बीएफ देखने

छवि स्रोत,सन 2021 के सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बांग्ला एक्स एक्स एक्स: बीएफ देखने, अब आप लोगों का ज्यादा समय न लेते हुए मैं आज की इस कहानी की शुरूआत करता हूं.

हिंदी बीएफ फिल्म भेजो

संगीता चाची बोलीं- अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा … रहा ही नहीं जा रहा मुझसे … तू जल्दी से चोद दे मुझे. हिंदी बीएफ पिक्चर सेक्सी एचडीमगर सुधा बोली- तू डर मत और टेंशन ना ले … ये मेरी पक्की सहेली है, कुछ नहीं बोलेगी.

चाची ने फिर मुझे अपनी तरफ खींचने का प्रयास किया और मुझे अपने ऊपर लेटा लिया. सेक्सी बीएफ जंगलीमैं अभी भी उसकी नाभि और घुमटी को चूस-चूस कर अपने दिमाग में एक नयी शुभ्रा को पैदा कर रहा था, जो मेरी चुदासी गर्लफ्रेंड हो चुकी थी.

वो मेरा सर पकड़कर दबाव डाल रही थी, मैं भी जितना ज्यादा हो सके, उतनी जीभ चुत के अंदर डालकर चाटने लगा.बीएफ देखने: मैं तुरंत भागने लगा, कहीं मम्मी ने फोन उठा लिया और उधर से किसी दोस्त ने कुछ अनाप शनाप बोल दिया तो … साले दोस्त होते ही हरामी हैं.

मीरा ने छाती को चाटते समय रितेश के निप्पलों को भी दाँत से काट लिया.भाभी ने एक्टिंग शुरू कर दी- देवर जी, आज इन्होंने ज्यादा पी ली है क्या? चलो, इन्हें अन्दर रूम तक ले जाने में जरा मेरी मदद करो.

बीएफ लंड वाला - बीएफ देखने

अभी तक इस सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि नम्रता ने नंगी रह कर हम दोनों के लिए खाना बनाया.मैंने अपनी जीभ बाहर की और उसकी चूत से होता हुआ, जो पानी की बूंदें टपक रही थीं, उनको जीभ पर लेने लगा.

इसी लिए मैंने झट से दीपाली के हाथ पकड़े और अपना लंड फिर से दीपाली के चुत पे रख दिया. बीएफ देखने मैं- देखो, वर्जिन गर्ल को पहली बार में तो दर्द होता है … पर बाद में सब ठीक हो जाता है.

मैंने अपनी उंगली उसकी चूत में डाली, उसने अपनी आंखें बंद की और मजे लेने लगी.

बीएफ देखने?

करीब पन्द्रह फोटो लेने के बाद काजल की आवाज आई- अब मैं दूसरा सैट ट्राई करती हूँ. मेरे आम इतने सेक्सी और कामुक थे कि चोदने से पहले ही कोई मर्द झड़ जाये. मुझे उसकी ये पिपासा बड़ी रोमांचक लगी और मैंने भी उसके होंठों में लगा हम दोनों के रस को चूस लिया.

सूजा हुआ लण्ड देख सारा और दिलिया घबरा गयी और बोली- हय अल्ला … ये क्या हो गया तुम्हारे लण्ड को?मैंने दिलिया से कहा- थोड़ा गर्म पानी ले आओ, सिकाई करूंगा तो ठीक हो जाएगा. फिर कुछ दिन बाद निहारिका की शादी भिवानी के पास किसी गाँव में हो गई थी. उसकी चूत थोड़ा थोड़ा पानी छोड़ने लगी थी, फिर अचानक से वो कड़क सी हो गयी और ‘आह आह आह आह औह.

लण्ड गुप्ताइन की चूत में डालकर मैं उसकी चूचियों से खेलने लगा तो गुप्ताइन चूत को अन्दर की तरफ सिकोड़ने लगी. पवन ने मुझे अपने करीब खींचा और मेरी पीठ पर हाथ घुमाने लगा। थोड़ी देर बाद हमने अपने होंठों को अलग किया, हमारी आँखें मिली तो मैंने शर्म से आँखें बंद की और उसके सीने में अपना मुँह छुपा दिया। लेकिन अभी भी मेरा हाथ उसके लंड को मसलने में लगा हुआ था. मेरी जानू बाहर कपड़े धो रही थी और काजल किचन में मेरे लिए नाश्ता बना रही थी.

