नींद में बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी गर्ल लड़की की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी ग्वालियर: नींद में बीएफ, अपने वादे के मुताबिक़ मैंने खुद से अरविन्द को चूमना शुरू कर दिया था.

सेक्सी हिंदी नई नई

हम दोनों में वासना गहराने लगी और हमारी जीभें एक दूसरे के मुँह में कुश्ती लड़ने लगीं. पंजाबी सेक्सी वीडियो में एचडीनंगी लड़की होटल Xxx कहानी में पढ़ें कि मेरे रूम में शराब के नशे में लगभग नग्न हालत में एक जवान लड़की पड़ी थी.

मेरे लौड़े में हल्का हल्का दर्द हो रहा था मैंने तेल से मालिश की और गोली खा ली. सेक्सी फिल्म कोरोनाकहानी उस वक्त की है जब मैं अपने से बड़ी उम्र की लड़की को चाहने लगा था.

क्योंकि जिस पल ये हुआ, वो बस कुछ सेकंड का था … पर इतना मधुरम था कि सोचने समझने की क्षमता समाप्त सी हो गई थी.नींद में बीएफ: सरोज बोली- सुमन को जिस पलंग में चोदा था, उसी पलंग में तुझसे मैं अपणी भाभी को भी चुदवाऊंगी … मेरा वादा है.

वो बोला- बड़ा मस्त भोसड़ा है तेरा!नवीन 69 में काफी देर तक मजा लेता रहा.मैंने उसकी पीठ पर हल्का सा दबाव बनाया, जिससे हम दोनों के होंठ अब चिपकने ही वाले थे.

देवर भाभी की सेक्सी दिखाएं - नींद में बीएफ

मैंने अपना लंड उनकी चूत में आगे पीछे किया और तेज तेज धक्के लगाने लगा.सभी लोग अपने अपने काम में व्यस्त रहते हैं, तो किसी से भी ज़्यादा मिलना-जुलना नहीं हो पाता है.

नीचे के इन हाथों का खेल एक दूसरे का बदन पर चल रहा था और ऊपर मोबाइल हाथ में लिए दोनों हाथों से जो बातें हो रही थीं, उनका खेल मन पर चल रहा था. नींद में बीएफ दो मिनट बाद जब मैं नार्मल हुआ तो मैंने वापस अर्शिया की चुत से चड्डी हटाई और चुत को देखने लगा.

करीब दस मिनट तक बुर चटवाने के बाद मैं उसके मुँह में ही झड़ गयी और निढाल हो गई.

नींद में बीएफ?

अब अंकल मां की गर्दन पर धीरे धीरे किस कर रहे थे और मां उनके बालों को सहला रही थीं. मैं उसे जाते हुए मचलती गांड को हिलते हुए देखने लगा फिर बेमन से गेट खोलने चला गया. फिर उसने अपना फोन साइलेंट पर किया और मुझसे बोला- तू भी अपना फोन बंद कर दे.

उसने मुझे बैठने का इशारा किया, अब मैं उनके स्तनों को अपने मुँह में लिए था. जब वह मेरे कमरे में आया, तो आकर बैठ गया … पर सर्दी का सीजन था, तो मैंने उसको मेरी रजाई में आने को कह दिया. तो वो मस्ती से चिहुंक उठी और अगले ही पल उसने मेरी उंगली को अपनी गांड में झेल लिया.

शबाना, दुनिया जाने या न जाने, तुम तीनों जानती हो कि मैं तुम तीनों का शौहर हूँ और शौहर की हर इच्छा पूरी करना औरत का फर्ज है. शायद इसको उसने ग्रीन सिग्नल समझा और अपना लिंग मेरे कंधे की कोर पर सटाकर धीरे धीरे रगड़ने लगा. मां ने कुछ नहीं बोला और पूछा- अमित, तू कब आया दोस्त के घर से!मैंने कहा- बस अभी अभी आया हूं.

अपनी आंखें बंद करके अपनी तेज चलती हुई सांसों के साथ वह जोर जोर से कभी अपनी चूत को मसलती, तो कभी अपने छोटे छोटे बोबों को रगड़ती. उनकी कमर पकड़ते ही मुझे कुछ अजीब सा लगा और उनकी बॉडी की मर्दाना सुगंध से मैं मदहोश सी हो गई.

