घरेलू बीएफ सेक्सी वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी ब्लू पिक्चर वीडियो में हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

सी बीएफ हिंदी देहाती: घरेलू बीएफ सेक्सी वीडियो, मैं अपने पास अक्सर एक कंडोम का पैकेट रखता ही हूँ, क्या पता कब कौन की चूत चोदने को कहां पर मिल जाए.

देसी इंडियन क्सक्सक्स

मैं पहले से ही सारी तैयार देख कर जरा चौंका और मैंने कहा- क्या बात है, यहां तो पहले से सब तैयार है?राधिका- मेरे राजा ये सब तुम्हारे लिए ही किया है. सेक्सी माधुरी सेक्सीमैंने पहले से सुइट को फूलों से सजाने के लिए बुक किया हुआ था, तो मैनेजर मेरे पास आया.

मुझे ये बात तो पता थी कि मुस्कान के रहते, मैं शिशिर से नहीं चुद सकती थी. एचडी बीएफ चुदाई वालीवह अब मेरी चूत को ऊपर से सहलाता और थोड़ी थोड़ी उंगली अन्दर को भी घुसाया करता था.

सोनम बेटा, अब तू ही मेरे ऊपर आ जा और अपने हिसाब से कर जैसे तुझे ठीक लगे, क्योंकि मैं ताकत से घुसाऊंगा तो तुझे दुखेगा ही.घरेलू बीएफ सेक्सी वीडियो: थोड़ी देर में मुकुल राय का हाथ पूरा गीला हो जाता है।परीशा- पापा … अब बस भी करो मुझसे अब बरदाश्त नहीं हो रहा.

दो घण्टे चलने के बाद बाथरूम वगैरह जाने के लिए बस रुकी और मेरी सलहज शान्ति देवी चलकर संवाहक के पास आई और मेरी तरफ देख कर कहने लगी कि कंवर साहब पीछे गाड़ी उछलने के कारण मेरी हालत खराब हो रही है.पूरा लंड सोनल भाभी की चूत में उतारने के बाद मैंने उसकी चूत में धक्के देने शुरू कर दिये.

बीएफ फिल्म दिखा दो - घरेलू बीएफ सेक्सी वीडियो

रूम में आते ही वो मेरे को देख कर चौंक गई और बोली- तुम यहाँ?मैंने उसे अन्दर बुलाया और रूम बंद कर दिया.जब भाभी कुछ उठाने के लिए नीचे झुकी तो मुझे भाभी की वही गुलाबी कच्छी दिखाई दे गई जिसको मैंने छत पर सूंघा था.

फिर रात को मैंने दरवाजे से कान लगा कर सुना तो भाभी भैया से कह रही थी- आज बहुत दर्द हो रहा है. घरेलू बीएफ सेक्सी वीडियो मेरे नीचे पता नहीं अजीब सी इचिंग होने लगती है, जब भी मैं वो लम्हा याद करती हूँ, जिसमें तुम नताशा की चुत चाट रहे थे.

शायद ये मेरा वहम था या हक़ीक़त, जो भी था बहुत हसीन था।उसके बाद फिर हमने पूरा रूम साफ किया और वहीं बैठ कर बातें करने लगे थोड़ी देर बात करने के बाद उसने कहा- चलो अंदर चलते हैं।मैंने कहा- हम अंदर तो हैं.

घरेलू बीएफ सेक्सी वीडियो?

शाम के लगभग 6:00 बजने वाले थे और बादलों और बरसात की वजह से अंधेरा होने लग गया था मेरा दिल बैठने लग गया. मैंने भाभी के सिर को पकड़ लिया और अपनी गांड को उठा-उठा कर तेजी से अपने तने हुए लंड को भाभी के मुंह पर मारने लगा. तभी अमित ने मुझे फोन किया और मेरी तरफ देखते हुए मुझको ब्लैक सूट में आने के लिए थैंक्स कहा.

मेरी गाडी स्पीड में ही रोड से नीचे उतर कर झाड़ियों में घुस गयी और पीछे का टायर एक गड्ढे में फंस गया और गाड़ी बंद हो गयी।मैंने मन ही मन ऊपरवाले को कोसा कि कैसे सुनसान रोड पर गाडी ख़राब करवा दी. मन एकदम से सेक्स करने की तीव्र इच्छा से भर गया और मेरा लौड़ा अपने आप ही तन गया. फिर मैंने उसकी चूत में मुंह दिया तो उसकी चूत से गर्म नमकीन पानी निकल रहा था.