तब तक चाची की देह और भी ज्यादा निखर चुकी थी और मुझ में काफी बदलाव आ गया था. जिसका नाम अनिता है, से हुई।वाकया कुछ इस तरह हुआ कि मैं जब काल सेन्टर के दूसरे कम्पनी में ट्रेनिंग में था।मुझे एक डायरी दिखी.

वह चुदाई क्या और कैसे हुई और इन रानियों की तीसरी वाली सहेली कैसे चुदी उसका वर्णन मैं अगली कहानी में करूँगा.

फिर मैंने चाची और कंचन से कहा- मेरा खड़ा हो तब तक तुम दोनों आपस में ही सेक्स का मज़ा लो।मैंने कहा- जो भी जल्दी झड़ेगी, उसे ही अब लंड खड़े होते ही आखिर बार चोदूँगा.

दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी पसंद आई या नहीं, जरूर मेल करना. मैंने उसकी टांगों को ऊपर उठाकर तेजी के साथ उसकी चूत को पेलना शुरू कर दिया. ऐसा लगा मानो किसी में चाकू को चूत में डाल दिया हो!राज मेरे ऊपर ही पड़ा रहा.

वो मेरी एक चूची को अपने मुंह में लेकर पी रहे थे और दूसरी को अपने हाथ से दबा रहे थे. उसके हाथ मुझे रोकने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन मैंने उसकी तरफ देखा … और गुर्राते हुए उससे बोला- हाथ हटाओ अपने. जाते जाते बोली- मुझे मजा आया … प्लीज़ अब मुझे भी हर रोज सुधा की तरह ही चोदना.

मैंने प्रतिभा से पूछा- और तुम्हारे और वैभव के बीच का क्या माजरा है?तो प्रतिभा ने बताया- खुशी तुमसे बात करने के बाद मुझसे तुम्हारे बारे में बात करके मन हल्का करती थी.

फिर उसने अपनी पैंटी धीरे से उतार कर उसी से अपनी बुर को पोंछ लिया और अपनी पैंटी को अपने हैंड बैग में रख लिया. मेरे अब्बू, अम्मी और बहन, सब मेरी ममेरी बहन के शादी में गए थे, मेरा बीए के तीसरे साल की परीक्षा होने के कारण मैं उस शादी में नहीं जा सका. फिर मैंने अपनी जीभ उसके मुँह में दे दी और उसने भी अपनी जीभ मेरे मुँह में दे दी.

अगले दो मिनट में ही मैंने उसके बदन से नाइट ड्रेस उतार कर उसको नंगी कर दिया था. मुझे बोले- जल्दी यहाँ आकर बैठो और इस फाइल में जो लिखा है, उसको बताओ, मैं सब जल्दी से इसमें लोड कर दूँ. मैं हमेशा चुदने के लिए तैयार रहती थी और मेरे से ज्यादा अमित मुझे हमेशा चोदने के लिए तैयार रहता था.

उसने कहा- तुम्हें नहीं पता, तुम्हारी हर चीज़ मेरे लिए कितनी कीमती है.

मैं खुश तो हूं लेकिन समझ नहीं आ रहा है कि दिल इतना जोर से क्यों धड़क रहा है!उसके मन की दशा को भांपते हुए रणविजय ने कहा- तुम्हारा दिल जोर से धड़क रहा है इसकी वजह तो मैं जानता हूं. जब थकान कुछ कम हुई तो उसके चूतड़ के नीचे दोनों हाथों से ऊपर लाता और वापिस छोड़ देता.

बीएफ देखने मैंने अपना सुपारा मीना की यौवन की घाटी के मुहाने पर रखा और आदतन पूरी ताक़त से ज़ोरदार धक्का लगा दिया. मैंने उसे सहलाते सहलाते ही एक झटका और मारा तो लंड थोड़ा सा अन्दर और घुस गया.

बीएफ देखने सतीश ने मुस्कान के सामने ही नीचे कारपेट पर प्रियंका को घोड़ी बनाया और उसकी चूत में अपना लौड़ा डाल दिया. जैसे ही भैया जोर से कमर से शॉट मारते, लंड घप से भाभी की चूत में घुस जाता और भाभी के मुँह से जोरदार आह निकलती और पायल की आवाज़ आती.