फिर धीरे धीरे मम्मों की गोलाइयों को चूमने और उन पर दांत गड़ाने लगा, उसके दोनों मम्मों को पकड़ कर दबाने लगा और चूमने लगा.

मैं सीधा हुआ और अपनी आरू की टांगों के बीच में बैठ कर उसकी टांगें अपने कमर पर रख दीं.

अब लंड फिसलता हुआ बच्चेदानी तक टक्कर मारने लगा था और उसी समय मेरे लौड़े ने वीर्य छोड़ दिया. फिर वो अपने एक हाथ से मेरी चुत को दबाने लगे, मुझे बहुत शर्म आ रही थी … लेकिन चुदने का मन भी कर रहा था इसलिए मैंने उन्हें मना नहीं किया. मैंने कहा- भई क्या इरादा है तेरा?नील ने कहा- मेरे इरादा करने से क्या होता है.

और बिना कुछ ज्यादा सोचे समझे मैंने अपने मोबाइल के इन बॉक्स में नंबर लिख कर उसको बता दिया. मैं उनसे बहाने से बात करने की बहुत कोशिश करता था पर वो बात ही नहीं करती थीं. मैं सीधा हुआ और अपनी आरू की टांगों के बीच में बैठ कर उसकी टांगें अपने कमर पर रख दीं.

वो हंस कर बोले- इस बार तुम खुद से मेरे साथ सेक्स करने की पहल करोगी न!मैंने हंस कर कहा- देखूंगी.

वो मेरे बोबों को खूब दबाते थे और मुझे पूरी तरह से रांड बना कर रखते थे. उस दिन उनके पति जिनको मैं चाचा कहता हूँ, दुकान का सामान खरीदने के लिए भिवानी की मार्केट में गये थे. हम दोनों बाहर आ गए और साथ में हॉल में सोफे पर नंगे बैठ कर खाने लगे.

इसलिए मैं पूरे जोश में अपनी पड़ोसन लड़की की चुदाई करने में लगा हुआ था. हम आसानी से एक दूसरे को पहचान सकें … इसलिए दोनों ने कपड़े के रंग भी बता दिए. रोज रात को शिलाजीत खाकर दूध पीने की आदत इसी समय रंग दिखाती थी जब अपने से आधी उम्र की लड़की नीचे हो और लण्ड मलाई निकालने को राजी न हो.

उसने- तुम साड़ी ही पहनती हो या कभी जींस टॉप या मिडी स्कर्ट भी पहना है!मैं- जी, सिर्फ साड़ी ही पहनती हूँ.

तभी मैंने सामने देखा कि डायरेक्टर सामने खड़ा था, उसके पीछे सोफ़े पर रश्मि थी. उसके बाद मैंने पूछा- भाभी वो कौन सी रिटर्न गिफ्ट की बात कर रही थी आप … और आपका बेटा कहां है?वो बोलीं- वो अभी सो रहा है.

नींद में बीएफ फिर मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और उसकी पैंटी उतार कर उसकी चुत को चाटना और चूसना शुरू कर दिया. बहुत देर तक मैं अर्शिया की चुत चोदता रहा, अर्शिया भी गांड को हिला हिला कर अपनी चुत चुदवा रही थी.

नींद में बीएफ ये मुझे बाद में पता चला था … जब ज़ीनिया को चोदने के बाद उसी की मदद से मैंने उसकी मां को भी चोदा था. उसने अपनी बांहों में मुझे जकड़ लिया और अपनी कामुक धीमी आवाज़ में बोली- भाई … ये मेरी ज़िन्दगी का सबसे अच्छा सेक्स था.

उसे देखते हुए मैंने अपनी पतलून की चैन नीचे सरका दी और अपना लंड निकाल कर पीहू के सामने कर दिया.

