बीएफ गंदे

छवि स्रोत,सेकसी मुविज

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी फिल्म मां बेटा: बीएफ गंदे, अब जो भी था, मैंने सोचा कि सब तो कर लिया … अब ये भी करके देख लेती हूँ.

ब्लू वीडियो देखना

मैंने अपनी चिकनी चूत को अच्छे से धोया और चाचा का सब वीर्य पेशाब करके बाहर निकाल दिया. बंगाली में ब्लू फिल्मघर में सेक्स की कहानी में पढ़ें कि लॉकडाउन में भाभी और मैं एक साथ समय बिताते थे.

मुझे उसकी जीभ की खुरदराहट अपनी गांड के अन्दर मजा देती हुई महसूस हुई. मां की चुदाई का वीडियोअनु दूर होकर साड़ी हाथ में लेकर मौसी की चीख निकलने की प्रतीक्षा करने लगी.

अभिषेक ने बेल्ट उतार कर बैग में रखा और उसने अपने जूते मोज़े भी उतार दिए.बीएफ गंदे: बिन्नी की पूरी चूत अब मेरी पूरी हथेली में आ गई थी और मैंने जोर से चूत को अपनी मुट्ठी में भर कर दबा दिया.

अभी भी हम दोनों साथ में ही है और एक दूसरे के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं.मेरी उस रात खाने की बिल्कुल भी इच्छा नहीं थी मगर रात को नौ बजे के करीब शायरा मुझे डिनर के लिए भी बुलाने आ गयी.

विवाह वीडियो डाउनलोड - बीएफ गंदे

जैसा कि मैंने पिछली सेक्स कहानीबस में प्यासी चुत की चुदाई का मजामें जिक्र किया था कि यह मेरे साथ घटी दूसरी घटना है, जो मेरे और मेरी गर्लफ्रेंड अक्कू के बीच में घटी थी.अपनी इसी आदत के चलते मैंने अब तक बाइस चूतों की चुदाई की है, इनमें हर उम्र की चुत शामिल रही है.

झड़ने के बाद हम दोनों निढाल होकर गिर गए और अलग अलग हो कर वहीं बेड पर लेट गए. बीएफ गंदे मेरा रंग गोरा और सांवले रंग के बीच का है … फिटनेस फ्रीक होने के कारण एक्सरसाइज से मैंने एथलीट बॉडी बनाई है.

देसी कॉलेज गर्ल सेक्स स्टोरी में इसके आगे मैं बताऊंगी कि कैसे मेरी चूचियों ने मस्त आकर लिया और इसके लिए मुझे डॉक्टर के लंड से चुदना क्यों पड़ा.

बीएफ गंदे?

फिर उन्होंने मेरे लंड को किसी लॉलीपॉप की तरह अपने मुँह में ले लिया और बड़ी बेरहमी से घुप्प-घुप्प की आवाजों के साथ चूसने लगीं. चूंकि गांव में सभी के घर कच्चे थे, तो दरवाजा यूं ही उड़के हुए रहते थे. फिर उसने मुंह खोला तो मैंने धीरे से पूरा लंड उसके मुंह में दे दिया और उसके मुंह को चोदने लगा.

कुछ दिन ठहर कर एक मकान और दुकान देख कर मैंने अनु और कमल को मुम्बई बुला कर शिफ्ट कर दिया. पिंकी ने फटाफट अनिल को विदा किया और बाथरूम में जाकर नहाई और दूसरा नाईट सूट पहन कर रूम में आ गई. मैं उन दोनों की बातें सुनकर सोचने लगी छुटकी कि बाप रे, ये चाची तो महाचुदक्कड़ निकली.

मैं बस धीरे धीरे धक्के मारकर दिल से ही शायरा की चुदाई को फील कर रहा था. डेजी बोली- ठीक है, चल मेरी रंडी भाभी, आज मैं खुद ही तुझे अपने आशिक के लंड से चुदवाती हूं. हालांकि उस समय हमारा तलाक नहीं हुआ था।इस समय तक मेरी देसी चूत को लंड खाने की आदत पड़ चुकी थी।वैसे मेरी चूत ने लंड का स्वाद तो मेरी शादी के पहले ही चख लिया था.