चुचों पर अटकी मेरी नज़रें देखते ही श्वेता मैडम ने अपनी छाती थोड़ी और ऊपर करके मुझे दूध पीने का आमंत्रण दे दिया. मैं कुछ देर तक उसे देखता ही रहा और उसके बाहर आने के बाद मैं जल्दी से नहाने घुस गया. इस साल कुम्भ मेले के दौरान मेरी विधवा सलहज शान्ति ने पहले से टिकट बुक करवा रखा था, जिसके बारे में मुझे बाद में पता चला.

मैं- देखो तुम और मधु एक अच्छा बच्चा चाहते हो … और मैं भी एक सुन्दर और गुणवान बच्चे में विश्वास रखता हूं. लेकिन ज्यादा दबाने और चूसने के कारण मेरे मम्मे काफी आकर्षक हो गए हैं.

आज जब मैंने तुम्हारी लोअर के ऊपर से तुम्हारे लंड के उभार को देखा था तो मुझे तुम्हारे साइज का अंदाजा हो गया था.

कहानी पर कमेंट करके बतायें कि कहानी लिखने में कोई ग़लती न हो गई हो.

वह छोटी उम्र से मामा के घर चली गई थी और जब जवानी की दहलीज पर आ गई यानि 18 बरस की हो गई, तब वो जवान और खूबसूरत हो कर वापिस आ गई. प्लान ये बना कि शाम को 10 बजे ही वो जिम से सबको निकाल देगा और मैं गली में सबकी नजरें बचा कर उसके जिम में आ जाऊंगी. अपना एक भी कपड़ा नहीं उतारा?तो मैंने भाभी की तरफ इशारा किया कि ये तो आपका काम है.

आंटी की कच्छी के ऊपर से काटने और चूमने से लाल हुयी चूत, लंड लेने को तरसती हुयी दिख रही थीं. भाभी के गोल बड़े बड़े चूचे, जो बोल रहे थे कि करीब आ जाओ और हमें दबा लो. उसकी आँखें मुझे निमंत्रण दे रही थी कि आओ और चूस लो मेरा रस!फिर मैं कहाँ रुकने वाला था मैंने उसके बाल पकड़े और अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये.

मुझे लग रहा था कि वो मेरे धक्के के साथ ही चूत की दीवारों को संकुचित कर लेती थी जिससे लंड बार-बार उसकी चूत पर रगड़ खा रहा था.

तो मैंने कहा- अभी पूरा मज़ा कहा आया है, पिक्चर अभी बाकी है मेरी जान. अक्सर छोटी वाली।एक दिन मैं ऊपर कमरे से बाहर निकल कर सो रहा था क्योंकि गर्मी कुछ ज्यादा हो गयी थी. वैसे तो वसुंधरा मेहँदी-लगे हाथों से एक उंगली और अँगूठे की चुटकियों से दायें-बाएं से अपना लहंगा उठाये हुए थी लेकिन जैसे ही वो मेरी कार की जलती हेड-लाइट के आगे से गुजरी तो मैंने नोट किया कि वसुंधरा के लहँगे के सामने ज़रा सा बायीं ओर, जहां से लहंगे का नाड़ा बाँधते या खोलते हैं, वो झिर्री कम से कम छह-सात इंच लम्बी थी.

काजल का हाथ ठीक मेरी जांघ पर रखा हुआ था और उसकी उंगलियां मेरी जांघ पर फैली हुई थीं. जिसकी इतनी सुन्दर भाभी हो वो भला किसी और लड़की की तरफ कैसे देख सकता है!”ओह हो! अब तुझे कैसे समझाऊं? देख रामू जिन बातों के बारे में तुझे अपनी बीवी से पता लग सकता है और जो चीज तुझे तेरी बीवी ही दे सकती है वो मैं नहीं दे सकती, इसलिए कह रही हूं कि तू शादी कर ले।”भाभी ऐेसी भी क्या चीज है जो सिर्फ मेरी बीवी मुझे दे सकती है और आप नहीं दे सकती?” मैंने अनजान बनते हुए पूछा. जिस तरह से वह साहिल की तारीफ कर रही थी उससे लग रहा था कि मेरी भान्जी साहिल के लंड की दीवानी हो चुकी है.

मैंने शैम्पेन की बोतल और खाने का सामान लाके पहले ही रेडी कर लिया था.

बहुत कम समय में हम दोनों इतनी अच्छी सहेलियां बन गई कि अब मुझे उसके बिना जी ही नहीं लगता था. मैं सनी जी को किस करने लगा, तो बंटी जी मेरा मुँह अपनी अपनी तरफ खींचा और मेरे होंठों को चूसने लगे.

