बीएफ सेक्सी वीडियो भाभी

छवि स्रोत,सेक्सी फिल्म का वीडियो हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

बंगाली चुदाई सेक्सी: बीएफ सेक्सी वीडियो भाभी, मेरी काफी नानुकर के बाद भी जब वो नहीं माना और उसने अपनी मजबूत बांहों में मुझे जकड़ लिया.

कमोड सीट बैठने का तरीका

दो फाँकें बिल्कुल चिपकी हुई थीं। जिसके बीच से दाना बाहर को निकला हुआ था। ऐसा लग रहा था जैसे आज तक उसे किसी ने छुआ ही नहीं हो। मुझसे संयम नहीं हुआ और अपने होंठों में चूत का दाना भर लिया. की पिक्चर सेक्सीमैंने अपनी गांड हल्की सी पीछे की और कर दी ताकि वो आसानी से अपना हाथ डाल सके.

ये बात उस रात की है, जब शादी की सभी रस्में संपन्न हो चुकी थी और मेरी दीदी विदा होकर अपनी ससुराल चली गई थीं. सेक्सी पिक्चर इंग्लिश हिंदी मेंउसे मजा आ रहा था, वो अपने चूतड़ उछाल उछल कर चूत चुसाई का मजा ले रही थी.

दोस्तो, कोई कुछ भी कहे, मुझे औरत में जो चीज सबसे ज्यादा सेक्सी लगती है, वो है उसकी गांड, जब औरत बिस्तर पर उलटी लेटी होती है और उस वक्त उसकी उभरी हुई गांड का जो नजारा होता है, उससे ज्यादा मादक और सेक्सी नजारा इस दुनिया में और कोई नहीं होता.बीएफ सेक्सी वीडियो भाभी: अचानक उसने अपना एक हाथ मेरी सीधे तरफ वाली चुची पर रख कर उसको मींजना शुरू कर दिया.

मैंने उसको बेड पर लिटाया और अपना लंड उसकी चुत पर थोड़ी देर रगड़ कर उसको और उत्तेजित करके जैसे ही उसकी चुत में लंड डाला कि उसने एक दर्द भरी चीख के साथ मेरी पीठ पर कस कर नाख़ून गड़ा दिए.मेरी नजर अपनी बहना की बुर पर थी, उसकी बुर पर छोटे छोटे बाल थे, लग रहा था कि वो अपनी झांटों की सफाई करती थी.

करवा चौथ की कथा सुनाइए - बीएफ सेक्सी वीडियो भाभी

क्योंकि अब मैं छूट चुकी थी तो मैं सुबह रोज़ की तरह से अपने दफ़्तर गई और वहाँ एमडी से मिली.”अर्पिता- फिर?फिर क्या… धीरे धीरे उसकी जीन्स में हाथ डाला और वो भी मेरी जांघों से होती हुई मेरी जीन्स पर हाथ पहुँचा चुकी थी इस तरह से!” इतना बोल कर मैंने अर्पिता का हाथ अपने लंड पर रख दिया जो पहले से ही सलामी दे रहा था.

मैं काफी देर तक उसकी चूत पैंटी के ऊपर से सहला रहा था, इतने में उसने मेरा हाथ पकड़ के सीधा अपनी पैंटी में डाल दिया. बीएफ सेक्सी वीडियो भाभी फिर वो कमरे से अपनी ड्रेस में चली गई और उधर से दो मिनट बाद ही सेक्सी सा लाल गाउन पहन कर बेडरूम में आ गई.

वो मेरे ऊपर टांगें इधर उधर करके बैठे थे, इस वजह से मैं उनके हाथ अपने हाथ से पकड़ नहीं सकती थी.

बीएफ सेक्सी वीडियो भाभी?

मैं शाम को तैयार हो गई और जो ड्रेस उसने बताई थीं, उसी में से एक ड्रेस निकाली तो वो भी बाकी सभी की तरह छोटी सी थी. मैंने प्रिय के बाएं निप्पल को मुंह में ले कर चुमलाया, तत्काल प्रिया मेरे लिंग को अपनी योनि की ओर खींचने लगी. अब मां ने जो लंड उनके मुँह में बिना कंडोम का था, उन्होंने उस लंड को आइसक्रीम की तरह चूसना शुरू कर दिया और वे अपनी जीभ से लंड चाटने लगीं.

मेरा काम हमेशा अपटूडेट होता था, इसलिए मुझे कभी भी किसी ने कुछ नहीं कहा. शाम को उनके पति और परिवार वालों के जाने के बाद फोन आया और मैं भाभी के घर पहुँच गया. उसने मुझे ऑरेंज जूस पिलाया और मेरे माथे पे किस किया और बाथरूम में चला गया.