ऐसे ही‌ खुलकर सीधा सीधा ही चूचियां मसल‌ दीं … चुत चाट ली … लंड घुसा दिया … चुत फाड़ दी … चोद दिया … और भी पता नहीं क्या क्या बकता रहा था. फिर मैंने, निशि और रोहिणी ने थोड़ा थोड़ा उसे अपने मुँह में लिया और फिर उसे हमने एक दूसरे के मुँह में दिया और उसके बाद मजे लेते हुए पी गए.

मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि मेरी गांड में इतना मोटा और लम्बा लंड पूरा अंदर घुस गया था.

वो अपनी फूली हुई गांड दिखाते हुए बोली- देखो मैंने कितनी मेहनत करी है.

मैं उसकी टांगों की ओर मुंह करके बैठी थी और इस बात का ध्यान रख रही थी कि उसकी बॉडी का बाकी हिस्सा मेरे बदन से टच न हो ताकि उसको ज्यादा उत्तेजना न चढ़ पाये. वो बोली- इरादा क्या है!मैंने उसे अपनी बांहों में खींचा और उसके होंठ चूसने लगा. ये सुन कर नीरू की डर से आंखें खुल गईं और वो बोली- हाय जानू, ये क्या बोल रहे हो.

इसका गला इतना बड़ा था कि मेरे आधे से ज़्यादा दूध बाहर को दिख रहे थे और मेरी पूरी टांगें भी एकदम नंगी थीं. मुझे वीर्य निकलने से उत्तेजना तो हो रही थी लेकिन वीर्य को मैं अंदर नहीं पी सका. वो बोला- यार, ये बात भाभी को नहीं बताना … बल्कि ये कह देना कि मेरी तबियत खराब है.

उसने एक लम्बा गुलाबी डिल्डो वेबकैम के सामने रख दिया और उस पर मुठ मारने लगी.

वो शादीशुदा थी या फिर कली से फूल बनने का इंतज़ार कर रही थी, ये तो नहीं पता था. आधे घंटे बाद डेजी ने मेरा लंड मुंह में ले लिया और उसको जोर से चूसने लगी. खैर … लंड पेले हुए ही उसे कुछ देर चूमने चाटने से ही वो अब शांत हो गयी थी.

मुझे कुछ पांच मिनट बाद ही पैरों में दर्द होने लगा तो उसने मेरी गांड को खींच कर बेड के किनारे पर लिया और मेरी जांघों को पकड़ कर जमीन पर खड़ा होकर मुझे लंड पर चढ़ाने लगा. वो चाहता था कि ऊपर ऊपर से चाहे सब कुछ हो जाए मगर चुत नहीं चुदना चाहिए. मेरी पिछली कहानियां पढ़कर आप में से बहुत से पाठकों को पता लग ही गया होगा कि मैं बहुत ही सुडौल बदन वाली लड़की हूं और तीस साल की हो चुकी हूं.

उसने कुछ सेकेंड्स तक डिल्डो को गले में ही रखा और उसकी आंखों में पानी आने लगा.

दस मिनट मासी की चुत ताबड़तोड़ चोदने के बाद में मासी के ऊपर ही गिर गया. कोई बात नहीं … मैं भी अपनी चूचियों को ऐसा शेप दूंगी कि मोहित मेरे पीछे पागल रहेगा और फिर मैं अपनी मनमानी करूंगी.

बीएफ गंदे संध्या- आआआ भड़वे … मैं झूठ बोल रही हूं क्या … पिछली बार ऐसे ही पिलाया था ना पायल दीदी ने अपना दूध? और साले तू भी तो कैसे उस हरामिन का दूध पी रहा था, जैसे मैंने तो तुझे कभी पिलाया ही नहीं था … बहनचोद साला. हॉट लड़की की वासना की कहानी के पहले भागहॉट गर्लफ्रेंड फुद्दू बॉयफ्रेंडमें आपने पढ़ा कि मैं एक प्रेमी जोड़े को भीड़ से बचा कर अपने कमरे में ले आया और उनको प्यार करने का मौक़ा दिया.

