हिंदी इंडियन बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,ब्लू बफ वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ 2022 के बीएफ: हिंदी इंडियन बीएफ फिल्म, धीरे-धीरे अनिरूद्ध ने मेरी बहन की जांघों तक पहुंच कर उसकी चूत के आस-पास उसको जांघों पर किस किया तो मेरी बहन तड़प उठी.

नंगी लड़कियों की तस्वीरें

मैंने तौलिया खींच कर निकाल दीMom Ki Kamukta Sex Storyमैं घर पर होता हूँ, तो कैप्री पहनता हूँ. এক্স এক্স এক্স বিএফ ভিডিওमैंने उसे गोद में उठाया और टेबल पर बैठा कर उसकी ब्रा और शॉर्ट्स को उतार दिया.

मेरा लंड अंडरवियर और जींस दोनों फाड़कर ज्योति की चूत में घुसने की ताबड़तोड़ कोशिश कर रहा था. एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियोसऔर फिर इसके कुछ महीनों बाद पढ़ाई के कारण मैंने वो शहर ही छोड़ दिया। फोन पर हमारा सम्पर्क बना रहा लेकिन धीरे धीरे हमारी बातचीत कम होती गयी.

थोड़ी देर और चूसने के बाद सुरेश बोला- बस हो गया, तुम तो ऐसे चूस रही हो कि अभी ही मुझे झाड़ दोगी.हिंदी इंडियन बीएफ फिल्म: थोड़ी देर में उसको मज़ा आने लगा और वो भी गांड उठा उठा कर मेरा साथ देने लगी.

ये सुनकर मॉम बोलीं- मतलब अब तुम मुझे पैसों के लिए चुदवाओगे?मैंने कहा- नहीं … किसी से कोई काम निकलवाना होगा, तो उससे चुदवाऊंगा.कॉलेज प्लेसमेंट में ही मेरी जॉब एक प्राइवेट बैंक में लग गई और अच्छी बात ये थी कि मुझे घर के पास के एक शहर में पोस्टिंग मिल गई.

देहाती गवार सेक्सी वीडियो - हिंदी इंडियन बीएफ फिल्म

मेरे गांव से शहर जाने के लिए 2 किलोमीटर पैदल चलकर बस पकड़नी पड़ती है.मुझे आंटी की गांड मारने में बहुत मजा आ रहा था और मोनिषा आंटी को भी मजा आने लगा था.

उसके लॉन्ग कट वाले अन्डवियर में उसके लंड ने झटके दे देकर उसको आगे से गीला कर रखा था. हिंदी इंडियन बीएफ फिल्म और कैसे ना कैसे मैं उस दिन ऑफिस पहुंची और फिर ऑफिस से हॉस्टल।उस दिन मेरे को रात भर नींद नहीं आई क्योंकि अब मुझे चुदवाने की इच्छा बहुत हो रही थी.

मैं ज्यादातर माँ बेटे की सेक्स कहानियां पढ़ा करता था और मुठ मार कर रात को सो जाया करता था.

हिंदी इंडियन बीएफ फिल्म?

मेरी बीवी के अलावा ये सिर्फ़ दूसरी औरत थी जिसकी मैंने चूत देखी थी।उसने फिर पानी छोड़ दिया और थोड़ी सुस्त हो गई. वहां मुझे उनकी पड़ोसन दिखी, वह गर्म भाभी भी उस घर में किराये पर रहती थी। उनका नाम शिवानी था. थोड़ी देर में आंटी फिर से गर्म हो गयी और कहने लगी- अब और इंतजार मत करवाओ।मैंने उन्हें बिस्तर पर लेटाया और मैं उनके ऊपर आ गया और बूब्ज़ को चूसने लगा.

मुझे मज़ा आ रहा था, मैंने पैंटी के ऊपर से ही उंगली पैंटी के कपड़े सहित बुर में डाल दी, तो वो चिहुँकते हुए आगे को हो गई और उसने मेरा हाथ पकड़ लिया. मैंने कहा कि तुम्हें कैसे मालूम है?भाभी ने कहा- बस मुझे मालूम पड़ गया है. मैंने कहा- वो तो ठीक है … लेकिन मेरी मॉम की गांड मारने के बाद तुम वहां से क्यों चले गए थे?वो बोला- मैं जानता था कि तुम आने वाले हो, इसीलिए चला आया.

