…’ की आवाज करने लगी।पूरा कमरा पिंकी की सिसकारियों व कराहों से गूंज रहा था।पिंकी अब मेरा पूरा साथ दे रही थी, मेरे साथ साथ उसकी कमर भी अब तेजी से चलने लगी थी। पिंकी ने अब खुद ही ऊपर हो कर मेरे होंठों को अपने मुँह में ले लिया था और उन्हें जोर से चूसने चाटने लगी, कुछ देर तक ऐसे ही हमारी धक्कमपेल चलती रही जिससे हम दोनों की ही साँसें फूल गई और बदन पसीने से भीगने लगे. गलत होता है।मैं वहाँ से भाग आया।फिर 2-3 दिन मैं उनके घर खेलने नहीं गया तो उन्होंने मुझे बुला कर प्यार करते हुए कहा- अपनी चाची से गुस्सा हो गया मेरा बेटा.

अब मेरी बात सुन… जीजू के पास जाकर धीरे-धीरे उनके पैर दबा और वो मेरे बारे में पूछें तो कहना मैं बाहर किसी काम से गई हुई हूँ.

अन्तर्वासना के पाठक पाठिकाओं को नमस्कार!मैं रसिया बालम आप पाठकों के लिये अपनी नई कहानी लाया हूँ.

उसने कहा- ये बात… अब आ रहा है मज़ा…कहकर उसने पूरा लंड मेरे घुसेड़ना चाहा लेकिन इतना बड़ा लंड अंदर जाता कैसे? इसलिए मेरी सांस घुटने लगी… पूरा घुसेड़ने के बाद भी उसका रॉड जैसा लंड 3 इंच तक बाहर ही था… मेरी आँखों से पानी आना शुरु हो गया. मैं- ऐसा क्या कर दिया मैंने जो तू शाम से जल रही है? जरा मुझे भी तो पता चले?मानसी- तूने जब से मेरे होठों को चूसा है, मैं तब से जल रही हूँ. मैं समझ गया कि मेघा मेरे सामने किसी और से चुदना चाहती है और मुझे भी चोदते देखना चाहती है.

हैलो दोस्तो… एक गांड की गे सेक्स स्टोरी भेज रहा हूँ।इस शहर में मैं चार वर्ष और रहा मैंने बी. वह थोड़ा छटपटाई और उसकी चीख भी निकली- उईई ईई मार डाला रे आह्ह्ह उईई आआह्ह! बाहर निकाल दो! मुझसे और दर्द… आह्ह्ह… बर्दाश्त नहीं होता!अब मैंनेअपना लंड पूरी ताकत से उसकी चूत में घुसा दियाऔर जोर-जोर के धक्के लगाने शुरू कर दिए! कुछ देर बाद वो शांत हो गई और मेरे लंड का पूरा मज़ा लेने लगी. तो तुझे पता नहीं था। अब तू बड़ी हो गई है तब मज़ा आ रहा है और जोर से करूँ तो और मज़ा आएगा तुझे।पूजा- आह.

जैसे ही वो बाथरूम से बाहर आई मैंने उसको कस कर पकड़ लिया और किस करने लगा। हम दोनों एक दूसरे को पागलों की तरह चूम रहे थे, ऐसा लग रहा था कि पता नहीं वो कब की प्यासी है।तभी बेल बजी और हम अलग हुए, बाहर देखा तो वेटर खाना लेकर आया था।हम दोनों ने मिलकर खाना खाया.

उसके बाद हमें जब भी कभी मौका मिलता, हम लोग किस कर लेते, कभी कभी मैं उसकी चूची भी दबा देता जिससे वो चिहुँक जाती. तो सबीना बोली- एक पैक और रखा है, खा लेना, क्यों भूखा मर रहा है, तेरा मस्ताना तो खा ही रहा है आइसक्रीम!फिर जमीला मस्ताना के टोपे से आइसक्रीम खा रही थी और सबीना जमीला की चूत से. ’ करने लगी। मैं लगभग 5 मिनट उसकी चुत चूसने के बाद उसकी क्लिट पर अपनी जीभ फेरने लगा, इससे वो पूरा मदहोशी में आ गई और सीत्कारियाँ भरने लगी।मैं फुल स्पीड में उसकी क्लिट पर अपनी जीभ लपलपाते हुए चला रहा था, वो मस्ती में ‘उई.

मैं नंगा खड़ा था, ऋतु आगे आई और मेरा लंड पकड़कर मुझे अपने रूम में ले गई और अपनी नंगी सहेलियों के सामने ले जा कर खड़ा कर दिया. सब मज़े से बियर गटक रहे थे।संजय ने अजय को इशारा किया कि वो प्लान को शुरू करे।अजय- अरे यार सब ऐसे चुप क्यों हो. बड़े चाचा ने कहा- ठीक है, माता जी पिता जी को जब तक चाहें यहीं रख लीजिये.

मौसी थोड़ी से पीछे को हुई, तो मैंने उसके दोनों बोबे पकड़ लिए और खूब ज़ोर से दबाये, जितना मुझे जोश आता, मैं उतनी ज़ोर से दबाता.