देवर भाभी की चुदाई वाला सेक्सी वीडियो

वो चुत सहलाते हुए बोली- साली रांड कुछ भी नहीं सुनती है, बस लंड देखा नहीं कि शुरू हो गई टपकने. सीलपैक गर्ल की चुदाई कहानी के पिछले भागकुंवारी लड़की के साथ 69 सेक्समें अब तक आपने पढ़ा था कि निशा मेरी कामना के अनुरूप ही गंदा सेक्स पसंद करने वाली जवान लौंडिया थी. तभी उन्होंने मुझे कहा- मैंने तो आपको थैंक्यू बोलने के लिए कॉल किया है.

अब मैंने उसकी टांगों को ऊपर उठा कर अपने कंधों पर रख लिया और उसकी बुर का छेद मेरे लंड के ठीक सामने आ गया. वो लंड देख कर कहने लगी कि य…ये क्या है … इतना बड़ा और सख्त!मैंने कहा- ये मेरा औजार है और इसे लंड भी कहते हैं. एक रात को मुझे बाथरूम से कुछ आवाज़ आयी, मेरी आंख खुली तो मैंने रघु और श्रेया को फ्लैट में देखा, वो दोनों कहीं नहीं दिखे.

अब हमारी मैसेज के अलावा कॉल पर भी बात होने लगी … मतलब दिन भर मैं उसी में लगी रहती या जब भी मैं अकेली होती, तो मुझे उसके साथ बिताए पल याद आते.

अर्शिया की गांड और बोबे देख कर ही अच्छे अच्छे लड़कों का पानी छूटने पर आमादा हो सकता है. मैं उनके ग़लत इरादे समझ चुकी थी और तुमको इशारा भी किया था कि चलते हैं. फिर मैंने तरकीब लगाई और उसकी सास, जो कि लगभग 50-55 साल से ज्यादा की रही होगी, उनसे कहा कि वो मेरी सीट पर बैठ जाएं … मैं खड़ा हो जाता हूँ.

मैं इधर आया तो था अपने एक एग्जाम देने के सिलसिले में … मगर अब शिवानी को देख कर लंड उसको चोदने के लिए मचल उठा था. दूसरा दिन आया तो मैं बाथरूम में घुस गया और अपने लंड की झांटें आदि साफ़ करके शिवानी की बुर चुदाई के लिए रेडी हो गया. मुंबई में किराया मंहगा होने के कारण मैं अपना फ्लैट अपने ऑफिस के दोस्त के साथ शेयर करता हूं.

इस वक़्त मैं उसको चरमसुख देने की कोशिश कर रही थी क्योंकि उसने मेरी जवानी बहुत अच्छे से निचोड़ी थी और वो ही इसका पहला हक़दार बना था. सिस्टर की गांड की कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी चचेरी बहन मुझसे सेक्स के लिए उतावली थी.

किस करते करते मैंने उसके नीचे मेरा हाथ ले जाकर चुत में उंगली डाल दी. रात में मैंने झक मार कर उससे हां कर दी तो वो खुश होकर मेरे लंड से खेलने लगी. मैं काफी देर से गर्म था तो भाभी ने मेरे लंड की मुठ मारने के बाद 5 मिनट में ही मेरे माल निकल गया और मेरी पैंट पर गिर गया.

मैंने अन्वेषी को वो ही लाल रंग वाली जालीदार ब्रा और पैंटी पहनने का बोला.

तभी वहां किसी के आने की आहट हुई, तो हम दोनों जल्दी से वहां से निकल आए. उसकी चुत ने मेरे लंड को ऐसे जकड़ रखा था … जैसे किसी ने लंड को मुठ्ठी में भींच रखा हो. लंड अन्दर घुसेड़ने के नाम पर वो मेरे लंड को मसल रही थी और उसकी मुठ मार रही थी.

‘बहुत बड़ा और मोटा है आपका लंड … आपकी बीवी तो इसे अन्दर लेकर मर ही जाएगी. दो मिनट बाद जब मैं नार्मल हुआ तो मैंने वापस अर्शिया की चुत से चड्डी हटाई और चुत को देखने लगा.