फिर मैंने 10-12 झटके देने के बाद भाभी की चूत में अपना पानी छोड़ दिया. चाची अपने हाथों से भैंस के थन दुह रही थीं और मैं अपनी आँखों से चाची के हिलते थनों को देखने में लगा था. लेकिन कभी चूत चुदाई का मौका नहीं मिल पाया था क्योंकि हम लोग कहीं बाहर ही मिलते थे.

रूम में सिर्फ मैं और माँ ही थे, तो मैंने अपना लंड अपने लोअर से निकाल लिया और माँ की साड़ी को ऊपर करने लगा. मन कर रहा था कि अगर अभी मामी पास में होती तो उसकी चूत को चोद चोद कर फाड़ देता.

अब तक आंटी इतनी अधिक गर्म हो गयी थीं कि वो भी मुझे हर तरफ चूम रही थीं.

मंगल एक पालतू की तरह से एक एक करके अपने पूरे कपड़े उतरता ही चला गया.

इससे पहले कि मैं भाभी की चोदाई कहानी को आगे बढ़ाऊं मैं आपको अपने भाई का परिचय भी दे देता हूं. औरत की चूत चाहे कितनी भी चौड़ी क्यों न हो लेकिन खड़ा होने के बाद मेरा लंड उसमें फंस जाता है. कुछ देर तक तो मैं चुपचाप लेटा रहा और उसके बाद मैंने धीरे से गर्दन को उठा कर देखा तो अन्नु भी कम्बल में मुंह अंदर करके सो चुकी थी शायद.

उसकी चीखें निकलना शुरू हो गईं, इसलिए मैं थोड़ा रुका और उसे चूमने लगा. पहली बार मैंने भाभी को एक हवस भरी चुदाई करने की नजर से देखा था उस दिन. दोस्तों जैसा कि मैंने अपना नाम रसूल खान बताया … मैं बिहार में रहता हूँ और शादीशुदा हूँ.

डार्लिंग आज पहली बार है ना … कुछ दिन और लंड लेती रहोगी, तो इसकी आदत हो जाएगी.

मैंने सोचा कि लगता हूँ ऊपरवाला भी मेहरबान है जो यह मेरे साथ 3 ट्यूशन पर है।दिन गुज़रे तो मैंने उसकी 1 सहेली से कहा कि मुझको यह पसंद है, तू मेरी बात कर दे इससे एक बार!तो उसकी सहेली मान गयी, उसने उससे अलग में जाकर कह दिया।अब यहाँ हमारी डर के मारे गांड फट रही थी, उसने कुछ कह तो नहीं लेकिन 3 दिन के बाद मुझको कॉल की और अपना नाम बताया. मैंने कहा- तो बुर की चुदाई रहने दो … चलो सो जाते हैं … तुम्हें दर्द होगा. एक दिन जब मैं दुकान पर अकेला था, तब उसका कॉल आया और इधर उधर की बात करने के बाद उसने मुझे गुस्से में बोला कि समीर आप मुझसे प्यार नहीं करते हो.

लेकिन एक बात कहूं, जब मैंने तुम्हें पहली बार मम्मी के विद्यालय में देखा था, तुम्हारे फिगर को देखकर उसी समय से तुम्हें चोदने का मन कर रहा था. भाभी धीरे से बोली- तुम ये क्या कर रहे हो?मैं झट से बोला- रेनू भाभी, मूली अन्दर ही अन्दर सड़ जाएगी. उसकी चूत चाट चाट कर लंड ने इतने झटके दे दिये थे कि कामरस से पूरा अंडरवियर गीला हो गया था.

यह सेक्सी स्टोरी मेरे साथ हुई एक आपबीती घटना है जिसके बारे में मैंने कभी नहीं सोचा था कि मेरे साथ जिन्दगी में कभी कुछ ऐसा भी हो सकता है.

मैंने उस कुवारी लड़की को वहीं बेड पर लेटा लिया और उसके पेट को चूमने लगा. घर में बताया तो घरवालों ने जाने के लिए हाँ कर दी। कुछ पैसे घरवालों ने दिए, कुछ मैंने जोड़ रखे थे और कुछ दोस्तों से उधार ले लिए ताकि पैसों की कोई कमी ना रहे.