मगर जैसे ही उसने पीटर के होंठ अपने होटों पे महसूस किए तो उसने पीटर मुँह पे चांटा मार दिया और कहा- थोड़ी देर रुक नहीं सकते? बच्चे हो? चुपचाप बैठे रहो. वो भी मुझ से काफी हद तक खुल गई थी लेकिन वो मुझे अपने दोस्त से ज्यादा कुछ नहीं मानती थी.

बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी कुछ देर में चाय पी कर मैं वहाँ से निकल गया, बाजार जा कर सब्जी खरीद कर माँ को दे आया फिर अपने कमरे में जा कर मोबाइल में बी एफ देखने लगा. फिर मैं बाहर निकला और मेरा फ्रेंड अन्दर घुसा और वो भी सीमा को चोद कर बाहर निकल आया.

बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी टीना- हा हा हा तुम दोनों ऐसे नंगे-पुँगे कितने अजीब लग रहे हो हा हा हा. फिर हम दोनों ने साथ में शावर लिया और एक दूसरे को अच्छी तरह साफ़ किया और कपड़े पहन लिए और मैंने घड़ी में देखा तो करीब 4 बज रहे थे.

मामा ज़बरदस्ती मेरा सर पकड़ कर मेरे मुँह में लंड सटाने लगे, मामा एक हाथ से अपना लंड पकड़े हुए थे और दूसरे हाथ से मेरा सर, मेरे मुँह को मामा जी का लंड छूने लगा, मामा जी के लंड से एक मादक सी, कामुकता भरी खुशबू आ रही थी जैसे मामा जी रात में चुदाई के बाद लंड साफ ना किया और लंड में लगा हुआ रस लंड पे ही सूख गया हो.

छोटी बच्ची का नाम

उस अँधेरे में अगर मैं कुछ मिस कर रहा था तो उसके चेहरे के भाव जिसे न तो वो देख पा रही थी न ही मैं!उसके हाथ मेरी पीठ पर इस तरह मुझको दबोचे हुए थे कि बस मुझे पूरा का पूरा वो अपने अंदर खींच लेना चाहती हो और मैं भी उसके कंधों को पकड़ कर धक्कों पर धक्के लगा रहा था. मेरी बात को बीच में ही काटते हुए वो बोला- तो दूर क्यों खड़ा है आकर ले ले ना मुंह में!यह कह कर वो तीनों हंसने लगे. फ्लॉरा क्या सोचेगी कुछ अक़ल है कि नहीं तुम लोगों में? और टीना तू भी इनके साथ शुरू हो गई?टीना- अरे मैंने क्या किया है.

वह किचन से एक कटोरी में तेल भर लाया मैंने कोमल को पेट के बल लेटने को कहा, कोमल पेट के बल लेट गई उसकी गोल खरबूजे जैसी गान्ड ऊपर की तरफ हो गई. मुझे समझ नहीं आया कि वो दोनों क्या कर रहे थे?मैं उनको देख ही रही थी कि मुझे लगा कि मेरी सुसु वाली जगह गीली हो गई और वहाँ कुछ चिपचिपा हो गया है. जब कुछ देर बाद उसकी चुत में लंड एड्जस्ट हुआ तो उसकी चुत में करंट पैदा होने लगा और उसको थोड़ा मज़ा आने लगा.

रोहित काफी उत्तेजित हो गया, उसने भी अपने हाथों से मेरी चूचियों को उमेठना शुरू कर दिया.

वो मुस्कुराने लगे और पेंट के अन्दर हाथ डाल कर लंड को हाथों से सहला रहे थे।बात आई-गई हो गई।फिर एक माह बाद गर्मी की छुट्टियाँ शुरू हो गईं. मगर मज़ा बहुत ज़्यादा आ रहा था… मेरी गीली चूत कुछ ही देर में लंड को आसानी से अंदर बाहर करने लगी और पूरा लंड मेरी चूत में चला गया. मैंने जब उसे देखा तो मेरे होश उड़ गए, उस वक्त वो किसी जन्नत की परी जैसी लग रही थी.

फिर मैं अपना लंबा और मोटा लंड उनकी चुत पर रगड़ने लगा, वो जोश से सिसकियां भर रही थीं और अपने होंठ चबा रही थीं. फिर उसको चेंज करने को कहा। उसको थोड़ी मलहम वगैरह दे दी। बात खत्म हो गई और चुदाई का राज छुप गया।दोपहर को संजय आया तो पूजा के लिए मेडिकल से कुछ जरूरी दवा और ट्यूब ले आया ताकि चुदाई की तकलीफ़ कम हो और कोई बच्चा ना ठहर जाए। अब ये तो जरूरी चीजें है जो संजय जैसे लड़के को ध्यान में रहती ही हैं।शारदा- अरे आ गया तू. थोड़ी देर बाद मैं और भी मस्त हो गई और साथ देने के लिए अपनी गांड पीछे धकेलने लगी.

उसने अपने चूतड़ थोड़ा उठाए और मैंने जीन्स को निकाल दिया। अब वो ब्लैक कलर को पेंटी में बड़ी ही खूबसूरत लग रही थी। मैंने ऊपर से उसकी चुत के ऊपर हाथ फेरा. पर कहते हैं ना किचुदाई की आगलगी हो तो चूत अपने लिए लंड का इंतज़ाम खुद ही कर लेती है और ये सब बहुत ही आसान है आज के वक्त में एक चूत के लिए.

