सुहागरात की चुदाई की बीएफ

छवि स्रोत,स्नोफीलिया को जड़ से खत्म करने का इलाज

तस्वीर का शीर्षक ,

लहान मुलीची झवाझवी: सुहागरात की चुदाई की बीएफ, जिससे मेरा वीर्य भाभी के हाथ पे ही छूटा और कुछ बूंदें नीचे गिर गईं.

पुरानी सेक्सी फिल्म वीडियो

मैंने उसके बाल पकड़ के उसके सर को आगे सोफे पे दबाया और चूतड़ों पे चपत लगाई, मैं बोला- नो वर्ड्स (एक शब्द नहीं बोलोगी तुम)वो दर्द भरी वासना से कराहते हुए नशीली आवाज में बोली- आहह उम्म्म ओकेकके मास्टर!मैंने उसी हालात में एक झटके में लंड उसकी चुत में ठूंस दिया. राजस्थानी सेक्सी फुल मूवीमैंने कहा- क्यों?उसने कहा कि तुम्हारे जैसा बड़े लंड वाला मुझे अब तक कोई नहीं मिला.

मैंने नीचे आते हुए गर्दन पर किस करते हुए उसके ब्लाउज़ के ऊपर से उसके स्तनों पर किस करने लगा. कैमरा कैसे साफ करेंओय्य्य्य … क्या कर रहा है… हट … हट छोड़ … छोड़ मुझे!” कहते हुए उसने अब दोनों हाथों से मेरे सिर के बालों को पकड़कर मुझे ऊपर खींच लिया।स्वाति भाभी के इस तरह के व्यवहार से मुझे खीज तो हुई मगर बाल खींचने से मुझे दर्द भी हो रहा था इसलिये मैं उसकी जाँघों के बीच से उठकर सीधा खड़ा हो गया और मायूस सा चेहरा बना के स्वाति भाभी की तरफ देखने लगा.

मधु मुझसे लिपट गयी और मुझसे बोलने लगी- मुझे कभी अपने से दूर नहीं करना.सुहागरात की चुदाई की बीएफ: मैंने उससे पूछा- और तुमने?वो बोला- मेरी तो बहुत सारी गर्लफ्रेंड हैं.

मेरी मां ये सुनकर एकदम से चौंक गई और घबराते हुए बोली- ये आप क्या बोल रहे हो रमेश जी? आपको जरूर कोई गलतफहमी हुई है.मानसी ने कहा- दीदी मैं हिरेन का लंड तो ले चुकी हूं लेकिन जब से मुझे राज के बारे में पता चला है मुझे उसके लंड के बारे में सोच कर ही चुदास सी जगने लगी है.

जंगली जानवर का सेक्सी व्हिडीओ - सुहागरात की चुदाई की बीएफ

हमारी कपड़े धोने वाली मशीन खराब हो गई थी इसलिए हम लोग हाथ से ही कपड़े धोते थे.मेरे लंड का साइज़ 2 इंच मोटा और 7 इंच लम्बा है, जिससे मैंने बहुत सी अपनी गर्लफ्रेंड्स, भाभियों आदि की चूत की प्यास बुझाई है.

उसकी कसी हुई चूत से मुझे ऐसे लग रहा था, जैसे राहुल के पास लंड नाम की चीज ही न हो. सुहागरात की चुदाई की बीएफ यहाँ तक कि हम दोनों लोग कपड़े खरीदने जाना होता था, तो हम अपने पति के साथ नहीं जाते थे.

और फिर मुझे उसने वो बताया जिसका मुझे यकीन ही नहीं हुआ कि मेरी किस्मत अब इतनी भी मेहरबान भी हो सकती है। उसने बताया कि वो अभी तक वर्जिन है.

सुहागरात की चुदाई की बीएफ?

मेरे ये कहने पर कि मैं दीदी को आज ही ले जाने आया हूँ, जीजा जी का मूड ऑफ़ हो गया था. मैं नीचे की तरफ ही था कि उसने मेरी गर्दन को पकड़ा और अपना लंड मेरे मुंह में दे दिया. बारी-बारी से उसके तने हुए निप्पलों को अपने दातों से काटता हुआ चूसने लगा.

आज के समय में जिन लोगों को लगता है कि सिर्फ भला इंसान होने से कुछ मिल सकता है, तो वह गलत है. चारू के संग चुदाई की कहानी किस तरह से उसकी गांड चुदाई में तब्दील हो गई इसका मजा आपको इस सेक्स कहानी के अगले भाग में पढ़ने को मिलेगा. मुझे लगता है कि जो भी कोई उनको एक बार देख लेगा, तो मुठ मारे बगैर नहीं रह सकता.

