हिजड़ा का बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,बंगाली चोदा चोदी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

एचडी पिक्चर डाउनलोड: हिजड़ा का बीएफ सेक्सी, उन्होंने मुझे सीधा लिटा दिया और मेरे लंड पर अपने कोमल हाथों से तेल मल दिया.

wwwसेक्सी वीडियो

और कमला चाची भी हमारे घर को‌ अपना‌ मानकर कोई भी जरूरत पड़ने पर मेरी मम्मी-पापा से ही कहती है।मोनी के ससुराल के बारे में मुझे ज्यादा कुछ तो नहीं पता, बस इतना ही पता है कि मोनी की शादी पास के ही गाँव में हुई है. रानी रंगीली के गीतदीदी ने धीरे धीरे मेरे लंड पे हाथ घुमाना शुरू किया, पहली बार कोई लेडी मेरे लंड को छू रही थी तो मुझे तो एकदम स्वर्ग सा लग रहा था.

नम्रता से इतनी बात होते-होते कब दो घंटे बीत गए, मुझे पता ही नहीं चला. सेक्सी वीडियो गाने कीपहली बार में तो उसको कुछ पता नहीं चला लेकिन जब मैंने दूसरी और फिर तीसरी बार उसके हाथ को सहलाया तो उसकी नींद खुल गई.

उनके पास जाकर मैंने उनसे अपनी समस्या के बारे में बताया कि मुझे यहां पर इतनी दूर स्कूल में आने में समस्या हो रही है.हिजड़ा का बीएफ सेक्सी: अगले कुछ ही मिनटों के बाद हम बेड पर एक दूसरे के जिस्मों को चुदाई का मजा दे रहे थे.

ये बात सुन कर वो उठ कर आये और मेरी तरफ आते हुए अपने लंड को खुजलाने लगे.करीब 5-7 मिनट की मेहनत के बाद मौसी ने एकाएक मेरा हाथ अपनी चूत पर दबा कर पकड़ लिया और एक धीमी आह के साथ उनकी चूत बह गयी.

रवीना टंडन सेक्सी पिक्चर - हिजड़ा का बीएफ सेक्सी

उसने मेरे बाल पकड़े और खींच कर मेरा मुंह चूत से लगा दिया- ले भोसड़ी के … ज़ोर से अमृत छोड़ना है … पी कुत्ते पी …तुरंत ही धक्कों में ब्रेक लग गया.सुस्वादु अमृत !!!क्यों कुत्ते अच्छा है ना?” रानी ने धार रोक के पूछा.

लावा भरा पड़ा था … शायद इसी वजह से कुछ 17-18 झटकों में मेरी पूरी गांड भर गई. हिजड़ा का बीएफ सेक्सी अचानक मुझे कल उनको दी हुई पैंटी की याद आयी- अंकल वो मेरी कल दी हुई पैंटी कहां है?अंकल ने अपना हाथ गद्दे के नीचे डाला और मेरी पैंटी बाहर निकाली, पर मुझे देने की बजाय उन्होंने उसे अपने नाक के पास ले जाकर उसे सूंघने लगे.

इसके बाद विनीता और मैं कई बार मिले, बस जगह का इंतजाम होने में दिक्कत होती थी.

हिजड़ा का बीएफ सेक्सी?

मैं उसके ऊपरी होंठ चूस रहा था और वो मेरे नीचे के होंठ चूसे जा रही थी. अदिति मेरी शर्ट के बटन खोलने लगी, जब उससे खुले नहीं, तो उसने तोड़ डाले. बहुत दिनों बाद जीजा जी से पलंग तोड़ चुदाई करवाने के मूड में थी मैं.

जब तक वंश खाना लेने गया, तब तक मैंने जल्दी से बैग से बोतल निकाल कर दो पैग स्मेललैस बोडका के लगा लिए और एक सिगरेट खींच कर मुँह में इलाइची दबा ली और उसके आने का इन्तजार करने लगी. मैं भी उसको चोदने लगा, लेकिन यह क्या, फिर वही कहानी, 10-12 धक्के के बाद वो अलग हुई और जमीन पर नागिन की भाँति लेटकर रेंगने लगी और अपनी जीभ को छत पर भर चुके पानी पर चलाने लगी. आप उस पर ज्यादा ध्यान न दो और कहीं कोई खूबसूरत औरत के साथ सेटिंग कर लो और जिन्दगी का मजा लो.