खुशबू बोली- क्या मैं इतनी बुरी हूं?मैंने कहा- ऐसी कोई बात नहीं है, तुम तो बहुत अच्छी हो। मगर तुम तो मुझे आज अपनी दीदी से मिलवाना चाहती थी न?फिर मैंने कहा- तुम्हारी दीदी कहां है?वो आगे आकर मेरे गले से लग गई और मुझे चूमने लगी।मैंने उसे हटाते हुए कहा- खुशबू होश में आओ … तुम यह क्या कर रही हो?उसने मुझे फिर से गले लगा लिया और चूमने लगी. फिर मैंने जानबूझकर बाहर आकर आवाज लगाई- आंटी!उन्होंने कहा कि हां … अन्दर आकर बैठ जाओ बेटा … मैं नहा रही हूँ, आती हूँ. वापस एक ही होटल में जाना होता था तो कम्पनी के ऑफिस से हम दोनों साथ में ही निकलते थे.

सेक्सी कंडोम कंडोम

इसी का उत्तर था कि उसका हाथ हर सेकंड पहले से ज्यादा दबाव से मेरी मांसल जांघ को मसल रहा था.

दादू चोकर भरने में लग जाते थे और मैं आपकी गोद में बैठ जाती थी, आप मुझे टॉफी खिलाते थे. अब अर्शिया की चुत और मेरे हाथ के बीच पेटीकोट और एक पतली सी चड्डी थी. इस तरह से मालिश करते हुए एक टाइम ऐसा भी आया कि मेरी उंगली उनकी गांड में घुस गई.

फॅमिली चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरी दीदी की देवरानी से मेरी दोस्ती हो गयी. अब मैंने अपनी दोनों उंगलियां उसकी चड्डी में डाल दीं और सरकाते हुए उसकी चड्डी को पैरों में नीचे ला दी. जीजा साली की सेक्सी पिक्चरेंइसके बाद हम दोनों ने अरुणिमा की सैंडबिच चुदाई की और परेश ने हम दोनों का लंड चूसा.

फिर जेठ जी ने मेरी कमर पर सर रखकर कुछ देर आराम किया और एक-दो किस भी की. कोमल सीत्कारने लगी- इई ई मां आह आह्ह … आईआ … आईहह … मम्मी … स्सस … उफ्फ … आह्ह … बिट्टू … ओह.

अबकी बार एक ही झटके में मेरा पूरा लौड़ा मुंतज़िर की चुत में अन्दर तक चला गया था. अभी भी वे मेरी पीठ पर किस करना चालू किए हुए थे और अपने दोनों हाथों से मेरे हाथों को भी पकड़े हुए थे. मैं- हां … चुत चाहिए है और चुत चोदनी है … तो कुछ मेहनत करना ही पड़ेगी.

हॉट सेक्सी गर्ल बेडरूम में हो तो एक जवान लड़का क्या करेगा? लेकिन वो लड़की शराब के नशे में मेरे होटल रूम में थी. रोशन पूरी तरह नंगी हो गई थी और बड़े ही मज़े से सोढ़ी का लंड अपनी गांड में अन्दर बाहर करवा रही थी. मैंने मेरा एक हाथ उस चादर में डाला और अर्शिया की चुत के पास ले गया.

उन्होंने मेरा हाथ पकड़कर मुझे अपने करीब ले लिया और कहा- इतनी खूबसूरत हो तुम, ऐसे रूठा मत करो.

दरवाजे के पास से ही मैंने अंकल लोगों को देखा और कुछ देर बाद अन्दर आकर इस तरफ से दरवाज़ा बंद किया कि वो आधा खुला रह जाए. अपने वादे के मुताबिक़ मैंने खुद से अरविन्द को चूमना शुरू कर दिया था.

जीभ की चुसाई मदहोश करने वाली होती है और हम दोनों ऐसे मग्न हो गए कि मानो किस के अलावा संसार में कोई दूसरा सुख है ही नहीं. उसने काफी देर तक मेरी चुत चोदी और अपना वीर्य मेरी भोसड़ी में ही डाल दिया. पहले तो उन्होंने मेरी फ़ोटो देखीं, जो पहले सिंपल, फिर हॉट और फिर कुछ नंगी थीं.

