बीएफ सेक्सी हिंदी नई

छवि स्रोत,ब्लू पिक्चर हिंदी वीडियो में

तस्वीर का शीर्षक ,

और बेटी की बीएफ: बीएफ सेक्सी हिंदी नई, चुदाई का खेल खत्म होने के बाद मैंने भाभी से कहा- भाभी, मैं जब चाहूंगा, तब आपको चोद लूँगा और आपकी चूचियों को भी खूब मसलूंगा.

मुसलमान एक्स एक्स

बात पक्की करने के बाद मैं वहाँ से आ गया और अपनी पढ़ाई पे ध्यान देने लगा।पर बार बार उस लड़की की याद आती रहती. ब्लू फिल्म का वीडियो सेक्सीउसकी चूची चुसाई से मेरे मुँह से कामुक आवाजें निकलने लगी- आंआह … उन्हह … उई … इस्स … धीरे … आह मैं मर गयी.

उसी टाइम मेरी मुलाक़ात फेसबुक पर एक आदमी से हुई जो काफी लम्बा चौड़ा हैंडसम जवान था. ब्लू फिल्म लंड चूतमैंने कहा- यार सॉफ्टवेयर वाली सीडी मेरे पास नहीं है … तू बाजार से ला दे, तो मैं इनस्टॉल कर दूंगा.

तब से पहले कभी मैंने ऐसा नहीं करवाया था।और जहां तक मेरा ख्याल था … न ही सुशी ने कोई लंड चूसा होगा.बीएफ सेक्सी हिंदी नई: कुछ ही मिनट बाद हम दोनों झड़ने लगे और हम दोनों का पानी एक साथ ही निकल गया.

खास तौर पर वे, जो पारंपरिक रूप से संभोग करती हैं और जिनके पुरुष साथी केवल अपनी जरूरत पूरी करने में विश्वास रखते हैं.अब मुझसे रहा न गया और मैंने अपने हाथ से उसके हाथ को अपने लंड पर दबा दिया.

પાકિસ્તાની સેક્સ વીડિયો - बीएफ सेक्सी हिंदी नई

थोड़ी देर बाद में फिर से ऊपर आया और उसके गुलाबी होंठों पर किस करते हुए पीछे हाथ डाल कर उसकी ब्रा के हुक को खोल दिया.मैंने उसको जोर से अपनी बांहों में कस लिया और पूरा लंड जड़ तक उसकी चूत में घुसा दिया और मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी उसकी चूत में गिरने लगी.

दिन भर घर में पेंटर होते थे, तो दोपहर को आराम करने ले लिए मैं सुनील के घर चली जाती. बीएफ सेक्सी हिंदी नई आंटी ने मेरे से बोला- अरे मैं भी आपके पास ही रहती हूं … आपके बगल में जो कॉलोनी है, उसी में.

भाभी के दोनों बच्चे स्कूल से आने के बाद हमारे ही घर में रहने आ जाते थे.

बीएफ सेक्सी हिंदी नई?

उसके जिद्द करने से मैंने भी हां बोल दिया और सुरेश उठकर मेरी टांगें फैला कर मेरी योनि पर हाथ फेरने लगा और बोला. मगर मामी को देख कर मैंने जल्दी से अंडरवियर पहन लिया और तौलिया लपेट लिया. करीब दस मिनट बाद मैंने उसको धीरे से उसके कान में बोला कि तुम ढक्कन उतार दो रानी … अब खेल शुरू करते हैं.

अगले दिन हम सुबह के वक्त ही निकल गये थे क्योंकि हमें काफी दूर जाना था. मौके की नजाकत को समझते हुए मैंने चूत की गहराइयों में लंड को उतारने का फ़ैसला कर लिया. पहले तो दोनों ने ऐसा दिखाया, जैसे सोने से पहले कोई काम था, वो कर लिया हो.

तब भैया ने कहा कि इतनी गर्मी में दोपहर से अच्छा शाम को निकलना ठीक रहेगा. मैंने जल्दी से पैकेट खोला, उसमें क्रॉस ड्रेसर का सामान था, एक लाल रंग का पटियाला सलवार सूट था. मैंने अपना साढ़े सात इंच का लंड मॉम की चूत की फांकों में रख कर धक्का लगा दिया और एक ही बार में अपना पूरा लंड चूत में घुसा दिया.