जब मुझे भाभी के आने की आहट सुनाई दी तो मैंने न्यूज़पेपर को चेहरे के सामने कर लिया और पढ़ने का नाटक करने लगा लेकिन मैं पीछे से सब कुछ देख सकता था. अगर मैं किसी फिल्मी हिरोइन से उसकी तुलना करूं तो वो बिल्कुल श्रद्धा कपूर के जैसी दिखती है. कीर्ति की सिर्फ चूत में लंड नहीं गया … बाकी ऐसी कोई चीज़ नहीं रह गई थी, जो हमने न की हो.

मैं भाभी के साथ बात करने लगा- आप ऐसे कैसे डर गई हो?तो वो बोलने लगीं- अचानक ही कपड़ा आ कर खिड़की पर लग गया, इसलिए डर गयी. मैं उसके बाल पकड़ कर अपनी तरफ खींच कर उसे ऐसे धक्के लगा रहा था जैसे कि वो मेरी घोड़ी है और मैं उसकी सवारी कर रहा हूँ.

मगर समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूं इसको छिपाने के लिए!मैंने सुमिना की तरफ देखा तो वो अपने फोन में लगी हुई थी.

संगीता ने कहा कि शाम को ठीक 4 बजे वो गाड़ी हॉस्पिटल भेज देगी और वही गाड़ी उसे 5.

गुड, कैरी ऑन!अब शायद वो भी मेरी बातों के उत्तेजित हो गया था पूरा, और मुझे अपने पास बुलाने के लिए बोला- अरे मेडम! जरा यहाँ आ सकती हो आप? पकड़ना है. सच बताऊँ … मेरे और उसके चेहरे में थोड़ा सा भी गैप नहीं रह गया था, मेरे और उसके होंठ आमने सामने थे पर सटे नहीं थे।उसको इतना पास पाकर मेरी साँसें तेज होने लगी और शायद उसका भी यही हाल था. मगर सुमिना मेरी बहन थी इसलिए उसके बारे में अपने मन में ऐसे ख्याल लेकर आने की इजाजत मेरा ज़मीर मुझे कतई नहीं दे रहा था.

मैंने निहारिका को विक्की के सामने झुका दिया और विक्की का लंड पकड़ कर पीछे से निहारिका की चूत के छेद पर लंड लगा दिया. मैं ‘ऊह्ह आआह्हह …’ करते हुए नीचे से चूतड़ों को उछाल उछाल कर ‘हाय अंकल आह …’ कर रही थी. संगीता ने जो कुरता पहना था, वो था तो बहुत ढीला पर उसके कालर बड़े और सख्त थे, जो राहुल को गर्दन की मालिश करने में अड़चन पैदा कर रहे थे.

इसीलिए मैं अपनी प्यास बुझाने के साथ-साथ उनकी चूत सेवा करके भी पुण्य का कमाता रहता हूँ.

इसीलिए मैं अपनी प्यास बुझाने के साथ-साथ उनकी चूत सेवा करके भी पुण्य का कमाता रहता हूँ. हमारे भारत में एक बात है लड़के कहते हैं कि लड़की धोखा दे गई … और लड़की कहती है लड़का धोखा दे गया. बेबी ने अपनी साड़ी खोलकर सोफे पर रख दी, कहने लगी- कॉटन साड़ी है, इस पर सिलवटें पड़ जाती हैं.

संजीव ने पीछे हाथ ले जाकर मेरे ब्लाउज को खोल दिया और मेरी ब्रा को भी खोल दिया. फिर वो बोली- जल्दी कर लो, वो उठने वाले हैं … भैसों को सम्भालेंगे न. तो अमृता के साथ हुआ ये कि उसके बॉयफ्रेंड ने उसे कहीं मिलने के लिए बुलाया और चुपचाप अपने दो दोस्तों को और बुला लिया और फिर उन तीनों ने उस बेचारी का सब जगह से वो हाल किया कि आप समझ ही सकते हैं.

मैं आपके आगे की कहानी में बताऊंगा कि यह जगह मेरे लिए काफी लकी रही है.

मैंने दीदी की चूचियों को अपने हाथों से दबोच लिया और आटा जैसे गूँथते हुए दीदी की चुदाई का तूफ़ान चला दिया. मुझे भाभी की जवानी भोगने का ऑफर मिल रहा था और मैं चला आया, क्योंकि मुझे अचानक से झटका सा लगा था.