मैंने दरवाजा खटखटाया और उधर ललिता फिर से सोने का नाटक करने लगी ताकि माँ को शक न हो. वो भी शरमा के तिरछी नजर से देखते हुए सिर्फ मुस्करा रही थी और मेरे बारे में पूछने लगी- अपनी वाइफ को क्यों नहीं लाये?तो मैं बोला- मेरी बेटी तबियत ठीक नहीं थी, इसलिए मैं अकेला ही आया हूँ. जैसे कि हम बचपन से ही साथ में सोते हैं, वैसे ही आज भी हम साथ में लेट गए.

मेरा वन पीस स्किन टाइट तो था, पर वो एक तरह से लूज़ इलास्टिक का था ताकि वो किसी भी साइज़ पर फिट आ सके. रेड कलर की ब्रा और पेंटी उनकी लिपस्टिक में पूरी तरह से मैच कर रही थी.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:बस में मिली लड़की ने दिलाया ज़न्नत का मजा-3.

इससे आगे मैं कुछ बोलता, तो उसने रोक दिया और बोली- अब तो मिलना ही पड़ेगा.

तभी उनका ध्यान मेरी पेंट में बने तम्बू की तरफ गया और वो हंसने लगीं. उस समय मेरी भी बॉडी और हाईट से पता नहीं चलता था कि मेरी उम्र क्या है, मैं पूरा 22 साल का बांका मर्द लगता था. कभी कभी मयूर अपनी शादी से पहले की गर्लफ्रेंड्स को कानूनगो साहब से चुदने के लिए भेज देता था.

वो भी कुछ नहीं बोली, शायद उसे भी नशे में मजा आने लगा था और अच्छा लग रहा था. मैं- तो देरी किस बात की?यह कह कर मैंने विनय के लंड को फिर से मुँह में ले लिया. इस हॉट सेक्स स्टोरी के पहले भागबेटी ने मम्मी के यारों का लंड शेयर किया-1में अपने पढ़ा कि कैसे मैं मम्मी की कामुकता का इलाज करवाने उन्हें उनके यारों से चुदवाने ले गई.

मैं- अंजलि, मैं बाथरूम में हूँ, आ रहा हूँ अभी!और मैं फटाफट से अपने हाथ धोकर बाथरूम से बाहर निकल कर कमरे में आया तो अंजलि मुझसे पूछने लगी- भाई आप बाथरूम में क्या करने गए थे? आप तो मोर्निंग में नहा भी चुके थे.

पैसे कल दे देना और हां मैं जब तुम्हारा इलाज करूँगा तो मैं तुम्हें दोस्त की तरह समझूँगा और मैं तो कहूँगा तुम्हें मेरी वाइफ की तरह फ्रीली रिलेशन बनाने में हेल्प करनी होगी, जैसे किसी पत्नी को अपने पति के साथ सेक्स करना होता है. वो रोज़ मुझे नई नई ब्लू फ़िल्में दिखाती थी, जिसका असर ये हुआ कि मुझ पर जवानी की चुदास उम्र से पहले ही चढ़ गई. ”उसकी तड़प देख कर लग रहा था कि उसकी आग बहुत दिनों से शांत नहीं हुई है.

उस दिन उसने जींस और मस्त सफ़ेद टॉप पहना था, टॉप इतना टाइट था कि मुझे उसकी पिंक कलर की ब्रा भी थोड़ी थोड़ी दिख रही थी. और 2-4 काफ़ी तेज धक्कों के बाद ज्वालामुखी का एक ऐसा फव्वारा छूटा जो अपनी अग्नि में सब बहा ले गया. मैं बोली- नहीं चाहिए प्लीज, मुझे नहीं चाहिए!पर उन्होंने पैसे मेरे हाथ में रख दिए। अंदर से मेरा मन था, मुझे पैसे लेकर बहुत खुशी हुई, मैंने सोचा कि ये तो बहुत अच्छे हैं.

मैं सोचने लगा कि मॉम नहीं मान रही हैं तो थोड़ा बहुत बहन से प्यास बुझा लूँ.

तो हम दोनों कुछ देर तक वहीं बात करते रहे और उसके बाद हमारे बीच में जो हुआ, वो मैं आप लोगों को कभी बाद में बताऊँगी लेकिन कुछ ऐसा हुआ कि वो मुझे एक लड़की की तरह बाहर ले जाने को तैयार हो गया. अंजलि ने मेरा परिचय कराया तो मैंने उसको थोड़ा स्माइल दी तो उसने भी स्माईल दी.

बीएफ सेक्सी वीडियो भाभी ”” और आज जब हम वापिस आये थे तो क्या हुआ था तुझे? तू क्यों अपने कमरे में बंद हो गयी थी और कहने पर भी दरवाज़ा क्यों नहीं खोला तुम ने?”आप समझे नहीं? पिछले तीन महीने से आप का इम्तिहान चल रहा था. अब आगे:मम्मी अजय को कंधों से पकड़ कर खींच कर बोली- साले अनीता के पीछे पीछे भागता रहता है, आज मुझे भी अपना दम दिखा।यह बोल कर मम्मी ने अपने होंठ अजय के होंठों से लगा दिए और चूमने लगी.