अगर छोड़ देता तो दोबारा नहीं देती, इसलिए जोर से झटका दे मारा, एक बार में ही पूरा लंड अन्दर घुस गया था. बोलती भी क्या?”मैंने अपना काम चालू रखा और माल गिराने के बाद बिना कुछ बोले बाहर चला गया।शाम को आया तो उसके और मेरे बीच सब नार्मल था … ऐसे ही दिन गुज़रते गए और मेरी वासना उसके लिए बढ़ती गयी।लेकिन उसको बोलने की हिम्मत कभी नहीं हुई क्योंकि परिवार का डर भी कुछ होता है.

कुछ देर बाद उसने अपना माल दीदी के चूचियों पर गिरा दिया और दो चार राउंड आगे से मार कर हट गया.

मैंने सोचने लगा कि मैंने गुस्से में जो बात भाभी से कह दी थी, वो गलत कह दी थी.

उसके 10 मिनट बाद हैडमास्टर साहब भी स्कूल से चले गए लेकिन मम्मी का दूर दूर तक पता नहीं लग रहा था. मैंने उसकी ब्रा को भी उतार दिया और उसके दोनों दूधों को अपने दोनों हाथों से दबाने लगा. वो मस्त हो गई थी और अपने आपको गालियां देने लगी और मुझे भी बकने लगी- चोद डाल मादरचोद.

उसकी बात से मैंने भी ठान लिया था कि जल्दी इसके मुँह की भी लंड से चुदाई करूंगा. अब मैं समझ चुका था कि लोहा गर्म हो गया है, हथौड़ा की जगह लौड़ा मार देने में ही कुशल मंगल है. दस मिनट बाद मेरा लंड उसकी बुर में फिर से हरकत करने लगा … तो वो भी अपनी कमर धीरे धीरे आगे पीछे करने लगी.

मैंने कमर को खूब चूमा और धीरे से उसकी कमर के गुन्दाज हिस्से को अपने दांतों से दबा कर हल्के से काट लिया.

फिर 5-7 मिनट बाद जब हम एक दूसरे से अलग हुए, तो सुरेश के चेहरे पर खुशी और संतुष्टि थी. दस्तूर भी शायद नशे में थी, उसने मेरे किस पर ज़्यादा ध्यान नहीं दिया … या शायद उसे मेरा किस करना पसंद आया था. मैंने उसने भी लंड ऊपर नीचे करने को कहा, तो वो लंड को अपने हाथ से ऊपर नीचे करने लगी.

इतनी हॉट लड़की को पास बैठा देखकर मेरा मन और लंड दोनों ही रोमान्टिक गाना गा-गा कर नाच रहे थे. हम दोनों ने कोई पांच मिनट में एक दूसरे के लंड चुत पर लगी लिक्विड चॉकलेट को पूरी तरह चाट लिया था. वो आपको चोदने के सपने देखता है और मैं भी चाहता हूं कि मेरे सामने आपको कोई चोदे.

तभी रीता ने मेरी कमीज खोल दी और मेरे सीने की घुंडियों को अपनी जीभ से चाटने लगी.

ठीक इसी के बाद उसने मुझ पर जोर देना शुरू कर दिया कि प्रीति के साथ उसकी मुलाकात करवाऊं. हम दोनों के लंड के करारे प्रहार से मोनिषा आंटी जोर से चीख उठीं- आह … मर गयी … उम्म्ह … अहह … हय … ओह …उनकी आंखों से आंसू निकल पड़े.

बीएफ सेक्सी हिंदी नई उसके ऐसा कहते ही मैंने मामी को अपनी बांहों में भर लिया और उसके होंठों को जोर से चूसने लगा. वो मेरी नाभि के पास कुछ पल रुका और मेरी नाभि में अपनी जुबान की नोक चलाने लगा.