सुहागरात की चुदाई की बीएफ उसकी गोरी-गोरी जांघों पर जवानी के भूरे-भूरे बाल आने शुरू हो गये थे. पर मेरा मन नितिन को धोखा देने को तैयार नहीं हो रहा था।उनकी हालत भी कुछ वैसी ही थी.

सुहागरात की चुदाई की बीएफ शरीर बिल्कुल गठीला है और लंड भी काफी दमदार है जो किसी की भी प्यास बुझा सकता है. मैं बोली- धीरे डाल साले कुत्ते … साले अपने लंबे लंड से क्या मेरी चुत फाड़ देगा?वह बोला- रुक जा मेरी रंडी … अभी तो शुरूआत है, आगे आगे देख क्या होता है.

अंकल ने ये कहते हुए अम्मी की कमर में हाथ डाल कर उनको अपने से चिपटा लिया.

सेक्सी मसाज सेक्स

कुछ देर उसका निचला होंठ चूसने क़े बाद मैंने उसका ऊपर वाला होंठ अपने होंठों क़े बीच ले लिया. आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी इस पर अपनी राय दें और कहानी में अगर कहीं गलती हो गई हो तो मुझे माफ करें. फिर अंकल जी बेड से उतर गये और साइड टेबल से हरे रंग की टीन की डिब्बी से खूब सारा तेल निकाल कर अपने लण्ड पर लगा लिया; मैंने पहचाना वो जैतून का तेल था जो बहुत ही चिकना होता है.

मगर अब जब उसने खुद ही पहल कर दी थी तो मेरा लंड खड़ा होते हुए देर नहीं लगी. मैं उन्हें अपनी तरफ खींच कर किस करते हुए बोला- साली रेशू … तू बड़ी मस्त आइटम है … माँ की लौड़ी. आपको मेरी मौसेरी बहन के साथ सेक्स भरी मस्ती की कहानी कैसी लगी, आप कमेंट्स करके बता सकते हैं.

शुक्रवार का दिन आ गया, सुबह पापा को स्टेशन छोड़ कर मैं कॉलेज चली गई और दोपहर को एक बजे घर वापिस लौटी.

चुदाई की मस्ती की के बाद सुबह नौ बजे में उठी तो सासु ने बोला- आज तुझे जाना है और इतनी लेट उठी है?मैंने कहा- मम्मी कल रात में हल्का सा बुखार आ गया था तो गोली लेकर सो गई थी इसलिए आज लेट उठी. मैं जब भी पढ़ाई पर ध्यान केन्द्रित करती तो मन सेक्स की ओर भटक जाता और मेरी चूत चूने लग जाती, पैंटी गीली होने लगती. मैं रोजाना रात को बाहर घूमता और सुमन भी अपनी बहनों के साथ घर के बाहर बैठ जाती थी.

सोनम रानी, फिर तो एक ही तरीका है कि तू किसी से जी भर के चार छः बार चुदवा ले. मैं जोर जोर से भाभी की चूत को पेलने में लगा हुआ था और भाभी भी अपनी चूत को उछाल-उछाल कर मेरे लंड का पूरा जोश निचोड़ने की कोशिश कर रही थी. पर अब मुझे भी अच्छा लग रहा था और मैं भी गांड फैला कर लंड के मज़े ले रहा था.

मैं चिल्ला उठा, वो मेरे होंठों को चूसने लगे और बोले- दासी खुश कर दे हमें!दोनों ने मिल के बीस मिनट तक मेरी गांड मारी, एक साथ दोनों लंड मेरे अन्दर मेरी गांड का भरता बना रहे थे. सोनम और भी ज्यादा जानने की बात कहने लगी, तब भाभी ने उसे पिछली कहानी (मेरी बीवी मुझसे नहीं चुदती) में हुईं सारी घटनाएं बताईं और ये भी बताया कि कैसे मेरी और सोना की लाइफ सुखद बन पाई.

मैं सोच रहा था कि अब तक इसको किसी ने चोद कैसे नहीं पाया?कुछ ही देर में सोना और मैं, दोनों ही मिल कर सोनम को चाटने लगे. अब मामा ने शरारत से हँसते हँसते अपना लंड मेरे मुंह में चूसने को दे दिया. चूंकि मेरी झांटें कुछ बड़ी हो गई थीं, इसलिए मैं बाथरूम गयी और बालसफा क्रीम लगा कर मेरी चुत पर उग आए छोटे छोटे बाल साफ़ कर दिए.

मैंने उसको एक झापड़ मारा और बोली- साले मादरचोद … रखैल नहीं, बीवी बनाना है.