बीएफ गंदे उससे शायद ही कोई ऐसा शहर बाकी बचा हो, जहां वो गया हो … और वहां के रेड लाईट एरिया में जाकर किसी रंडी को नहीं चोदा हो. मगर डेविड जो कि मेरे बगल में ही बैठा हुआ था उसने अपने हाथों से मुझे पांचवा पैग भी पिला दिया।अब तो जैसे मैं हवा के तैर रही थी।आज तक मैंने इतनी वाइन कभी भी नहीं पी थी.

शायरा को सांसें लेने की अब ज़्यादा ज़रूरत थी … इसलिए मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से आज़ाद कर दिया, पर उसके मम्मों को मैं अभी भी दबाता रहा.

हिंदी हद बफ वीडियो

दूसरी तरफ रोहिणी नील के लंड को अपनी गुलाबी गांड की सैर करवा रही थी और कमल उसके बूब्स को चूस रहा था. अनामिका- क्या मतलब … सुरभि मैम भी तेरे जीजू से चुद चुकी है?प्रियंका- अरे वो तो मेरा ही प्लान था … सुरभि मैम भी तेरी ही तरह चुदने को तड़प रही थीं और उनका तो ब्वॉयफ्रेंड भी नहीं था. मैं जानती थी कि बिना चश्मे के वो मुझे अच्छी तरह से नहीं देख सकता है इसलिए मैंने अपनी लैगिंग निकाल दी.

जब भी उनके फ्रेंड्स की दारू पार्टी होती है, तो ड्रिंक्स और नॉन वेज ऊपर रहता है, बाद में डिनर नीचे. बॉस पूरा चूतखोर था तो मैंने अपने यार को चूत की ताकत से प्रमोशन दिलाने की सोची. फिर मैंने उसे लिप किस करना शुरू कर दिया और उसके मम्मों को मसलने लगा.

पर आपके मम्मों को जब तक मैं नहीं देख लूंगा, तब तक कुछ नहीं बता पाऊंगा.

फिर वो सीधे मेरे पास आकर बैठ गए और मुझे कमर से पकड़ कर अपनी ओर खींचते हुए मुझे किस करने लगे. गर्मी के कारण मैंने अपनी जींस भी उतार दी और सिर्फ टॉवल में बैठा था. मैंने अपनी चूत को सहलाना और थपथपाना शुरू कर दिया ताकि ये गर्म होकर अपने उग्र अवतार में आ जाये और लंड को खाने के लिए मचल उठे.

देखना तेरी मालिश करते-करते यह फिर एक बार तेरी चूत की मालिश करने के लिए हुंकार भरेगा. फिर हम दोनों पहले एक बस अड्डे के पास एक जगह पर मिले, ये जगह मैंने कुछ सोच समझ कर चुनी थी. अभी बाजार भी जाना है।जैसे ही पैकिंग का काम खत्म हुआ मौसी बोली- मैं नहाने जा रही हूं.

इसके बाद मैं छोटी बुआ के घर जब भी जाता था, तब वो मुझसे अपने पैरों को मालिश करवाती थीं. यह सेक्स कहानी एक ऐसी लड़की की है, जिसका नाम नंदिनी है और वो एक कॉलेज में पढ़ती है.

इतने में सन्नी अपनी बियर पूरी करके न्यासा के पास आ गया और वो उसकी जानघों को सहलाने लगा. पता नहीं कितनी बार … और बीसियों किस्म के आसनों में हम तीनों ने सेक्स किया. साथ ही उठ उठकर वो मेरी बीवी की एक चूची, जो उसकी तरफ़ थी, उसके निप्पलों को छेड़ रहा था।ये सब देखते हुए और इतनी देर से उत्तेजित रहने के कारण तुरंत ही मेरा काम हो गया.

वो भी मेरे कान में सरसरा कर बोलीं- रहने दे भोसड़ी के … अब इधर खुले में ज्यादा न कर.