ये वापस की जा सकती थी, लेकिन न जाने क्यों, मैं नहीं चाहता था कि मैं इसे वापस दूँ.

हिंदी बीएफ यूपी का

मुझे पता था कि अब वो मेरी गांड को चाटने वाले हैं … क्योंकि मूवी में मैंने देखा था. मेरी सेक्सी साली की जवानी की चुदाई स्टोरी मजेदार है या नहीं? मुझे मेल करके और कमेंट्स में बताएं. उसकी कमर को पकड़ कर अपनी कमर तक किया और लंड को चूत के अन्दर पेल दिया.

फिर नीच होकर जैसे ही मैंने उसके पैर के अंगूठे को मुँह में लेके चूसा, तो अदिति सिसकारियां लेने लगी. मैंने देखा तो हेतल मेरे लंड के नीचे पड़ी हुई पूरी तरह चुदासी होकर मेरा लंड अपनी चूत में ले रही थी. अब हालत यह थी कि एक तरह से वसुन्धरा मेरे आगोश … आंशिक ही सही लेकिन आगोश में थी.

अनिल भैया- बस इतना ही दम था … या अभी कुछ और बची है … अबे शेर का बच्चा है तू … कुछ भी नहीं हुआ.

इससे मेरे अन्दर हलचल सी होने लगी थी, लेकिन मैं बुत बनकर कमरे के बीचों बीच पैर फैलाये हुए खड़ा था. चाची की बहन को मैं एक अच्छे होटल में ले गया। मैंने उसे ऑर्डर करने को कहा तो उसने दो कोल्ड कॉफ़ी ऑर्डर कर दी।मैंने कहा- जान! खाने के लिये भी कुछ मंगवा लो. मेरे कपड़ों को सही जगह रखा और हम एक बार फिर बहुत लंबे चुम्बन में डूब गए.

तेरा पूरा जीवन तेरे सामने पड़ा है अभी और मैं तुझे अपने पैसे उधार दे रहा हूं जब तेरी जॉब लग जाये तो बाद में वापिस कर देना, सिम्पल है न!”और मैं घर पर क्या जवाब दूंगी कि मेरे पास पढ़ाई के पैसे कहां से आ रहे हैं?” मैंने सवाल किया. आओ, हम दोनों लोग अपने दिमाग के फितूर लगाते है और सेक्स का मजा लेते हैं. लेकिन जैसे ही मैंने प्रतिभा की नाईटी खोलनी चाही, उसने मेरा हाथ पकड़ कर रोक दिया.

मैंने उसकी टांगों को ऊपर उठा कर अपने कंधों पर रख लिया और उसकी गांड का छेद मेरे सामने आ गया. मेरे दूध कलश जैसे गोल गोल हैं और निप्पल्स के चारों ओर बड़े-बड़े चमकदार चिकने डार्क कलर के गोले हैं.

मैं उन्हें किस करता रहा और उनकी बुर को अपनी उंगलियों से सहलाता रहा. इस बार मैं हाथ ऊपर की तरफ ले कर आया और ब्लाउज के ऊपर से उसकी चूचियों को थाम लिया. शादी होने पर मैंने तरह-तरह के सपने देखे थे मगर जैसा सोचा था वैसा कुछ नहीं हुआ.

तभी उसने मुझे जोर से एक बार फिर पकड़ लिया और शायद वह बिना लंड घुसवाए ही पहली बार झड़ गई.

कुछ ही देर ये खेल चला होगा कि भैया को अब बस झड़ना था … क्योंकि जैली की वजह से उन्हें ज्यादा मजा नहीं आ रहा था. मीरा भी अपने सामने खड़े रितेश की लुंगी में हाथ डाल के उसके चूतड़ों को सहला रही थी. जमाना ख़राब है, कहीं कोई ने कुछ कर दिया तो आप क्या कीजिएगा?वह कुछ देर चुप रही और बोली- तुम ठीक बोलते हो, लेकिन घर पर फोन तो कर ही देते हैं.

मैंने बोला- क्या हुआ?वो गुस्से में- जानवर हो क्या तुम ऐसे दबाता है कोई?मैंने कहा- जानवर हूं या नहीं … यह तुम अब जाते वक्त बताना. पता नहीं कब मेरे हाथों ने उसके सिर को पकड़ लिया और उसके मुंह को लंड पर दबाने लगे.