हिंदी इंडियन बीएफ फिल्म कहानी पर कमेंट भी करना ताकि मुझे पता लग सके कि कहानी में आपको मजा आया या नहीं. मैंने आगे बढ़ कर उसके कंधे पर हाथ रखते हुए कहा- मैं ऐसा क्यों करूंगा … आप तो मेरी भाभी हैं … और कोई देवर अपनी जवान भाभी का बुरा क्यों करेगा.

हिंदी इंडियन बीएफ फिल्म मेरे पिताजी फ़ौज में हैं तो मैं अपने घर में अपनी मम्मी और बहन के साथ रहता था. मैंने बात का मर्म समझते हुए कहा- ठीक है … पर आप भी किसी को कुछ नहीं बताना.

मेरे सिर को ऐसे पकड़ लिया मानो मुझे अपनी चूत में घुसा लेगी!उसके पानी का स्वाद बहुत मस्त था और मात्रा में भी ज़्यादा था उसका पानी! मेरी बीवी की चूत का पानी इतना नहीं आता था।बाक़ी किसी औरत का कितना पानी आता है, ये भी आज के पहले नहीं पता था.

क्या बीएफ बीएफ

उसने झुकते हुए चादर सही की, तो उसी समय मुझे उसके चुचों की नाली के दर्शन हो गए. बाकी के रिश्तेदार और मेरे बड़े पापा और चाचा का परिवार एक हफ्ते बाद आने वाला था. उसके बाद मुझे ध्यान में आया कि घर में कोई है ही नहीं, तो मैं फ़ालतू में घबराया.

उस चाहत को मैंने पूरा करने के लिए क्या किया?मेरा नाम सुधीर है और मैं उत्तर प्रदेश के पीलीभीत का रहने वाला हूं. उन्होंने सभी लड़कियों और लड़कों को बुलाया और कहा- आज कुछ नई एक्सरसाइज करेंगे. तू अब से मुझे मॉम नहीं … अपनी रखैल बना ले और रोज़ सुबह शाम अपने लंड को मेरी इस चूत की सैर कराया कर.

ये सर्दी का शुरूआती मौसम था, शायद इसीलिए मेरा पूरा बदन पसीने से तर हो गया था.

वो बाइक में मुझसे बिल्कुल सट कर बैठी थी, उसके हाथ मेरी बांहों में लिपटे हुए थे. उसने कहा- तुम्हें नहीं पता?मैंने कहा- पता है … ये खून है … लेकिन कैसे आया?उसने पंजाबी में कुछ कहा, मैं समझ नहीं पाया. पर मुझे पता था कि मोसी भी मुझसे चूत चुदवाना चाहती थी। बस मुझे यही सही मौका लगा और बिना देर किये मैं झट से मोसी को पीछे से जकड़ के उनकी टाईट चूचियाँ दबाने लगा और उनकी गर्दन पर चूमने लगा.

मौके की नजाकत को समझते हुए मैंने चूत की गहराइयों में लंड को उतारने का फ़ैसला कर लिया. जब हम शहर से थोड़ा बाहर आ गये तो मैंने आशिमा का हाथ अपनी कमर पर रखवा लिया. वैसे तो मैं अपने पड़ोसी लड़के के साथ सेक्स कर लेती थी, लेकिन उसके साथ भी चुदाई किए बहुत दिन हो गए थे.

मेरी चूत पर एक भी बाल नहीं था क्योंकि मैं हमेशा अपनी चूत के बाल को साफ़ करती रहती हूँ. तो फिर हम अपने काम पर लग गये मैंने उसके गाल पर होंठों पर बहुत किस की.

मैंने कहा- साली चूतचोदी … ये बता क्या तूने पहले अपनी गांड नहीं मरवाई है क्या?भाभी ने दर्द से कराहते हुए कहा- नहीं … ये पहली बार है. हरामज़ादी इतनी नशीली लग रही थी कि मुझे अफ़सोस हुआ उसका भाई होने पर … ऐसी कामुक लड़की को तो रण्डी बनाकर बीच बाज़ार चोद देना चाहिए. सुनील के घर से सामने जाकर मैंने दरवाजा खटखटाया, तो दरवाजा अपने आप ही खुल गया.