सुमन आ रही है वो सुन लेगी।अनीता- हाँ मेरी बातें तो आपको बकवास ही लगेंगी ना, अच्छा मैं चलती हूँ, मुझे तो नई ब्रा लेनी है, आप जाओ अपनी प्यारी बेटी के साथ।गुलशन- रूको तुम सही कह रही हो, सुमन को भी नई ब्रा-पेंटी ले लेनी चाहिए। मैं पानी लेकर वहाँ खड़ा हो जाऊंगा, तुम उसको साथ ले जाना और जो चाहिए उसको दिला देना।अनीता- ये हुई ना बात. बाथरूम जाने से पहले मैं जल्दी जल्दी में केवल पेंटी और टॉप ही पहन पाई थी क्योंकि बाथरूम से वापस आने के बाद चुदाई ही करवानी थी. अनिता- आह… आ पापा आह… चोदो आह अब मज़ा आने लगा आह… चोदो अपनी सौतेली बेटी को… आह… आ आह.

मैंने फ्रेंची को पलटकर देखा तो उसमें उसका सफेद वीर्य जो सूख चुका था, वो भी लगा हुआ था.

उसके बाद वह दादा जी और दादी जी के कमरे में चली गई और मैं अपने कमरे में जा कर अपने सभी कपड़े उतार कर नग्न ही बिस्तर पर लेट गया. नमस्कारमोना रानी के शब्द समाप्ततो पाठक पाठिकाओ, आपने इस इंडियन चूत चुदाई कहानी में पढ़ा कि कैसे इस बदमाश मोनारानी ने अपने पति के सामने मुझसे चुदाई का सपना पूरा किया. मैं बार-बार उनके मम्मों को देख रहा था और और वो मेरे फूले हुए लंड को देख रही थीं.

तू हर बार उल्टी बात करता है।सुमन- अरे आप अब झगड़ो मत, और चलो टाइम हो गया है।यहाँ भी ऐसा कुछ नहीं हुआ जो बताऊं तो जाने दो। गोपाल घर आ गया होगा उसी के पास देख आते हैं शायद कोई काम की बात मिले।मोना तो पूरी रात की चुदाई से थकी हुई थी तो मस्त सो रही थी। जब गोपाल आया तो उसे जगाया और पूछा कि क्या हुआ।मोना- कुछ नहीं. दो मिनट तक चूत को चाटने के बाद मुझे लगा कि अब मौके पर चौका मार ही देना चाहिए, मैं खड़ा हो गया, मैंने एक सेक्स स्टोरी में पढ़ा था कि पहली बार सेक्स करने वक्त कमर के नीचे तकिया लगा देना चाहिए, तो मैंने उनकी कमर के नीचे तकिया लगा दिया.

सुमन ने मॉंटी को खड़ा ही रखा और खुद घुटनों के बल बैठ कर उसके लंड को फिर से चूसने लगी. फरीदा टाँगें चौड़ी किये पड़ी थी और सुमित बैठा हुआ गहरी गहरी सांसें ले रहा था. मुझे मजबूरन उसको पीना पड़ा क्योंकि और कोई चारा था ही नहीं मेरे पास!उसके दोस्त नशे में धुत हो चुके थे, उन्होंने मुझे अपनी तरफ खींचा और अपनी गोद में लेटाकर मेरी गांड पर हाथ फेरने लगे, दूसरे ने मेरी पैंट निकाल दी और अंडरवियर को फाड़ दिया.

सेक्सी फिल्म पिक्चर सेक्सी फिल्म

कुल मिलाकर वो मस्त माल दिखती हैं।लगभग 3 साल पहले की बात है, सर्दी का मौसम था, मेरे भैया और भाभी में कुछ झगड़ा हो गया था, मेरी भाभी अपने कमरे में सोने नहीं गई। भैया-भाभी छत पर बने कमरे में सोते थे। मैं एक तख्त पर कम्बल ओढ़कर सोया हुआ था। भाभी भी एक कम्बल लेकर आईं और मेरे बगल में सो गईं। हम दोनों अलग-अलग कम्बलों में सोए हुए थे.

ये मेरी टीचर की चुदाई की रियल सेक्स स्टोरी आपको अच्छी लगी हो तो मेल करो या मुझे फ़ेसबुक पर मैसेज करो. मैं रुचिका की दोनों चूचियों को बारी बारी सहला सहला कर चूस रहा था, रुचिका भी भरपूर मज़ा ले रही थी. अर्ध-नग्न माला जब मेरे पास से बाहर निकलने लगी तब मैंने थोड़ा से आगे सरक कर अपने लोहे जैसे सख्त लिंग को उसके जिस्म के साथ रगड़ने दिया.