बीएफ सेक्सी हिंदी नई मैंने अपना मोबाइल का कैमरा ओपन करके उसे दे दिया और फिर साइड से उसे कसकर एक हाथ से उसकी कमर को पकड़ कर सेक्सी सा पोज़ दिया. वो कभी कभी अपने लंड को मेरी चूत से बाहर निकाल कर हवा खिलाने लगता था, जिससे मेरी चूत को भी वक्त मिल जाता था.

मेरी मम्मी ने कहा कि मैं खुद विद्यालय में रहती हूं … और मुझे इसे पढ़ाने का समय नहीं मिलता है.

नंगी बीएफ डाउनलोड

मैंने थोड़ा सा सरक कर मैडम के करीब आते हुए अपना हाथ उनके मम्मों पर रख दिया. मेरे चूचों को जोर से अपने हाथों में दबाते हुए उनको मुंह में लेकर पीने लगे. इन सब घरेलू औरतों को एक खिलौना मिल गया था मंगल के रूप में!और जॉयश ने सही कहा था कि असली मजा पूरी तरह निर्वस्त्र होकर आ रहा था.

शायद महीनों बाद संभोग के सुख मिला … या अपना था, इसलिए उसके प्रति सोच बनी रही थी. ये सुनकर मॉम बोलीं- मतलब अब तुम मुझे पैसों के लिए चुदवाओगे?मैंने कहा- नहीं … किसी से कोई काम निकलवाना होगा, तो उससे चुदवाऊंगा. उनका 36-32-38 का फिगर और उनकी चौड़ी गांड देख कर लंड लपर लपर करने लगा.

मैं जैसे ही वहां से निकलने के लिए वापस घूमा, तो अन्दर से आवाज आई- रुकिए आती हूँ.

मैंने अपनी टांगों को उठा कर हवा में फैला दिया और उसे पूरी ताकत से पकड़ लिया. भाभी बोलीं- अरे यार अभी गर्लफ्रेंड नहीं बनाओगे … तो कब बनाओगे?मैंने कहा- भाभी, मुझे तो कोई लड़की भाव ही नहीं देती. किसी तरह इतना संघर्ष करने के बाद एक बार के धक्के में उसका सुपारा योनि में घुस गया, पर मेरी चीख निकल गयी- आआ ईईई!अपने होंठों को भींचती हुई मैं कसमसाने लगी.

मंगल ने उठकर एकता को एक गुड़िया के जैसे उठा लिया और अपने कंधे पर पटक कर बेडरूम की तरफ चला गया. मॉम ने भी मेरा हाथ अपनी चूची से नहीं हटाया, तो मैं समझ गया कि चुदाई का रास्ता क्लियर है. मैं बोला- मैं बहुत नसीब वाला हूँ कि आज इतनी खूबसूरत भाभी मेरी बांहों में है.

दोस्तो, मजा आ रहा है न? हॉट कहानी के अगले भाग में अपने रूम मेट की बहन मीरा की चुदाई की कहानी को पूरे विस्तार से लिखूँगा. वो चाहतीं तो खुद मुझसे कह सकती थी लेकिन फिर भी उन्होंने सर से कहलवाया.

कुछ देर तक उसने मेरी बहन के मुंह को चोदा और फिर उसकी टांगों को उठा कर उसको सोफे पर लिटा दिया. तभी मुझे एक आईडिया आया, मैंने ऊंघने का नाटक किया और तेल की कटोरी चाची के पेट पर गिरा दी. मैं उसे किस करने लगा, किस करते हुए मैंने एक जोरदार झटका मारा, तो मेरा लण्ड उसकी चूत को चीरता हुआ आधा अंदर चला गया.

मेरी काम वाली शाम को आती है इसलिए हमें उसके आने से पहले सेक्स करना था.

एक दो लड़कों को मैंने ओर भी मौका दिया, पर वो अकेले में मुझे मसलते, मेरे जिस्म के मजे लेते … पर मुझे एक दोस्त का सम्मान कभी नहीं देते. पूजा भी चाहती थी कि उसे कोई प्यार करे, सेक्स करे पर सम्मान के साथ करें आगे उसके अरमान पूरे हुए या नहीं हुए … ये मैं जल्द लिखूँगा. पहले तो वो थोड़ी शर्मायी और फिर धीरे से बोली कि मैं तुम्हारे हर काम पर ध्यान दे रही थी.