फिर रमेश की आंखों में देखते हुए अपनी जीभ बाहर निकाली और लण्ड के निचले हिस्से को चाटने लगी। फिर सुपारे पर चूसने लगी और फिर लंड के दायें बायें और फिर ऊपरी हिस्से पर अपनी जुबान फिराने लगी. मैंने उसके होंठों पर हाथ रखकर कहा- बस यही दर्द है, थोड़ा सा सहन करो बस अभी थोड़ी देर में ही दर्द सही हो जाएगा. फिर नम्रता ने अपने कूल्हे फैला दिए, जो कि मेरे लिये इशारा था कि जब तक पानी गर्म हो रहा है … तब तक मैं उसकी गांड घिसाई कर सकता हूं.

बीएफ 3:00 वाली

फिर कुछ देर टीवी देखने के बाद मां बोलीं- चलिए मैं खाना लगाती हूँ … नौ बज गए हैं.

या इसके अतिरिक्त कुछ भी जो आपको पसंद हो!लेकिन पति से बोलने में झिझक होती है. आप मुझे अच्छी सोचो या बुरी लेकिन मुझे ये सब करने में बहुत मजा आता है. मैंने उसकी कमीज निकाली और पन्द्रह मिनट तक उसकी चूची का रस पिया और खूब मसला.

आपके मजे की अगली किश्त के साथ में एक बार फिर से आप लोगों के बीच में हूं. अमित की गर्म सांसों मैं भी थोड़ी थोड़ी गर्माने लगी थी … और कसमसाने लगी थी. बिहार का बीएफ एचडीमैंने नम्रता को पलंग पर बैठाया और उसकी एड़ी को उसके कूल्हे से सटाते हुए उसकी टांगों को फैला दिया.

कुछ देर मैं उसकी नंगी पीठ पर लेटा रहा, साथ में गर्दन के पास बाइट करता रहा. मैं अपनी बहन सोनल के दोनों मम्मों को अपनी हथेलियों में भर कर मसलने लगा.

वो भी पति की मर्ज़ी से!मैंने न न बहाने बनाते हुए खुद को राज से थोड़ा दूर किया. दोस्तो, यह कहानी एक मित्र ने मेरी कहानियां पढ़ने के बाद मुझे भेजी है और गुज़ारिश की है कि उसके इस अनुभव को मैं आपके सबके साथ शेयर करूं. दीपाली- तो तुझे टाइम कब है? और हम लोग कहां मिलेंगे?मैं- आज का लेक्चर बहुत बोरिंग था, तो कल हम छुट्टी कर लेते हैं … चलेगा तुम्हें?दीपाली- हां ठीक है … कल तेरे घर पर मिलेंगे.

तुझे वो दर्द सहन करना पड़ेगा, वो भी सिर्फ आज ही बस … कल से तो तुझे बिल्कुल भी दर्द नहीं होगा, सिर्फ मजा ही मजा आएगा. अंकल ने अपने हाथों से मेरा मुँह ढक लिया- श … नीतू … सारे मोहल्ले को पता चल जाएगा … थोड़ी देर सहन करो, फिर देखो कैसा मजा आता है. कोई भी काजल को एक बार देख लेता, तो उसे बिना छुए छोड़ने का मन नहीं होता.

मैंने उसे अपनी बांहों में भरते हुए कहा- मैंने जब आपको पहली बार देखा था तभी दिल ने कहा था, मेड फॉर ईच अदर.

मैंने उसकी तरफ देखा, तो पाया कि उसकी आंखें बंद थीं और वो उंगली चोदन के पूरा मजा ले रही थी. तभी रकुल बोली- अच्छा ये बताओ, तुम्हें उसकी बीवी पसंद है क्या?नील- हां, है तो गजब!रकुल- और जो मेरा आशिक है, क्या वो ठीक ठाक दिखता है?नील- ठीक ठाक? अरे इतना स्मार्ट है कि उल्टा तुम्हारी ही चूत में पानी आ जायेगा उसका लेने के लिए.