घरेलू बीएफ सेक्सी वीडियो फिर एक दिन हिम्मत करके मैंने उससे हैलो कहा … और फिर उसने भी हैलो बोला. जो मज़ा मुझे उन तीनों के सेक्स को देखकर आया था, उससे कई गुना ज्यादा मज़ा मुझे अब आ रहा था.

घरेलू बीएफ सेक्सी वीडियो मेरा लंड उनकी चुत को चीरते हुए सीधा घुस गया और भाभी की हल्के से चीख निकल गयी. मैं गांड में मूसल लिए चिल्लाता, उससे पहले सनी जी ने मुझे डॉगी (कुत्ते वाली) स्टाइल में बिठा दिया.

बेबी की बहु भी सेक्सी दिखती है, मैंने कहा- गिन्नी से कहो कि आगे बढ़कर पहल करे तभी कहानी आगे बढ़ेगी.

जीजा साली चुदाई

मगर फिर उसकी जांघें मेरे हिप्स को टच करते हुए मेरे करीब होकर मुझसे सटने की कोशिश कर रही थी. अंकल ने अम्मी की पेंटी को एक साइड किया और अम्मी की चिकनी बिना बालों की चूत साफ़ दिखने लगी. मैंने पहली बार किसी मर्द के कामरस का स्वाद अपनी जीभ पर महसूस किया था.

मैं- चाची, आप हो ही इतनी सेक्सी कि आपको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया. मेरी चूत की प्यास आज तक नहीं बुझी है अच्छी तरह से। एक तुम ही हो जो मेरी प्यास बुझा सकते हो. मैं यही सोचा करता था कि कब मैं भी चुदाई के मज़े लूँगा, वो समय कब आएगा.

पुष्पिका इस कहानी की मुख्य नायिका है।पुष्पिका की उम्र उस समय 21 वर्ष थी। उसका फिगर कयामत था.

एक दिन उनके हस्बैंड को कहीं बाहर जाना पड़ा और वो भी पन्द्रह दिन के लिए जाना पड़ा था. उस शाम मैं उन्हीं का चक्षुचोदन करने पार्क में गया, तो वो बार-बार मुझे देखकर हँस रही थीं. मैंने उसको विश्वास दिलाया कि वो मुझसे सब बातें शेयर कर सकती है। फिर उसने मुझसे तभी पूछ लिया- क्या आपने कभी किसी के साथ सेक्स किया है?उसके इस सवाल पर एक बार तो मैं चुप सा हो गया लेकिन फिर कह दिया- नहीं, मैंने अभी तक किसी के साथ सेक्स नहीं किया है.

सीमा भाबी की शादी को 5 साल हो गए थे, उनकी एक 4 साल की छोटी लड़की भी थी. मैंने उसको अपनी बांहों में कस कर भींचा और उसकी गर्दन को चूमते हुए उसको बेड पर धकेल दिया. तभी मैंने मौका देख कर नैना को पलट दिया और अब मैं ऊपर और नैना मुँह में लंड लिए मेरे नीचे आ गई.

फिर मैंने उसकी ब्रा की स्ट्रिप साइड में करते हुए उसके कंधे पर किस करना आरम्भ किया. मैंने भी लंड को धक्का मारा, तो मेरा लंड दीदी की चूत में घुसता चला गया.

दो सीधी सीधी सिलाइयाँ हो तो मारनी हैं, इसमें कौन सी रॉकेट-साइंस है. मेरा एक हाथ उसका एक बोबा मसल रहा था, तो दूसरा हाथ उसकी साड़ी खोलने में लग गया. फिर सीधे बैठते हुए उसने लंड को अपनी चूत के अन्दर गप्प से गपक लिया और फिर उछाल भरने लगी.

दो पल रुकने के बाद सोनम खुलते हुए बोली- जीजू, आप भी ना!मैं- अब बोलो, क्या तुम कुछ सीखना चाहती हो?वो नजरों में वासना भरते हुए बोली- जी हाँ … पर मैं किसी तरह की बदनामी नहीं चाहती हूँ, कोई प्राब्लम नहीं चाहती, बस इसी कारण मैंने आज तक किसी से सेक्स नहीं किया है.

ये सीन देख कर मेरा भी हाथ रूक नहीं रहा था, अपने आप सुपाड़े पर चलने लगा. मैंने देखा कि भाभी ने पहले से ही सारी खिड़कियां बंद करके उन पर पर्दा लगा दिया था. आंटी फिर से चिल्लाने लगीं- अहह … बस मेरा फिर से हो गया … अब बाहर निकालो … मैं लंड चूस कर खाली कर दूंगी.