वो लम्बी-2 सिसकारियाँ ले रही थी और बड़बड़ा रही थी ‘आआ… आआह… रोहन…म्म्म्म म्म्म…’मैंने उसके दाने को अपने दांत में लेकर काटना शुरू कर दिया तो ऋतु पागल ही हो गई. अब इसका मतलब ये थोड़े ही है कि पार्टी एंजाय ना करें।संजय- यही तो इसको मैं कब से समझा रहा हूँ मगर ये समझती ही नहीं।टीना- तुम तो चुप ही रहो. xxx.iii वीडियो एचडी बीएफइस तरह तीन लड़कों ने एक साथ दो घंटों तक उसे तरह तरह से पोर्न फिल्म की स्टाइल में चोदा फिर अपना पानी भी उसके बालों में मुंह में चूत में गांड में सब जगह भर दिया.

मैंने विक्की की तरफ घूर कर देखा तो विक्की सहमता हुआ बोला- मैं चलता हूँ. उन्होंने मेडम से थोड़ी यहाँ वहाँ की बातें कीं और मेरे बारे में पूछने लगीं कि इसे कैसे जानती हो, लगता है कोई क्लोज रिलेशन है?मेडम ने मुझे अपना दोस्त बताया.

और कहा- चल इसी खुशी में मैं भी तेरा चूत चाट देती हूं।अब हम 69 की मुद्रा में एक दूसरी का चूत चाट रही थी, चूत चाटने का मेरा पहला अनुभव था, शायद कोमल भी पहली बार चाट रही थी, पर मैं चूत बहुत ही साफ रखती थी इसलिए कोमल इत्मीनान से चूत चाटने लगी, और किसी लड़की की जीभ पाकर मेरी चूत भी बौरा उठी, मचलने लगी, मैं खुद से ही अपनी कमर उसके मुंह मे दबाने लगी और कोमल की चूत से पेशाब और योनि रस की गंध आ रही थी. मैं जल्दी से उसे चाटने और पीने लगा और जब पूरा चाटकर साफ़ कर दिया तो पीछे हटकर देखा तो ऋतु का शरीर बेजान सा पड़ा था और उसकी अधखुली आँखें और मुस्कुराता हुआ चेहरा हल्की रोशनी में गजब का लग रहा था. ‘अब आ तो गया ना… आज की सारी रात कल का सारा दिन और रात तुम्हारे पास रहूँगा!’ मैंने बोला और मैक्सी के ऊपर से ही उसके मम्में दबोच के उन्हें मसलने लगा.

सुमन ने उसको टाइट्ली हग किया फिर उसने मॉंटी के लंड को देखा, जो एकदम अकड़ा हुआ था. पीटर ने अब बड़े ही सलीक़े से मेरी चुत और गांड को चाटना चालू किया और मैंने उसका पूरा लंड चूसना चालू किया। इस बीच मैं दो बार झड़ गई. वह खुद तो स्खलित हो जाते थे लेकिन उन्होंने मुझे एक बार क्या, कभी भी स्खलित नहीं किया था.

तू निकला भी तो गांडू!वह मुझे तरह तरह की गालियाँ दे रही थी और मैं चुपचाप सुन रहा था.

मेरे साथ ही मनोज भी सुलेखा को घोड़ी बना कर चोद रहा था, अरमान भी नेहा की चूत को चोदने में व्यस्त था. वो बोला- हाय रै संदीप… जी सा आ ग्या यार… घी सा घल ग्या…(मजा़ आ गया यार…इसकी गांड में लंड डालकर)कह कर उसने दोनों हाथ मेरी बगल में दोनों ओर टिका दिए और मेरे ऊपर दबाव बनाता हुआ मेरी गांड को चोदने लगा.

संजय का लंड उसके हाथ में आ गया, जोकि लोहे जैसा सख़्त और गर्म था। लंड का स्पर्श पाते ही वो घबरा गई और जल्दी से उठ गई।संजय को कुछ करने का मौका भी नहीं मिला. ’ बोला और पूछा- कौन?उन्होंने बोला- मैं तान्या की सहेली शिवानी बोल रही हूँ. अगले पन्द्रह मिनट में पहले मध्यम गति से, फिर तीव्र गति से और अंत में अत्यंत तीव्र गति से धक्के लगाते हुए मैंने चाची को चरम सीमा तक पहुंचा कर उनके योनि रस का स्खलन करवा दिया.

देख के मुझे तो कोई ख़ास आनन्द नहीं आया बल्कि गुस्सा आया कि जितने उत्साह से वो फरीद को चोद रहा है, वो उत्साह मुझे चोदने के टाइम कहाँ चला जाता है!खैर!जो टाइम फिक्स हुआ था सही उस वक़्त राजे आ गया. !सोनी- ठीक है उसको बोल दूँगी।सौरभ- भाभी को कब चुदवाएगी?सोनी- अगली बार जब तू आएगा तो चुदवा दूँगी।सौरभ- तूने कभी गांड भी मरवाई है?सोनी- हाँ. मैं बेड पर दीवार से पीठ लगा कर बैठ गया और टाँगें फैला ली और रफीक मेरे आगे टांगों के बीच में पेट के बल लेट के मस्ताना के टोपे को चाटने लगा और फिर पूरे लण्ड पर जीभ फिराने लगा और उसके बाद नीचे गोलियों को चाटते हुए चूसने लगा और फिर नीचे जीभ ले जाकर मेरी गांड के छेद को भी चाटने लगा.

बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी जब मैंने चूत पे हाथ डाला तो सारा रस सुख गया था और मेरी चूत में चिपचिपाहट सी लग रही थी. तो वो कहने लगी- उसकी कोई भी समस्या नहीं है, तुम मेरे पहन कर अपने बाल साफ़ करा लो और ​फिर घर पर जाते वापस अपनी ब्रा पैंटी पहन लेना या फिर बाथरूम में जाकर पूरी नंगी होकर बाल साफ करा लो और फिर हाथ मुंह धोकर वापस अपने कपड़े पहन कर बाहर आ जाना.

न्यू गोल्डन की जोड़ी

कुछ ही पलों के बाद भाभी भी अपने चूतड़ आगे-पीछे करके चुत चुदाई के मजे ले रही थीं. मेरी चूत में बिल्कुल जगह नहीं थी फिर भी वो मेरी चूत में अपना लंड घुसाने में तुला हुआ था. मेरी नंगी गांड को देखकर दूसरे दोस्त ने मेरी गांड पर हाथ फिराना शुरु कर दिया.

मेरा ध्यान अब उसके लंड पर नहीं लग रहा था…वो फिर गुस्से में बोला- साली रंडी, मन भर गया क्या तेरा मेरा लंड पकड़ते-पकड़ते? नखरे मत कर और चुपचाप मेरी पैंट की चेन खोल!मैंने कुछ ना बोलते हुए चलती बाइक पर उसकी पैंट की जिप खोल दी. मेरा इशारा समझ कर माला मेरी कमर के दोनों ओर टांगें कर के नीचे हुई और मेरे लिंग को हाथ से पकड़ कर अपनी योनि के मुंह की सीध में कर के उस पर बैठ धीरे से दबाव दिया. लाइव वीडियो बीएफफिर मैडम नीचे से कमर उठाने लगीं और मुझे जोर से पकड़ कर दबाने लगीं, बोलीं- अशोक ओह ओह ओह अशोक, अब मैं झड़ने वाली हूँ.

मैंने उसे अपनी बाहुओं में ले कर उसके गालों और होंठों चूमते हुए पूछा- क्या हुआ?अपनी आँखों से निकले आंसुओं को पोंछती हुई माला बोली- आपका बहुत लम्बा और मोटा है.

भले ही तेरे लंड में जान नहीं है, उफ़फ्फ़ मगर तू चूसना अच्छे से जानता है। काश तू भी काका की तरह मर्द होता तो बेचारी राधा को तड़पना ना पड़ता।काका- अरे ये अगर मर्द होता, तो कहाँ मेरे से चुदती. पर मैंने उसे समझाया कि पहली बार में थोड़ी ब्लीडिंग और दर्द होता है, मगर अब ऐसा नहीं होगा.

अब वह झड़ रहा था। फिर वो ढीला पड़ गया और अलग होकर लेट गया। अब तक पांच बज गए थे. कुछ देर बाद मुझे आवाज सुनाई दी, मैंने आँखें खोली तो देखा कि मरीज के साथ जो महिला आई थी, वो मुझे जगा रही है. मॉम ने चुप कराया और बोली- तू भी गांडू ही है और मैं रंडी… हम दोनों के राज एक दूसरे को मालूम हैं, इसलिए राज को राज रहने दे बेटा!मैं मान गया और मुस्कराता हुआ बाहर आया।सब बोले- कैसा माल था? मजा आया चोद के?मैं- मस्त धांसू माल था यार… क्या चूत थी!मजा आ गया साली को चोद के!यह कह कर हम सब हँस पड़े और घर को आ गए।शाम को 8 बजे राकेश का काल आया- कैसी थी रांड?मैं- कहा तो था कि मस्त थी.

‘आआअह… इस्स… काटो मत यार… दर्द हो रहा है… आआह… मेरी चूत में आग लगी है… कुछ करो न…!’‘तो गाड़ी रोको और उन पेड़ों के झुण्ड में चलो.

अंडरवियर सारा दिन पहने रहेंगे, तो लंड को आराम कैसे मिलेगा?टीना- पता है मेरे जानू. उसकी चूत में लंड रगड़ने से उसके मुँह से आह-आह, शह्ह अह अह्ह्ह अह्ह्ह की आवाज़ें निकलने लगी और उसने अपनी आँखें बंद कर ली. मैं नीचे जाकर आता हूँ।संजय नीचे चैक करने गया था कि उसकी मॉम सोई या नहीं और उसके पापा तो अपने काम के चक्कर में रात को ही आते हैं और एक काम वाली है, जो शायद आज आई नहीं, तो संजय की लाइन क्लियर थी। उसकी मॉम खर्राटे मार रही थीं.

हिंदी में बीएफ साड़ी वालामैंने उनके मम्मों को जोर-जोर से दबाते हुए जोर-जोर से झटके मारे। बस 10 मिनट की जोरदार चुदाई के बाद मैं मामी की चूत के अन्दर ही झड़ गया। मामी अब तक दो बार झड़ चुकी थीं। मैंने अपना लंड ऐसे हीमामी की चूतके अन्दर रख के लेट गया. इस बार बाथरूम में माला के नग्न शरीर के भरपूर दीदार हो जाने के कारण मेरा लिंग तन कर खड़ा हो गया था जिसे ना तो मैंने छिपाने की और ना ही दबाने की चेष्टा करी.