जैसे ही वो उधर से निकला, मैंने अपनी कुर्ती उतार दी, जिससे अब मैं सिर्फ ब्रा में थी और फिर मैंने जींस भी उतारने के लिए हल्की सी झुक कर उतारने लगी. इनका किसी के साथ कोई सम्बन्ध नहीं है, अगर होता भी है … तो मात्र ये एक संयोग ही होगा. उसी बोरियत को दूर करने के लिए मैं उन पलों का सहारा ले रही हूं जिनको सोचकर मेरे मन को थोड़ा सुकून मिलता है.

मैं- मतलब तुम्हें अच्छा लगा जब उन्होंने मुझे तुम्हारा हज़्बेंड बोला?वो- तुम भी ना … कुछ भी मतलब निकाल लेते हो!मैं- तो बताओ बात क्या है, दोस्त मदद करने को होते हैं. [emailprotected]कुकोल्ड हस्बैंड की फंतासी का अगला भाग:सेक्स में फंतासी की इन्तेहा- 2.

वो जोर-जोर से बोलने लगी- अहा भाई चोदो मुझे … आह फाड़ दो मेरी बुर को … हां भाई बहुत मजा आ रहा है … ऐसे ही करते रहो. आपको न्यूड भाभी की मस्त चुदाई कहानी कैसी लगी मुझे उसके बारे में जरूर बताना. जैसे जैसे मेरी जीभ शायरा की चुत पर चल रही थी … वैसे वैसे मेरी उसकी चुत के प्रति दीवानगी‌ बढ़ती जा रही थी.

क्सक्सक्स बिलु

थोड़ी देर की गांड चुदाई के बाद ज़ारा- जान चूत में डालो अब!गांड में लगते धक्कों के बीच उसके मुंह से टूट-टूट कर निकले ये अल्फ़ाज़!मैंने उसकी गांड से लंड निकालकर चूत में डाला और चोदने लगा.

डेजी बोली- मुझे तो 40 मिनट तक नचाया था इसने, तेरी चूत में 20 मिनट में ही कैसे झड़ गया?मैंने डेजी को समझाया- जान … तेरी चूत मेरे मुंह में थी. मुझे उसकी जीभ की खुरदराहट अपनी गांड के अन्दर मजा देती हुई महसूस हुई. उसने मेरी गांड को कस कर पकड़ लिया और मेरे पूरे लंड को गले तक ले लिया.

उनकी हेयरी बॉडी मेरे पूरे शरीर से रगड़ खा रही थी तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।इस तरह उनके बॉडी से अपने आपको रगड़ना साथ में मेरा लंड भी उनके लंड से रगड़ रहा था. उसने मेरी गांड को कस कर पकड़ लिया और मेरे पूरे लंड को गले तक ले लिया. ब्लू blue themeउसने महीनों से अपनी चूत के झांट साफ नहीं किए थे।मैंने जैसे ही उसकी चूत में उंगली डाली तो वो उछल पड़ी- ऊईई … ईईई … ईईई.

एक तो उनको चाचा का लंड नहीं मिल रहा था और ऊपर से मेरे जैसा जवान लड़का घर में था. वो बोली- इरादा क्या है!मैंने उसे अपनी बांहों में खींचा और उसके होंठ चूसने लगा.

भाभी बोलीं- क्या हुआ … अभी तक मन नहीं भरा क्या?मैंने कहा- इतनी सुंदर हसीना मेरे साथ में नंगी लेटी हो, तो किसका मन भरेगा. अब वो गांड चलाने लगी और झटकों का जबाव देने लगी। मेरा लंड उसकी चूत में पूरा घुसकर बाहर आ रहा था. मेरी मां किसी बाजारू रांड के जैसे चुदाई के इतने नशे में थीं कि झट से पलट कर कुतिया बन गईं.

अगर सेटिंग हो गयी तो चाची अकेली रहती है, दिन रात खूब मजा देगी।आपको पहले भी बताया था कि हमारे घर के पीछे और आगे भी दोनों जगह बाथरूम व खाली जगह ताकि सर्दी में आराम से धूप में बैठ सकें. मेरी जिगोलो सेक्स स्टोरी के पहले भागचुदक्कड़ चूतों ने किया मेरा गैंग बैंग- 1में आपने पढ़ा था कि डॉली और अन्नू भी एकता के पास आ गयी थीं. धीरे धीरे करके मानवेन्द्र का लौड़ा मेरी गांड में कब सैट हो गया, मुझे कुछ पता ही नहीं चला.