बीएफ सेक्सी वीडियो भाभी एक दिन मेरे पति अपने किसी पुराने दोस्त को खाने पर लाए, खूब बातें वगैरह हुईं, वो बहुत अमीर था. एक दिन वो गहरी नींद में थीं, मैंने उनकी मैक्सी को ऊपर किया और उनकी चुत पर जीभ लगा दी.

अब आगे:कोशिश कर के देखो… शायद तुम दोनों टोपों के ऊपर बैठ सको!” मैंने शंका के साथ नताशा से कहा.

हिंदी एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो

मैं अपने लंड को हिला कर सो जाता और वो अपनी चुत में उंगली कर के सो जाती. मेरा और प्रिया का आमना-सामना आम तौर पर डिनर टेबल पर या कभी कभार जब मैं ऑफिस से आता था तो प्रिया मुझे पानी देने आती थी… तब होता था. मेरी बहन का दीवाना देवर मुझे अपने कमरे में लाकर नंगी कर चुका था मेरी चूत चुदाई के लिए… मुझे मजा आ रहा था लेकिन मैं दिखावे के लिए उसका विरोध कर रही थी.

मैंने पेंटी के ऊपर से ही उसकी चुत को सहलाना शुरू किया तो वो पलट कर सीधी हो गई और उसने मुझे गले से लगा लिया. जैसे ही ब्रा खुली उसके मदमस्त दोनों कबूतरों को उछलते थिरकते देख कर मैं पागल ही हो गया और उन पर टूट पड़ा. मैंने बोला- क्या हुआ?वो कराह के बोली- पूरा शरीर का पोर पोर दर्द कर रहा है, मुझे टॉयलेट जाना है, पर चल नहीं पा रही हूँ.

और तुम खुद देख चुकी हो की पायल को चोदने में इतना वक्त लगा जबकि पायल की चूत तो काफी हद तक फटी हुई है, तो सोचो तुम्हें कितना दर्द होगा और टाइम भी ज्यादा लगेगा। इसलिये बेहतर होगा कि कल सुबह 8 बजे तुम्हें अपने घर पर चोदूँ.

तभी बालू बोले- ऐसी भी क्या जिद है? चलो देखता हूं, कैसे अभी रह पाओगी बिना मेरा लोड़ा घुसवाये!मैं बोली- देख लो, आजमा लो, पागल तो मुझे कर ही दिया है!उसी समय फिर एक हाथ से मेरे नंगे बूब्स दबाने लगे, एक हाथ से चूत में अपनी उंगली डाल दी, बालू को मुझे तड़पाने में बहुत मजा आ रहा था. प्रिया की योनि में से कामरस के साथ साथ जैसे आग की लपटें निकल रही थी. जिससे चाची को थोड़ा बुरा सा लगा और वो झल्ला कर बोलीं- ये क्या किया?मैंने कहा- सॉरी चाची मैं अपने आपको रोक नहीं पाया, मुझे माफ़ कर दो.

दूसरे दिन मैंने एक महंगे शोरूम से एक ब्राइडल ट्रांसपेरेंट ब्रा और जी-स्ट्रिंग पेंटी के साथ एक बेबी डॉल नाइटी खरीद कर पैक करवा ली. वो रात को मुझे चोदता था… और सुबह पापा के ऑफिस चले जाने के बाद हम दोनों को चोदता था. क्या मेरी चूत में कुछ गड़बड़ है?”अरे इतनी सी बात और तुम आंसू बहाने लगी, मुझे दिखाओ, मैं ढूंढ कर बताता हूँ.

पारुल ने भी बोला- ठीक है, तुम जो चाहो ले लो!मैंने कहा- ठीक है!जैसे ही हम धारूहेड़ा पहुँचे, पारुल ने मुझे कहा- गाड़ी रोक लो!और 2000 रुपये दिए, बोली- एक विह्स्की की बोतल और 4 बीयर ले लो!दोस्तो अब तो मैं जन्न्त में घूमने लगा. लाइट रेड कलर की लाइट, हल्की हल्की रोज़ रूम फ्रेशनर की खुशबू और मखमली बेड.

अब मैंने अंजलि को पिछली सीट के बीच वाले गैप में झुकाया और लन्ड उसकी चूत में डाल दिया, चूत बिल्कुल गीली थी, लन्ड बिना रुके अंदर चला गया और मैं धक्के लगाने लगा. वो- काफी टाइम लेते हो नहाने में?मैं- मैं सारे काम एन्जॉय करते हुए करता हूँ. मैंने पूछा- मैं बिना किसी को बताए क्यों आऊं?सर ने कहा कि तुम अगर अपनी माँ को बताओगी तो वो तुम्हें आने नहीं देंगी और अगर तुम नहीं आओगी तुम्हारा काम 35 हो जाएगा.

वो बोली- तुम क्या खाना पसंद करोगे?मैं- कोई स्पेशल पसंद नहीं है बस जो तुम चाहो.