मुझे चुदाई से ज़्यादा मज़ा चूत चाटने और होंठों को चूसने में आता है, मैंने उसको ख़ूब समूच किया।बीस मिनट तक मैंने उसकी चूत को ख़ूब चोदा.

मैंने बिना देर किए उसकी एक चुची को अपने मुँह में भर लिया और होंठों में दबाकर चूसने लगा. मेरे लंड महाराज ने अपना शीश उठाना शुरू किया और उसकी दरार पे आके रुक गया. कॉफ़ी पीने के बाद मैं उसे किस करने लगा और उसके मम्मों को भी मसलने लगा.

दिन भर घूमने के बाद हम दोनों शाम को वापस घर जा रहे थे, तो मैडम ने कहा- चलो आज मेरे घर चलते हैं. उसके बाद मैंने उसको दो चाटें मारते हुए कहा- साले अब चूसता ही रहेगा या चोदेगा भी इसको?प्रकाश ने मेरी चूत में से जीभ को निकाल लिया और अपने लंड को हिलाने लगा.

फिर साहब ने एक जोर का धक्का मारा तो जैसे मेरी जान निकल गई और पूरा लंड मेरी कुंवारी चूत में उतार दिया. खून आने की वजह से चूत में कुछ गीलापन हो गया था और मेरा लंड आसानी से अन्दर बाहर होने लगा था. सुरेश- तो सबको बताने कौन कह रहा … सब छुप कर करते हैं, तुम भी छिप कर करो.

एक्सएक्सएक्स एचडी बीएफ

एक तरफ चाचा जी कार्ड बांटने जा रहे थे तो दूसरी तरफ मैं बाकी की रिश्तेदारियों में कार्ड बंटवाने जा रहा था.

उसका फिगर इतना मस्त है कि मुझे अपने भाई से जलन होने लगी थी कि कैसी माल हाथ लगी है उनको. इस पर पूजा ने बोला- तुम्हें इसके लिए मुझसे पूछने की आवश्यकता नहीं है. मेरे घर में सभी स्वरा पाठ पर बहुत ध्यान देते हैं खासकर मेरी मां और बहनें.

उसकी नसों में दौड़ता हुआ लहू मेरी योनि की दीवारों में महसूस हो रहा था. मैंने लंड उसके मुँह से निकाल लिया और आकर उसकी बुर पर मुँह रखकर उसे चाटने लगा. देवर भाभी के साथ वीडियोमैं फौजिया दीदी के रिकॉर्ड वीडियो को किसी को भी अपने मोबाइल से ट्रांसफर नहीं करने देता था.

मैंने उसकी चूत को चोद चोद कर बहुत फैला दिया था … और अब उसे चोदने में पहले जैसा मजा नहीं आता था. मैंने उनको इंजेक्शन लगाया, दवा गोलियां दीं और लगाने किये एक मल्हम लिख दी.

कई बार तो मैं विभोर का लैपटॉप मांग कर रात भर अपने रूम में पोर्न देखती थी और चूत में उंगली करती थी. अब चूंकि मैं उससे दूर सो रही थी, तो वो दुबारा मेरे नजदीक आ गया और अपना लंड मेरी गांड को टच करवाने लगा. मैं- क्या बात भाभी?भाभी बोलीं- मैं तुमसे पहले ही क्यों नहीं चुद गई.

मैं उनके कमरे तक गया और हिम्मत करके मैडम को जगा कर कहा कि मुझे नींद नहीं आ रही है. गाँव की देसी भाभी की देसी चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी? आप लोग कमेंट्स जरूर मेल कर दीजिए. मैं बड़े गौर से देख ही रहा था कि मेरा लंड पूरी वीडियो देख कर खड़ा होने लगा.

भाभी सेक्स स्टोरी, चाची सेक्स कहानी पढ़ने के कारण मैंने भी सोचा कि अब मैं भी परिवार में किसी न किसी को चोद दूँ.

मैंने आंटी से पूछा भी कि आंटी ऐसी बात क्या हो गई कि मुझे आप अभी के अभी बुला रही हैं … सब ठीक तो है?आंटी ने बस इतना कहा- बेटा, तुम जल्दी से मेरे घर आ जाओ. इसी बीच मेरी कामुकता बढ़ रही थी, तो मैं मॉम की नाभि में उंगली करने लगा.