तो भाभी ने कहा- इसका कुछ करो … नहीं तो ये पैंट फाड़ के बाहर आ जायेगा. मैं फिर से वाशरूम में जाकर मुठ मार कर वापस आया और उसकी तरफ मुँह करके लेट गया. उन्होंने दोनों हाथों से मेरी गांड को जोर से दबाया, मेरी भी गांड पानी के गुब्बारों की तरह उछलने लगी … क्योंकि मेरी गांड बहुत ही नर्म मुलायम थी.

नींद में बीएफ मैं जैसे ही उसके पास गयी, उसने मेरी गांड पर थप्पड़ लगाना शुरू कर दिया … साथ में वो अपना लंड मसल रहा था. उसने मेरे पैर छुए और सामने रखा सिंदूर लेकर बोली- ले चौधरी भर दे मेरी मांग, बना ले अपनी लुगाई.

बड़ी गांड वाली सेक्सी वीडियो हिंदी

शाहगंज, जौनपुर के एक छोटे से गांव में मेरी चूनी, पशु आहार जैसे चोकर खल, भूसी की दुकान थी. उसके रसभरे होंठ एकदम सुर्ख लाल गुलाब के फूलों से कोमल हैं, जिन्हें देखते ही मन करता है कि अभी चूस लूं. हम दोनों से ही अब कंट्रोल नहीं हो पा रहा था तो उन्होंने मेरा लंड पकड़ा और सीधे हिलाते हुए अपनी चुत के छेद में टिका दिया.

मुझे लगा कि भाभी को वाशरूम जाना होगा तो मैंने गाड़ी एक पेट्रोल पंप पर रोक दी. मेरी तेज और कामुक उत्तेजना से भरी आवाजें आने लगीं- उफ़्फ़ हहह यस आई लाइक इट … ओह्ह फ़क आह उह … उफ़्फ़ मम्मी मर गई … आह उफ़्फ़!इसी तरह की कामुक सिसकारियां पूरे कमरे में गूंजती रहीं. सेक्सी फिल्म खोजेंमेरा बदन अब तपने लगा था और इस तपन में उसका सटा हुआ शरीर और अगन बढ़ा रहा था.

थोड़ी ड्रिंक्स लेने के कारण शायद हम दोनों ही कुछ ही पल में सेक्स के नशे में आ गए और बहुत कामुक होकर एक दूसरे को चूमने लगे थे.

इस अचानक हुए हमले से मम्मी घबरा गईं और अंकल से खुद को छुड़ाने की कोशिश करती रहीं. मेरी ये तीनों हरकतें मेरी बहन आरू के लिए आग में घी का काम कर रही थीं.

मैं मज़ाक़ में बोल पड़ा- बस्स इतनी सी बात … मेरी बीवी ने मेकअप करने का का कोर्स किया है … तू कहे तो उससे तेरा मेकअप करने को बोल दूं?मेरी बात को उसने गम्भीरता से ले लिया और बोला- अच्छा हुआ भाबी सब जानती हैं. अब मैं अपने लंड का सुपारा मौसी की गांड पर टिका कर घिसने लगा और धीरे से धक्का दे मारा. मैं पूरा दिन अपने दोस्तों के साथ ही घूमता रहता था और छुट्टियों का मजा करता रहता था.

मैंने अपने दोस्त गौतम के जरिये उसकी बहन का मोबाइल नंबर और उसकी फेसबुक आईडी जान ली.

मेरे अब्बू ने भी उनकी बात सुन ली थी तो वो बोले- हां बेटा, आपको आफताब बता देगा. उनका नाम लेकर अक्सर हस्तमैथुन भी कर लेता था लेकिन मेरी उनको छूने की कभी हिम्मत नहीं हुई, ना ही कभी उन्होंने ऐसा कुछ किया, जिससे मुझे लगे कि वो मुझे पसंद करती हैं या मेरे साथ सेक्स करना चाहती हैं. अब जेठ जी मेरी चूत को चाटना चालू किये और मेरी चूत से पानी निकल रहा था.