मैं- क्या बात है… क्या सोच रही हो? तुम्हें क्या हासिल हुआ आज तक? सिर्फ तड़प!वो- आज तक किसी गैर मर्द को इस नजर से देखा भी नहीं है. तभी मैंने उसे पीछे से जाकर पकड़ लिया और उसकी गांड पर दो तीन थप्पड़ लगा दिए. मैं मासूम सी शक्ल बना कर बोली- सर मैं ज़रूर आ जाऊंगी, अगर ज़रूरत पड़ी तो पूरी रात भर भी रह लूँगी, मगर आप मेरे भाई का काम तो कर देंगे ना?पूरी रात रुकने का नाम सुन कर वो अपना लंड सहलाता हुआ बोला- हां क्यों नहीं.

मैं कमर पकड़ कर शॉट पर शॉट देता गया और साथ में मम्मों को भी दबाता रहा. स्मिता का फिगर की चर्चा करूँ तो 32 इंच के इतने मस्त उठे हुए चूचे कि बस ब्लाउज से निकलने को बेताब.

अब दीदी चेयर पर बैठी हुई फोन को स्पीकर पे डाल कर प्रीति की चुदाई की स्टोरी को सुन रही थी और अपनी चुत को सहलाए जा रही थीं. अब तुमने मुझ पर लंड का नशा चढ़वा दिया है और इसके बिना रहना भी बहुत मुश्किल है. बुआ और जोर से हंस पड़ीं और बोलीं- तेरा पहली बार है इसलिए आधी बातें जानता है.

ब्लू पिक्चर फिल्म ब्लू फिल्म

मैंने कहा- क्यों नहीं, पर क्या भैया मानेंगे?भाभी बोलीं- वो तू मुझ पे छोड़ दे.

मेरी हाइट 5 फुट 11 इंच है तथा मैं फेयर कलर वाला अच्छा दिखने वाला एक आकर्षक बन्दा हूँ. शायद उन्होंने समझ लिया था कि मैं झड़ चुकी हूँ तो उन्होंने भी जोर जोर से ठापें लगाना शुरू कर दीं और मेरी चुत में ही अपने लंड का लावा उगल दिया. भाभी भी मेरा साथ ड़े रही थी चूमा चाटी में!फिर धीरे धीरे मैं भाभी की साड़ी उतारने लगा और अब भाभी ब्रा और पेटिकोट में थी.

छोड़ो ना… कल रात को इतनी जोर से बजाने के बाद भी तुम्हारा दिल नहीं भरा क्या??मैं- जान, तुम चीज़ ही ऐसी हो कि दिल नहीं भरता. उसने एक दो झटके लगाए, पर उसका लंड साली की चूत में नहीं घुस पाया क्योंकि मेरी साली थोड़ी ज्यादा ही सीधी खड़ी थी और मेरे हिसाब से इतने छोटे लंड को डालने के लिए उसे थोड़ा और झुकने की जरूरत थी. बॉयफ्रेंड को गिफ्ट में क्या देना चाहिएमैंने मज़ाक में बोला- पति की याद आ रही है क्या?भाभी बोलीं- नहीं नहीं.

पर तब तक तो मेरे अन्दर हवस भर चुकी थी, मैंने दीदी से कहा- दीदी प्यार अलग है और शरीर की जरूरत अलग बात है. यह घटना अभी कुछ दिन पहले ही घटित हुई है, मैं अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई 2015 में समाप्त करके जॉब की तलाश मैं दिल्ली आया, यहां मैं नॉएडा में रहता हूँ.

मैंने अपने पंजे चूचियों में गाड़ दिए थे और बड़ी ताकत से मैं उनको नोच खसोट रहा था. हम दोनों वासना की आग में जल रहे थे और ऐसे एक दूसरे से खेल रहे थे, जैसे कोई जंगल में शेर और शेरनी सेक्स करते वक्त खेलते हैं. मैं उनके होंठों को चूसने लगा, वो पीछे जा कर दीवार से सट गईं मैंने उन्हें जकड़ लिया.

मैंने कहा- आज तो मज़ा आ रहा है ना!वो बोली- मेरे एक दिन के पतिदेव… तभी तो इसे लॉलीपॉप की तरह चूस रही हूँ. लेकिन मेरे मन में कामुकता घर कर चुकी थी, मैं सोचने लगा कि क्या करूँ?तभी मैं उठ कर अपनी बहन के पास रसोई में चला गया और उस के पीछे जाकर खड़ा हो गया. तो वो मुझे आँख मारते हुए बोलीं- तुम्हारे अंकल को ऐसी मूवी देखना पसंद ही नहीं हैं.

मेरा दायाँ हाथ प्रिया की पीठ पर ऊपर-नीचे गर्दिश करता करता अब नितम्बों पर से होता हुआ, पैंटी-लाइन नापता-नापता योनि-द्वार तक जा रहा था.