एक बार तुम मेरे नीचे आ गई हो, तो फिर तुम मेरी रंडी बनोगी … मेरी रखैल बनोगी. आसमान की ओर देखते हुए नम्रता बोली- शरद भगवान भी कभी-कभी नाइंसाफी कर ही देता है. मैंने नोयडा में रह रहे अपने एक मित्र से बात की, संयोग से उसे भी एक फ्रेशर की जरूरत थी और इस तरह गोलू नोयडा चला गया.

मैं शिखा के साथ वैसे ही पोज में चुदाई करना चाहता था जैसा कि मैंने मूवी में देखा था जिसमें कि एक लड़की किचन में खड़ी होकर ही चुदाई करवा लेती है. सारा ने भी एक नया काम किया, उसने भी एक झूला बनाया और दिलिया के झूले से बाँध लिया, दिलिया को किश करने लगी और उसके मोमे सहलाने लगी.

वो पहले तो वो जोर से चीखी- आइइइ इइइइइ … इइउइइ इइइ … आह हहह हहह … आहआहहहह हहह!उसे मेरी इस हरकत से काफी दर्द हुआ जिससे मुझे सुकून मिल रहा था.

धीरे धीरे पापा डिप्रेशन में जाने लगे तो मैंने उन्हें डाक्टर को दिखाया तो उन्होंने माहौल बदलने की बात कही.

मेरी चूची और गांड का आकार भी बहुत अच्छा है, जिससे मैं और भी ज्यादा सेक्सी और कामुक लगती हूँ. जैसे ही मैंने जार उतारना चाहा, तो वैसे ही मेरा लंड उनकी गांड के उभारों के बीच में फंस गया. मैने उसकी चूची को नीचे बेस से पकड़ा था मगर धीरे-धीरे करके मैं उसकी चूची के शिखर तक पहुँच गया और उसकी पूरी चूची को ही अपनी हथेली मे भींच लिया।एक औसत आकार के सन्तरे से बड़ी चूची नहीं थी मोनी की.

फिर मैं दिलिया की चूचियाँ दबाने लगा और सारा की चूत में उंगली करने लगा. मुझे भाभी के साथ रात का प्रोग्राम फिक्स करना था, तो मैंने उन्हें कह दिया- आप ही ले आओ भैया, मैं जरा थकान सी महसूस कर रहा हूँ, तो आराम कर लेता हूँ. उसने ड्रेस से मैचिंग डार्क ब्लू कलर की पैंटी डाली थी, जो उसके गोरे चूतड़ों से चिपकी हुई थी और बहुत सेक्सी लग रही थी.

रानी ने मेरे बाल हाथों में जकड़ लिए थे और कस के मेरा मुंह अपनी बुर से चिपकाया हुआ था.

वो बोली- देख तू मुझसे तो झूठ मत ही बोल, मुझे सब पता है। अब सुन, तुझे मेरा एक काम करना है।मैं- हाँ-हाँ बोलो, मैं सब कुछ करने को तैयार हूं।शुभ्रा- आज जब तू अपने लिये पैग निकाले ना तो मेरे लिये भी निकाल लेना।मैं हैरानी से- तुम भी??वो बोली- ज्यादा उछल मत, जो कहती हूं वो कर। नहीं तो मैं पापा से कह दूंगी. यह बहुत गर्म हो चुकी है प्रिंस … इसको तुम ही शांत कर सकते हो अब!उसने मेरी लोअर के ऊपर से ही मेरे तने हुए लंड को किस करना शुरू कर दिया. भाभी बोलीं- जब से तुमने ये कमरा लिया है, तब से मैं इस दिन का इंतजार कर रही थी.

भाबी जी की गांड में उंगली क्या घुसी, मेरा तो डर के मरे पूरा शरीर हल्के हल्के कांपने लगा. आप मेरी इस माँ सेक्स की कहानी को पढ़कर मुझे ज़रूर बताएं कि आपको कहानी कैसी लगी. चूँकि हमारे सामने के गेट अलग थे इसलिए कोई यह अंदाजा नहीं लगा सकता था कि पिछली बालकॉनी में जन्नत के दो दरवाजे खुले रहते थे.

वसुन्धरा लपक कर मेरे पास आयी और अपने दोनों हाथों से मेरा हाथ पकड़ कर बोली- न न! आपका तो इसमें रत्ती भर भी कसूर नहीं, आप अपना मन भारी न करें.

