बीएफ लड़का लड़की

छवि स्रोत,और की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

ইন্ডিয়া সেক্স ভিডিও: बीएफ लड़का लड़की, नौकरानी ने मुझसे बोला- ठीक है, मैं शाम को काम करने के लिए तभी आऊंगी.

लड़की की चूत दिखाओ

उसकी चूत का द्वार मेरी पहुंच के बहुत करीब था जिसको मैं हर हाल में पाना चाहता था इसलिए मैंने अपने लंड को उसकी चूत के मुहाने पर हल्का सा घिसा और फिर अन्दर की तरफ धकेलने लगा तो मेरे लंड का सुपाड़ा उसकी चूत में घुसते समय कहीं जैसे अटक सा गया. માં બેટે કિ ચૂદાઇमेरी जीभ ने सीधा वहीं दस्तक दी और गांड के छेद के अन्दर बाहर जीभ होने लगी.

मैंने अपने हाथ उसकी कमर पर ही घुमाने शुरू किए और धीरे-धीरे उसका शरीर मेरे हाथ की थिरकन पर नाचने लगा. वीडियो सेक्सी ब्लू सेक्सीलेकिन वैभव ने उसके लिए एक शर्त रखी थी … और वो शर्त ये थी कि वैभव खुशी को स्वैपिंग के लिए कह रहा था.

मेरी बात सुनकर राधिका मेरी ओर देखने लगी तो मैंने उसे घोड़ी बनने को कहा ताकि सोनल उसके चूतड़ों पर चपत लगा सके.बीएफ लड़का लड़की: उसके लंड टोपा मेरी गांड के अभी अन्दर गया ही था कि मैं आगे को हो गयी.

दोस्तो, मैं आपका रवि खन्ना, एक बार फिर से नीरजा के बाद अमीषी की पलंग तोड़ चुदाई का अगला भाग लेकर हाजिर हूँ.इसी बीच कब मेरी साड़ी का पल्लू नीचे सरक गया और कब मेरी 36″ की बड़ी-बड़ी रसीली चूचियां बॉस को दिखने लगी मुझे पता नहीं चला.

होत सेक्स - बीएफ लड़का लड़की

इस चुदाई ने हम दोनों को इस सुख को फिर से एक बार लेने को तैयार कर दिया था.उनका गोरा बदन, उन्नत और सुडौल उभार, एकदम सुर्ख गुलाबी होंठ, स्लिम ट्रिम बॉडी, इसको देख कर पूरे ऑफिस के एक एक मर्द का लंड खड़ा हो जाता.

इतना खुलापन होने के बावजूद भी मैंने कभी भी अपनी सौतेली मां को गलत नजर से नहीं देखा था. बीएफ लड़का लड़की मेरा भी निकलने वाला था, नीचे से झटके मारते हुए मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.

अब साली जी नीचे से कमर उछाल उछाल कर मेरे लंड से लोहा लेने लगीं थीं और मैं भी पूरे जोश के साथ उनकी चूत की चटनी बनाने लगा.

बीएफ लड़का लड़की?

उसके होंठों को जोर से किस करने लगा और फिर एक झटके में अपना पूरा लिंग उसकी योनि में प्रवेश करा दिया।उसकी आंखों से आंसू चल कर बाहर गिरने लगे। फिर मैं उसी अवस्था में उसके ऊपर लेट गया। लगभग दो मिनट के बाद मैंने धीरे-धीरे धक्का लगाना शुरू कर दिया। मेरे धक्कों से धीरे-धीरे उसको मजा आने लगा और वह भी मेरा साथ देने लगी. मैंने कोमलता से वसुन्धरा को बेड पर ले जा कर बिठा दिया और खुद नीचे क़ालीन पर घुटनों के बल बैठ गया. सरिता- क्या कहा अंकल … 100 रुपये?मैं- हां पूरे 100 रुपये, पर इस बार शर्त भी बहुत कठिन होगी.

वो फिर से गर्म हो गयी और लण्ड को जोर जोर से हिलाते हुए बोली- मनमीत, जल्दी से डाल दो … अब इंतजार नहीं होता!फिर उसको सीधा लिटा कर जैसे ही उसकी चूत पर लण्ड लगाया, वो फिर से सिसकारने लगी. उसने अपनी ड्रेस न पहन कर वार्डरोब से मेरी एक शर्ट पहन ली थी और नीचे सिर्फ पैंटी में थी. चूंकि ठण्ड थी इसलिए मुझे उनका इस तरह की पतली नाइटी पहनना एक इशारा सा लगा.