जिससे वो थोड़ा जोश में आ जाता, उसने लंड को अन्दर करने के लिए और ज़ोर लगाया। लंड मेरी टाइट गांड को चीरता हुआ अन्दर जा रहा था।मैंने तकिया पकड़ लिया और उस पर अपना मुँह दबा लिया. यहाँ फ़ोटो में एक छोटी सी लुल्ली जैसा दिख रखा है और जरा सा नीचे एक छेद है, जिसे हम वेजिना कहते हैं.

फिर मैंने भाभी जी का ब्लाउज और पेटीकोट भी खोल दिया, अब वो मेरी सामने ब्रा और पेंटी में थीं. फिर मैं अपनी रफ्तार बढ़ाता रहा, अब आंटी की फुद्दी पूरी तरह से खुल और खिल चुकी थी. मेरी पिछली कहानीहमउम्र भांजी से प्यार और चूत चुदाईअन्तर्वासना पर प्रकाशित हुई थी.

इस धक्के में मेरा आधे से ज्यादा लंड दीदी की गांड की गहराइयों में उतर गया. उसने कहा- मत चाहो… बस आज मेरी प्यास बुझा दो, इसके बाद तुम खुद मेरे पास आओगे. वो पागलों की तरह मेरे बालों को पकड़ कर खींचने लगी और बोलने लगी- साले लंड डाल दे अन्दर.

बीएफ सेक्सी वीडियो भाभी लेकिन यह भी सच है कित्रिया चरित्रम् पुरुषस्य भाग्यम्, देवो न जानति कुतो मनुष्यम्”देखते हैं कि जिंदगी आगे क्या-क्या रंग दिखाती है?अगर आगे ऐसा कुछ हुआ तो आप सब से अपने अनुभव जरूर बाँटूगा. क्योंकि जब भी करने की सोचता तो अपनी इज्जत का ख्याल दिमाग में आ जाता था.

गुजराती खुला सेक्सी वीडियो

फिर जब मैंने उनसे जोर देकर और अपनापन दिखाते हुए कुछ बताने पर जोर दिया. वाह… क्या नशीला अहसास था वो… जैसे ही मैंने अपने जीभ को उसकी चुत के अन्दर बाहर करना शुरू किया, वो और ज्यादा सिसकारियां भरने लगी. ”जैसे ही रोशनी झुकी, उसके गोल गोल पुठ्ठे देख कर मेरे लंड में तूफान आ गया, मन किया कि लंड निकाल कर दोनों पुट्ठों को चीर डालूँ, पर मैंने कण्ट्रोल किया फिर धीरे से उसके पुट्ठों को पकड़ कर फैलाया.

रात में तकरीबन 11 बजे मेम ने कॉल किया और पूछा- ले आए?मैंने कहा- हां मेम. उसकी देख कर मेरा लंड फनफनाने लगा, मैं भी उसकी गांड मारने को तैयार हो गया था. कॉलेज वाली सेक्सी वीडियोदोस्तो, यह थी मेरी‌ देसी टीनएज गर्ल की चुदाई कहानी, आप लोगों को पसन्द आई या नहीं, मेल करके बताना न भूलें.

तो मैंने अपनी पैंट उतार दी और अपने लंड को बाहर निकाल कर उससे कहा- तुम इसे हिलाओ.

चुदाई के बाद मैंने लौड़ा उसकी चूत में ही पड़ा रहने दिया और उसे चूमने लगा. वो काफी हॉट कपड़े पहन के जाती और उस जैसी पटाका आइटम को देख मर्द आहें भरा करते.

मैं जब अन्दर गई तो पहले तो वो एकटक मुझे देखता रहा और बोला- आपको यह सब करते हुए शरम नहीं आती?मैं कुछ कहने लायक नहीं थी, इसलिए चुप रही. दीदी ने मेरे लंड को पैंट के ऊपर से ही पकड़ लिया और बोलीं- अगर ऐसा है तो खुद ही मेरी इस चुत में से बैंगन निकाल कर अपना लंड डाल दो. अगले दिन फ़ोन लगाया तो उसने रिसीव नहीं किया और अगले कुछ दिन नम्बर बंद बताता रहा और फिर और कुछ दिन बाद उसका नम्बर गलत बताने लगा.

मैंने उनकी साड़ी निकाल दी, वो मेरे सामने पेटीकोट और ब्लाउज में रह गई थीं.

अच्छा… और अंश अब तुमको क्या स्पेशल बोलना पड़ेगा?”उसने भी हाथ से मुझे टच किया और बताने लगा- मुझे तो आपकी सुराही जैसी गर्दन पसंद आई… यहाँ से होते हुए यहाँ से होते हुए ये यहां तक…अरे तुम तो मेरी क्लीवेज पर टच कर रहे हो. उसे बहुत मज़ा आ रहा था और नीचे मेरा बुरा हाल हो रहा था, उसका लंड फँस फँस कर अन्दर बाहर हो रहा था।मैं- ओह माय गॉड. अंजलि कहने लगी- और जोर से धक्का लगाओ, मेरा निकलने वाला है!कुछ ही देर में अंजलि झड़ गयी लेकिन अभी मेरा नहीं निकला था तो मैं जोर जोर से धक्के मारता रहा.