जोइनिंग लैटर पाकर मेरी आँखों में ख़ुशी के आंसू भर आये और मैंने अगले दिन तुरंत अंकल जी को सुबह इस बारे में बताया और उनसे जिद की कि वो मुझे साथ लेकर ज्वाइन करवाने के लिए जायेंगे. जब सारा उसकी जीभ को अपनी जीभ से चूसती थी तो चूत लण्ड को अंदर खींचने लगती थी जैसे चूत लण्ड को चूस रही हो. किसी बड़े आंवले सरीखा सुपारा मेरी छोटी सी गांड में घुसा, तो मैं चीख उठा.

झड़ने के बाद मेरी सांसें फूल रही थीं, पर थॉमस अभी भी मुझे पूरे जोश में चोदे जा रहा था. इसलिए कभी मैं उसके शरीर पर चढ़ कर अपने शरीर उसके जिस्म से रगड़ कर अपनी उत्तेजना को बढ़ा रहा था. सारा लेट गयी और दिलिया उसके ऊपर लेट कर उसे लिप किस करने लगी और दोनों एक दूसरे की चूचियों से खेलने लगी.

बीएफ देखने चाची के होंठों को चूसते हुए मैं अपनी जीभ उनके मुंह में डाल कर उनके मुंह की गहराई को नापने लगा. तुम फ्रेश होकर चुत को अन्दर से ठीक से साफ़ करना … बाकी बाद में मैं तेरी झांट के सब बाल निकाल दूंगा.

वीडियो बीएफ सेक्सी मराठी

मेरा नाम लखन है और मैंने स्कूल पढ़ कर पढ़ना छोड़ दिया था क्योंकि हम लोग काफ़ी ग़रीब घर से हैं. उसने सूट भी हरे रंग का ही पहना हुआ था ताकि कोई ये न जान सके कि खेत में कोई है. इतनी देर तक तन्वी साइड में अपनी चूत खोले बैठी थी।मैंने हर्षिल को आँखों ही आंखों में तन्वी की तरफ इशारा किया तो हर्षिल ने अपनी दो उँगलियाँ तन्वी की चूत में घुसेड़ दी.

फिर वो ये कह कर किचन में चली गई। थोड़ी देर बाद वह खाना लेकर आई और हम दोनों ने साथ में भोजन किया. मेरा तो दिल करता है कि तेरी चूत से निकला इसका एक-एक कतरा पी जाऊँ।रिया- छी: छी: कितने गंदे हो डैड. बीएफ चाचीकिस करते करते मैंने अपने हाथ को उसकी चूची से हटाकर उसकी पजामी के अन्दर डाल दिया.

उसकी दोनों टांगों को मेरे कंधे के पास रख कर मैं दोनों पैरों पर बैठ कर पेलने लगा.

उस रात मैंने फिर से तरह तरह के आसनों के साथ भाभी को जम कर चोदा और उन्हें पूरी तरह से संतुष्ट कर दिया. लेकिन मुझे याद है पाँचवें दिन जब मैं सुबह उठा तब मैंने देखा कि दी आज कुछ अलग दिख रही हैं.

उधर उसके होंठ मानो कह रहे थे कि मुझे छोड़ दो … इतना ना चूसो … अब इन में रस नहीं बचा. रानी ने कहा- राजे, तू बेड पर चढ़ जा और सिरहाने से पीठ टिका के लेट जा. नम्रता ने भी मेरे सीने पर एक जोर का चुंबन जड़ दिया और मेरी पीठ और चूतड़ को सहलाने लगी.

लंड चुसाई का मजा और बढ़ाने के लिए मैंने पैंट को ऊपर से खोल दिया और उसके बाद धीरे से अपनी पैंट को नीचे सरका दिया.

होंठों के चुम्बन के साथ इस बार मैं उसके मम्मों को टॉप के ऊपर से ही मसलने लगा. मेरा लंड तो ऐसे खड़ा होकर फुंफकार रहा था … मानो बस पैंट फाड़ कर बाहर आ जाएगा. शांत होने के बाद चाची बोली- वाह रे कमीने! तू तो बड़ा खिलाड़ी है … कल तुझे अपनी बहन से मिलवाऊंगी।अगले दिन चाची ने अपनी बहन को बुला लिया और हमारा परिचय करवाया। चाची की बहन का नाम पूनम (बदला हुआ) था.

भोजपुरी में सेक्सी बीएफ एचडीजब एक बार वीर्य निकालने के बाद भी लंड शांत नहीं हुआ तो दूसरी बार लगातार मुट्ठ मारी तब जाकर मुझे नींद आई. वो मेरी छाती पर अपने नाख़ून गड़ा रही थी, जिसका मुझे दर्द भी हो रहा था साथ में मज़ा भी आ रहा था.