उसके बाद हम उसने मेरे ब्लाउज को उतार दिया और मेरे चूचों को दबाने लगा. फिर मैंने उसकी ओपन गाउन की चेन को खोलते हुए उसके मोटे मोटे बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही दबोच लिया.

मैं अपनी कुंवारी गर्लफ्रेंड की चुत की कहानी बता रहा हूँ कि कैसे मैंने उसे पटाकर गर्लफ्रेंड बनाया और लम्बे अरसे तक रोमांस के बाद मैं उसकी चूत की सील तोड़ पाया. मेरे दोस्त आयुष के बाजार जाने के बाद घर में सिर्फ मैं और उसकी गर्लफ्रेंड ज्योति दोनों अकेले ही रह गए थे. उस दिन मैंने कॉलेज की छुट्टी कर ली थी क्योंकि नितेश भी अपने मां और पापा के साथ गया हुआ था इसलिए मैं कॉलेज में बोर हो जाता.

सेक्स बीएफ गाना

सरस्वती ने बहुत देर तक बात कर हमें परेशान किया और बार बार वीडियो कॉल करने की जिद करने लगी.

थोड़ी देर के बार दस्तूर थोड़ी नॉर्मल हुई और नीचे से अपनी गांड उछाल उछाल कर मेरा पूरा लंड खाना चाह रही थी. ताले लगाने के बाद वह एक कमरे में चला गया और उसने अन्दर से दरवाज़ा बंद कर लिया. मेरे एग्जाम चल रहे थे और पापा और माँ को किसी रिश्तेदार की शादी में दूर जाना था.

मैं अपने वक़्त से जिम में पहुंचा, दस्तूर वहां पहले से पहुंची हुई थी. उसकी गर्म चूत में वीर्य गिराने में जो आनंद आया उसको मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता. गर्ल्स बफमेरा बेटा प्रकाश तैयार होकर कहीं जाने की फिराक में था तो मैंने उसे टोक दिया.

करीब पांच मिनट के बाद वो संयत हुई और मेरी तरफ देखते हुए मेरे लंड की गति को अपनी कमर हिलाते हुए मिलाने लगी. इस मामी सेक्स स्टोरी हिंदी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी चाची की भाभी यानि मेरी मामी को चोदा.

चाची काफी मस्ती भरे अंदाज से लंड के सुपारे को चाट रही थीं, लंड को गले तक ले रही थीं और साथ ही मेरे टट्टों को भी चूस चाट रही थीं. श्वेता को इस बात से कोई परहेज नहीं था कि मैं किसी और को क्यों चोदता हूँ. वैसे सच कहूँ तो झांट होने से अच्छा लगता है मुझे, मन में ये बात रहती है कि एक जवान औरत को चोद रहा हूँ.

मैम ने बेल बजायी, मैंने दरवाज़ा खोला और देखा कि कोई बुरके में औरत आई थी. मुझे वो भाभी शुरू से ही बहुत अच्छी लगती थीं, मैं हमेशा उनको घूरता रहता था और कुछ ना कुछ करके उनको छूने की कोशिश करता रहता था. मैं उनके मम्मों को चूसने लगा और चाची के एक दूध के निप्पल को अपने होंठों के बीच दबा कर कुछ मिनट तक चूसता रहा.

मैंने लंड को उसकी सांवली सी चिकनी चूत पर रखा और एक जोर का धक्का दे मारा.

पुलिस वालों की चुदाई, गुंडों की चुदाई, डांस बार में डांसर बनकर चुदाई. उन्होंने कहा- क्या हुआ?मैं कुछ नहीं बोला … लेकिन मेरे लंड ने सब कुछ बोल दिया था.

मुझे मालूम हुआ कि ये दोनों बुड्डे आदमी बहुत सी लड़कियों को चोद चुके थे. बताइए आप क्या चाहते हैं?आदमी- देखिए मैं चाहता हूँ कि आप मेरी बीवी के साथ भी सेक्स करें. लेकिन मैंने भी उसके हाथ को पकड़ लिया तो और फिर वो अपना हाथ छुड़ाने लगी और मैंने भी छुड़ाने पर उसका हाथ छोड़ दिया।हम दोनों एक दूसरे को ऐसे ही देखने लगे.