मेरे लिए रुक पाना मुश्किल था, ऐसी कामुक बहन का इतनी दूर एकांत जगह में सबसे अलग मेरी गुज़ारिश को ‘हाँ’ बोलना मेरे भीतर ज्वालामुखी ला चुका था. अब मैं समझ चुका था कि लोहा गर्म हो गया है, हथौड़ा की जगह लौड़ा मार देने में ही कुशल मंगल है. अब तो मुझे इस काम में फायदा नजर आने लगा और मैंने इसी को अपना पेशा बना लिया.

मैसेज में लिखा था- हैलो भाभी! चाय के लिए थैंक्स।उर्वशी ने उत्तर दिया- कोई बात नहीं. फिर मैंने हिम्मत बांधते हुए रेनू भाभी से कहा- आप ये क्या कर रही हो?भाभी ने बोला- क्या … कुछ भी तो नहीं कर रही थी. एक लड़की को कैसे खुश करना, कैसे उसकी चूत की प्यास को बुझाना है; ये मुझे बड़े अच्छे से पता है.

हिंदी इंडियन बीएफ फिल्म मुझमें फिर से मस्ती चढ़ने लगी और मैंने हल्के हल्के कराहना शुरू कर दिया. कुछ पल तक उस चेहरे को याद करने की कोशिश की कि मैंने इस चेहरे को कहां पर देखा है.

सेक्सी बीएफ वीडियो में पंजाबी

कुछ देर बाद आंटी की चूत ने लंड को सैट कर लिया था और वे भी चूत चुदवाने के मजे लेने लगी थीं. उसने पतला सा टीशर्ट पहन रखा था और ब्रा भी नहीं पहनी थी, नीचे मिनी स्कर्ट।उसकी जाँघ और टाँगें एकदम गोरी और चिकनी थी जैसे वेक्स की हुई हो!पर वेक्स की हुई नहीं थी … वे प्राकृतिक रूप से ही चिकनी थी. इसके बाद मैंने उन्हें चूमना स्टार्ट कर दिया, उनके माथे में, होंठों में, गालों में चूमते हुए मैं उनको प्यार करने लगा.

इस पर पूजा बोली- अमित, मैं अपने रूप, रंग, मोटापे को 5 दिन के लिए भूल कर पूरी तरह से एन्जॉय करना चाहती हूँ. इस तरह से कोण बनाया कि जिस तरफ मैं खड़ा था उसके दूसरी तरफ शीशी रखी हुई थी. क्सक्सक्स विडिओ हिंदीसुरेश थक कर हांफ रहा था और मैं दर्द से तड़फ रही थी, मगर चिंता केवल चरम सुख की थी.

तभी निर्मला ने राजशेखर का लिंग पकड़ कर उसे मेरी योनि में थोड़ा सा घुसा दिया.

सुपारा अंदर घुस गया था, मेरे मुख से हल्की चीख निकली ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’वे बोले- ज्यादा लग रही है?मैंने इन्कार में सिर हिलाया तो वे बोले- तो पूरा पेल दूं?अपनी गांड की एक जोर दार ठांप से मैंने पीछे धक्का दिया. मैंने कहा- कहीं ऐसा ना हो कि मैं सब्र करता रह जाऊं और फल कोई और खा जाए.

बाद में मैंने ज़रीना से फोन से पूछा- अब दर्द कैसा है?वो बोली- वो दर्द तो ठीक है, पर आपने दूसरा दर्द दे दिया है. लेकिन आज तूने ये सब बताकर मेरे अंदर की बहन को मार दिया है … अब तूने इतना सब खर्चा भी किया है मेरे लिए और प्यार भी करता है मुझसे तो ठीक है … मगर इस बात का पता किसी को चला तो जान से मार दूंगी।उसने जैसे ही ये बोला, मैंने उसे अपनी ओर ज़ोर से खींचा और उसके चूचों को मसलते हुए उसकी जीभ चूसने लगा. गालों से टपकती बूंदें उसके गले से होते हुए ब्लाउज के अन्दर जा रही थीं.

ऐसे ही जब कोई कसके गांड रगड़ देता है, या जब गांड मारने वाला कहता है कि मेरे दोस्त से भी मराना पड़ेगी.