सेक्सी ब्लू चाहिए वीडियोफिर आधा घंटे बाद दुबारा से भाभी चुदाई के लिए गर्मा गईं और इस तरह उस दिन मैंने भाभी को तीन बार चोदा. मैंने थोड़ी हिम्मत और दिखाई और अर्शिया का पैर थोड़ा सा ऊपर उठा कर मेरा लंड अर्शिया की चुत के पास कर लिया.

सेक्सी का हिंदी मीनिंग

अब आंटी बोलने लगीं- योगी बहुत हो गया … अब तू अपने इस विशाल लंड को मेरी चूत में डाल दो. तभी जुनैद भाई ने अपना एक छोटा सा हाथ मेरे मुँह के अन्दर घुसा दिया और भाई रुक गए. ये सब बताते हुये मैंने उनके टी-शर्ट के ऊपर से अंदर देखा तो भाभी ने ब्रा नहीं पहनी थी.

इसके बाद तो सेक्स का सैलाब बह निकला और हम दोनों कब नंगे हो गए, कुछ मालूम ही नहीं चला. शरद भी इस बात से वाकिफ था और जवान लड़कों की मस्ती समझकर वो उन्हें कुछ नहीं कहता था. मैं देखकर दंग रह गई कि ये वही उंगली थी, जिस पर मैं अपना योनि रस छोड़ रही थी.

भाभी मेरे मुँह में अपनी जीभ डालकर चूसते हुए अपनी बड़े बड़े स्तनों को मेरे बदन पर रगड़ रही थीं. अब आगे हॉट स्टूडेंट सेक्स कहानी:एक दिन सुबह से ही बारिश का मौसम हो रहा था. लेकिन मेरा सिर्फ आधा लंड ही उसके मुँह में जा रहा था तो मैंने जोर से उसका मुँह दबाया और मेरा पूरा लंड उसके गले तक चला गया.

दोस्त मेरी बीवी को चोदते हुए उससे बोला- शादी में अपनी बीवी को छोड़ कर तेरी गुलाबी चुत याद आएगी भाभी!इस पर मेरी बीवी गांड हिलाते हुए हंसकर बोली- सिर्फ़ शादी में ही नहीं, मैं तुम्हारे हनीमून में भी साथ चलूँगी. मैं जल्दी से बाथरूम से गीला कपड़ा लेकर आया और उसकी चूत और मेरे लंड से खून साफ़ किया.

श्याम- भैया, एक काम कर सकते हो क्या?मैं- बोलो श्याम, क्या बात है?श्याम- रानी को अपने पीहर जाना है और मुझे आज ही कंपनी के काम से 3 दिनों के लिए टूर पर जाना पड़ रहा है.

मैं दीदी के कान में चुपके से बोला- दीदी कैसा लगा आपको?दीदी- वीर, आज तक मेरी चूत को कोई ने इस तरह से नहीं चूसा. सेक्सी एचडी मूवी डाउनलोडकैसे? और उसके बाद आंटी की बहन उनके घर आयी तो उसे भी मैंने लंड का मजा दिया. सेक्सी औरत एचडीहम तीनों इसीलिए रोज आशा दीदी की दी हुई माला डी एक गोली खाती हैं कि बच्चा न हो. उन्होंने मेरी साड़ी को निकल दिया और उसके बाद उन्होंने मेरी ब्लाउज को निकाल दिया.

मैंने उंगलियों में उसके रस को लिया और सूंघ कर उसको अपनी जीभ पर लगाया।लंड के रस को मुंह में लेना मेरे लिये आम बात थी क्योंकि कर्ण भी चोदने के बाद अपना रस पिलाता था और मेरी चूत के रस को चाट जाता था।अब मेरे दिमाग में एक खुरापात आयी, मैंने कैमरा निकाला और उसको सेट करके चालू कर दिया।मैं उसकी हरकत देखना चाह रही थी।कैमरा सेट करने के बाद मैं वापिस लेट गयी.

जब जुनैद भाई नहीं थे तो मैंने अपने आस पास पड़ोस के दूसरे लड़कों और मर्दों की ओर अपनी निगाहें करना शुरू कर दीं. सुबह उठी तो पूरा दिन बस उसकी लंड को लेकर सोच रही थी कि कैसे आज अपनी बुर चुदवा कर ठंडी करूं. मैंने जाते ही मोटो पर चुम्मियों की बौछार कर दी और उनके गले पर अपने दांत गड़ाने लगा.