नितिन के लिंग के आकार को लेकर मैं अपने आपको बहुत भाग्यशाली महसूस करती थी पर शर्मा सर का लिंग तो नितिन के लिंग से बड़ा महसूस हो रहा था. हरकेश मेरे पास आया और एक ग्लास उठाकर पैग पिया और अपने कपड़े पहनने लगा।मैंने पूछा- क्या हुआ भाई? कहां चल दिए?तो उसने कहा- बस भाई, आज के लिए काफी है.

हिजड़ा का बीएफ सेक्सी मेरे इस रियक्शन से वह एकदम आग बबूला हो गई और मेरे हाथ को पकड़ कर मुझे अपनी तरफ खींचा और मुझे पागलों की तरह चूमने और चाटने लगी. अनिल भैया ने पास ही के ड्रावर में से लिग्नोकान नाम की ट्यूब निकाली और मेरी गांड में उसकी पाइप को अन्दर तक डाल कर दवाई को अन्दर तक डाल दिया.

हिजड़ा का बीएफ सेक्सी मेरी ये निगोड़ी चूत कबसे तुम्हें चोदने के लिए पागल है और तुम पता नहीं क्या कर रहे हो तब से … आआह … अह … जल्दी से आ जाओ. माँ ने जल्दी से खाना बनाया और हम दोनों खाना खाकर सोने की तैयारी करने लगे.

उसने एक बार किसी के आने की बात कही तो मैंने उसे सब बता दिया कि आज कोचिंग के दरवाजे बंद हो गए हैं और अन्दर सिर्फ हम दो ही हैं.

ভাই বোন xxx

थोड़ी देर बाद मैं उसे बाथरूम ले गया औऱ अच्छे से उसकी बुर गर्म पानी से साफ की ताकि उसकी बुर की अच्छी सिकाई हो सके. हरकेश झड़ने के बाद उसके ऊपर से उठा और उसकी जगह मैंने ले ली और अपना लंड उसके मुंह में डाल दिया. आप लोगों के इस प्यार के कारण ही मैं अपनी आत्मकथा आप लोगों के साथ शेयर करती हूं.

ओके सर!” मैं धीमी आवाज में बोली और रवि सर के सामने पड़ी कुर्सी पर बैठ गयी. मैंने बात बनाई, जिसमें मैं माहिर हूँ- चचा वो मैं चौराहे पर चाय पीने गया था … वहीं बैठ गया. मैंने उसकी टांगों को खोला, तो देखा कि उसकी छोटी सी चूत, जिसकी फांकें आपस में जुडी हुई थीं, जो बता रही थीं कि इसे आज तक किसी मर्द ने नहीं छुआ है.

थोड़ी देर बाद उसने भी काम ख़त्म कर लिया और उसकी भाभी भी रसोई में जाकर खाना बनाने लगी.

उसके बाद वो फिर से हंसते हुए बोली- मानसी ने मुझे फोन पर पहले ही बता दिया था कि तू उसकी चूत को चोदने के लिए तड़प रहा है. खाना खाते समय मैंने खाने की तारीफ की, तो वो बहुत खुश हुई और बोली- थैंक्स सर. ” कल के लिए भी कई मस्ती देने वाले आईडिया हैं तेरी रानी के पास … बस तू देखता जा कैसे कैसे तेरी ऐश करवाती तेरी मालकिन.

अब वो अपनी खाट के एकदम किनारे पे आ गई थी और ऐसे ही मैं भी उसकी तरफ अपनी खाट के किनारे पे आ गया था. वंश ने मुझसे बिना बोले … साले कमीने ने मेरी गांड में अपना मूसल जैसे लंड को एक ही झटके में पूरा डाल दिया. मैं खुद को काम-कौशल में सिद्धहस्त मानता था और अगर नियति ने चाहा तो, अगर ये लम्हें भविष्य में कभी मेरे और वसुन्धरा के बीच में होने वाले अविश्वसनीय प्रेम-द्वन्द की आधारशिला बने तो यक़ीनन मेरी बहुत ही कड़ी परीक्षा होने वाली थी.

उससे बातचीत शुरू होने पर पता चला कि वह मेरे शहर सीतामढ़ी की रहने वाली है और उसका नाम मीना है. इतना सुनते ही उसके मुखड़े पर स्माइल आ गयी और वो कहने लगी- हां, मुझको लंड राइडिंग करना बहुत पसंद है.