पापा काम से बाहर गये हुए थे और मां किसी रिश्तेदार के यहां पर गई हुई थी. यह मेरी पहली कहानी है अगर कोई गलती हो मुझसे … तो आप मुझे माफ़ कर देना, यह कहानी बिल्कुल सच्ची है. हम दोनों एक दूसरे से एकदम खुले हुए थे, एक दूसरे की किसी भी बात में दखल नहीं देते थे.

बीएफ सेक्सी हिंदी नई अब रोनिता को भी चुदवाने में मज़ा आ रहा था और वो मेरे हर धक्के का जवाब दे रही थी. उस चाहत को मैंने पूरा करने के लिए क्या किया?मेरा नाम सुधीर है और मैं उत्तर प्रदेश के पीलीभीत का रहने वाला हूं.

सेक्सी बीएफ नंगी सीन चोदने वाली

तब ये सुनकर मैंने भी सोचा कि एक बार तुम्हारी मॉम की गांड चोदने को मिल जाए. लंड चुसाई से उसे मजा आने लगा और उसके मुँह से ‘आहहहा आहह उउहहा …’ की कामुक सिसकारियां निकलने लगीं. मैंने कहा- नहीं … ये तो नेचुरल है कि किसी भी पुरुष का किसी महिला को नंगी देखकर अपने आप खड़ा हो जाता है.

मैंने सोचा कि भाभी को अपनी रंडी बनाना ही पड़ेगा … नहीं तो वो मुझे जो चाहिए, वो मुझे नहीं मिल पाएगा. मैंने कहा- आह्ह … शाबाश मेरे बच्चे … ऐसी चुदाई करना कहां से सीख कर आया है तू?वो बोला- इसमें सीखने वाली कौन सी बात है मां. चोदा चोदी सेक्स फिल्मउधर प्रीति मुझे देख रही थी, वो अंग्रेजन टॉवल बांध कर बाथरूम चली गई.

फिर उसके बाल कस के पकड़े और एक दो तीन नहीं ना जाने कितने थप्पड़ उसकी नंगी गांड पर लगाए.

उस दिन मैंने उसे साफ साफ कह दिया था कि इस बारे में दोबारा न चर्चा करे और मैंने फ़ोन रख दिया. धीरे धीरे वह नीचे बैठ गया, उसकी गर्म सांसें कपड़ों के ऊपर से मेरी चूत पर महसूस हो रहे थे.

भाभी भी मेरा पूरा माल पी गयी और मेरे लंड को चाट चाट कर पूरा साफ कर दिया. काफी देर तक उसके लंड को चूसने के बाद दीदी ने उसके लंड को निकाला तो उसका लंड दीदी की लार से एकदम चिकना होकर चमकने लगा था. उस टाइम तक उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी और पच पच की आवाज़ भी आने लगी थी.

उसके बाद हम हर सेकंड सैटरडे को मेरे रूम पर मिलते और ज़ी भरके चुदाई के मज़े करते.

पर थोड़े दिन बाद जब कोई दोस्त मक्खन लगाता है, घुमाने ले जाता है … बार बार मनाता है कि यार पांच मिनट की तो बात है … पुरानी दोस्ती का तो ख्याल करो … अच्छा पहले मेरी मार लो. दो मिनट बाद मैंने लंड की स्पीड बढ़ा दी और गांड की तेज़ तेज़ चुदाई करने लगा. फिर मैंने उसके एक निप्पल को मुँह में लेकर धीरे से उसे काट लिया, वो एकदम से उछल पड़ी और मुझे अपने सीने से कसके चिपका लिया.