मेरे बहुत समझाने के बाद भी वह बड़ी मुश्किल से लंड को दोबारा चूत में लेने के लिए तैयार हुई. उसको दर्द हो रहा था लेकिन थोड़ी ही देर में फिर उसको भी मजा आने लगा.

मुझे बार बार अंकल का लंड, उनके सीने पर के बाल और आंटी का चिल्लाना याद आ रहा था. मैंने उनके लंड को कपड़े से साफ़ किया और उसके बाद मैं उनका लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. ये मेरा पहली बार था, तो मुझे चूत का स्वाद थोड़ा अजीब सा लगा, पर काफी मजा आया.

एक्स एक्स एचडी मूवी

लेकिन मुझे अभी लन्दन जाना है, तो मैं और मधु आपके यहाँ रोज नहीं आ सकते हैं.

जब उसने दोबारा से मेरा हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रखा तो मुझे पता चला कि उसने पैंट निकाल दी है. हमारे घर से आठ दस किलोमीटर दूर एक नया इण्डस्ट्रियल एरिया डेवलप हुआ था, चौड़ी चौड़ी नई सड़कें और दूर दूर तक कोई आदमी नहीं. अब उनकी पेशाब मेरे मुँह से होते हुए मेरे पूरे शरीर को गीला करता हुआ नीचे गया.

लेकिन अपने चेहरे से ज्यादा चिंता तो मुझे अपने बोर्ड के एक्जाम्स की, अपना स्टेटस बरकरार रखने की थी. बताओ मेरी मिठाई कहां है … मेरे लिए लाया भी या नहीं?मैं- चाची आपको मिठाई कैसे न दूँ. ओपन सेक्सी वीडियो सॉन्गमेरा भी चुदाई का सपना पूरा हुआ और किसी लड़की की चूत चोदने के लिए पैसे भी नहीं खर्चने पड़े.

मैंने उसकी चूत की फांकों को फैला कर देखा और उसकी लाल चूत में उंगली घुसा दी. बाहर मौसम और अधिक रौद्र रूप इख्तियार कर चुका था, आसमान पर काले बादलों की सेना ने आसमान में धीरे-धीरे स्थायी किलेबंदी कर ली थी, लगता था कि आज शाम ही बारिश आएगी.

फिर मैंने गहरी सांस ली और फिर से सोने की कोशिश करने लगा।भाभी के मायके पहुंचने के बाद भाभी ने मेरी बहुत खातिरदारी की। दस दिन वहाँ पर रुकने के बाद हम वापस लौट आये. फिर बाद में कैसे अनुषी मुझसे चुद गई, उस रंगीन चुदाई की कहानी को आपके सामने पेश कर रहा हूँ. जैसे ही उसका निक्कर उसके खूबसूरत चूतड़ों के नीचे से सरका, नैना की आंख खुल गई.

तो वो मुझे उठाती हुई खुद मेरे ऊपर आ गई और मुझे नीचे लिटा कर फिर मेरे तने हुए लंड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. हो सकता है कि भैया ने शायद भाभी की गांड भी मारी हो। मुझे ऐसी औरत की गांड मिल जाये तो मैं स्वर्ग जाने से भी मना कर दूँ. मेरे आते ही उसने मुझे गोद में उठा लिया और जिम के दूसरे रूम में ले गया.

उनका फ़िगर एकदम सेक्सी … भरे हुए मम्मे, पतली कमर, सफ़ेद रंग, भरी और उठी हुई गांड मैंने पार्क में नोटिस की थी और उनका कामुक फिगर सोच कर मुठ भी मारी हुई थी.

भाभी बोलने लगीं- आप बहुत रोमांटिक हो जी … इतना मज़ा आज तक मेरे पति ने कभी नहीं दिया. रीना ने मेरी आँखों में वासना का अनुभव किया फिर इतराते हुए बोली- उन्होंने मेरी कुर्ती उतार दी, मैं गुलाबी ब्रा में थी। वो पागलों जैसे मेरे बूब्स दबाने लगे, फिर मेरी ब्रा खोल दी और मेरे बूब्स चूसने लगे, मेरे निप्पलों को हल्के हल्के चाटने लगे और बीच-बीच में काटने भी लगे.

मैं नहाकर आती हूं।मैं बाथरूम के सामने ही कुर्सी लगा कर बैठ गया।भाभी- अरे यहां क्यों बैठे हो? बरामदे में बैठो न?मैंने कहा- भाभी आप नहा लो न। नहलाने तो आप दे नहीं रही हो। तुम्हें नहाते हुए ही देख लूं।हट बेशर्म!” भाभी ने झेंपते हुए जवाब दिया।मैं- भाभी प्लीज़, बहुत दिन हो गए हैं किसी को नहाते हुए नहीं देखा। तुमसे दूर तो बैठा हूँ. थोड़ी देर में मेरा लण्ड फिर टाइट हो गया, मैं बोला- आंटी एक बार और चोदूंगा।आंटी बोली- चोद दो. मैं जानता था कि भाभी रोज घर का काम निपटाने के बाद नहाने के लिए जाती है.