थोड़ा मुँह चुदाई के बाद, उसको पहले वाली पोजिशन में किया और चूत और गांड एक साथ बारी बारी से लंड पेल कर चोदने लगा. हम लोगों ने थ्री-सम भी किया, लेकिन पट्ठी ने लंड को चूत में नहीं लिया. परीशा एकदम से बेचैन हो जाती है और जवाब में वो अपना लिप्स को अपने पापा के लिप्स पर रखकर उसे चूसने लगती है।एक हाथ से मुकुल राय परीशा के बूब्स को मसल रहा था और दूसरे हाथों से वो परीशा की चूत को सहला रहा था.

मैंने अब्बू से कहा- अब्बू, मैं मुनव्वर के साथ बाहर जा रहा हूँ, आप खुद घर चले जाना, मैं थोड़ा देर से आ जाऊंगा।अब्बू कोई दूध पीते बच्चे तो थे नहीं, वो समझ गए कि हम क्या करने जा रहे हैं, उन्होंने कहा- ठीक है. सीमा ने फटाफट कॉफ़ी बनायी और कॉफ़ी के घूँट लेते लेते दोनों चूमाचाटी में लग गए.

भाभी- प्लीज़ देव … मैं ये सब नहीं चूसती हूँ … तुम्हारे भैया का लंड भी मैंने आज तक नहीं चूसा है. क्या तुम्हारे पास कोई ट्राउजर है जो मैं पहन सकूं?उसने कहा, हां शालिनी जी, मैं आपको देता हूं. नम्रता बोली- शरद, मेरी गांड का बाजा तुमने अच्छे से बजा लिया, मेरी चूत भी तुम्हारे लंड के लिए मरी जा रही है.

नौकर मालकिन के साथ सेक्सी वीडियो

मेरे कूल्हे ज्यादा बड़े होने की वजह से निहारिका के कूल्हे बिल्कुल उभर आए थे.

पांच मिनट तक निहारिका को चोदने के बाद अचानक से विक्की ने मेरी चूत में लंड डाल दिया और मुझे चोदने लगा. मैं सामने खड़ा होकर उनको निहारने लगा, तो वो शर्मा कर अपने हाथ से चेहरा छुपाने लगीं. वापस आने के बाद चाची ने मुझे कॉफी के लिए पूछा तो मैंने मना कर दिया.

फिर मैं बोला- जान एक बात पूछूँ?वो बोलीं- जी हां पूछो …मैं पूछा- कॉलेज में जब आप स्टूडेंट थीं, तब आपने कितने लंड लिए थे?रेशमा बोलीं- दो के लंड लिए हैं. मेरी बात पूरी होने पर मैंने दीदी को बोला, तो दीदी ने सर हिलाकर इशारा किया. पंजाबी सैकसमैंने पल भर की देरी किये बिना ही उसके लाल सुपारे वाले गोरे से लंड को अपने मुंह में भर लिया और उसके रस को जीभ से चाटती हुई उसके लंड को चुसाई का मजा देने लगी.

उसने मेरा लंड चूसना शुरू कर दिया, जब वो रुकी तो मैंने उसके हाथ में पकड़ाकर कहा- इसकी खाल इस तरह ऊपर नीचे करती रहो. शान्ति के बारे में आपको बता दूं कि उसकी उम्र 50 या उससे एक-दो साल ऊपर, शरीर पांच फीट आठ इंच की लम्बाई से कुछ ज्यादा ही लगता है, वज़न 90 किलो से ज्यादा ही होगा, 48 इंच का सीना आज भी कसाव लिये हुए है और जब मदमस्त हथिनी की तरह चलती है तो एक दूसरे से रगड़ खाते कूल्हों को देख कर लंड फुंकार मारने पर मजबूर हो जाता है.

एक पल को तो मुझे ऐसा लगा कि मैं झड़ ही जाऊंगा … हल्का हल्का नशा भी था. ऋतु बोली- ठीक है अजय सर, अब मेरा काम हो जायेगा न?अजय बोला- हां, लेकिन तुम्हें मुझे खुश करते रहना होगा. मैंने एक तेज धक्का मारा, जिससे मेरा लगभग आधा लिंग उम्म्ह… अहह… हय… याह… उसकी योनि में समा गया.

स्टेशन के बाहर आकर हमने नाश्ता किया और ऑटो करके उसकी बहन के रूम पर आ गए. मैंने पूछा कि वो कभी मिलने आता है?सपना ने बताया कि मुझे आपके पापा मम्मी से डर लगता है, इसलिए मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड को रूम पे नहीं बुला सकती हूँ. एक घंटे सोने के बाद मैंने उसको अपनी बांहों में ले लिया और चूमने लगा.