वो कच्ची नींद में ही मेरे बालों में हाथ फिराने लगी और फिर वो पूरी तरह से जाग गयी.

उसकी गांड जब हिलती है तो मेरे मन में उसे चोदने के लिए ख्याल आने लगते हैं. मेरी कमर के पीछे किसी ने अपनी छाती सटा दी और अपने बाएं हाथ से मेरी छाती से मुझे दबोच लिया.

दोस्तो, आपसे इस सेक्स कहानी के अगले भाग को लेकर जल्दी ही मिलता हूँ. दोस्तो, मैंने आपको ये भी बताया था कि उस रात मैंने नीरू की गांड भी दो बार मारी थी. मगर मेरे हाथ ने उसकी जांघ को सहला सहलाकर उसे हरकत करने पर मजूबर कर दिया.

वो तो अपनी मस्ती करने के लिए चली गयी लेकिन मुझे घर में अकेले रहते हुए ख्याली उतार-चढ़ाव आने लगे. मां ने मुँह खोल दिया और मैंने अपना लंड चुत से निकाला और मां के मुँह में दे दिया. दोस्तो, मैं जय फिर से आप सभी के समक्ष एक नई दास्तान पेश करने जा रहा हूँ.

बीएफ गंदे मैं हमेशा उसको ही देखने और बात करने का … या उससे चिपकने का मौका तलाशने लगी. ये तो मुझे भी पता था कि अब लंड और चूत का मिलन होने वाला है और उस मिलन में दर्द भी होने वाला है.

ब्लू फिल्म सेक्सी में हिंदी

वो सेक्स के दौरान कभी अपने दोस्तों के नाम ले लेता, कभी पिंकी की सहेलियों के नाम. पहले तो उसने मेरी गांड के छेद को खूब बढ़िया से चाट कर एकदम गीला कर दिया. उसकी चुस्त जांघों और चौड़ी मजबूत छाती को देखकर मैं उसके सपनों में कहीं दूर निकल जाती थी जहां मैं उसके नीचे लेटी होती थी और वो मेरे जिस्म के हर कोने को चूम रहा होता था.

कपड़े उतारने के बाद उसने अपने कपड़े खोल कर मेरे कपड़े उतार डाले और बेहया रांड की तरह वो मुझ पर टूट पड़ी. वहीं उसकी बीवी मल्लिका की उठी हुई गांड को जब मैं देखता था तो मन करता था कि एकदम से जाकर उसकी गांड में लन्ड घुसाकर रगड़कर चोद दूं।सुमन से अक्सर पंकज और उसकी बीवी बात किया करते थे. चोदी चोदा कामैं अब तक शायरा के घर के अन्दर आ गया था मगर अभी तक उसने कल के मेरे उस किस के बारे में कुछ कहा नहीं था.

लंड खाली करते हुए चाचा जी मेरी चूत में ही झड़ गए और मेरे से अलग होकर साइड में बेड पर गिर गए.

मैंने भी प्यार से बिन्नी के गालों और बालों को सहलाना शुरू किया और धीरे धीरे उसके मुँह में लौड़े को आगे पीछे करता रहा. इसलिए मुझे और अनु को खुल कर चुदाई का खेल खेलने में सुविधा होने लगी थी.

मैं मामी के पास आ गया और उनके ऊपर लेट कर उन्हें फिर से किस करने लगा. इसके बाद वो मेरी चुदाई रोज करने लगा और मैं भी जितने दिन उधर रही, उसी की बाट जोहती रही. मैं उसके पैर फैला कर बीच में बैठ गया और अपने छह इंच के सीधे खड़े लंड को उसकी चूत के मुँह पर रगड़ने लगा.

मुझे वह खुशबू बहुत पसंद आ रही थी और उसको अधिक पाने के लिए मैं उसके और ज्यादा करीब आ गयी.