एक बार हम दोनों सेक्स की बातें कर रही थी तो हम दोनों ही गर्म हो गईं और हमने उस दिन थोड़ा बहुत सेक्स भी किया. मैंने अपने हाथ आंटी के बोबों पर रखे और जोर जोर से दबाने, मसलने लगा. कुछ देर के बाद जब मुझे लगा कि वो सो चुका है तो मैंने अपनी हरकतें शुरू कर दीं.

घरेलू बीएफ सेक्सी वीडियो मैंने इसकी सारी कहानियाँ पढ़ी हैं, तथा आज पहली बार अपनी कहानी लिख रहा हूं. कुछ देर बाद मैंने दोनों हाथ उसकी गांड पे रख दिए और उसके धक्के में मदद करने लगी.

लड़की चुदाई फिल्म

उस दिन के बाद जब भी मौका मिलता है सुमन मुझे बुला लेती है और जब उसकी चुदने की इच्छा होती है तो कंप्यूटर पर टाइपिंग सिखने के बहाने मेरे घर आ जाती है और हम चुदाई करते हैं. ”अच्छा एक बात बताइये! आप आती दफ़ा न तो अपना कोई कांटेक्ट नंबर हमें दे कर आयी, न हमारा कोई कांटेक्ट नंबर ले कर आयी … ऐसा क्यों?”अभी-अभी आप ही ने कहा न कि फ़र्ज़ की वेदी पर ख्वाहिशों की बलि चढ़ना-चढ़ाना, इस दुनिया का दस्तूर है. मैं उसको सहारा देकर बाथरूम ले गया क्योंकि इतनी भयंकर चुदाई के बाद उससे चला नहीं जा रहा था.

… बहुत दर्द कर रहा है … इतना मोटा लंड मेरे पति का भी नहीं है, जल्दी हट. उसने बताया कि कॉलेज की पढ़ाई पूरी होते ही उसकी शादी हो गयी थी और उसके हस्बैंड मुम्बई में एक फार्मा कम्पनी में जॉब करते हैं. ब्लू सेक्सी वीडियो दिखानाइस वक्त हम दोनों एक दूसरे की नजरों में नजर मिला कर सेक्स कर रहे थे.

मगर पिछली बार इतना सब कुछ हो जाने के बाद मैं ज्यादा देर तक उससे दूर नहीं रह सका.

फिर उसने उसी टेबिल पर लेटकर अपनी दोनों टांगों को हवा में उठा लिया और एक हाथ की उंगली चूत में चालू कर दी. वह बोला- वह मेरा दोस्त है, वह भी मेरी तरह ही है … डरो मत, उसे सब पता है.

फिर मेरे मन में पता नहीं क्या आया कि मैंने उसकी जांघों को हल्के से छू कर देखने की सोची. आप सबको यह कहानी पसंद आई हो तो कमेंट करके बताना और मुझे मेल भी करना. ये आग और भी अधिक भड़क गई और इस पर बारिश न होने के कारण मेरे जिस्म की गर्मी बढ़ गयी.

मैंने अब्बू से कहा- अब्बू, मैं मुनव्वर के साथ बाहर जा रहा हूँ, आप खुद घर चले जाना, मैं थोड़ा देर से आ जाऊंगा।अब्बू कोई दूध पीते बच्चे तो थे नहीं, वो समझ गए कि हम क्या करने जा रहे हैं, उन्होंने कहा- ठीक है.

एक बार और इसको अच्छे से रगड़ दे, फिर मार लेना गांड, पर प्यार से मारना … एकदम कोरी है तेरी इस कुतिया रांड की गांड मेरे राजा. मुझे बहुत बुरा लगा, मैंने उनसे कहा- वो उठ के मेरे लंड पे बैठ जाएं, तभी ठीक से हो पाएगा. वह भी मुझे देख कर भी मुझे देख देख कर मुस्करा रहा था और मेरी नजरों से बचाकर अपने टाइट लंड को अपनी पैंट के अंदर एडजेस्ट कर रहा था.