उसके पिता सरकारी नौकरी में थे और हम 3 सहेलियां और वो अच्छे दोस्त थे. मैंने भी अपनी चूचियों को हिलाते हुए कहा- खुशी को दबाना नहीं चाहिए बल्कि उसे दूसरे के साथ शेयर करनी चाहिए. उसने कहा- कोई बात नहीं … आप कर दीजिए … कपड़े की कोई चिंता नहीं!मैंने मसाज क्रीम लेकर उसके टीशर्ट में हाथ डाला और धीरे धीरे उसकी पीठ पर हाथ फिराने लगा.

সানি লিওন এইচডি ভিডিওफिर उसकी चूत के मुहाने पर लंड लगाते हुए उससे इशारे में पूछा, तो वो उसने भी मुस्कुरा कर हां बोल दी. मैंने पहले नीचे का पेटीकोट भी निकाला और भाभी को ब्रा पेंटी में ला दिया.

सेक्सी बीएफ फुल हिंदी

रिश्तों में चुदाई की इस कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी बुआ को चोदा. फिर उसने अपना सिर मेरे पेट पर रखा और मैं धीरे से उसके बालों में अपने हाथ फिराने लगी. जब तक भाभी का पानी नहीं निकल गया तब तक मैं उनकी चूत चूसता रहा।पानी निकलते ही भाभी निढाल होके बिस्तर पे गिर गईं।कुछ देर बाद भाभी ने मेरा लण्ड अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगीं.

आज का मेरा यह लेख अन्तर्वासना की शादीशुदा लड़कियों और महिलाओं को समर्पित है. मेरे लंड में पहले से ही कामरस निकल आया था इसलिए मुठ मारने अलग ही आनंद आ रहा था. चूंकि मैं परिवार का मुखिया हूं इसलिए जब भी परिवार में कोई शादी-ब्याह का कार्यक्रम होता था या फिर किसी अनहोनी के कारण किसी की मृत्यु के पश्चात क्रियाकर्म पर जाने की बात होती थी तो मैं ही सब जगह पर जाता था.

मैंने उसे पीठ के बल लिटा दिया और उसकी चूत को एकदम तेज़ रफ़्तार से चाटने लगा. सब अपनी जांघों से मंगल के सिर को अपनी चूत पर दबा रही थी और उनका मन ही नहीं कर रहा था कि मंगल उनकी चूत को छोड़कर किसी दूसरी की चूत पर जाए. मैं मुंबई पहुंच चुकी थी और वहां पहुंच कर मैंने अपना एडमिशन एक हॉस्टल में करवाया। मैं पहली बार मुंबई गई थी.

सबके चेहरे का रंग बदल गया क्योंकि मंगल का जिस्म जितना ताकतवर था, उससे भी कहीं ज्यादा आकर्षक और मजबूत उसका लंड दिखाई दे रहा था. मैं- क्यों आपकी शादी उससे हुई है, तो मैं क्यों करूं … आपको कोई परेशानी है क्या?वो- जी हां.

उनको भी अब मजा आने लगा और उन्होंने अपनी गांड उठाकर मुझे इशारा कर दिया.

मैंने भाभी की तरफ देखा तो भाभी ने कहा- आज रात तुम उसके कमरे में जाकर उसके साथ सेक्सी हरकत करना. क्सक्सक्स हद हिंदी वीडियोकुछ ही देर में मेरा फोन बजा और उसने मुझे अपनी कार का बताया कि किधर खड़ी है. नंगी सेक्स नंगी सेक्सएक दिन मैंने ध्यान से देखा कि मेरी ब्रा और पैंटी में निशान बने हुए थे जैसे किसी ने उस पर कुछ पदार्थ डाल दिया हो. उसने समर्पण की मुद्रा में अपने दोनों हाथ फैला कर मुझे आगे बढ़ने का इशारा किया.

भाभी बोली- सूरज क्या हुआ … मुझे उठा कर थक गए क्या … कुछ पियोगे?मेरे मन में आया कि बोल दूँ हां आपके आमों का रस थोड़ा सा मिल जाता … तो मेरी थकान दूर हो जाती.

फिर वो उठी और मेरे गीले हो चुके लंड को अपने मुंह में लेकर उसको तेजी के साथ चूसने लगी. उस दिन मैंने घर कमरा अच्छे से साफ किया, खुद भी खूब अच्छे से शेव आदि करके जल्दी ही नहा लिया. भाभी मुझे बाम देकर पेट के तरफ लेट गयी और उसने पीठ को मेरी तरफ कर दिया.