इंडिया सेक्स सेक्स वीडियोमेरी सारी निजी बातें उनको पता थीं और मुझे उनकी सारी बातें मालूम थीं. उसे अपने साथ एक अच्छे से होटल में ले जाकर चाय के बहाने उससे उसकी फैमिली की डिटेल्स लेने लगी.

हिंदी सुहागरात वाली वीडियो

इसके बाद मैं कितनी ही बार उसका नम्बर लगाया लेकिन उसने कॉल रिसीव नहीं किया. एक दिन मैंने माँ का हैंडबैग चैक किया तो उसमें कुछ कंडोम के पैकेट मिले. क्या आप आज मुझे यह अधिकार देंगें?”बाप रे! … तो ये सब चल रहा था प्रिया के दिमाग में! अब मैं समझा सारी बात.

हम दोनों थोड़ी देर ऐसे ही पड़े रहे और एक दूसरे के शरीर पर हाथ फेर कर एंजाय करते रहे. चूंकि उस वक्त घर में कोई नहीं था मुझे लगा कि मौका अच्छा है, मैं उसकी गांड मारने की सोचने लगा. आप मेरे जीवन के प्रथम-पुरुष हैं, मैं मन ही मन आप को पूजती हूँ और मेरे दिल में हमेशा आप की एक ऊंची और ख़ास जगह है और हमेशा रहेगी। इस के साथ ही यह भी सच है कि आप का और मेरा साथ किसी भी सूरत संभव नहीं.

साली की युवा बेटी संग यौनानन्द की रोमांटिक कहानी के पिछले भागस्त्री-मन… एक पहेली-2में आपने पढ़ा कि प्रिया मेरे घर में मेरे साथ अकेली है, रात हो चुकी है, वो एक बेडरूम में गयी और उसने अंदर से दरवाजा बंद कर लिया. अगर मयूर के पक्ष में वो ब्यान देते तो मीडिया वाले कहते कि बॉस और चेले दोनों ने मिलकर मोटी रिश्वत ली होगी और गरीब लोगों के हक के मकान अमीरों को बांट दिए. अब उसने कहा- मैं आपके हवाले हूँ, आपको जो भी मेरे लंड से करना है, आप करिए.

पारुल ने कहा- ठीक है, मैं दे दूंगी!मैंने गाड़ी पार्किंग में लगाई और अपना सामान मतलब विह्स्की की बोतल ली और रूम में आ गए. मुझे पता था कि मॉम नीचे कुछ नहीं पहनती हैं, तो मैंने मॉम की मैक्सी धीरे धीरे ऊपर करना शुरू की और उनकी गांड से ऊपर तक उठा दी.

मेरी चोदन कहानी के पिछले भागविलेज के मुखिया का बेटा और शहरी छोरी-2में आपने पढ़ा कि मैं अपनी सहेली के साथ उसके गाँव गयी थी.

नमस्ते दोस्तो, कैसे है आप सब… मेरा नाम समीर है, मैं 25 साल का हूँ और काफी गोरा व दिखने में स्मार्ट और हैंडसम हूँ. कनाडा सेक्सी वीडियोचाची मेरे लंड को बड़ी लालसा वासना से निहार कर बोलीं- सच में अब तुम बच्चे नहीं रहे… जवान हो गए हो. वॉलपेपर गुलाब फोटोआज मैं अपनी गर्लफ्रेंड के साथ पहली बार सेक्स की सच्ची कहानी आपके सामने ला रहा हूँ. जब वो तुम्हारी चुदाई करेगा, मैं रेकॉर्डिंग करती जाऊंगी और जब मेरी चुत चुदाई करे, तो तुम उसकी भी वीडियो बना लेना.

मैंने आंटी की टांगों को कंधे पर रख लिया और लंड को चुत पर टिका कर एक झटका मारा.

अब उसने अपना एक हाथ मेरे एक चुचे पर रखते हुए मेरे कान में पूछा- क्या मैं तेरे मम्मों को दबा सकता हूँ?मैंने कहा- ज़रा ध्यान से. लौटते समय मैंने कहा कि मैं हवा खाते हुए जाना चाहूँगी, सो मैं भाईसाहब की स्कूटी के पीछे बैठ गई. मैंने और फिर जोश में आकर उसके कानों के पतले भाग को धीरे धीरे चूमना शुरू किया और साथ ही में मैंने अपने हाथों को उसके गले और मम्मों पर धीरे धीरे चलाना शुरू कर दिया.

जिससे मेरा हाथ सीधा उसकी हिंदी चुत पर चला गया। चूत बिल्कुल चिकनी थी. कुछ देर बाद चाची ने मुझे उठाया और चाय देकर बोलीं- मैं मार्किट से तुम्हारी दवाई ले आई हूँ. तो मैंने उसे पुणे के बारे में और यहाँ के इंटरव्यू के बारे में सब बता दिया.

xxx मराठी भाभी

मॉम ने पैर टेबल पर रख कर अपने मुँह से थोड़ा सा थूक निकाल कर अपनी चुत पे लगाया. कल मार लेना लेकिन तू पीछे से भी लंड डाल कर मेरी चुत चोदेगा तो गांड का भी मजा मिल जाएगा और तेरा लंड भी चुत में आराम से चला जाएगा. उसका संभालना मुश्किल हो गया था और वो मुझे बार बार कह रही थी कि नवीन जो करना है, प्लीज़ जल्दी करो वरना कोई आ जाएगा.