हाय रानी सेक्सी वीडियोवो अंदर लाल रंग की ब्रा और पेंटी में संगमरमर की मूरत के समान चमक रही थी।मैं ऊपरवाले से मन ही मन कह रहा था कि मैं इस रात के लिए हमेशा तेरा गुलाम रहूँगा।उसके वक्ष बिल्कुल सुडौल, गोल आकार के, सपाट पेट, गोल और गहरी नाभि. आंटी- आह आ आह … मादरचोद, भड़वे, बहन के लौड़े … ठोक मेरी चुत को … आह निचोड़ कर रख दे इसको … आ आ आ इ … मुझे रंडी बना ले.

व्हिडिओ बीपी

औसा प्रतीत हो रहा था कि इस साली छिनाल, हरामजादी की भोसड़ी में यदि आलू डाल दूँ, तो वो भी उबल कर बाहर आ जाएगा. मुझे घुटनों पे बिठाया और मेरा चेहरा अपनी जांघों में दबा लिया- बेबी, अभी मेरी खुशबू का मज़ा ले, थोड़ी देर में पूरा स्वाद दूंगी. मेरी पहली कहानीमेरी प्यासी चुत में मोटा लण्डको पढ़कर सभी साथियों ने मेल करके जो धन्यवाद और प्यार दिया है.

मेरा गांव पानीपत के बहुत पास है, तो मैं कॉलेज में पढ़ने के लिए पानीपत जाती हूँ. उसके इतना कहते ही मैं तो पागल हो गया और उनके करीब चला गया और उनका ब्लाउज़ खोलने लगा लेकिन उन्होंने रोक लिया और कहा- कोई आ जायेगा. राहुल तैयार होकर बड़े अनमने मन से अस्पताल के लिए जैसे ही अपने फ्लैट से बाहर निकला, उसे रजनी के फ्लैट का दरवाजा खुला दिखा.

फिर अचानक ही मेरी चूत को उसके लंड से इतना मजा आने लगा कि मुझे समझ नहीं आया कि मेरे साथ क्या हो रहा है. मुझे इस वेबसाइट पे काफी सेक्स स्टोरी पढ़ने को मिलीं, जिन्हें मैंने एक एक करके मजा लेते हुए पढ़ना शुरू कर दीं. उसने अपने हाथों से तकिया को भींचना शुरू कर दिया और इतने में ही अजय ने ऋतु की पैंट का बटन खोल दिया और उसकी छोटी सी जिप को खोल कर उसको नीचे खींच दिया.

दोस्तो, पहले तो मुझे लगा ये मजाक कर रही है, लेकिन फिर भी मैंने मूवी हॉल के बाहर पहुंचते ही उसको मैसेज कर दिया. अंकल बोले- फिर?मैंने कहा- आप कैमरे में रिकॉर्ड कर लेना, मैं बाद में आकर देख लूँगा.

वे चूत में लंड लिए बोल रही थीं- आह … राजा … और अन्दर डालो न प्लीज़ … और अन्दर तक पेल दो … आह आह.

ताकि जो तुम्हारा बच्चा हो, वो एक सम्मान के साथ हो ना कि उसे समाज एक नाजायज बच्चा बोले. ब्लू ब्लू फिल्म ब्लू ब्लू ब्लूमैंने उसे बनावटी गुस्से से डाँट के कहा- से इट लाऊड स्लट (तेज बोलो मेरी रंडी)वो रोती सी आवाज में कांपती आवाज में बोली- यस आई लाइक इट मास्टर ( मुझे ये अच्छा लग रहा है मेरे मालिक)मैंने उसके चूतड़ों पर फिर से व्हिप से मारा. हिंदी पिक्चर नंगेतो वो बोली- फिर क्यों रोक रहे हो?मैंने बोला- तू प्रेगनेंट हो जाएगी तो. मैं भी सेक्स बहुत मन से करती हूँ और कभी कभी जिस दिन लंड नहीं मिलता मेरी चूत को अपनी चूत में उंगली करके अपने आपको शांत कर लेती हूँ.

नौकर बोला- आह्ह … मैंने तो सोचा भी नहीं था कि तू मेरा लंड अपने मुंह में ले लेगी.

उसके निप्पल पे होंठ के बीच में रखकर दबाए जा रहा था और जीभ से चाट रहा था. मैंने भाभी से मिलने से पहले ही ठान लिया था कि आज भाभी को बहुत मज़ा दे कर ही उनकी बुर में लंड पेलूंगा. फिर मैं आंटी की तड़प को देखकर उठा और अपने लौड़े को आंटी की चुत पर रगड़ते हुए घप से ठोक दिया.