उसने लंड को अपने मुँह में अन्दर तक घुसा लिया और चूस चूस कर गीला कर दिया. अब मैंने भाभी की गदरायी जांघों पर अपनी जांघों को घिसते हुए उनके पांव की उंगलियों में अपनी उंगलियों को फंसा दिया और ऊपर से चुम्बन करते हुए धपाधप जोर जोर से गांड उठा उठा कर ठोकना शुरू कर दिया. कुछ देर बाद मैं भाभी की गांड को चांटे लगाते हुए मसलने लगा; अपनी गर्मागर्म सांसों को उनकी रसीली सी चूत पर हल्के से छोड़ने लगा और अपनी जीभ से चूत को फिर से चाटना शुरू कर दिया.

मुसलमान ऑंटी सेक्सी

किधर से सीखा?मैं- ये सब मैंने पोर्न मूवी में देखा था … लेकिन आपको चोद कर मुझे बहुत मजा आया. हालांकि मैंने महसूस किया था कि वो कोई भी प्रतिक्रिया देने की बजाए अपनी चूचियों को मेरी पीठ से कुछ ज्यादा ही रगड़ कर मजा ले रही थीं. तभी उन्होंने मेरी ब्रा निकाल दिया और मेरी चूची को अपने हाथों में लेकर मसलने लगे.

मेरी बहन ने भी सारी बात सुन ली थी, वो भी बहुत खुश थी और मम्मी भी खुश थीं क्योंकि अब मैं जॉब करने वाला था.

ऐसा लग रहा था … जैसे मां की चूत को ऐसा ही लंड चाहिए था, जो बहुत प्यार से चुदाई करे.

राजीव सर, करीब 45 साल के तलाक़शुदा और बहुत ही आकर्षक पर्सनालिटी के व्यक्ति थे. मैंने अपनी उंगली उनकी ठोड़ी पर लगा कर उनका चेहरा ऊपर किया तो उनकी आंखें बंद थीं पर मुझसे और इन्तजार नहीं हो रहा था. पोलीस सेक्सी पोलीस सेक्सीकुछ ही देर में वासना का दरिया बहने लगा और मैं उनके शरीर के सभी अंगों को बारी बारी से चूमने चाटने लगा.

अर्शिया जब भी छुट्टियों में मेरे घर आती है, तो हम सब लोग काफी मस्ती करते हैं. चाची मेरे सामने घोड़ी बनकर अपने चूतड़ ऊपर उठाकर चूत को खोल कर बेड पर लेट गई. वह मेरी गांड में इतनी वैसलीन लगा चुके थे कि वैसलीन की शीशी भी पूरी खाली हो गई थी.

मैंने अपना एक हाथ सीट पर रखा था और दूसरे में सब्जी का थैला पकड़ा हुआ था. इतने में मैं उससे बिना कुछ कहे ही अन्दर भागा और टी-शर्ट पहन कर अपने लंड को सही करने लगा.

वो अंकल का पूरा लंड अपनी चुत में अन्दर तक लेने की कोशिश कर रही थीं.

मुझे यूं रोती देख, वो मुझे शांत करने लगी और मेरे रोने की वजह मुझसे पूछने लगी. लेकिन मेरा मन उनका मोटा लंड देख कर मचल उठा था और मान ही नहीं रहा था. अब मामला शब्बो के बस के बाहर होने लगा था, उसने खींचकर मेरी लुंगी खोल दी और मेरे लण्ड की खाल पीछे खिसकाकर सुपारा चाटने लगी.

घरवाली सेक्सी चुदाई उसके चेहरे को सहलाते सहलाते मैंने उसका बुर्का उसके चेहरे से अलग कर दिया. अब डॉक्टर ने अपना लंड मेरी चुत में सैट कर दिया और मेरे दोनों पैरों को अपने कंधे में रखकर लंड चूत में पेलने की तैयारी कर ली.