करीब 5 मिनट बाद उसने एक हाथ से मेरा सर दबाया और मेरे मुँह में झड़ गया. उसके लंड के आकार का अंदाजा मैं उसके पैंट के ऊपर ही लगा रही थी और उस स्पर्श से मैं फिर से जोश में आने लगी थी. इतनी हॉट लड़की को पास बैठा देखकर मेरा मन और लंड दोनों ही रोमान्टिक गाना गा-गा कर नाच रहे थे.

देवर भाभी का बीएफ सेक्सी वीडियो

मैंने मुठ मारने के लिए हाथ चलाने का इशारा किया, तो वो मेरा इशारा समझ गई और मुस्कुरा दी. अभी कॉलेज शुरू होने में थोड़ा वक्त था लेकिन कोचिंग की क्लास शुरू हो गई थीं. कहानी का पहला भाग:लेडीज किटी पार्टी में नंगापनउस दिन किटी पार्टी में सबने मस्ती की वह सबको ही अच्छी लगी क्योंकि सब आपस में बातें कर रही थी, सब ने बहुत आनंद लिया था और आहिस्ता आहिस्ता सब आपस में बहुत खुल भी गई थी.

कुछ देर बाद उसने आंखें खोलीं, तो एक प्यार भरी निगाह से मुझे देखने लगी.

अंधेरे में जंगल में बेटे का लंड लेते हुए अलग ही रोमांच पैदा हो रहा था मेरे अंदर.

उसकी चूत की खुशबू इतनी मनमोहक थी कि मन कर रहा था मैं उसकी चूत के अंदर ही घुस जाऊं. मैं खुद भी बहुत उत्तेजित थी, मैंने ज्यादा देर नहीं लगाई और उसके सुपारे पर जीभ फिराते हुए थूक से गीला कर दिया. नंगी तस्वीर लड़की कीमुझे तो हर बार बहुत परेशान करता है ठीक से निपट ही नहीं पाता।मैंने अनिल का एक किस लेकर कहा- नहीं मामा जी! पहले जरूर नखरे किए पर बाद में तो बहुत कोओपरेट किया.

अब मम्मी दोपहर को सोतीं, तो मैं उनके पास खड़े हो कर उनकी बेख्याली में उन्हें देखते हुए मुठ मारता. तुमको तो बहुत मिल जाएंगी।मैंने उससे कुछ नहीं कहा।दिन गुज़रते गए हम साथ में पढ़ते रहे, फिर ग्रेजुएशन में उसका एक दिन व्हाट्सएप पर मैसेज आया, मुझको तो यकीन ही नहीं हो रहा था, हम दोनों की बात शुरू हुई. मैं जरा हैरान हुआ और बहुत खुश भी हुआ क्योंकि मुझे लगने लगा था कि अब मेरे सपने सच होने जा रहे हैं.

खैर मैंने उसके निमंत्रण को स्वीकार किया और उसकी चूत में जितनी अन्दर तक चाट सकता था, वहां तक चाटने लगा. मैंने अपना अंडरवियर उतार कर एक तरफ फेंक दिया और उसकी गीली बुर पर अपना चिकना हो चुका लौड़ा लगा कर उसकी बुर में धक्का दे दिया.

जिस दिन मेरे ऑफिस की छुट्टी रहती है और बुआ अपने बेटे के साथ हमारे घर आती हैं.

भाभी कराहते हुए बोली- तुम्हारा लंड तो मेरे पति से भी बड़ा है और मोटा भी है. अपनी हिंदी बेस्ट सेक्स स्टोरी पर आपकी प्रतिक्रिया के इंतजार में आपका आर्यन. आप मुझे मेल कर सकते हैं … पर प्लीज़ भाषा का ध्यान रहे कि आप एक ऐसी स्त्री से मुखातिब हैं, जो सिर्फ अपनी चाहत को लेकर ही सेक्स करने की सोचती है.

क्सक्सक्स सेक्सी मूवी मैं उनके बिल्कुल पास गया और अपने लंड को हिलाते हुए बोला- मुझे तो सिर्फ एक चूत चाहिए थी मारने को, यहां तो दो दो हैं. मैंने कहा- गर्लफ्रेंड को नहीं चोदेगा तो क्या अपनी अम्मा को चोदेगा?अब भी उसने कुछ नहीं किया तो मैंने उसके चेहरे पर एक तमाचा मार दिया.