मैंने भी ज़्यादा तड़पाना ठीक नहीं समझा और लंड को सुमन भाभी की चुत के मुँह पर रखकर एक ज़ोरदार शॉट दे मारा.

वो मेरे बहुत करीब बैठी थी, उसके शरीर की खुशबू मेरे तन बदन में आग सी लगा रही थी. मैंने मना करते हुए कहा- आपने जो मुझे मज़ा दिया, मेरे लिए वही बहुत है.

खाने में काजू करी, बटर नॉन पुलाव बूंदी रायता और पापड़ आदि सब मंगाया. मौसी ने भी मुझे ऐसा कहते हुए सुन लिया लेकिन उन्होंने इस बात पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया. एक-दो बार तो ऋतु को दर्द महसूस हुआ लेकिन फिर वो भी अजय से अपनी गांड चुदाई का मजा लेने लगी.

मैंने शैम्पेन की बोतल और खाने का सामान लाके पहले ही रेडी कर लिया था. हर वक़्त सोते रहते हो, हटो यहां से!मैं हट गया, जाकर कमरे में चला गया, तब उसने अपनी पैंटी डाली और उसको अपनी स्कर्ट से ढक दिया. मैं जब भी पढ़ाई पर ध्यान केन्द्रित करती तो मन सेक्स की ओर भटक जाता और मेरी चूत चूने लग जाती, पैंटी गीली होने लगती.

सुहागरात की चुदाई की बीएफ मैंने कहा- वाओ मामी … कभी उसके साथ एंजाय किया या नहीं?मामी बोलीं- हां किया है. लेकिन मेरा लंड सिर्फ 6″ का है और मेरे अब्बू का, मैंने देखा तो 7″ से भी थोड़ा ज्यादा ही था.

इंग्लिश सेक्सी पंजाबी सेक्सी

उस दिन के बाद से मुझे वो ज्यादा ही भा गई और जब भी मेरे सामने आती तो मैं उसे हवस की नज़र से घूरता था ताकि ज्योति को भी लगने लगे कि मैं उसे पसंद करता हूँ।एक दिन की बात है कि ज्योति का पति दिन में उसे चोद रहा था। मैं उसी वक़्त कॉलेज से आ रहा था तो मुझे उनकी आवाज सुनाई दी. पर मेरा मन नितिन को धोखा देने को तैयार नहीं हो रहा था।उनकी हालत भी कुछ वैसी ही थी. वो उसमें ऐसी लग रही थी कि मन कर रहा था उसको नंगी करके अभी उसकी चूत चाट कर उसका पानी निकाल दिया जाये.

मैंने पेरेंट्स से पूछ लिया- मैं बबीता को बुला लूँ क्या?पेरेंट्स ने बबीता को बुलाने के लिए हाँ कह दिया और मैंने उसको बुला लिया. भाभी ने मेरे अंडरवियर में तने हुए लंड पर अपने होंठ रख दिये और उसको अपने होंठों से सहलाने लगी. हिंदी सेक्सी फिल्म बोलने वालीमैंने अपनी गांड उसकी तरफ घुमाई और कच्छे को उतार कर अपना तना हुआ औजार उसके होंठों पर लगा दिया.

सीमा वाल पकड़ कर प्रैक्टिस कर रही थी पर उसके पैर सीधे नहीं हो पा रहे थे.

और फिर जैसे जैसे मैं उसकी चूत के पास बढ़ने लगा तो मानो उसमें एक आग सी लग गयी. शुरुआत में तो अनुषी में मेरी ज्यादा रूचि नहीं थी … क्योंकि मैं अपनी गर्लफ्रेंड के साथ ही ज्यादा व्यस्त रहता था.

जब नम्रता को बर्दाश्त नहीं हुआ, तो उसने लंड को पकड़ा और थोड़ा आगे की तरफ खिसककर लंड को अन्दर ले लिया और अपनी कमर को चलाने लगी. मैंने शान्ति का मुंह अपने हाथों से पकड़ कर उसके गालों को सहला दिया तो उसने मेरे हाथ पर अपने हाथ रख दिये. आंटी भी शायद चुदने को तरसती थी।ऐसा मैं इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि इतने दिनों के बाद जब पति घर आये तो वह भला कैसे अपनी चूत को लंड के बिना शांत रखती होगी.

इस चुदाई से हम दोनों काफी थक गए थे, तो मैं उसके ऊपर ही गिर गया और हम दोनों को कब नींद आ गयी, पता ही नहीं चला.