अब ताऊ जी ने लंड को चाची के चूत के छेद पर रख के जोर से कमर को झटका दे मारा. उसके निप्पल पे होंठ के बीच में रखकर दबाए जा रहा था और जीभ से चाट रहा था. अब अंकल को मुझे उनके हाथों से पकड़ने की जरूरत नहीं थी, उन्होंने एक हाथ मेरे कूल्हों पर रखा और दूसरा हाथ मेरे स्तनों पर ले आये.

चूत और लंड की वीडियो

मैं भी जीतू से बात करती थी और हम दोनों लोग की बातें फ़ोन पर भी होने लगी. उसने उस किताब का कोना हल्का सा बाहर छोड़ दिया था ताकि जब मौसी उस बिस्तर पर सोने के लिए जाये तो मौसी की नजर उस पर पड़ जाये. मैंने उसको बताया कि मुझे एक हॉट फिगर वाली लड़की चाहिए, जो आगे से और पीछे से मस्त दिखती हो.

चूंकि दिशा (साली) जीत गई थी, इसलिए नियमानुसार मुझे उसका टास्क पूरा करना था.

मेरे कॉलेज टाइम में ही एक लड़की साथ में पढ़ती थी, जिसका नाम चारू शर्मा (बदला हुआ) था.

विक्की ने एक मिनट के लिए लंड बाहर निकाला, तो मेरा मन होने लगा कि मैं अपनी चूत में लंड ले लूँ. फिर उसने नारियल के तेल की शीशी से तेल निकाल कर अपने लंड पर लगाया और थोड़ा सा तेल मेरी चूत के मुंह पर भी लगा दिया. भारतीय चूदाईमैंने ऑफिस के बाद उसे एक चैक से पेमेंट दे दिया, वो थैंक्स कहकर चली गयी.

मेरी बीवी नीचे से अपने चूतड़ थोड़े थोड़े उछाल रही थी। वो इतनी भारी है वासना से कि उसका तो एक बार पानी निकल भी गया होगा।फिर अचानक से अब्बू के लंड का सुपारा फिसलते हुए सीधा मेरी बीवी की चूत के अंदर चला गया क्योंकि उसकी चूत पानी से भीगी हुई थी. उसके मुंह से निकल गया- तुम्हारा तो काफी बड़ा है!मैंने कहा- जितना बड़ा होगा, तुम्हें मजा भी उतना ही देगा. आंटी कुतिया की पोजीशन में आ गईं और अपने चूतड़ मटकाने लगीं- लो मेरे मालिक आपके लंड के लिए पेश है इस कुतिया की भोसड़ी, ठोक दो इसमें अपना लौड़ा और भर दो इसे अपने काम रस से.

वहां एक भैया-भाभी अपने बच्चों के साथ रहते थे।आंगन में पहुंचने के बाद मैंने भाई को आवाज लगाई तो भाभी ने जवाब दिया- देवर जी अभी घर में कोई नहीं है इस वक्त. अब हमारे दोनों के बीच का फ़ासला कम हो गया था, शरीर आपस में सट चुके थे और दोनों एक दूसरे के शरीर की गर्मी महसूस कर रहे थे.

कुछ देर बाद मैंने दोनों हाथ उसकी गांड पे रख दिए और उसके धक्के में मदद करने लगी.

और वो उल्टी लेट गयी।खूबसूरत गोरे चिकने चूतड़ … मैं झुकी और चूमने लगी हल्के हल्के। सुजाता ने थोड़ी अपनी टांगें चौड़ी कीं और मेरे होंठ फिसलते हुए सुंदर से भूरे छेद से जुड़ गए।मैं चूसने लगी, चाटने लगी।शोभा ने गाजर प्रोग्राम फिर शुरू कर दिया।मैं और मम्मी दोनों एक साथ बज रही थीं।तभी लक्ष्मी ने शोभा को बोला- मैं ज़रा वाशरूम जाकर आती हूँ. फिर बिस्किट लेकर और चाय का कप लेकर फिर से अपने रूम की तरफ जाने लगा तो सुमिना ने मुझे रोक लिया. अंकल मेरे होंठ चूसने लगे, जैसे मानो मेरे शरीर के अन्दर की सारी ऊर्जा होंठों से चूस रहे हों.

বিএফ থ্রি এক্স ভিডিও मैं झिझका तो खुद उसी मेरे होंठों पर अपने होंठों को रख दिया और मुझे किस किया. तभी हवेली का दरवाजा खुला और तभी अचानक जो मैंने देखा उसे मैं कभी नहीं भूल सकता.