अमित खड़े खड़े ही मुझे होंठों पर किस करने लगा … मेरे चुचे दबाने लगा. इस तरह से चाची के साथ चुदाई का मजा लेना मेरी रोज की दिनचर्या बन गयी थी. पीछे से संजना ने हाथ डालकर मेरा लंड अपने हाथों में पकड़ लिया और वह शीना की चूत के ऊपर मेरे लंड का सुपारा सैट करके मुझे धक्का देने के लिए बोलने लगी.

मैं जानना चाहता था कि भाभी क्या अभी भी मुझसे नाराज ही हैं?उसके बाद कुछ दिन ऐसे ही निकल गये. मैं बोली- तो कैसे?वह मेरे हाथ में से गिलास को लेता हुआ बोला- पहले शराब को अपने होंठों से टच कीजिए और एक घूंट लीजिए.

वो बोली- डैडी मैं एक अच्छी लड़की नहीं हूं क्या? मैं क्या करूं डैडी, मेरा मन मुझे ये सब करने को कहता है.

फिर उसने अपने हाथ मुंह अच्छे से धोये और वापिस बेडरूम में आकर अपनी सलवार और कुर्ती पहिन ली.

फिर लंड को उसकी गांड में घुसा कर उस की जोरदार चुदाई चालू कर दी।सुमन की आंखें मुझे ही देखे जा रही थी और मैं भी सुमन को ही देख रहा था. मुझे रोटी देते समय मां को कुछ ज्यादा ही झुकना पड़ रहा था, तो मुझे उनके गोरे, कड़क स्तन दिख रहे थे. मैं कुछ देर रुक कर कुछ सोचने लगा और पीछे से फिर एक और धक्का लगा दिया.

हीना को अब जो आनन्द मिल रहा था, उसका बखान उसके अलावा और किसी के वश में नहीं हो सकता था. हम दोनों लोग जिस बिस्तर पर सेक्स कर रहे थे वो बिस्तर भी हम दोनों की चुदाई से गर्म हो गया था. वो किचन में खड़ी होकर आटा गूंध रही थी, बोली- सुबह सुबह कहां निकल पड़े?मैंने कहा- तुम्हें चोदने.

8 इंच का लंड एकदम नुकीला होकर तंबू बनाकर मनीषा की चूत में घुसने के लिए बेताब हो चुका था.

मैं उसकी गर्दन को नीचे की तरफ झुकाते हुए बोला- एक बार मुँह में लेकर इसको प्यार करो, फिर चली जाना. हेतल ने मेरी तरफ देख कर कहा- क्यूं रे, इतनी जल्दी? तू अपनी बीवी को कैसे खुश रख पायेगा. यदि आपने सौरभ को अपने यहाँ से निकाल दिया तो यह फिर किसी भी बाहर के आदमी से संबंध बना लेगी फिर वो चाहे कोई मजदूर ही क्यों न मिल जाये.

उन्होंने वहीं मुझे फिर से घोड़ी बना दिया और मेरी गांड की छेद में देखने लगे. वह उठी और मुँह मेरी तरफ करके अपनी टाँगें चौड़ी करके मेरे लंड को चूत पर रगड़ने लग गई. मेरे हाथ पकड़ने पर उसका कोई विरोध नहीं हुआ लेकिन वो शर्मा कर बोली- चलो पागल जी अब रहने दो … वरना कोई देख लेगा.

माणिक कभी कभी मुझे घूरता भी है क्योंकि मैं हूँ ही इतनी सेक्सी कि मुझे कोई भी घूर घूर कर देखने को मजबूर हो जाता है.

फिर मैंने उसके गाल पर एक किस किया और अपने लंड को शलाका की बुर में धीरे-धीरे घुसाने लगा. फिर मैं शुरू हो गया, बोला- रूई!और सारा ने अपना दायाँ चूतड़ ऊपर उठा दिया, मैंने पूरा लंड निकाल कर उधर को धक्का मारा, लंड चूत को रगड़ते हुए अंदर चला गया.

बीएफ लड़का लड़की जहां नितम्बों की गोलाई ख़त्म होती है, वहाँ जहां गुदा और योनि के बीच की जगह पर वसुन्धरा की पेंटी में वसुन्धरा की चुनरी का सितारा अटका हुआ था. सीमा प्रियंका और सतीश के पास और मैं मुस्कान और मोनू के पास पहुँच गया.

बीएफ लड़का लड़की मैं उसकी चूत पे ऐसे ही किस करने लगा, तो वो फिर से गर्म हो गयी और उसकी टांगों की पकड़ ढीली पड़ गयी. बाथरूम से बाहर आकर मेरी बिटिया ने कहा- पापा, आज मैं मम्मी की शादी की साड़ी पहनूंगी और आज रात हम सुहागरात मनाएंगे.