आखिरकार चाचा जी ने मेरे जिस्म को छोड़ा और तुरंत खड़े हो कर अपने सारे कपड़े उतार दिए. अब मैं अपने बिल्कुल पुराने वाले मूड में आ गया था और पहले के जैसे खुलकर बात कर रहा था, जिससे शायरा अब फिर से मेरी तरफ देखे जा रही थी. मैंने बिन्नी से पूछा- जाना है, या करना है?बिन्नी- जैसी आपकी मर्जी, लेकिन दर्द नहीं करना.

2021 की ब्लू फिल्मेंवो- तुन्हारे काम … मतलब?मैं- अरे कभी मेरी वो दोस्त यहां आए तो!वो- मतलब तुम उसे फिर से यहां लाओगे!मैं- ऐसा नहीं है … मगर फिर भी कभी जरूरत पड़ सकती है. मैंने बिना एक पल गंवाए उस प्रीकम को चाट लिया और लौड़े को पूरा गीला कर दिया.

इंडियन बीपी दाखवा

मैंने अपनी एक उंगली भाभी की चूत में डाली और जीभ घुमा घुमाकर उसे चूसता रहा. इतना बोल कर मैंने उसका हाथ पकड़ कर उठाया और जाकर उसकी गोद में बैठ गई. मुझे बहुत मजा आ रहा था और अब मैं गांड उठा उठाकर चूत में लंड ले रही थी.

तब मैंने नई नई पोर्न फिल्में देखना शुरू किया था दोस्तों के साथ मिलकर!हम लोग किराए का एक वीसीडी प्लयेर और किराए की ही पोर्न मूवी की वीसीडी लेकर आये थे. कुछ देर हमने वहां पर बातें की और फिर हम वहां से लौटकर अपने अपने रूम की ओर जाने लगे. अब आगे की वासना स्टोरी इन हिंदी:मैं उसके पास गई और उससे कहा- यार मेरी साड़ी उठा दो.

मैं काफी निराश होकर कमरे के गेट पर खड़ी थी और सोच रही थी कि आज आखिरी रात थी यहां … लेकिन लंड का कुछ इंतजाम नहीं हो पा रहा है. जब मैं सोफे पर बैठी तो उसमें मेरे चूतड़ लगभग नंगे ही दिखाई दे रहे थे. पिंकी को अगर अनिल के रूप में आशिक मिल जाए, तो वो दोबारा एक कॉलेज गर्ल बन जाएगी.

काफी देर तक उसकी चूचियों को पीने के बाद मैंने चाची के होंठों को चूसना शुरू किया और वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी. मैंने बड़ा सा बाईट काटा और उनको अपने मुँह से मुँह लगा कर खिलाने लगा.

पिंकी फटाफट नहाई और एक झीना सा नाईट सूट डाला और ऊपर से गाउन डाल लिया.

मैं जानती थी कि बिना चश्मे के वो मुझे अच्छी तरह से नहीं देख सकता है इसलिए मैंने अपनी लैगिंग निकाल दी. मां बेटे की चुदाई सेक्समैंने देर ना करते हुए उनकी गांड पर हाथ रखा और उनकी साड़ी को ऊपर खींचने लगा. घड़ी चोदी चोदाउसने अपने दोनों होंठों के बीच मेरे छेद को मुँह में भरा और उसे मेरे होंठों की तरह ही चूसने लगा. मैं बोला- नहीं यार … मुझे नहीं मरवानी गांड … सॉरी।उसने कुछ सोचा और बोला- चल ठीक है, अगर ज्यादा दर्द हो रहा है तो रहने दे.

ये सुन कर मैंने उसके होंठों को चूमा और कार वापिस हमने होटल की तरफ मोड़ दी.

पांच मिनट बाद वो मेरा सर दबाने लगीं और मेरी जीभ के जादू से फिर से गर्म होने लगी थीं. सुमन की सारी झिझक खत्म हो गई थी और अब तो वो पंकज के कहने से पहले ही दरवाजा बंद करके बिना मेरी परवाह किए अपने 34सी साइज के चूचे खोलकर पंकज को दिखाना शुरू कर देती थी. हम सबने एक साथ खाया और शाम को मैं अपने घर आ गया।उसके बाद मैं मौका देखकर उसके घर जाता और दोनों खूब चुदाई करते।फिर एक रात में उसके घर गया और रात को चोदा।मैंने उसकी सास को नहाते हुए देख लिया था.