अंग्रेजों की सेक्सी अंग्रेजों की

मैं धीरे-धीरे लंड चूसती रही और भाई का लंड देखते ही देखते 7 इंच लम्बा और काफी मोटा हो गया। भाई ने एक बार फिर मेरे पूरे शरीर पर किस किया और मेरी बुर को चूसने लगे।मैं फिर से पागल होने लगी। भाई ने अपने थूक से मेरी बुर को एकदम गीला कर दिया। फिर भाई ने अपने लंड के ऊपर भी थूक लगा लिया और मेरी बुर के ऊपर अपने लंड को रगड़ने लगे।मुझे बहुत मजा आ रहा था लेकिन तभी भाई ने अपना लंड मेरी बुर में डालने की कोशिश की. इससे आपको समझ आ गया होगा कि अब सुमन के रंडी बनने की घड़ी नज़दीक आ रही हैं. आंटी सीत्कार करने लगीं और उन्होंने बोला- तुम तो मेरी फैन्टेसी को पूरा समझ गए.

वो बोलीं- मैंने कब मना किया? तुम बिल्कुल फ्री हो, जो चाहो करो!फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में होकर एक-दूसरे का आइटम चूस रहे थे. मेरे मम्मों को चूसते भी रहे।थोड़ी देर बाद जब मैं नार्मल हुई, तब भाई ने कहा- प्रमिला अब दर्द तो नहीं हो रहा?मैंने कहा- नहीं हो रहा।भाई ने फिर से अपना लंड मेरी बुर में डाला. जमीला ने भी मुझे मस्ताना उसकी चुचियों के बीच घुसाने को बोली तो अब मैंने मस्ताना को जमीला की चुचियों में घुसा दिया.

उसी अवस्था में उसने अपने हाथ से मेरे पैर फैलाए और मेरी समझ में आने से पहले ही वो 11 इंची वाइब्रेटर मेरे चुत से सटा दिया. सुबह मैं अचानक जब नींद खुली तो मैंने कमरे में कुछ आवाज सुनीं, मैंने फिर से अन्दर देखा तो देखा कि वो टीवी को चालू कर रहा था. मैं इस सेक्सी चुत की कहानी में स्नेहा जैन को बता रहा था कि चूत चाटने से सारा जमा रस निकल जाता है और मुंहासे ठीक हो जाते हैं.

गुलशन जी अब हावड़ा मेल की स्पीड से चुदाई करने लगे थे और अनिता इस हमले को सह नहीं पाई, उसकी चुत का झरना बहने लगा. तभी सामने से स्वान ने आकर अपना डिल्डो मेरी वाइफ के मुंह में घुसेड़ दिया.

कभी कभी मेरे निप्पल को काट लेता और मैं दर्द के मरे सिहर सी जाती मगर मुझे मजा भी आ रहा था।धीरे धीरे वो निचे की तरफ चला गया और मेरी चूत को चाटने लगा.

मैंने हिम्मत करके मूवी चला दी, स्टार्टिंग में मूवी में लड़की लड़के का लंड चूस रही थी और भाबी उस मूवी को खूब ध्यान से देख रही थीं। मैं भाबी को देख रहा था. बीएफ ओरिजिनल बीएफ30 बजे का टाइम था, सड़क पर ट्रकों के सिवा और कोई वाहन नहीं चल रहा था. फिल्म सेक्स बीएफथोड़ी देर बाद फ्लॉरा बाहर आई, उसने पिंक टी-शर्ट और ब्लू कॅप्री पहनी हुई थी. घर आकर शाम को जब मेरे पति आये तो उन्होंने आते ही पूछा- चुद आई?तो मैंने मुस्कुरा कर मना कर दिया- मैं तो गई नहीं!तो वो बोले- मैं मान नहीं सकता कि तुम ना गई हो, तुम्हारी चाल ही बता रही है कि आज जम कर चुदाई हुई है.

वो कभी उसको किस करता तो कभी कपड़ों के ऊपर से अनिता के मम्मों को दबाते.

थोड़ी देर के बाद वो शांत हो गई और मैंने फिर से एक करारा झटका मारा तो मेरा 7 इंच का पूरा लंड उस रंडी की गांड में जड़ तक घुस गया. आपके साथ सोऊंगी तो अच्छी नींद आएगी। फिर आपके साथ मस्ती करने का आज मेरा मन भी बहुत कर रहा है। एक बार आपकी फुन्नी दिखाओ ना मुझे!संजय- अरे बदमाश कहीं की. जब भी मैं उनके घर जाता या वे लोग मेरे घर आते तो हरामज़ादी लाइन मारा करती थी.