पोर्न इंडियन वीडियोमैं उसके सुपारे को मुँह से घर्षण प्रदान करने लगी और बीच बीच में जुबान से चाट चाट कर थूक से लिंग सुपारे से लेकर जड़ तक गीला करने लगी. मैं भी यही चाह रहा था … क्योंकि कल रात वीडियो देखने के बाद मुझे बहुत कुछ समझ में आने लगा था.

xxx.com सेक्स बीएफ

मैंने पूछा- क्या हुआ जानू … अब कैसी शर्म? अब तो सब कुछ मेरा है ना!उसने हंस कर हाथ हटा दिया. मैंने उंगली को निकाल लिया … लेकिन पैंटी के ऊपर से ही उसकी बुर की फांकों को सहलाने लगा. अगले ही दिन चौकीदार शाम को घर आया और मुझसे बोला- तुम्हारी मम्मी से कुछ काम है.

उसने जो लंबे लंबे और जोरदार धक्के मुझे मारे कि बिस्तर तक हिला जा रहा था. हमने रोज की तरह पहले पढ़ाई की, फिर वंदना ने कहा- अब जो तुमने प्रैक्टिस की है, वो मुझ पर ट्राय करो. उसने कई बार मेरे लंड को देखा और मैं उसके चूचों पर नजर गड़ाये हुए था.

हम बच्चों को भी हमेशा पिता की कमी खलती थी, जो लाला ने पूरी कर दी थी. मुझे काफी भूख भी लग रही थी, क्योंकि मैं बिना कुछ खाए पिए कोलकाता से दिल्ली के लिए चला था. फिर मैंने कोशिश की कि लाला की बेटी, जो अब जवान हो चुकी है, उसे पटा लूँ.

दस्तूर स्माइल करने लगी- अरे नहीं नहीं ऐसा कुछ नहीं है … बस जिम में अभी तक मेरा कोई दोस्त बना ही नहीं है. क्योंकि महिलाएं भी थकती हैं और यदि पुरुष झड़ने की अवस्था में हो और जरा भी कमी हुई, तो पुरुष झड़ तो जाएंगे … पर जो लय और तीव्रता उन्हें चाहिए होती है, वो नहीं मिल पाता.

वंदना मैम ने मुझे नहीं जगाया, लेकिन वो मेरे लंड के साथ खेल रही थीं, इसीलिए मेरी आंखें खुल गईं.

जब उसके दूधिये रंग के स्तन ऊपर से मैंने देखे जो कि 38D साइज़ के थे और हिल हिल कर अपने होने की उपस्थिति दर्ज करा रहे थे तभी मेरी पैंट के अंदर मेरे लंड में हलचल होना शुरू गई थी. भाभी के एक्स वीडियोउसके कामुक आवाजों में सिसकारने से यह तय हो चुका था कि वो अब पूरी तरह से गर्म हो गया है. ਸੈਕਸੀ ਵੀਡੀਓ ਅੰਗਰੇਜੀकोई दस मिनट तक गांड मारने के बाद उसने अपने लंड का पानी दीदी की गांड में ही छोड़ दिया. उसने अपनी गांड के नीचे तकिया लगा लिया, इससे उसकी चुत और ऊपर उठ कर आ गयी.

ये तो मर्द और पुरुष की अलग अलग विशेषता होती है, इसलिए मुझे सुरेश से कोई शिकायत नहीं थी.

मैंने उसे अपनी तरफ घुमाया और आंखों में देखकर बोला- मेरी प्यारी छोटी बहन की कम से कम हम एक दूसरे को ऊपर से तो मज़े दे सकते है न. विभोर के घर के लोग मुझे बहुत पसंद करते है और विभोर की मम्मी, जिनको मैं मामी बोलती हूँ, वो तो मुझसे बहुत खुलकर बात करती हैं. हम सब लोगों के नाश्ता करने के बाद मुझे पता चला कि घर मम्मी और बुआ बाजार जा रही हैं, तो मैं न जाने क्यों आज कुछ ज्यादा ही खुश हो गई थी.

अब मिहिर ने भी दो धक्कों के बाद अपना नियंत्रण खो दिया और मेरी बीवी की योनि में ही वीर्यपात करते हुए शांत होता चला गया. उस वक्त मैं उठा और अपने लंड को हाथ से पकड़े हुए जल्दी से बाथरूम की ओर भागा, क्योंकि मुझे जोर से आई थी. मैंने तो अब तक कईयों बार अनजान व्यक्तियों के साथ संभोग किया था, सो अब मैंने सोचा कि सुरेश का साथ देना ही उचित होगा.