क्योंकि साहब की उम्र भी 55 साल के करीब थी इसलिए उनको चिंता हो रही थी. मैं हमेशा कुछ ना कुछ नया लिखने का प्रयास करता हूं अन्तर्वासना पर … इसीलिए मुझे लिखने में बहुत समय लग जाता है. अब उसने पीछे से दीदी की चूत में लंड को पेल दिया और उसकी चूत को चोदने लगा.

घड़ी मूवी बीएफ

तभी मैडम ने मुझे रोकने लगीं और कहने लगीं- बस अब इससे ज्यादा और कुछ नहीं. कोई 15 मिनट के बाद वो उठकर बाथरूम की ओर जाने लगी, तो उससे चला भी नहीं जा रहा था. मैंने एक बात नोटिस की कि वो अपने आपसे उठी और थोड़ा सा भी नहीं लड़खड़ाई.

वो अपनी चूत को भी अपने हाथ से सहलाती थीं और कभी कभी तो उसमें उंगली भी डाल लेती थीं. मैंने कहा- हम्म डर तो लगेगा ही … क्योंकि तुम मेरे दोस्त की गर्लफ्रेंड हो … मेरी थोड़ी हो.

लाला अब भी दीदी को बुलाता था कि किसी बहाने दुकान में कोई सामान लेने आ जाओ, मगर दीदी अब लाला को कोई भाव नहीं देती.

उनके पति जॉब में रहते हैं तो किटी पार्टी मनोरंजन का एक बहुत ही अच्छा विकल्प है. मैंने उसकी तरफ देखा, तो उसका चेहरा गंभीर लग रहा था और आंखों में वासना की आग थी. पहले उसकी पिंडलियों से होते हुए उसके घुटनों और फिर उसकी जांघों पर किस करते हुए उस पंजाबन भाभी की चूत तक जा पहुंचा था.

फिर अपनी योनि की दरार में ऊपर नीचे रगड़ा ताकि मेरी योनि से निकल रहे रस से सुपारे का मुँह गीला और चिकनाई से भर जाए. बाकी के रिश्तेदार और मेरे बड़े पापा और चाचा का परिवार एक हफ्ते बाद आने वाला था. पर एक बार ये भी ख्याल आया कि शायद बचपन की अभिलाषा इस उम्र में इसलिए निकल आयी … क्योंकि उस वक्त हिम्मत नहीं हुई होगी और अब कुछ हो नहीं सकता … इसलिए बात कह कर अपना मन हल्का करना चाहता हो.

मैं उम्मीद करता हूं कि आपको मेरी चाची की चुत की कहानी पढ़ते हुए मजा आयेगा.

हिंदी इंडियन बीएफ फिल्म: कुछ देर लंड अन्दर ही रहा, फिर उन्होंने ऊपर नीचे करना जैसे ही शुरू किया, मुझे लगा कि मैं झड़ रहा हूँ. भाभी ने मुझे देखा और कुछ न कहते हुए वे उठकर पेशाब करने के लिए बगल में चली गईं.

मैंने एक दिन अपने लंड को नापने की कोशिश की तो पता लगा कि मेरा लंड पूरी उत्तेजना में 3 इंच से भी ज्यादा चौड़ा हो जाता है. क्योंकि अब उन को सब पता है कि उनके पति भी बाहर बहुत मस्ती करते हैं इसलिए उनका भी हक है कि वह अपनी निजी जिंदगी के मजे उठाएं. ये सुनकर बहन बोलीं- ठीक कह रहीं भाभी … घर में कम से कम बदनामी तो नहीं होगी.

मैंने उससे पूछा- कितने वक़्त से जिम आ रही हो … तुम्हारी बॉडी में काफ़ी इम्प्रूवमेंट लग रहा है.

मैंने अपने लंड पर थोड़ा था थूक लगाया और पूर्वी ने लंड पकड़ कर अपनी चुत पर रखा. मेरी आंखों के सामने जो नजारा था उसे देख कर मेरी आंखें फटी की फटी रह गयी. इरफान- अभी तक तेरी गांड की प्यास बुझी नहीं क्या … दो बार तो तेरी गांड मार चुका हूँ.