उसका पूरा शरीर पानी से हल्का हल्का भीगा सा था जिससे उसके शरीर की बनाबट अच्छे से देखी जा सकती थी. भाभी ने मेरे कच्छे को भी खींच डाला और मेरा सात इंच का लौड़ा एकदम से उछल कर बाहर आ गया. अब उसने मेरा पेंट खोला, अंडरवियर निकाल कर मेरा लंड हाथ में लेकर हिलाया और लॉलीपॉप की तरह लंड चूसने लगी.

सेक्सी वीडियो घोड़ा कीमेरा बेटा बस ‘आअह्ह आह्ह वेरी गुड मम्मी आह्ह्ह आअहह …’ कर रहा था और मैं उसका लंड गपागप चूस रही थी. मैंने थोड़ी हिम्मत करके दीदी के कंधे पर से दूसरी तरफ के स्तन को स्पर्श किया.

निशा भाभी की सेक्सी

वहां मैंने उसे किसी फूल की तरह लेटाया और उसके ऊपर खुद भी लेट कर किस करने लग गया।मैं किस करते-करते नीचे की ओर जाने लगा. चलिए मैं आपको मेरी मां की काल्पनिक चुदाई की कहानी सुनाता हूं।मेरी मां पूजा (नाम बदला हुआ), उम्र 45 साल, फिगर अंदाजन 36-34-38 एक मराठी गृहिणी है। मेरे पापा एक प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं। इस कहानी में मेरे एक काल्पनिक दोस्त के पापा मेरी मां की चूत का मजा लेंगे। मेरे दोस्त का नाम धीरज शुक्ला है. जब उसकी चूत से सारा पानी बाहर आ गया तो चूत एकदम से चिकनी हो गई और मेरी उंगलियाँ अब अच्छी तरह से अंदर और बाहर होने लगीं.

कोई जवान लड़की अपने प्रेमी को भी इतना प्यार नहीं देती होगी जितना कि हीना साहिल के जिस्म को दे रही थी. तभी उसने मेरी तरफ पलट कर देखा, मैं उसकी गांड को मटकते हुए बड़ी ही वासना से देख रहा था. उसकी गोरी जांघों से जब उसकी पैंटी निकली तो उसकी हल्के बालों वाली चूत देख कर मैं धन्य हो गया.

शमा ने मेरे तने हुए लंड को अपने हाथ में लेकर हिलाया और उसको अपने मुंह में भर कर चूसने लगी. आह्ह आहह आअह्ह बेटा धीरे … आअह्ह्ह जान निकाल देगा क्या तू? आआह …’पूरा कमरा हमारी आहों से गूंज रहा था. अगली बार मैं फिर किसी सेक्सी भाभी या आंटी की चुदाई की कहानी आपके लिए लेकर आऊंगा.

कुछ देर बाद जब उसने बेड पर खून देखा, तो बोली- ये खून कहां से आया?मैंने उसको समझाया- येपहली बार सेक्सकरने के कारण निकला खून है, तुमने आज सेक्स किया है, तो आज तुम्हारी सील टूट गई है. मैंने आंटी की झुमरी तलैया, जन्नत के द्वार के ऊपर की कच्छी को अपने मुँह से पकड़ा और नीचे खींचते हुए आंटी को भी पूरा नंगा कर दिया.

हम दोनों में स्टाइल बदल बदल कर सेक्स किया था तो चुदाई से सोफा भी ख़राब हो गया था, चुदाई का पानी भी गिर गया था.

उसने खुद अपने हाथों से मेरा मोटा लंड अपनी रसीली चुत पे सैट किया और मेरे लंड के ऊपर चढ़ गयी. देहाती सेक्स वीडियो देहाती सेक्स वीडियोफिर भाभी की नजर नीचे पड़ी हुई ब्रा पर गई लेकिन वहां पर कच्छी नहीं थी. long कॉमेडी स्टोरी इन हिंदीनेहा के माथे पर इतने ठंडे मौसम में पसीने की बूंदें दिखाई दे रही थी. अब रही बात किन्हीं अंकल की तो मैंने अपने मोहल्ले में और आसपास रहने वालों को एक एक करके याद करना शुरू किया पर कोई ख़ास पिक्चर दिमाग में नहीं बनी, मतलब कोई अंकल जी ऐसे नहीं लगे मुझे जिनसे मैं चुदना चाहूं.

जैसे ही भाभी स्लैब पर अपने मम्मे टिका कर झुकी, मैंने देखा कि उसकी चूत पीछे की ओर निकल आई.

मैंने उससे डरते-डरते ही पूछा- आप तो बहुत ही हॉट और अच्छे दिखते हो तो फिर आपके हस्बेंड आपके लिए इतने बोरिंग कैसे हो सकते हैं. मैंने अपनी चाटने की स्पीड और बढ़ा दी और उसके क्लीट को भी चूसने लग गया. हम दोनों का कॉमन बाथरूम था और ऊपर से आधा फुट जितना खुला था, तो छत से अन्दर का नजारा साफ़ दिखता था.