इस बीच हरकेश बाथरूम गया हुआ था और वहां से वापस आकर वह भी सुमन की चूत चाटने लगा.

सेक्सी पोर्न ब्लू फिल्म

मैंने उसकी पीठ के पीछे तकिया लगा दिया- तुम यहां आराम से बैठो, मैं अभी निम्बू पानी लेके आता हूँ. लंड को थोड़ा सा बाहर निकाला और फिर एक जोरदार झटका मारा लंड उसकी बुर फाड़ता हुआ आधा अन्दर घुस गया. शायद अपनी जिंदगी में पतियों की अदला बदली करने के इतने यारानों में मुझ सा यार तुम्हें कोई मिला नहीं। मैं तुम्हारे पति के अलावा तुम्हें चोदने वाला पहला इंसान हूं और शायद तुम्हें मुझसे प्यार भी है।रीना- ओहो … तो राजवीर ने तुम्हें भी हमारे सभी अदला बदली के जोड़ों के बारे में बता रखा है। यार उसको कोई नहीं समझ सकता.

नम्रता भी मेरे उत्साह को बढ़ाने के लिए हम्म-हम्म की आवाज निकाले जा रही थी. फिर सोचने लगा कि किस डॉक्टर को दिखाया जाये?तो सारा बोली- जिस लेडी डॉक्टर ने हमें देख कर दवा दी थी, वह काफी समझदार है, उसे दिखा दो. बस आज कैसे भी करके उसको चोदना था … क्योंकि कल वो वापस जाने वाली थी.

उन्होंने समीज को ऊपर कर दिया और बोले- साली बंध्या, तेरे दूध तो बहुत कड़क हैं और तेरे निप्पल तो बिल्कुल गुलाबी हैं.

बातों बातों में मैंने भाभी को बोला- भाभी बड़ा मन हो रहा है … क्या चाय मिल सकती है?वो बड़ी कामुक नज़रों से मुझे देख कर बोलीं कि सिर्फ चाय का मन है या कुछ और भी चाहिए. इस समय रेखा की आंखें बिल्कुल लाल सुर्ख हो चुकी थीं, फिर भी शब्दों को ऐसा लग रहा था कि बड़ी मुश्किल से निकाल रही हो. निखिल साइन्स में ग्रॅजुयेशन का स्टूडेंट था और रीमा फिज़िक्स में मास्टर्स कर रही थी.

पर मुझे कभी ऐसा लगा नहीं कि उसमें भी जवानी भर गई है … उसको भी लंड की जरूरत है. ना जाने क्यों मुझे पहले से ही पेटीकोट में औरतें चोदना बहुत अच्छा लगता है. मैंने अपनी उंगली उसकी चूत में डाली, उसने अपनी आंखें बंद की और मजे लेने लगी.

कुछ ही देर में हमारा खाना भी हो गया और मां सभी बर्तन लेकर किचन में अपना काम करने लगीं. मैंने गुस्से में आकर कहा- सर, आपने मुझे समझ क्या रखा है? मैं कोई बाजारू औरत नहीं हूं.

मेरी चूची बहुत बड़ी हैं तो उनको मेरी चूची को दबाने में मजा आ रहा था. रात को करीब 12 बजे के आस-पास मैंने उसके बिस्तर पर हाथ ले जाते हुए उसके हाथ को धीरे से सहला दिया. वसुन्धरा की आँखें अभी भी बंद थी अलबत्ता होंठों में सिहरन थोड़ी कम हो गयी थी.

उनकी चुचियों को अच्छे से साफ किया और फिर उनकी चूत पर हाथ फिराने लगा.

पर मुझे तनिक भी अंदाज़ा नहीं था कि यहाँ से मेरी जिंदगी ही पूरी बदलने वाली थी. डॉक्टर जूली की दिल्ली में जान-पहचान थी और उसने मेरे सारे टेस्ट जल्दी ही करवा दिये. ना जाने क्यों मुझे पहले से ही पेटीकोट में औरतें चोदना बहुत अच्छा लगता है.

थोड़ी देर बाद मीना के हाथों को मैंने अपने पैंट के ऊपर फिरते हुए महसूस किया, तो मैंने समझदारी दिखाते हुए अपनी पेंट की चैन खोलकर अपने लंड को, जो कि बाहर निकलने को बेताब था, बाहर निकाल दिया. मुझे समझ नहीं आ रहा था कि इतना बड़ा लन्ड चूत में जायेगा कैसे?तभी राज ने धीरे से अपना लन्ड मेरे सीने पर रख कर मेरे दोनों स्तनों के बीच रगड़ना शुरू कर दिया.