उनके घर की मैंने डोरबेल बजाई, तो दरवाजा खोलने के लिए भाभी की आवाज आई- रुको आती हूँ. उस के बदन की तमाम गोलाइयाँ, गहराइयाँ और ऊंचाइयां पहले के मुकाबिले कहीं ज़्यादा शिद्दत से उजाग़र हो रहीं थीं. जबकि हीना भी जानती थी कि साहिल समीरा के हाथ का नहीं बल्कि उसकी चूत का स्वाद चखना चाहता था.

ब्लू सेक्स सेक्स सेक्स

मगर जिसने भी लंड मुंह में देकर चुसवाया है वो जान पाएगा कि मुझे उस वक्त कैसा लग रहा होगा. राहुल ने मुस्कुराते हुए अबकी बार एक हाथ उसकी चूत के ऊपर रख दिया तो हँसते हुए सीमा खड़ी हो गयी. दोस्तो, यह मेरी पहली कहानी उस वक्त की है, जब मुझे गांड मरवाने का शौक लगा.

ज्योति की हल्के हल्के से मादक आवाजें निकल रही थीं- ओह राज … नहीं बस करो. उस रात हमने 4 राउंड चुदाई की और सुबह के 4 बजे तक चुदाई का मजा करते रहे.

तुम रेडी हो?उसने मेरी आंखों में देख के कहा- चाचू आप मेरे अच्छे चाचू हो ना … तो दर्द क्यों दोगे मुझे?मैंने कहा- बच्चा ये नेचुरल प्रोसीजर है, पहले दर्द फिर सबसे बड़ा मज़ा.

रूम में आते ही वो मेरे को देख कर चौंक गई और बोली- तुम यहाँ?मैंने उसे अन्दर बुलाया और रूम बंद कर दिया. मुझे पहली बार लंड से निकले पानी का टेस्ट मिला था जो मुझे बहुत अच्छा लगा. इस पूरी कहानी को मैं विस्तार से सुनाना चाहूंगा, उम्मीद है आपको मेरी ये सेक्स कहानी पसंद आएगी.

जब मैं बड़ा हुआ तो उसके बाद मैं चोरी-छिपे लड़कियों की तरह तैयार होकर भी देखने लगा. तभी नीना बोली- ओह्ह पापा बहुत टेस्टी है इसकी चूत … ओह्ह पापा आप भी चाटो ना. उसके शरीर की खुशबू ऐसी थी कि मन कर रहा था उसे पूरा का पूरा खा जाऊँ.

मेरा हाथ भी अपने लंड को चैन नहीं ले रहा था और लंड की घिसाई शुरू कर चुका था.

घरेलू बीएफ सेक्सी वीडियो: अब वो मेरी माँ के सामने सिर्फ लुंगी में थे जो उन्होंने अगले ही पल निकाल कर अलग कर दी. मेरे दिमाग में एक फैंटेसी थी कि मैं मधु को रश्मि के सामने भी चोदता रहूँ, तो रश्मि मुझसे गुस्सा नहीं, सिर्फ प्यार करे.

मुझे कुछ दिनों की चैट से ऐसा लगा कि वो मुझ में कुछ ज्यादा इंटरेस्ट ले रही है. तभी तन्वी ने एक बॉक्स मेरे हाथ में रख दिया और बोला- ये मेरी तरफ से गिफ्ट।मैंने उसे खोला तो उसमें मेरे लिए साड़ी के मैचिंग रंग का ब्लाउज़ और पेटीकोट था।मैंने दोनों शुक्रिया कहा. मुझे पता चला कि वह भी एमएनसी कम्पनी में आईटी विभाग में काम करती हैं.

भाभी ने हाथ बढ़ा कर मेरा लंड पकड़ लिया और बोलने लगीं- बस अब अन्दर डाल दो और मत तड़फाओ.

अब मैंने परवीन का मुँह अपने खड़े लंड की तरफ किया, तो उसने थोड़ी नानुकुर के बाद मान लिया. वहीं उसके चूतड़ एकदम परफेक्ट शेप में पीछे को निकले हुए थे, जो खुद जैसे कह रहे थे कि आओ और हमको मसल दो. मेरी ज़िन्दगी मस्त चल रही थी।अजय अब सिर्फ आधार कार्ड में था। मुझे लगता ही नहीं था कि मैं आदमी हूँ। अब मैं खुद को औरत समझती थी और अपने दोनों पतियों अंशु और उपिंदर के साथ खुश रहती थी।फिर एक दिन:सुबह का समय था, मैं और अंशु चाय पी रहे थे, तभी फोन आया, अंशु ने देखा और स्पीकर ऑन कर दिया।कैसी हो अंशु?”मैं अच्छी हूँ डॉक्टर शोभा, आप कैसी हैं?”ठीक हूँ, एक काम है अंशु!”मैं समझ गयी.