स्स्स … स्सस … ऊंह्ह … की बेहद हल्की सी आवाज दोनों के मुंह से निकल रही थी जो केवल उनके पास बैठा हुआ कोई शख्स ही सुन सकता था. दोस्तो, तब मैं मन ही मन इतना खुश हो गया कि मैं आप लोगों को क्या बताऊं. वो वापस जाने को मुड़ी, तब तक मैंने तौलिया कमर से लपेट लिया और उसे खाना क्या बनाना है, बता दिया.

शेट्टी की सेक्सी फिल्म

उसने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा तो मेरे मुंह से सिसकारी निकल गई. मीटिंग ख़त्म होने के बाद बॉस ने फार्म हाउस के नौकर को बुलाया और कान में कुछ कहा. आखिर उसके सब्र का बांध टूट ही गया, वो तेज तेज सिसकारियां लेने लगीमैं नीचे बैठा था और वो सोफे पर लेटी थी.

मैं तो चूचियों से मजा ले रहा था और वो बार बार अपने चूतड़ पीछे खिसकाकर चूत को लण्ड से छुआना चाहती थी.

मैंने दूसरे रूम में पंखा ऑन करके अपनी साड़ी सूखने डाल दी और फिर टी-शर्ट में ही बाहर आ गई और उससे बोली- अच्छा हुआ आज कपड़े चेंज कर लिए.

अजय का शरीर काफी भारी था और मेरी चुदासी बीवी उसके बोझ के नीचे दब सी गई थी. उसके ऊपर स्लीवलेस फिट टॉप में से उसके बूब्स उसकी फिगर को परफेक्ट बनाते थे. आदिवासी सेक्सी वीडियो देनामैंने तैयार होकर डिनर किया और कुछ ही देर के बाद मेरे घर के दरवाजे की बेल बजी.

अन्तर बस यह है कि उस दिन तुमने टॉयलेट में मेरे लिए हस्तमैथुन किया था. मैंने तमाम लड़कियों औरतों को चोदा था लेकिन हाथी का बच्चा पहली बार चोद रहा था. हीना ने साहिल को इशारा करने की कोशिश भी की कि वो अपने लंड को अपनी जिप के अंदर डाल ले मगर साहिल की आंखें अभी चूत चुदाई के नशे में बंद थीं और तब तक समीरा साहिल के करीब पहुंच चुकी थी.

कई फिल्मों में तो एक लड़की को दूसरी की पोट्टी खाते हुए भी देखा था लेकिन इस तरह से अपनी आंखों के सामने मैंने चूत से निकलने वाला पीरियड का ब्लड नहीं देखा था. अब सुचिता मुझसे बोली- क्यों जीजाजी, आप तो बड़े छुपे रुस्तम निकले, आखिर ज्योति को प्रपोज करके पटा ही लिया बड़ी हसीन मुलाकात हुई आप दोनों की.

वो अपनी कहानी बताते हुए मेरा हाथ पकड़ कर रोने लगी और कहने लगी कि क्या मैं उसका दोस्त बन सकता हूँ?उसने जो पूछा, मैं तो पहले से ही उसके इंतजार में था.

जब मुझे भाभी के आने की आहट सुनाई दी तो मैंने न्यूज़पेपर को चेहरे के सामने कर लिया और पढ़ने का नाटक करने लगा लेकिन मैं पीछे से सब कुछ देख सकता था. उसने मुझसे पूछा- आज मुझे घर रहने को क्यों कहा?मैंने उत्साह में उससे कहा- क्योंकि ‘आई लव यू …’ और मैं आज तुमसे प्यार करना चाहता हूँ. मैंने बगल के टेबल पे रखी नारियल के तेल की शीशी उठाई और उसको उसकी गांड पे धार लगा कर तेल डाल दिया.

सेक्सी व्हिडिओ दाखवा सेक्सी व्हिडिओ भाभी बोली- ये सूसू किसने की है?मैंने कहा- मैडम ये हम दोनों की प्यास का पानी है. उसने मुझसे भी साथ में चलने के लिए कहा क्योंकि मैं रिश्ते में उसका भाई लगता था.