जानवर और लड़की का बीएफ

पर खुशी सिर्फ दिखावे के लिए बिंदास है, असल में खुशी भावुक और संस्कारी लड़की है. क्योंकि हमारा घर यहां दिल्ली में है तो वो महीने में एक बार ही घर आ पाते हैं।मेरे ससुर जी सेना से सेवामुक्त हैं और अधिकतर घर पर ही रहते हैं।मेरी ननद सुमीना अभी बी ए तृतीय वर्ष की छात्रा है और देवर एक प्राईवेट कम्पनी में काम करता है।मैं शादी के बाद छः महीने तो अपने पति के साथ ही रही. उसने नाईटी के ऊपर से ही मेरे चुचे मसले और मेरे पैरों के बीच में आकर अपना 4 इंच का लंड मेरी चूत में पेल दिया.

मुझे लगा कि भाभी आ सकती हैं, मैं उनको मना करने लगी- अब रहने दीजिए, कोई आ जायेगा. वैसे मेरे घर में किसी को नहीं पता है कि मैं पड़ोस में लड़कों से बात करती हूँ. इस सेक्स कहानी का मजा लें और मेरी चूत के नाम से एक बार लंड जरूर हिलाएं.

मीता के जाने के मैंने सोचा कि दाना तो डाल दिया है, अब इसको खिलाया कैसे जाए. उन्होंने वहीं मुझे फिर से घोड़ी बना दिया और मेरी गांड की छेद में देखने लगे. काफी देर तक चूत चाटने और अंगुली करने की वजह से अनिता कांपते हुए अपने कामरस की वर्षा कर गई जिसे मैं अमृत की तरह पीता चला गया.

मेरे पति सेक्स में खूब संतुष्टि देते थे लेकिन यह संतुष्टि केवल 5-6 दिन के लिये ही होती थी. उसके सोने के बाद मेरा मन था तुमको बुलाने का, पर डर था वो जग जाता, तो जो आज मजा मिला, वो भी नहीं मिलता.

बस बाहर से बयाँ नहीं कर पा रही थी कि मुझे भी एक बार तो पराये मर्द का सुख लेना है.

लेकिन यह बात हो मुझे मालूम हो गयी थी कि वीणा में ऐसा बदलाव क्यों आया है। वह राजवीर भैया!यानि कि आपसे चुदाई करवाना चाहती थी. हिंदी में पुरानी बीएफमैंने फिर टोका- यार ये गलत बात है, तुम मेरी तारीफ करना बंद करो और जो कहने वाली थीं, वो कहो. भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सीमैंने बियर की 8-10 केन खरीद लीं और फिर टैक्सी पकड़कर उसके घर की तरफ चल दिया. उधर दूसरी तरफ- मेरी रानी आह-आह, क्या आह-आह खूब खूब गांड है तुम्हारी.

तभी कुछ पक्का कह पाऊंगी कि क्या समस्या है… तब तक आराम करो और सिकाई करो.

फिर वो भी वक्त आया कि रेखा के सब्र का बांध के टूटने का असर मेरे लंड पर पड़ने लगा था कि तभी मेरे लंड ने भी मुझे चेतावनी देनी शुरू कर दी. मेरे लंड की चिकनाई उसकी चूत को पूरा गीला कर चुकी थी और अब मैं भी बस झड़ने वाला था. अब मैं भी जोश में आ गया था, तो मैंने भी उनके बाल पकड़ कर जोर जोर से लंड को भाभी के मुँह में अन्दर बाहर करना चालू कर दिया.

इसलिए उसका क्लेम पास होने के बाद उसने मुझे बहुत बार फ़ोन करके धन्यवाद दिया. फिर लंड धकापेल पेलने के साथ में मैंने उसके दोनों मम्मों को पकड़ा और मसलते हुए चुदाई करने लगा. रोज रात को मुझे उसकी याद आती थी और हर रात को मुठ मार कर अपनी भूख शांत करता था.