और दरवाजा बंद करके उसे गोद में उठा कर बिस्तर तक ले गया। जहाँ उसके नरम गुलाबी होंठों की पंखुड़ियों को बारी-बारी से चूसना चूमना चालू किया, उसने भी मेरा पूरा साथ दिया। मैं उसकी चूचियों को कभी दबाता कभी सहलाता. दीदी बोलीं- तुम क्या चाहते हो?मैंने सीधा बोल दिया कि मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ. अभी भी कभी जब वो मेरे घर आती है, तो मौका मिलने पर हम चुदाई कर लेते हैं.

अमेरिका सेक्सी एचडी वीडियो

मेरा लंड अन्दर-बाहर होता हुआ दीदी की चुत की गहराइयों तक जा-आ रहा था. मॉंटी को चूत चूसना, चुदाई करना ये सब नहीं पता था, मगर ये जो लंड होता है ना. com/koi-mil-gaya/koi-mil-gaya-bhai-ka-karnama/भाई का लंड तो काफी बड़ा है और सुन्दर भी!ऋतु- हाँ शायद… क्योंकि मैंने कभी और किसी का लंड तो देखा नहीं है… ले दे के सिर्फ अपना डिल्डो ही है जिससे हम भाई के लंड को तौल सकते हैं.

मगर सुमन ने तो ठान लिया था कि जब-जब उसको मौका मिलेगा, वो अपने पापा को सिड्यूस करती रहेगी.

मैंने उन्हें खड़ा होने का इशारा किया तो उन्होंने खड़े होते ही मेरा बरमूडा भी निकाल दिया और उनकी नाईटी भी नीचे गिर गई.

मैंने चूत पर नीचे हल्का सा दबाव महसूस किया और इतने में लंड फच से चूत के अन्दर घुस गया. गोवा में क्या करती थी घर के बारे में दोस्तों के बारे में!संजय- हाँ सही है. एक्स एक्स एक्स हिंदी पिक्चर बीएफजग्गी ने मेरे मुंह में लंड दिया और पीछे से राजू और संदीप ने एक साथ अपने लौड़े मेरी गांड में धकेल दिये, मैं दर्द के मारे बेहोश हो गया.

अब उनका लंड चुत में बराबर अड्जस्ट हो गया था और अनिता को भी होश आने लगा था. अब मैं रफीक के पीछे और जमीला के मुँह के पास आया और एक बार जमीला से मस्ताना और टट्टे चटवाये और खुद जमीला ने मस्ताना को पकड़ कर अपनी उंगली निकाली और मस्ताना का टोपा टिका दिया. दोनों जवानों ने क्षण भर की रूकावट के बाद दुबारा मोटे लंडों को गुलाबी गांड में धकेल दिया और उसकी डबल गांड चुदाई में ब्यस्त हो गए.

ये सेक्स स्टोरी मेरी और मेरे चाचा की लड़की की है, जिसका नाम शिवानी है. और चूचे दबाता रहा। फिर मैंने दीदी का ब्लाउज उतार दिया। वो काले कलर की ब्रा पहने हुई थी.

उस हालत में जब मैंने माला की आंखों में आँखें डाल कर देखा तब उनकी मदहोशी ने मुझे संसर्ग शुरू करने के लिए प्रेरित कर दिया.

फिर मैंने पूछा- मेरे सवाल का अभी तक अपने जबाव नहीं दिया, मैं उसी दिन से परेशान हूँ. वो मजबूर थी, इस लिए वो सारा दिन घर का काम भी करती और माँ ताने भी सुनती. रफीक सबीना की चूत से मुँह हटाकर चीखते हुए- बहन की लौड़ी सबीना, क्यों अपने भाई की गांड के चीथड़े इस हब्शी लण्ड मस्ताना से करवाना चाहती है, फाड़ दी मेरी गांड मादरचोद भोसड़ी वाले अहःहःहः…जमीला- देखा तेरी चुदक्कड़ बहन को कैसे भाई की गांड फड़वा रही है, अब गण्डवे तुम भीअपनी बहन की गांडको फड़वाने के लिए तैयार करो.

कच्ची लड़कियों की बीएफ इन सब का फ़ौरन असर हुआ और उसकी बुर फिर से पनिया गई और मेरे लंड को लगा कि चूत की गिरफ्त कुछ ढीली हुई है. मैंने कहा- लेकिन…उन्होंने कहा- लगता है कि तुम्हें एकहॉट सी गर्लफ्रेंडबनानी पड़ेगी.

संजय का लंड उसके हाथ में आ गया, जोकि लोहे जैसा सख़्त और गर्म था। लंड का स्पर्श पाते ही वो घबरा गई और जल्दी से उठ गई।संजय को कुछ करने का मौका भी नहीं मिला. आज मैं फिर वास्तविक देसी सेक्स कहानी लेकर आपके सामने हूँ… आशा करता हूँ कि आप लोगों लोगों को पसंद आएगी. सुमन आ रही है वो सुन लेगी।अनीता- हाँ मेरी बातें तो आपको बकवास ही लगेंगी ना, अच्छा मैं चलती हूँ, मुझे तो नई ब्रा लेनी है, आप जाओ अपनी प्यारी बेटी के साथ।गुलशन- रूको तुम सही कह रही हो, सुमन को भी नई ब्रा-पेंटी ले लेनी चाहिए। मैं पानी लेकर वहाँ खड़ा हो जाऊंगा, तुम उसको साथ ले जाना और जो चाहिए उसको दिला देना।अनीता- ये हुई ना बात.