उनके कमरे की लाइट्स तो हमेशा की तरह ऑफ थी … केवल नाईट बल्ब जल रहा था. फिर मैं बोली- तो तुम्हें जॉब चाहिए है? दरअसल आज मेरा कुत्ता यहां पर नहीं है, मैं चाहती हूं कि तुम्हें मैं अपने कुत्ते की जगह रख लूं आज. उसकी चूत से शर्रर … की सुरीली आवाज़ निकल रही थी और मैं उन्हें मूतते हुए बड़े ध्यान से देख रहा था.

देहाती लडकी काईमेज सेक्सी

इससे चुदने का बहुत मन कर रहा है।मैंने उसको उठाया और पीठ के बले लिटाकर उसकी टांगों को चौड़ी फाड़ लिया. रोहिणी और निशि बुरी तरह चीख रही थीं और बोल रहीं थीं- लंड बाहर निकालो. फिर मुझे देखकर वो बोला- मिस नंदिनी क्या हुआ?मैं अपनी सांसों को काबू करते हुए बोली- कुछ नहीं डॉक्टर.

मैंने उसे अन्दर खींचा और झट से गेट बंद करके उसे अपनी गोद में उठा लिया.

मनीषा ने उससे सिगरेट लेकर एक कश मारा और सिगरेट प्रिया की ओर बढ़ा दी.

फिर रेखा और पूजा बुआ कहने लगीं- तभी तो हम दोनों कहती थीं कि दीदी इतनी फूल कैसे रही हैं और खुश क्यों हैं. अनामिका पागलों की तरह प्रियंका की चूत को ऐसे खा रही थी, जैसे उसके लिए खाने को प्रियंका की चुत ही दुनिया की आखिरी चीज बची हो. काल भैरव फोटोकभी कभी स्मार्ट लड़की के लिए ऐसा लेटर बहुत बड़ा रोल प्ले कर जाता है और मैंने भी वैसा ही‌ किया था.

मैंने उसकी बुर से उंगली निकाल कर उंगली चूसी तो उसकी बुर का नमकीन माल मुझे बड़ा स्वादिष्ट लगा. मैं उसकी चूत को कुरेदता रहा और देखते देखते ही वो फिर से गर्म होने लगी. एसटीडी, पीसीओ में जाकर मैंने पहले तो अपने घर पर बात की, फिर ऐसे ही अपने एक दोस्त से बात करने लग गया.

एकता, अन्नू और हेतल की दोस्त रागिनी आपस में, हेतल की दोस्त अर्चना और प्रमिला और डॉली आपस में और हेतल की ननद रश्मि और हेतल आपस में किस कर रही थीं. उसने अपने दोनों होंठों के बीच मेरे छेद को मुँह में भरा और उसे मेरे होंठों की तरह ही चूसने लगा.

मैं उसकी जांघों के बीच उसके अंडकोषों वाली जगह पर अपनी गांड टिकाकर बैठ गयी.

सनी हंसते हुए बोला- मासी को फोन करूँ क्या!मैं बोली- यार तू बहुत गन्दा है. उधर मैंने भी नीरू की चूत के छेद को उंगलियों से चौड़ा किया और उसकी चूत को थोड़ी देर सहला कर अपनी जीभ से उसके चूत के दाने को चाटने लगा. दस मिनट तक उसकी गांड में लंड ताबड़तोड़ चला और गांड में ही वीर्य छोड़ दिया.

लड़की को चोदते हुए दिखाओ वह मेरे बाल पकड़कर मेरा मुँह अपनी बुर पर दबाने लगी और जोर जोर से सिसकारी लेने लगी. मैंने अपने बैग से एक मोटी जैकेट निकाल कर पहन ली और फ्रेश होने के लिए बाथरूम में चली गयी.