मैंने मेज़ पर रखा तेल उठा लिया और हाथ पर लगा कर उसकी चुत में मलने लगा. मैं लगातार 2 महीनों तक सबसे उच्चतम मैनेजर के तौर पर चुनी गई थी … और सब मेरे काम से बहुत खुश थे. वो बोली- मैं मेकअप करना जानती तो हूँ … पर मैंने आज़ तक किसी लड़के का मेकअप नहीं किया है.

इंग्लिश सेक्सी चित्रपट

लता- आपने जो सेक्स कहानी लिखी है … क्या वो घटना सच में हुई थी!मैं- हां मेरे साथ जो सत्य घटना होती है … उसी को मैं कहानी के माध्यम से बताता हूँ. मैंने झटके से अपनी उंगलियां पैंटी की इलास्टिक में फंसाईं और उसे नीचे कर दिया. मैडम को चुदाई में मजा आने लगा और दस मिनट बाद मैंने मैडम के कहने पर अपना पानी उनके पेट पर निकाल दिया.

‘आह … आह शरद आआह … ओ हहहह … और तेज़ शरद … और जोर से चोदो … आह आह … ओह शरद मैं कैसे रहूंगी तुम्हारे लंड के बिना जानू … आह आह. मैंने उसे चूमते हुए कहा- खुशबू, मुझे तेरे साथ बहुत अच्छा लगा, बहुत मजा आया.

मैं निशा की कोमल सी चूत को ऐसे चूस रहा था, जैसे मुझे पहली बार चूत मिली हो.

पूरे कमरे में थप थप थप थप की आवाज आने लगी थी।रात भर में तीसरी बार चुदाई हो रही थी।गपागप गपागप अंदर बाहर अंदर बाहर लंड हो रहा था।एक बार समारा ने पानी छोड़ दिया. वो हंस दी और बोली- कल मां को छोड़कर सब बाहर जा रहे हैं, तो तुम कल आ जाना. केवल एक बात ही थी जिससे मुझे ज्यादा जिज्ञासा होती थी और वह बात यह थी कि उसके मोबाइल पर मैसेज बहुत आते थे.

भाभी मेरे मुँह में अपनी जीभ डालकर चूसते हुए अपनी बड़े बड़े स्तनों को मेरे बदन पर रगड़ रही थीं. डायरेक्टर ने आवाज दी- ओए राजू (कैमरामैन का नाम) तू ये शूट ले … और अपना लंड इसके मुँह में दे दे. हमने कुछ देर बातें की तो भाभी ने बताया कि मेरे दोस्त का लंड सिर्फ साढ़े चार इंच का होता है खड़ा होने के बाद.

मैं शरद को चूमते हुए बोली- अरे बाबा, बस बस … आप मेरी फिक्र मत करो, मैं सब मैनेज कर लूंगी.

नींद में बीएफ: मैं उस महिला का असली नाम यहां पर नहीं लेना चाहता हूं … पर मैं नाम बदल देता हूं. मैंने उसे दीवार से सटाया और उसके होंठों पर किस करने लगा और धीरे धीरे उसके बूब्स दबाने लगा.

‘नाम?’मैंने पर्स से अपना फोन निकाला और इसी क्रिया में मैंने अपना थैला उसके बैग से चिपका दिया. मैंने अपना पूरा हाथ लिंग मुख पर फिराया और तौलिए जैसे उसके लिंग रस को पैंट के ऊपर से हाथ पर पौंछने लगी. पापा का मूड अच्छा था इसलिए इस बात का फायदा उठा कर मैंने कहा- पापा स्वाति भी मेरे साथ जाना चाहती है.

मैं बोला- नहीं सीरीयस … सिमरन को बताएगा कौन … मुझे भी नई गर्लफ्रेंड का कुछ एक्सपीरियेन्स मिल जाएगा.

पहले तो उन्होंने मेरा व्हाटसअप चैक किया और इसी तरह और सब देखते रहे. तभी रसोई में कुकर की सीटी बजी तो आंटी गैस बंद करने के लिए किचन में गईं. कुछ देर बाद लंड ने बुर में अपनी जगह बना ली और उसके जिस्म की अकड़न खत्म सी होती महसूस हुई.