हालांकि हम दोनों उस रात दुबारा चुदाई नहीं कर पाए क्योंकि मेरे साथ मेरी मम्मी मेरे बेडरूम में ही सोती हैं. मैंने उसकी चूचियों को कस कर भींचते उसकी चूत में दनादन धक्के लगाने शुरू कर दिये. इतना चोदूंगा कि अपनी माँ को याद करोगी।उसने एक जोर का धक्का मारा और पूरा लण्ड एक साथ रिया की कसी हुई गाँड में उतर गया।रिया ने हालांकि गाँड बहुत मरवाई थी, मगर इतना मोटा तगड़ा लौड़ा ले रही थी इसलिए उसकी चीख निकल गयी। वो लगभग रोते हुए बोली- डैड आराम से तो पेलते, कहीं गांड फट जाती तो?रमेश- तुमको अब पता चला ना कि कैसा लगता है गाँड में लण्ड घुसता है तो। अब तो घुस गया.

முஸ்லிம் செக்ஸ்

ऐसा बोल कर मैंने उसे अपनी बांहों में उठाया और उसके भाई के रूम में बेड पर जाकर लिटा दिया.

पेंटी का कपड़े वाला हिस्सा मंथर गति से धड़क रहा था और योनि की दरार के आस-पास पेंटी का गुलाबी साटन कुछ-कुछ सील कर(नमी युक्त होकर) गहरे रंग का दिख रहा था. मैं किताब के बीच छिपाकर मस्तराम की कहानी पढ़ रहा था और पढ़ने में इतना मग्न था कि कब मेरी छोटी बहन मेरे पीछे आकर खड़ी हो गयी मुझे पता ही नहीं चला। पता तब चला, जब एक तेज थपकी मेरी पीठ पर पड़ी. पर एक बार किसी चीज की आदत लग जाती है, तो फिर जल्दी से छूटती नहीं, कॉलेज में रहकर भी मन अंकल के ख्यालों में ही डूबा रहता.

रानी उठकर बाथरूम के तरफ चली ही थी कि अचानक ठिठक के रुक गई- राजे, तेरे होते हुए बाथरूम क्यों जाऊँ … चल बैठ जा मुंह खोल के … अमृत पिलाती हूँ कुत्ते. जब भी मेरी गांड अर्जुन की जांघों से टकराती तो थप थप की मस्त आवाज निकलती और मेरी चूत में उसके लंड के प्रवेश के साथ मेरे चूत रस की मादक खुशबू पूरे कमरे में फ़ैल गई थी।अर्जुन ने मुझे कुतिया बनने को बोला. एक्स व्हिडीओ इंडियनरानी ने फिर मुझसे अपनी जांघों पर छलक के लगी हुई अमृत की कुछ बूँदें चटवाई.

अब आशीष को क्या पता था कि मैं रियल में ही अपने जीजा का लंड चूसने में लगी हुई हूं. मेरे ढूँढने पर मुझे उसमें काजल की आज पहनी हुई पीले रंग की नेटवाली ब्रा और पैन्टी दोनों मिल गए.

उसके बाद मैं थक कर उसके बगल में लेट गया औरअब वह भी पूरी तरह से थक चुकी थी क्योंकि वह बहुत बार झड़ चुकी थी. वो मेरे चेहरे को देख कर हंसने लगी और बोली- मेरे चोदू भैया, तुझ पर तो मेरी नजर तब से थी जब तेरा ये लौड़ा खड़ा होना शुरू ही हुआ था. एक‌ ही बिस्तर पर तो हम‌ दोनों कैसे सोयेंगे?फिर सोचा कि चलो जैसे भी हो और जो‌ भी करना है वो मोनी को‌ ही करना है.

”तू साली कुतिया बन जा, मैं कुत्ता बन के तुझे कैसे चोदता हूँ देख तू. मेरी जांघों के कोनों को वो चाटते हुए अंडों को मुँह में भरने की कोशिश करने लगी. चुदाई का बहुत मनमोहक नजारा बन गया था जिसके अहसास से मैं जल्दी ही झड़ गया.

फिर वो अपनी टांग को मेरी टांग पर चढ़ाकर मेरे लंड को अपनी चूत पर घिसने लगी और लंड को चूत के अन्दर लेने की कोशिश करने लगी.

मेरी उम्र 28 साल है। मैं राजस्थान का रहने वाला हूँ और पिछले काफ़ी समय से अमेरिका की एक केमिकल कंपनी में काम करता हूँ।जो लोग मेरे बारे में जानते हैं उन्हें तो पता होगा कि मेरे लंड का साइज़ 9 इंच का है। मैं एवरेज देसी बॉडी का बंदा हूँ।पहले तो मुझे सेक्सी भाभी की चुदाई करने में ज़्यादा मज़ा आता था मगर गुजरते वक्त के साथ अब तो सेक्स का बहुत चस्का लग गया है. मैंने चाची को अपनी गोद में उठा कर बेड पर पटक दिया और उनके ऊपर चढ़ कर उन्हें किस करने लगा.