मैंने उसकी चूचियों को दोनों हाथों से जोर से दबाते हुए कहा- बस दो मिनट और करने दे यार … आह्ह … मजा आ रहा है. मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने गालों पर लगाया और बोली- विक्की आई लव यू. मैं यही सब सोचते हुए अपनी चूत सहला रही थी कि इतने में ही पंकज मेरे पास आकर झुककर अपने दोनों हाथों से मेरी चूचियाँ दबाते हुए मेरे बेचैन रसीले होंठों को चूसने लगा।अचानक हुए इस हमले से मेरी चूत ने बेसाख़्ता ही फिर से पानी छोड़ दिया और मैंने भी तुरंत ही एक हाथ से उसकी पीठ सहलाते हुए सीधे हाथ से उसके लंड को टटोलते हुए पैंट के ऊपर से ही पकड़ लिया और उसे प्यार से सहलाने लगी.

देहाती सास की चुदाई

सुपारे को इस तरह रगड़ते रहने पर सायरा बोली- लगता है आपके लंड को मेरी गांड की महक अच्छी लगी. यह मेरी एक काल्पनिक कहानी है।तो चलो शुरू करते हैं और मजा लेते हैं इस सेक्सी देसी स्टोरी का।यह सेक्सी देसी स्टोरी मेरी मौसी की लड़की की चुदाई की है. कमरे पर जाकर उसने मुझे चाय पानी के लिए पूछा तो मैंने औपचारिकता के लिए मना कर दिया.

किस करने के बाद वो उठी और उसने अपनी साड़ी पूरी तरह से खोलकर एक तरफ कर दी. सुनें मेरी कहानी!एक औरत खुलकर तो ये सब किसी को नहीं कह सकती है लेकिन कहानी के माध्यम से तो बता ही सकती है.

वो वैसे ही मेरी चुत चाटता रहा और मैं भी गांड आगे करते हुए चुत चटवा रही थी.

अगर कहीं बीमार वगैरह पड़ गये तो फिर कोई संभालने के लिए भी नहीं मिलता वहां।मैं अंकल के साथ दिल्ली शिफ्ट होने को राजी हो गया. मैं झट से उसके लंड के ऊपर चुत फंसा कर चढ़ गई और अपनी गांड उठा उठा कर उसका लंड अब अपने अन्दर तक लेने लगी. मेरी ऐसी स्थिति देखते हुए कविता ने भी धक्कों की गति धीमी करनी शुरू कर दी और जैसे जैसे मैं स्थिर होने लगी, वो भी रुक सी गयी.

रोजी- ओह्ह माय गॉड! तुम टॉयलेट में ये कर रहे हो? गंदे! और वो जो तुमने पहनी है, वो मेरी पैंटी है. अपनी सायरा को थोड़ी देर और नंगी देखते रहने की चाहत से एक बार फिर मैं कमरे में झांकने लगा. प्रियंका- मैंने तो तेरे को ऑफर दिया है न … और अब तो जीजू ने तुझे नंगी देख भी लिया है और उन्हें तू पसंद भी आ गयी होगी.

उसने मुझसे व्हाट्सैप पर दोस्ती की और मस्ती के लिए बात करना चालू कर दिया.

बीएफ गंदे: तब क्या हुआ था, इस देसी बहू की चुदाई कहानी को लिखने के लिए कहा गया. कामसूत्र की सारी मुद्राएँ और घर का हर कोना इनकी काम क्रियाओं का गवाह बना.

अभी भी हम दोनों साथ में ही है और एक दूसरे के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं. लवर हॉट सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैं अपने जन्मदिन पर अपनी प्रेमिका को होटल रूम में ले गया. प्रियंका बोली- वो कोई बात नहीं जीजू … मगर मेरा मन अभी तैयार नहीं था.

आप कमली के घर पर अपनी लड़कियों को छोड़ दो, हम दोनों वहीं आते हैं, जिसकी लौंडिया पसन्द आएगी, उसी से बात कर लेंगे.

अजय और मनीषा अब चिपट चुके थे और अजय ने हाथ से उसकी ब्रा का हुक खोल दिया. मैं व्याकुलता से भर गयी और अचानक उसके स्तनों को एक हाथ से जोरों से दबाती हुई दूसरे हाथ से उसके बालों को खींचती बोली- और जोर से चोदो मुझे कविता … आह मजा आ रहा है अब. एक बार तो सीता बनने वाला लड़का चला गया, तो उन्होंने सीता का पार्ट किया था.