मथुरा बीएफ

तभी भार्गव ने धीरे से अपना हाथ मेरी जांघ पर रखा और बोला- यार आशना … एक बात कहूँ … आज तुम्हारे उछलते हुए मम्मों को देखकर और तुम्हारी पतली और लचीली कमर को देखकर मेरा भी मन कर रहा है कि मैं तुम्हें मेरे लंड का स्वाद चखाऊं. फिर मैंने उसके तने हुए निप्पलों को अपने हाथ में लेकर कचोटते हुए जोर से मसल दिया और वो सिहर उठी. यूं मैंने ऐसे दर्शाया कि मुझे कुछ हुआ नहीं लेकिन अब के इस काम-केलि की डोर मुझे अपने हाथ ही में रखनी ही होगी नहीं तो आज की रात तो वसुन्धरा ने मुझे यक़ीनन उधेड़ कर रख देना था.

मैं उससे थोड़ी गुस्से में बोली कि अब तुम यहां से बाहर जाओ, नहीं तो मैं मधु को बुलाती हूँ.

दो तीन दिन यों ही बीत गए लेकिन इन दो तीन दिन में उनकी गांड और हाथ कई बार मेरे लंड से टच हुए और उनके बार बार झुकने से उनके बूब्स भी दिखे पर मैंने कुछ किया नहीं! क्योंकि मुझे डर लग रहा था कि कहीं यह मेरा वहम निकका की वो मुझे उत्तेजित कर रही है.

मुझे देख कर उनकी आंखें खुशी से चमक उठीं, मेरा हाथ पकड़ कर मुझे घर के अन्दर खींचा और किसी ने देखा नहीं, इसकी तसल्ली करके दरवाजा अन्दर से लॉक कर दिया. ये वाचमैन था- ये आपका पार्सल है, कल शाम घर में कोई नहीं था, तो मैंने रख लिया था. एक्स सेक्सी व्हिडिओ बीएफमैं नीचे लेट गया और वो मेरे ऊपर आकर मेरे लंड को पकड़ कर चुत में सैट करने लगी.

पर मैंने उसे समझाया- देख आधा दर्द तो तूने सह भी लिया है … बस और थोड़ा सा दर्द होगा फिर 100 रुपये भी तेरे और मजा भी आएगा. ऐसा होना ही ग़ज़ब ढा गया … तत्काल वसुन्धरा ने दोनों बाज़ु उठा कर मेरे दोनों कांधों पर रख कर कोहनियों के जोर से मुझे अपनी ओर खींचा और अपनी ठुड्डी मेरे बाएं कंधे पर टिका दी. नील देख कर बोली- काफी कस कर चुदाई की है तुमने सारा की! पूरा समझने के लिए मुझे पूरी चुदाई की कहानी तफ्सील से सुनाओ आमिर!मैंने कैसे दिलिया और सारा को कल रात और आज सुबह चोदा, पूरी तफ्सील से सुना दिया.

मेरी उससे हमेशा हाल चाल जितनी ही बात हुई थी … मगर न जाने क्यों मुझे लगा कि मुझे इससे बात करनी चाहिए. अब संजना सीधे से आकर मेरे मुँह के ऊपर अपनी चूत रख दी और आप मेरा सर अपनी चूत में दबाने लगी.

उसने पहले ही धक्के से अपना पूरा लंड मेरी चूत के अन्दर तक डाल दिया था.

मैंने बहुत धीरे धीरे से रानियों की टाँगें और बाहें अपने बदन से हटायीं. अगर आपको याद हो तो मेरी पिछली कहानी में मैंने बताया था कि मेरे जीजा जी नाइट ड्यूटी करते हैं और कैसे मैंने दिन में उनके अंडरवियर में लंड को देख कर पहली बार किसी मर्द के लिंग को छुआ था और उसके बाद जीजा जी ने कैसे मेरी चुदाई की थी. हालांकि मेरा सुपाड़ा चादर से रगड़ रहा था और एक मीठी जलन हो रही थी, लेकिन इस तरह दूध पीने का मजा भी मिल रहा था.

बीएफ गाना बीएफ गाना दोस्तो, अब तक की सेक्स कहानीहॉस्टल की सेक्सी लड़की की मस्त चुदाईमें आपने सुधा के संग मेरी चुदाई का मजा लिया था. और उसके बादमैं उठा और पूरी ताकत से अपने लंड को पकड़ कर उसकी चूत में डालने लगा.