एक्स एक्स बीएफ पाकिस्तानी

आप मुझे मेल कर सकते हैं … पर प्लीज़ संयमित भाषा में! मुझे उम्मीद है मेरी सेक्स कहानी पर आपके विचार मुझे जरूर मिलेंगे. कुछ देर लंड अन्दर ही रहा, फिर उन्होंने ऊपर नीचे करना जैसे ही शुरू किया, मुझे लगा कि मैं झड़ रहा हूँ. रूम पसंद आने के बाद मैंने आंटी से पूछा- आंटी, मैं कब से शिफ्ट हो सकता हूं?आंटी बोली- जब तुम चाहो।मैंने कहा- आंटी, मैं आज ही सामान रख लेता हूं.

मैंने पहले नीचे का पेटीकोट भी निकाला और भाभी को ब्रा पेंटी में ला दिया.

मगर मैं भी जानता था कि दीदी कॉलेज में पढ़ाई का नहीं बल्कि चुदाई का प्रोजेक्ट पूरा कर रही थी.

एकता ने लिखा कि उसका मन है कि वह बारिश में खुले में निर्वस्त्र झूम झूम कर नहाए और फिर कहीं से कोई अजनबी आ जाए और उसके साथ बारिश में भीगते हुए संभोग करे. मैंने कहा- भाभी आप तो बिल्कुल हीरोइन लग रही हो इन कपड़ों में।भाभी बोली- हां, मम्मी पापा घर पर नहीं है तो इसलिए पहन लिया मैंने. पोर्न विडयोजमेरा खड़ा लंड उसकी जांघ में छेद करने वाला था और उसकी जांघ में रगड़ रहा था.

वह गांड हिलाना तो चाहता था पर हिला नहीं पा रहा था, बार बार टाईट कर रहा था. उसके परिवार में उसके अम्मी अब्बू और उसकी 21 साल की बहन ज़रीना रहती थी. मैंने बिना कंडोम के ही दुबारा से अपना लंड उसकी चुत में डाल दिया और धक्के लगाना चालू कर दिए.

उसने मेरे कपड़ों को हाथ लगाया, तो मैंने उससे कहा- मैं उतार देती हूँ … मेरे पास यही ड्रेस है … तुम्हारी जल्दीबाजी में कहीं फट न जाए. बुआ कुछ देर बाद लड़खड़ाते हुए उठीं और मेरा सहारा लेते हुए अपने कमरे में जाकर लेट गईं.

कार सेक्स कहानी पर अपनी राय देने के लिए नीचे दी गई मेल आईडी का प्रयोग करें.

अब आगे:खैर, मैं नहाने गया और आकर ऊपर एक बनियान और नीचे लोअर पयजामा पहन लिया … क्योंकि नवंबर में भी वहां गर्मी ही थी और मौसम प्यार का … मैंने नहाते हुए सोच लिया था अभी नहीं तो कभी नहीं. मैंने जल्दी से उसमें से कुछ फोटो और मैसेज अपने फोन में फॉरवर्ड कर दिए. मैडम ने पूछा- क्यों नहीं है?मैंने मुस्कुराते हुए कह दिया- अभी तक मुझे आप जैसी कोई मिली ही नहीं.

देसी सेक्सी एचडी मैंने सोचा कि इसकी इतनी मस्त चूचियां और ब्रा भी नहीं पहने है, सच में इसके घर वाले बहुत सीधे हैं. एक पक्के चोदू की तरह उसके चुचे दबाते हुए मैंने फच फच फच की आवाज के साथ खतरनाक मोर्चा संभाल लिया.

फिर बारी बारी से एक दूसरे को उत्तेजित करेंगे, तो समय और अधिक लगेगा. मैंने कभी ये सोचा भी नहीं था, मैं उसके साथ सम्भोग की बात सोचने तो लगी थी मगर ये सब इस तरह से होगा, ये मैंने नहीं सोचा था. हम दोनों भी सामने वाले सोफे पर बैठ गये और आंटी अंदर किचन की तरफ चली गई.