इस औरत में इतना सेक्स भरा था कि रात भर में 4 बार चुदने के बाद भी भाभी सुबह सुबह अपने पति का लंड चूसने लगीं. उसके इस खेल के आगे थोड़ी ही देर बाद मेरे लंड ने हार मान ली और मेरा वीर्य उसके मुँह में गिरने लगा. फिर उसने मेरी लोअर को खींच दिया और मेरे शॉर्ट्स में से मेरे लंड को अपने दांतों में पकड़ लिया.

सच में दोस्तो … जो मजा चूत चटाई में है वो किसी और चीज में नहीं।बीच-बीच में मैं उसकी चूत चटाई को छोड़ कर उसके चूत के दानों को हाथ से सहला रहा था और कभी कभी तो अपनी अंगुलियों को अन्दर बाहर कर रहा था. हाँ जब तक हम दोनों कुछ समझते और संभलते तब तक लंड का पूरा माल शुभ्रा के मुंह के अन्दर, उसके पूरे चेहरे पर, उसकी चूचियों पर हर जगह मेरा सफेद लसलसेदार तरल पदार्थ (वीर्य) लग चुका था।संभलने के बाद पहला शब्द ‘मादरचोद’ कहते हुए वो उठी और तेजी से बाथरूम की तरफ भागी और वाश बेसिन पर खड़े होकर उल्टी करने की कोशिश करने लगी. और कब यह चुम्माचाटी लिपटा लिपटी में बदल गयी, कुछ पता नहीं चला और पापा ने लण्ड पूरा मेरी चूत में उतार दिया तो उसमें से खून निकलने लगा.

बीएफ लड़का लड़की मुझे और गुस्सा आ गया, मैंने उसके चूतड़ों पर थप्पड़ों की बारीश करके चूतड़ लाल कर दिए. मैंने भी मजा लेते हुए कहा- बस दोस्ती ही बढ़ानी है या और भी आगे जाना है?वो मुस्कराते हुए बोली- वो तो वक्त बताएगा.

सनी लियोन पोर्न

उसने अपने दोनों नाजुक हाथ मेरी छाती पर रख लिए और लंड को उछल उछल कर अंदर बाहर करने लगी. थोड़ी देर बाद मेरी वाइफ ने एक पैकेट उसकी भाभी को देते हुए बोला- भाभी, ये पैकेट तुम्हारे लिए है. ”सच में नीतू दो दिन में बहुत अच्छा सीख गई हो, तुम्हें तो इनाम मिलना चाहिए.

थोड़ी ही देर में जोश आने लगा और हम दोनों ने ही ज़ोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए. इतने में भी जब मन नहीं भरा तो मैंने रात को सोते समय फिर से उसकी योनि की चुदाई के आनंद के बारे में सोच कर फिर से लिंग को तेजी के साथ हिलाते हुए मुट्ठ मारी. हिंदी सुहागरात वीडियोतभी मैंने कार से बाहर निकलते हुए भार्गव से कहा- अरे यार मेरे मोबाइल की बैटरी ही नहीं बची है … उसे चार्ज करना होगा … अब क्या करेंगे?भार्गव बोला- तुम चिंता मत करो … कार में केबल है, उससे तुम चार्ज कर लो.

जब मैं छत पे गया और लाइट फेंक कर मारी, तो देखा की वहां तो दीदी कम भाभी, मेरा मतलब चाँदनी भाभी खड़ी थीं.

बेटा, मैं तेरे स्वाभिमान की कद्र करता हूं पर तू भावनाओं में बह कर नहीं यथार्थ के धरातल पर सोच. मैंने उससे सीधे सीधे पूछ लिया- अगर कोई तेरी चुत चाटे, तो कैसा लगेगा तुझे?दीपाली- हां मुझे एक बार एक्सपीरियंस तो करना है.

जब कुछ देर भैया को मेरे ऊपर लेट कर चुदाई करते हुए हो गई तो उसके बाद उन्होंने मुझे उठने के लिए कहा. अभी तक उसकी चुदाई करते हुए मुझे बीस मिनट हो गए थे और अब मैं झड़ने वाला था. अच्छा तुम्हारे अन्दर इतना पॉवर है, जो मुझे चोदोगे?”एक बार आजमा के तो देखिये.

”और वहाँ यार का लौड़ा फ़नफना रहा था। गहराई में घुसने को तैयार- चल मालिनी, अब मैं तुझे पेलूँगा, आ जा मेरे लंड के नीचे.