वहाँ पहले रीमा ने पानी दाल दाल कर अपनी गांड धोई, फिर मैंने उस कॉलेज गर्ल की गांड में उंगली डाल कर उसकी गांड अच्छे से साफ़ की.

वो मुझको देख कर बोली- क्या ढूंढ रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं!वो बोली- बोलते क्यों नहीं?मैं फट पड़ा- जो तुम सब कर रही हो न… अच्छा नहीं है!वो बोली- क्या कर रही हूँ?मैंने कहा- सब जानता हूँ!वो बोली- क्या जानते हो?हमारी बहुत देर तक लड़ाई झगड़ा होता रहा, कुछ दिनों कामिनी टाइम पर घर आने लगी और वो उस गाड़ी में भी नहीं बैठती थी.

वो लगभग नौ बजे रात में घर पहुंची और बोली- आज बहुत देर हो गई… सॉरी राहुल, चलो बाहर ही खाना खा लेते हैं, मैं बहुत थकी हूँ. जब उसका लंड कुछ देर तक खड़ा नहीं हुआ तो मैंने दोबारा से उसके लंड को मुँह से चूसना शुरू कर दिया. पैरों को पतला कैसे करेंमयूर ने बिना ज्यादा जांच किए ही सब कागज पर साइन कर दिए, फिर कानूनगो साहब से भी साइन करवा लिया.

अब तक आपने पढ़ा था कुसुम मुझे अपने ग्राहक के सामने बैठा कर लाइव चुदाई की फिल्म दिखा रही थी. मैं तो चाहता ही था कि चिंटू मेरे मम्मों को सिर्फ़ टच ना करे, बल्कि उन्हें दबाए और चूसे. हनुमन्त भाई साहब अकेले हो गए थे, मैं रंग लेकर उनको लगाने बढ़ी, तो उन्होंने रंग के डर से अपनी आँखें बंद कर लीं.

कुछ समय के बाद अचानक बारिश होने लगी जिससे बचने के लिये वह अपनी जगह से उठा और जाने लगा. मैं उसकी चूचियों को अपनी मुट्ठी में लेकर उसके ऊपर किसी कुत्ते सा चढ़ा हुआ था.

ऐसे ही बात करते करते हम 20 मिनट बाद एक साथ झड़ गए और एक दूसरे से चिपक कर नंगे ही सो गए.

मैंने कहा- यार पंकज, मुझे आए हुए तीन दिन हो गए, पर कहीं घूमने नहीं गया घर पर अब बहुत बोरियत हो रही है. उसके कहे अनुसार मैं अपनी चुत में उसका लौड़ा लेकर बैठ गई और धीरे धीरे झटके मारने लगी. रुचिका चौधरी चली गई, लेकिन वो अभी भी मुझसे अपने परिवार वालों से छिप कर फोन करती है, व्हाट्सऐप पर मैसेज करती है.

भारतीय हिंदी सेक्सी वो अब मजे ले रही थीं और आंटी के मुँह से चुदास की मस्ती में आवाजें निकल रही थीं- आह चोद मुझे और जोर से चोद. दिल कर रहा था यहीं पकड़ लूँ लेकिन उसके हज्बेंड की वजह से फट भी बहुत रही थी.

फिर मैंने भाभी की गांड में एक उंगली घुमाई, इससे उनकी दर्द भरी आह निकल गई. मुझे पता नहीं क्या हो रहा है… बस जी कर रहा है कि तुम मुझे दबोच के मेरा मलीदा बना दो…फिर उसकी आवाज़ और ऊँची हो गयी- राजे… तोड़ दो… पीस डालो… मैं दुखी आ गई इस बेईमान बदन से… हाय… हाय…. तो अब उससे भी नहीं रहा जा रहा था, उसने मुझे ऊपर की तरह खींच लिया था और मैंने अपना खड़ा हुआ लंड उसकी चूत के ऊपर 5-10 मिनट तक रगड़ा.

एक्स एक्स एक्स हिंदी भोजपुरी वीडियो

आपका लव[emailprotected]कहानी का दूसरा भाग:सरकारी अस्पताल में मिला देसी लंड-2. मुझसे और रहा नहीं गया, मैं गांड पर टूट पड़ा उनकी गांड में मुँह घुसा दिया. मैं तो बस उन तीन जवान मर्दों की लगायी लंड की प्यास को बुझाने के लिये किसी जवान चोदू लंड को खोज रहा था और अब मेरे पास इतना समय नहीं था कि एक नये मर्द की तलाश करूँ…मैं बिना कुछ बोले वहाँ से खड़ा हुआ और थोड़ी दूर पर लगी कुर्सी पर जाकर आराम की मुद्रा में बैठ गया, अब मेरा ध्यान उस पर नहीं था.