तब भाई ने एक पोलीथिन मेरी तरफ फेंकी, जिसमें ब्लैक ट्रांसपेरेंट नाइटी थी. मेरे मुख से हल्की मदभरी सिसिकारियां निकल रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…उसने मेरी नाभि पे तेल गिराया … तो मेरे बदन में झुरझुरी पैदा हो गयी. तू तो ऐसे बात कर रही है जैसे सच में तेरी चूत में मेरा लंड चला गया हो.

सेक्सी मालिश बीएफ

मैं उसके दूध के बिल्कुल ऊपर बैठा हुआ था और अपनी गांड से उसके दूध को रगड़ रहा था. मेरा सेक्स करने का सफ़र बढ़ता ही गया और जैसे मैंने शुरूआत में बताया था कि मुझे शादीशुदा औरतें चोदना पसंद हैं. वो अब मेरे ऊपर से उठी और सीधे होकर लंड की घुड़सवारी के लिए तैयार हो गई.

विदेशी गोरी लड़की की चुदाई का मेरा अनुभव कैसा रहा??हैलो फ्रेंड्स, मेरा नाम प्रकाश चौधरी है. रानी ने मेरे लंड और गांड के बीच में जो मुलायम सा भाग होता है, उसे ज़ोर से दबा दिया.

मैं बोला- एक काम कर दो भाभी, तुम अभी मेरा लंड चूस कर शांत कर दो, चुत रात में चोद लूँगा.

मैंने धीरे-धीरे अपनी कमर चला कर शलाका को दोबारा चोदना शुरू कर दिया. रानी ने फिर सुपारी को मुंह में होंठों से ज़ोर से दबा लिया, अंदर से जीभ से टुकुर टुकुर करने लगी और उँगलियों से टट्टों को हौले हौले से दबाने लगी. खैर थोड़ी देर तक वो मेरी गांड को चाटने के बाद खड़ी हुई और बोली- अब ये चाटम चटाई बहुत हुई.

वो पल आ गया जब मुझे महसूस हुआ कि मेरी चूत से मेरी सारी ताकत निकल रही हो. मेरे प्यार ने मुझे स्वीकार कर लिया, अब चाहे मुझे मौत भी आ जाए तो गम नहीं. मैं धीरे मानसी के नीचे किस करता चला गया और उसकी मरमरी जांघों पर किस करने लगा.

वो दो उंगली मेरी चूत में पेल रहा था और जीभ से मेरी चूत के दाने के साथ खेल रहा था.

बीएफ देखने: कुछ देर तक तो मैंने उसे कुछ नहीं कहा लेकिन कुछ देर बाद मैंने उसे रोक दिया क्योंकि मैं आज ऐसे ही ठंडा नहीं होना चाहता था. मैंने उसके और पास आते हुए उसको गले से लगाते हुए कहा- ठीक है अब चलता हूँ … तुम अपना ख्याल रखना.

हम्म … ठीक है अंकल जी!”सोनम बेटा, अगर तेरे पास टाइम हो तो कभी आना मुझसे मिलने!”जी अंकल जी, आ तो जाऊँगी मैं … पर डर भी बहुत लगता है, कोई देख लेगा तो?” मैंने हिचकिचाते हुए कहा. मैंने सुना था कि फंसने पर पुलिस वाले भी लड़की को बहुत चोदते हैं … तो मैं इस तरह की रिस्क नहीं लेना चाहती थी. अंकल अपनी उंगली अन्दर बाहर करते समय चुत से निकल रहा रस अपनी जीभ से चाट रहे थे, कभी कभी उनकी जीभ मेरे चुत के दाने को टकरा जाती, तो मेरे पूरे बदन में बिजली दौड़ जाती.

यही मैं भी महसूस कर रही थी उस वक्त!मैं राज के साथ बिस्तर में पूरा आनंद उठा रही थी.

अनिता को दर्द हुआ और मुझे धकेलने लगी लेकिन मेरी पकड़ मजबूत होने के कारण वह कुछ नहीं कर सकी. उसके बाद मैं लोअर को उपर करके बाहर निकल कर आया और मामी के पास रसोई में जाकर कॉलेज न जाने के लिये बोल दिया और मामी ने भी अपनी सहमति जता दी. वो जिस घर में रहता है, उसका मकान मालिक घर खाली करवा रहा है, तो क्या हम उसे अपने घर का ऊपर वाला कमरा, जो खाली पड़ा है, दे दें?थोड़ा मनाने पर पिंकी राजी हो गई.