तभी मुझे याद आया कि मेरे दोस्त ने जो मुझे वीडियो दिखाया था, उसमें एक आदमी अपना बड़ा सा लंड चुत में फंसाता है. तब तक मेरे मन में ऐसा कुछ नहीं था, पर अब मुझे अपनी सलहज काजल का पूरा जिस्म मेरे आंखों के सामने आ गया, जिसमें मेरे लाए ब्रा और पैन्टी पहन कर वो मेरे सामने खड़ी थी. अब मैं रोज किसी ना किसी बहाने नीलम भाभी के घर जाने लगा और कभी उन्हें नहाते या कभी कपड़े बदलते देखने लगा.

સેક્સી વિડિયોवसुन्धरा का अपने माँ-बाप से इतर रहना, उसके व्यक्तित्व में समायी तमाम बत्तमीज़ी, दबंगई, ख़ुद-पसंदगी और उसके तनहाई-पसंद होने का और मेरे प्रति अनबूझे अनुराग़ का और अभी तक अविवाहित होने का कारण उसके पिता जी का उसकी मुझसे शादी के ख़िलाफ़ लिया गया एक फ़ैसला ही था. निखिल साइन्स में ग्रॅजुयेशन का स्टूडेंट था और रीमा फिज़िक्स में मास्टर्स कर रही थी.

भाभी देवर के सेक्सी

मेरी इस पागल सहेली ने अपनी सबसे प्यारी चीज मुझे दे दी … तो क्या मैं उसकी एक ख्वाहिश पूरी नहीं कर सकती थी. सुमन एक हाथ से मेरा और एक हाथ से हरकेश का लंड पकड़े हुए थी मैंने अपना मुंह आगे करते हुए सुमन के होठों को काटना शुरू कर दिया।हरकेश उसके दूध को बेइंतहा चूस रहा था. इस बार लंड बिना किसी आनाकानी के अन्दर चला गया। मेरा उत्साह और बढ़ गया और मैं लंड को बहन की चूत के अन्दर और धकेलने लगा.

अब आगे …शाम को सात बजे के करीब मेरी नींद खुली तो मैं देख कर डर गया कि कहीं दीदी वापस न आ गई हो. मैंने एक हाथ से लंड पकड़ कर उसकी टांगें फैलाकर लंड को निशाने पर रखा और उसके होंठों से होंठ मिलाकर एक हल्का सा झटका मारा तो लंड का टोपा अन्दर घुस गया था, पर वो छटपटाने लगी. मेरा ससुराल अहमदाबाद में था, तो महीने में एकाध बार तो आना जाना होता ही था.

बस हम दोनों आज भी अपनी हवस मिटाने के लिए कहीं ना कहीं मिलते रहते हैं. एक दिन की बात है, मेरी मम्मी अपने मायके गयीं थीं और मैं सुबह सवेरे अपने घर के बाहर झाड़ू लगा रही थी कि अंकल जी सुबह की सैर के लिए निकले. तभी उसके हाथ ऊपर की तरफ बढ़े, उसने मेरे कंधे को मुट्ठी में भींच लिया.

उसने भी अपने हाथ को पीछे किया और मेरे सुपाड़े को नाखून से खरोंचती और फिर अपने कूल्हे के बीच में लंड को फंसाने की कोशिश करती या फिर कूल्हे के ही ऊपर हल्की थपकी देती. हां बेटा, एकदम सच्ची में!” अंकल जी बोले और मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपनी ओर खींच लिया.

उसने एक हाथ से मेरे लंड को सहलाना और दबाना जारी रखा जिससे मेरा लौड़ा पूरा तन गया और मेरे अंदर की हवस का शैतान जाग गया.

मैंने उनका गाउन उतार दिया और भाभी मेरे सामने ब्रा और पैंटी में आ गई थीं. हिंदी चित्रपट नवीन 2020उसने पहले ही धक्के से अपना पूरा लंड मेरी चूत के अन्दर तक डाल दिया था. सेक्सी चुदाई कहानियांमैं चुदास से जोरों से आहें भर रही थी- आह्ह आह थॉमस फक मी बेबी … थॉमस फक मी आह आह्ह. मैंने उसको ये इसलिए बताया था … क्योंकि ज्यादातर कुंवारी लड़कियां अपनी चुत के अन्दर लंड का पानी नहीं लेती हैं.

उन्होंने अपनी बुर पर लंड को पर सैट किया और धीरे धीरे अपनी बुर में लंड खाने लगीं.