साथ ही उसने मुझे बसंती की निखरी जवानी और खूबसूरती को लेकर भी बताया कि तूने देखा नहीं कि तेरी बहन कितनी खूबसूरत बन कर गई. मेरे आते ही उसने बस एक बार तो घर के बारे में पूछा था मगर उसके बाद उसने मुझसे कोई बात नहीं की, वो बस चुपचाप अपने काम में ही लगी रही।कुछ ही देर में मोनी ने रसोई के सारे काम निपटा लिये थे और फारिग होकर उसने सोने के लिए अपना बिस्तर नीचे फर्श पर बिछा कर तैयार कर लिया था. मुझे लगा कि बैंक की तरफ से कोई गलती हो गयी होगी।क्यूंकि बैंक अभी होने वाला बंद था तो मैंने अगले दिन पता करना उचित समझा।रात को डिनर करने के बाद मैं और रीना सो रहे थे।तभी मैंने पूछा- रीना क्या बात है आजकल बड़ी गुमसुम रहती हो? पहले तो खूब बोलती थी.

पाकिस्तानी जबरदस्ती सेक्सी वीडियो

वो मेरी चूत को चाटने के बाद अपना लंड मुझे चूसने के लिए बोला तो मैं उसका लंड चूसने लगी. चूत चाटने के बाद मैं उठा और पैंटी को फिर से उसके मुँह में ठूंस दिया. हीना ने साहिल का लंड अपने मुंह में ले लिया और उसको आंखें बंद करके मजे से चूसने लगी.

मैं अपने घर के आस-पास इस औरत को लेकर नहीं घूम सकता था … क्योंकि सब मुझे पहचानते थे. पिछले साल की बनिस्पत वसुन्धरा ने कोई छह-सात किलों वज़न कम कर लिया था लिहाज़ा उसके चेहरे के तमाम नैन-नक्श … ख़ासकर उसकी सुतवां नाक और होंठ ज्यादा कातिल दिख रहे थे.

उसने लंड मेरी गांड से निकाल कर मेरे दोनों पैर उठा कर अपने कंधों पर रख लिए और मेरी कमर के नीचे तकिया लगा दिया, जिससे मेरी गांड आराम से ऊपर हो गयी.

उसकी जवानी को देख कर लग रहा था कि मेरा भाई अब किसी की चूत की प्यास बुझाने के लायक हो गया है. सोचा कि दो चार गालियां भी दूंगा, लेकिन जब मैंने खिड़की से झांका तो देखा कि वह अपने सुपारे को साबुन से बहुत अच्छी तरह से घिस रहा था. अब तो वो मुझे देख कर घूंघट भी नहीं करती थी, बल्कि मेरी तरफ गुस्से से देखती थी.

उसके गर्म हो जाने के बाद मैंने उसके पेट को चूमना तथा चूसना शुरू किया. मैंने अपनी टी-शर्ट उतारी और सीधे कम्बल में घुस कर कीर्ति से लिपट कर किस करना शुरू कर दिया. वो मेरी चूची को मसल कर और मेरी चूत को चोद कर मुझे चुदाई का मजा दे रहा था.

आंटी बोल रही थी- आज मेरे राजा ने मेरी प्यास बुझा दी। मुझे पता भी नहीं था कि इतने लंबे लण्ड का मालिक मेरे साथ रहता है.

सुहागरात की चुदाई की बीएफ: इसके बाद उसने मेरे कहने पर अपनी सील पैक छोटी बहन को भी मेरे लंड से चुदवाया. मुकुल राय को भी तुरंत आभास होता है और वो एक झटके से अपना पूरा लंड परीशा के हलक से बाहर निकाल देता है। परीशा वही ज़ोर ज़ोर से खांसने लगती है.

हम दोनों चिपक गये और मैंने उसका गाउन और नीचे पहना पेटीकोट कमर तक उठा दिया और उसके चूतड़ सहलाने लगा जबकि वो मेरे लण्ड से खेल रही थी. पर स्टोरी पढ़ पढ़ कर अब मैंने गली के जवान लड़कों को चुपके से देखना सीख लिया था. मैंने अपने लंड को उनकी चूत पर रखा और बोला- क्या आप तैयार हो?चाची ने हां में अपना सर हिलाया, वो बोलीं कुछ नहीं.

और इतना तो वो भी समझ सकता है कि तेरी चाहत क्या है और जरूरत क्या है.

उसकी बात से हम दोनों को होश आया और राधिका ने मेरी जांघ से उठकर अपने होंठ पौंछे. चाची- अच्छा हुआ कि तुम यह काला अंडरवियर पहनना नहीं भूले, नहीं तो तुम्हारा ये काला नाग आज निकल कर बाहर ही आ जाता. मैं तो न जाने कब से इसी पल का इंतजार कर रहा था कि कब भाभी को अपने नीचे लेकर मन भर के जोर जोर से चोदूं.