भूतनाथ पिक्चर

अब वो मुझसे सट कर बैठ गईं और अपने बोबे मेरी बाजू से लगा कर रेडियो को देखने लगीं। मैं उनके सख़्त बोबे अपनी बाजुओं पर दबते हुए साफ़ महसूस कर रहा था. फिर मैंने सोचा कि अभी नहीं, रात को पूरे मजे करेंगे क्योंकि अभी कोई आ सकता है. थोड़ी देर बाद मेरा भी लंड माल निकालने वाला हुआ तो मैंने आंटी को हटाने के कोशिश की.

संदीप बोला- अब, डाल अपना लौड़ा…तो राजू ने दोबारा अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया…लेकिन अगले ही पल जो हुआ वो मैंने सपने में भी नहीं सोचा था… राजू को थोड़ा साइड में करते हुए संदीप ने उसको एक पल रोकते हुए अपना लंड भी राजू के लंड के साथ मेरी गांड के छेद पर लगा दिया. इसलिए उसने कमर पर दबाव बनाया और धीरे-धीरे लौड़ा आगे खिसकाना शुरू किया.

जिसे मैंने साफ़ भी नहीं किया था।तो उसके मन में पता नहीं क्या चल रहा था कि वो मुझे देखकर मुस्कुराई।मुझे लगा कि इसको चोदने के लिए मेरा रास्ता साफ़ हो गया है.

डांस का अपना मज़ा है और टीना तुम कुछ नहीं बोल रही हो?टीना- क्या बोलूँ यार. मगर गोल-गोल संतरे जैसे थे और उन पे छोटे से निपल्स बड़े लुभावने लग रहे थे. तो आकाश बोला- ठीक है, कल तुम वहीं मिलना जहाँ मिलते हैं!अगले दिन मेरे पति जाते ही मैं भी आकाश से मिलने चल दी, जब आकाश से मिली तो वो एकदम तैयार होकर आया था.

वो लड़का धीरे से अपनी गांड को हरकत देता हुआ आगे पीछे हो रहा था जैसे उसके हाथ को चूत समझकर चोद रहा हो. !फिर मैं अपने टॉप को नीचे से पकड़ कर ऊपर की ओर उठाने लगी तो रोहन बिस्तर पे उठ बैठा. सुड़क सुड़क… सुड़क सुड़क… सुड़क सुड़क…राजे बहुत ज़ोर से निचोड़ता था जिसमें थोड़ा दर्द तो होता मगर मज़ा बहुत आ रहा था.

ये ग़लत है प्लीज़।मैंने उन्हें नहीं छोड़ा और उन्हें टाइट पकड़ कर किस करने लगा। एक मिनट के बाद थोड़ा रिप्लाइ देकर वो फिर से अलग हो गईं।मैं- आंटी अब तो हमने किस कर लिए हैं.

बीएफ ट्रिपल एक्स एचडी: इस तरह तीन लड़कों ने एक साथ दो घंटों तक उसे तरह तरह से पोर्न फिल्म की स्टाइल में चोदा फिर अपना पानी भी उसके बालों में मुंह में चूत में गांड में सब जगह भर दिया. नीचे से नताशा की गांड लेते हुए चंगेज़ ने उसकी जांघें पकड़, ऊपर को उठाते हुए नताशा की चुदाई फैक्ट्री को किसी हुक्के की तरह ऊपर को उठा दिया, जिससे गांड में अन्दर-बाहर होते हुए दो भयानक, मोटे लंड और सरलता के साथ घपा-घप गोरी-गुलाबी गांड को चोदने लग गए.

एकदम चुदास भड़काने वाली अदा!बोली- अब ये काम भी मैं करूंगी राजे बाबू? तुम ही कर लो न, जो करना चाहते… मुझे तो जल्दी से अपना लिंग दिखाओ. डॉक्टर आंटी के क्लीनिक में रिसेप्शन पर एक 18-20 साल की गोरी चिट्टी, सेक्सी, बड़े चुचों वाली नर्स बैठी होती थी, जो सफ़ेद टाइट शर्ट और काली टाइट पैंट की यूनिफार्म में होती थी. पार्टी बिना ड्रिंक के अच्छी नहीं लगती और हमारे गोवा में तो नॉर्मली ही ड्रिंक कर लेते हैं।वीरू- आप तो बिल्कुल हमारे टाइप की हो.

संजय का लंड उसके हाथ में आ गया, जोकि लोहे जैसा सख़्त और गर्म था। लंड का स्पर्श पाते ही वो घबरा गई और जल्दी से उठ गई।संजय को कुछ करने का मौका भी नहीं मिला.

अगले दिन सुबह ही हमारे घर की घंटी बजी तो मैं उठ कर गेट खोलने चली गई क्योंकि उस वक़्त हम दोनों ही सो रही थी. उसका पजामे में से खड़ा लंड मेरे पिछवाड़े से रगड़ रहा था।वह मुँह से बार-बार ‘हाय जॅानी. यह बात तब की है जब मैं मात्र 18 वर्ष का था, परन्तु शरीर से तगड़ा था.