दो चार मिनट ऐसा ही चलता रहा, फिर मैंने ही अंकल को जोर से पीछे धकेला और खांसने लगी. फिर भी अगर आपके लिए मैं कुछ कर सकता हूँ तो बेझिझक बताइये?”वसुन्धरा फिर से ज़ोर से मुझ से लिपट गयी और मेरे कान में फुसफुसाई- राज!हूँ … !”मत जाओ. उसी समय मेरे दिमाग में ये आईडिया आ गया था कि मुझे भी तो लंड चाहिए है … और उसके पापा को चूत … क्यों न हम दोनों एक दूसरे की कमी पूरी कर दें.

मौसी मेरे बाल पकड़ कर मुझे हटाते हुए कहने लगीं- सोनू, इतना टाइम नहीं है, ये सब फिर कभी करना … अभी अपना काम खत्म करो और निकलो यहां से. मुझे भी मेरी चुत के अन्दर चिपचिपापन महसूस होने लगा था, क्योंकि उसमें मेरी चुत के रस के साथ चॉकलेट था. अभी भी मुझे कुछ सुनाई नहीं दे रहा था तो धीरे से मैंने दरवाजा खोला और अन्दर जाने लगी.

हिंदी फुक्किंग

वसुन्धरा …”हूँ …! ” वसुन्धरा ने अर्धनिप्लित आँखों में प्रशनवाचक नज़रों से मेरी ओर देखा. मैं सोच रहा था कि ये रोएगी और बोलेगी अब मैं तुम्हारे साथ नहीं आऊंगी, पर इसको तो मजा आ रहा है. मैंने उसकी ब्रा को थोड़ा ऊपर उठा कर उसकी एक चूची को आज़ाद किया और उसे मुँह में लेकर चूसने लगा.

बिन्दू झिझकते हुए बोली- आपने मेरी फ़ोटो खींची है?मैंने कहा- तुम वो सब क्या कर रही थी? तुम बहुत ही ग़लत काम कर रही थी.

दी ने खाना खा लिया और जहाँ मैं बैठा था, वहाँ एकदम बाजू में आकर लेट गई, कहने लगी- मैं 5-10 मिनट आराम कर लेती हूं, उसके बाद झाड़ू और पौंछा लगाती हूँ.

आह मुलायम-मुलायम, गोल-गोल मम्मों पर हाथ पड़ते ही हथेलियां उसको मसलने के लिए मचल उठे. मैं भी चूत चाटे जाने से एकदम मस्त हो उठी और मादक सिसकारियां लेने लगी. देसी सेक्सी आंटी वीडियोउधर एक दिन मेरी बात मानसी से हुई जिसकी आईडी हमेशा मानसी (25) के नाम से होती थी.

फिर कुछ देर बाद भैया ने उनको हाथ पकड़ कर उठाया, तो मैं समझ गया कि भाभी की चूत कुछ ज्यादा ही चुद गई थी, जिससे भाभी चल नहीं पा रही थीं. नम्रता ने अंदाज लगाया कि मेरा मुँह खासकर होंठ का हिस्सा उसकी चूत पर सैट नहीं हो रहा है, तो उसने अपनी गांड के नीचे तकिया रखा. तो दोस्तो, इस तरह से नील ने अपने कमरे या यूं कहें कि अपनी बीवी रकुल की चूत की चाबी मुझे दे दी.

मजे लेकर देर तक खाना खाया, बहुत सी बातें हुईं और हम अपने अपने कमरों की तरफ रूख कर गए. पर उन दोनों के बैठने के ढंग से लग रहा था कि वो दोनों रिलेशन में हैं.

इसके साथ साथ मुझे यह भी अनुभव हुआ कि क्यों मर्द शादी के बाद भी अपनी प्रेमिका के साथ सम्भोग करना पसंद करते है.

मुझे चाची ने कहा- अब इसकी भी ठुकाई कर!मैंने अपना लंड कंचन की गांड के छेद डाल दिया, वो हटने लगी तो चाची ने उसे कस कर पकड़ लिया, मैंने उसे पेलना चालू कर दिया। वो आवाज करने लगी तो चाची ने अपनी चुत उसके मुंह में घुसा दी।फिर मैं झड़ गया. कुछ देर बाद हम दोनों साथ में झड़ गए और दोनों ने एक दूसरे का पानी पूरा पिया. उस वक्त सुमन किसी रंडी की तरह चुदवा रही थी।इस बार ना तो मेरा … और ना ही हरकेश का निकल रहा था क्योंकि हम दोनों पहले ही एक बार झड़ चुके थे.

इंडियन ब्लू सेक्स उन्होंने मेरी नाभि को चूसा और फिर मेरे चूचों को दबाते हुए मेरे टॉप को ऊपर करने लगे. अब तक की मेरी चुदाई की कहानी में आपने पढ़ा था कि थॉमस मुझे चोदने के लिए मेरे साथ चूमाचाटी करने लगा था.