उसकी शादी के बाद भी मैं कैप्सूल खाकर पहले की ही तरह उसे हर प्रकार से चोद दिया करता हूँ. मैंने उसको बेड पर लिटाया, वो बोली- राजेश, प्लीज़ मैं बहुत प्यासी हूँ, इनको अपने बिजनेस से फ़ुर्सत नहीं है और मैं यहाँ तन्हाई में मरी जा रही हूँ.

फिर रेहाना पायल से बोली- पायल दीदी, क्या मुझे वीशु जी का लंड मिल सकता है?मैं समझ गया कि इसकी जवानी को मेरे लंड की, चुत चुदाई की जरूरत है, मैंने रेहाना से कहा- अगर मैं तुम्हें कल सुबह 8 बजे चोदू तो कैसा रहेगा? वैसे मैं तुम्हें अभी चोद सकता हूँ लेकिन अभी तुम्हारी चूत की सील नहीं टूटी है इसलिये हो सकता है कि तुम्हें दर्द बहुत ज्यादा होगा.

सुहानी अब नहाने जाने लगी तो पूजा ने पूछा- मैं चलूँ?सुहानी ने कहा- तू रुक जा, अमित का टाइम पास कर… जब जरूरत होगी तो बोल दूंगी. पर इन्होंने ही बातों में लगा लिया।वो मुस्कराने लगी।मुझे ऐसा लग रहा था. मैंने अंदर जाकर पूछा- आप सोई नहीं अभी तक?तो बोली- तुम्हारा वेट कर रही थी!मैंने कहा- अच्छा जी, तो क्या हुक्म है मेरे आका? आपका गुलाम हाजिर है!तो वो हँसने लगी और बोली- बियर पी ली तुम लोगों ने?मैंने कहा- नहीं पी, अरुण कह रहा था कि कोई पूजा होनी है.

पहले मैं पोर्न देख देख कर लंड हिलाया करता था और अब उसके बारे में सोच कर हिला लेता था. बुआ बोलीं- मुझे पता था कि तेरे पास उतना बड़ा औजार ही है, जितना मैंने सोचा था. मेरी नज़र एकदम उनके चुचों पर पड़ी, मैं तो देखता ही रह गया और मेरा लंड भी खड़ा होने लगा.

ये असली चुदाई का मेरा पहला मौका था तो मैं देखना चाहता था कि एक पूरी तरह से तैयार लड़की या औरत की चूत कैसी लगती है.

बीएफ सेक्सी वीडियो भाभी: मैंने जी भरके उसकी चूचियों के निप्पलों को चूसा था, फिर भी दूध मेरे नसीब में नहीं था. जब भाभी चलती हैं, तो मैं चोर नजरों से उनकी गांड को देखता रहता और सबकी नजरें बचा कर अपने लंड को सहला लेता.

भगवान् जाने! बस में अब एक्सट्रा स्लीपर उपलब्ध था भी या नहीं!सुधा ने बहुत सकुचाते हुए चाचाजी को फ़ोन लगाया गया और मसला बयान किया. उस वक्त मेरे मम्मी पापा को किसी काम से गाँव जाना पड़ा, इसलिए आंटी ने मेरे मम्मी पापा ना आएं, तब तक उनके यहां खाना खाने को कहा. भाभी मेरी तरफ अजीब सी नजर से देखने लगी और बोली- तुम तो बड़े खिलाड़ी निकले?मैंने कहा- यह किसी को नहीं पता कि मैंने ये कहानी लिखी है.

काव्या जागी तो खुद को नंगी देख कर वो एकदम से थोड़ा शर्मा सी गयी लेकिन मैंने उसे अपनी बांहों में जकड़ लिया और चूमना चाटना शुरू कर दिया.

देखो कैसे गन्दी बात कर रही है!यह कह कर भैया ने भाभी की चूची पर हाथ फेर दिया. इसलिए आंटी को लंड को मुँह में लेना जम नहीं रहा था, पर थोड़ी देर बाद वो मेरे लंड को लॉलीपॉप के जैसे चूसने और चाटने लगीं. सोचते सोचते बहुत गर्म हो जाती, मेरी पैंटी भीग जाती गीली हो जाती थी।यह कोई मेरी कहानी नहीं है, एक एक शब्द एक एक बात पूरी सच लिख रही हूं, यह मेरे जीवन की सच्चाई है, इसे झूठ कोई मत मानिएगा।मैं अपनी मम्मी की कसम खाती हूं और गॉड कसम… सब कुछ बिल्कुल एक-एक शब्द सच लिखा है।यह बात सच है कि मुझे खुद भी बहुत ही ज्यादा मजा आया, यह कैसा सुख और इंज्वाय है मैं इसे नहीं जानती थी। पर बहुत ही बेस्ट अनुभव रहा है.