देहाती बीएफ वीडियो में देहाती बीएफ

उसका एक 4 साल का बेटा है। वो देखने मे ज्यादा सुन्दर नहीं थी लेकिन अच्छी है। रंग सांवला है, कद 5 फ़ीट 4 इंच हैं, चुचे का साइज 30″ और गांड का 32″ है।शिवानी और मेरी दीदी दोनों अकेले रहने के कारण अच्छी सहेलियां बन चुकी हैं. मैं अपने आपको रोकने की बहुत कोशिश कर रहा था, पर मुझसे कंट्रोल ही नहीं हो रहा था. दूसरे दिन भी में शूट पर गया और शूट खत्म होने के बाद हम दोनों बातें करने लगे.

कुछ ही देर में मेरा फोन बजा और उसने मुझे अपनी कार का बताया कि किधर खड़ी है. सात या आठ मिनट तक चाची और मामी आपस में एक दूसरे से बातें करती रहीं.

दीदी न्यूज रिपोर्टर का काम करती हैं और बहुत खुले विचारों की लड़की हैं.

वो बोली- पापा को आने दो … मैं उन्हें बताऊंगी कि तुम मुझे अकेले में मिलने के लिए बुला रहे थे. उसकी गांड का छेद टाइट था, मेरा लंड उसकी गांड में पहले तो थोड़ा सा गया … फिर थूक लगा कर मैंने पूरा अन्दर पेल दिया. उसने मेरे मुँह में अपनी जीभ डाल कर मुझे प्यार किया और अपने साथ अपनी छाती पर लिटा लिया.

मैं फौजिया दीदी के रिकॉर्ड वीडियो को किसी को भी अपने मोबाइल से ट्रांसफर नहीं करने देता था. यह सब मैं आप लोगों को इसलिए बता रही हूं क्योंकि इसके बिना कहानी अधूरी रह जायेगी. जरा सोचिए कि जब आप अपने घर में ही अपनी शारिरिक इच्छाएं पूरी कर सकते हैं, तो फिर बाहर किसी गैर के साथ क्यों सम्बन्ध बनाना.

भाभी ने मेरे पूरे लंड को अपने गले तक उतार लिया और 10 मिनट तक चूस चूस कर आगे पीछे करती रहीं.

बीएफ सेक्सी हिंदी नई: ठीक है, बोल तुझे क्या चाहिए?मैंने बोला- ठीक है, मुझे जो चाहिए मैं सोचकर आपसे बाद में माँग लूंगा. उसने मुझसे अपनी झेंप मिटाने के नजरिये से कहा- अरे मैं टॉयलेट साफ करने गई थी, लेकिन मैं भूल गई थी कि तुम अन्दर हो.

12वीं पास करने के बाद मौसी ने मेरी माँ से बात करके खुशबू को हमारे यहां पढ़ने के लिए भेज दिया. अगर कोई और होता, तो मुझे कुत्तों की तरह मसलने लगता … और हो सकता था कि कहीं ले जाकर चोद देता. उसी दिन मैंने मोनिषा आंटी को चोदते हुए कहा कि मोनिषा आंटी संजय आपको बहुत चोदना चाहता है और बदले में मुझे 10000 रूपये भी देना चाहता है.

फिर मैम ने पीछे मुड़ कर अपने चूतड़ों को हाथों से हिलाकर कर कहा कि ये सब मिला कर बनता है माल, जिस लड़की के चुचे, कमर और गांड को देख कर चोदने का मन करे … तो समझ जाओ कि वो लड़की माल है.

चूंकि सोनू के अलावा उनकी कोई और औलाद नहीं थी तो आंटी को अंकल के साथ ही जाना था. मैंने बहुत सोचा, विचार किया और पूजा को भी समझाया कि मैं इस रिश्ते को किसी अंजाम तक नहीं पहुंचा पाऊंगा, तो हमारा यूँ घूमने जाना और पांच रात, पांच दिन साथ गुजारना गलत है. मन कर रहा था कि मैं भी अभी के अभी कमरे में घुस जाऊं और मामी की चूत को चाट लूं.