मुझे आज भाभी की चूत को चूसने में मजा आ रहा था और दूसरी तरफ भाभी मेरे लंड को चूस कर मुझे और भी मजा दे रही थी. कुछ टाइम बाद काजल की आवाज़ सुनाई दी- अरे वाह ननद जी बहुत ही मस्त सैट लाई हो. अंकल ने किस तरह मेरे बदन को मसला था, किस तरह मेरे होंठों की चुसाई की थी, कितनी बेदर्दी से मेरे स्तनों को रगड़ा था और आखिर में किस तरह उन्होंने अपना विशाल लंड मेरी कमसिन चुत में घुसाकर मेरी चुदाई की … ये सभी प्रसंग याद आते ही मेरी चुत पानी छोड़ने लगती है.

सनी लियोन का सेक्सी गाना

जाते जाते उसको बोला- जब सबको नींद आ जाये, तब यहीं आ जाना, मैं इंतजार करूँगा. वो बोले कि चुप कर साली … रंडी तो तुझे मैं बना कर रहूंगा … अब तू चुद बस. मैंने सोनल को अपनी गोद में बिठा लिया था और उसकी नंगी पीठ पर हाथ घुमाने लगा.

उत्तेजना में मैंने मोनी की कमर को एक हाथ से पकड़ लिया और थोड़ा तेजी के साथ धक्के लगाने लगा. रानी के होंठ लौड़े की जड़ से चिपक गए थे और उसकी नाक मेरी झांटों से रगड़ खा रही थी.

वैसे मेरे घर में किसी को नहीं पता है कि मैं पड़ोस में लड़कों से बात करती हूँ.

भार्गव ने रुमित को फ़ोन करके बोल दिया … और मुझसे कहा- आओ हम दोनों अन्दर बैठ जाते हैं वरना खड़े खड़े थक जाएंगे. एक-दो बार मैंने अपने आपको पीछे भी किया लेकिन अंदर का सीन देखने का जुनून सवार जो सवार हुआ था उसने मुझे बाकी सभी ख्यालात से बाहर कर दिया. कई कहानियों में इसके मजे के बारे में लिखा है और मैं हर मजा लेने को तैयार हूँ.

एक क्षण … मात्र एक पल और … और सब स्वाहा!फिर न तो राजवीर बचता, न वसुन्धरा बचती और न ही बचती कोई सामाजिक वर्ज़ना. इसमें से उसके निप्पल बाहर आ जा रहे थे और चूत को ढंके हुए थे, पर गांड के हिस्सा खुला हुआ था. मैंने महसूस किया कि जीजा जी चूत चाटने में पहले के मुकाबले ज्यादा माहिर हो गये थे और उन्होंने दो मिनट के अंदर ही ऐसी तरह से मेरी चूत चाटी कि मेरे मुंह से सीत्कार निकलने लगे.

ईइय … अंकल … कुछ भी … ”ईस्स्स क्यों? … बड़ा मस्त टेस्ट है … तुम्हें चाहिए क्या?” उन्होंने उंगली मेरी तरफ घुमाते हुए कहा.

बीएफ लड़का लड़की: हीना जितने लंड को अपने मुँह में गले तक ले सकी, वो उतने से ही अपने काम में तल्लीनता से लग गई. मैंने भाभी के मम्मों को उनकी मैक्सी के ऊपर से ही मसल दिया और उन्हें कसके पकड़ने लगा.

मैंने भी अपनी बांहों में उसके जिस्म को जकड़ लिया और उसे कस कर हग करते हुए उसको ‘आई लव यू’ कह दिया. मैंने शीना की मोटी गांड पकड़ी और धीरे-धीरे अपना लौड़ा शीना की गांड में घुसाने लगा. कहते हुए उसके चूचों पर मैंने अपने हाथ रख दिये और दबाने लगा।कमरे में खामोशी सी छा गयी थी और हम दोनों के होंठ आपस में मिल गये थे। थोड़ी देर तक हम दोनों एक-दूसरे के होंठों को चूसते रहे.

हैलो फ्रेंड्स, ये भाभी की चुत की मेरी पहली कहानी है, जो कि बिल्कुल सच्ची है.

मैं जानता हूं कि तुम किसी ऐसे मर्द के साथ चुदाई में सहज नहीं हो सकती हो जिसको तुम जानती तक नहीं, लेकिन वो मेरे पीछे पड़ा हुआ है. जीजू के साथ मेरा अच्छा टाइम पास होने लगा था जबकि मानसी भी हेतल के आने के बाद ज्यादा ही खुश रहने लगी थी. मैंने शिखा को हल्का सा नीचे झुका दिया क्योंकि मेरा लंड उसकी चूत में अच्छी तरह से सेट नहीं हो पा रहा था.