पहले मैं पाठक था मगर अब अपनी स्वयं की कहानी लिखने के काबिल हो गया हूँ. अब तक आपने पढ़ा था कि नम्रता और मैं खुली छत पर नंगे घूमने का मजा लेने लगे थे. बाहर खिड़की से अंदर आ रही चांद की हल्की सी रोशनी में ज्यादा कुछ नहीं दिखाई दे रहा था मगर इतना जरूर पता लग रहा था कि बेड पर वो सोई हुई है.

फिर सहेली के पापा ने बोला- तुझे अब तक कितनों ने भी चोदा हो, कोई बात नहीं … पर अब तुझे मैं ही चोदूंगा.

मुझे तो बहुत मजा आ रहा था और उन्हें भी आनन्द आ रहा था ऐसा मुझे लगा. ऊँची आवाज़ में सी सी सी हाय हाय करते हुए कुतिया ने ज़ोर से अपने नितम्ब उचकाकर चरम आनंद का पूरा लुत्फ़ लेने की कोशिश की. पैंटी थोड़ी लूज़ ही थी, तो पैंटी उंगली के साथ चुत के अन्दर चली गयी और मेरी पैंटी के ऊपर से ही मेरी चुत के होंठों का फूला हुआ आकार दिखने लगा.

यदि आप नए पाठक हैं, तो आप ऊपर मेरे नाम पर क्लिक करके मेरी सभी कहानियों को पढ़ सकते हैं. मैं बैठ गई उसने कहा- जरूर तुम काम के लिए यहाँ आई होगी?मैं बोली- जी!उसने मेरे सभी कागज चेक किये और कहा- मुझे एक सेक्रेटरी की जरूरत है.

इस पोजीशन में मेरा पूरा लंड उसकी चूत में फंस गया और उसने मजे से मेरी गर्दन को अपने हाथों से जकड़ लिया. मैंने तो सोचा था कि यहां पर मुझे ज्यादा से ज्यादा श्लोक से अदला बदली करनी होगी लेकिन वह क्या खेल खेल रहा होता है केवल उसे ही पता होता है। क्या प्रिया भी आई है? और क्या राजवीर प्रिया के कमरे में गया है?रणविजय- हां, वो प्रिया के कमरे में है. चलिये इस कहानी का मजा लीजिये, सोनल के ही शब्दों में।दोस्तो, मैं सोनल पात्रा हूं और मैं 28 साल की सेक्सी औरत हूं.

सेक्स वीडियो सेक्सी फिल्म

भैया ने मुझे गांड से बिना लंड निकले धक्का दिया, तो मैं बेड पर लेट गया और भैया मेरे सामने आ गए.

”नीतू थोड़ी देर रुको, तुम्हारी चुत की गर्मी से वह पिघल जाएगी, तो मुझे तुम्हारी चुत की मिठास भी चखने को मिलेगी. फिर वो मुझे अलग करके अपने कपड़े पहनने लगी और अपनी सलवार का नाड़ा बांधने लगी. उसके मुँह में पेंटी डाली होने के कारण गूं गूं की ही आवाज बाहर आ रही थी.

शुभ्रा भी मुझे इस तरह से गिरता हुए देखकर अपनी तरफ से मुझे सम्भालने की कोशिश करने लगी।मैं वापस पलंग पर आ गया और शुभ्रा के बगल में लेटते हुए बोला- यार, मूवी में तो लंड बुर के अन्दर बड़ी आसानी से चला जाता है और यहां पर तो बार-बार लंड फिसल जा रहा है। चल कोई बात नहीं, हम लोग पहली बार कर रहे हैं शायद इसीलिए नहीं जा रहा. मैंने नेहा की कमर पर हाथ फिराया उसके होंठों को चूमा और पूछा- मम्मी कितनी देर में आएंगी और कामवाली बाई जा चुकी क्या?नेहा ने मुझसे कहा- तुम चिंता मत करो, तुम मुझे चोदो. ऐश्वर्या राय सेक्स डॉट कॉमजब उसके दिल में तुम्हारे लिए जगह बन जाए, तब शादी के लिए उसकी सहमति लेना उचित रहेगा.

एक बार तो मैंने उनको बख्श दिया और फिर जब वो नहीं मानी तो मैंने उन पर पानी डाल दिया।चाची के सारे कपड़े गीले हो गये. हैलो फ्रेंड्स, ये भाभी की चुत की मेरी पहली कहानी है, जो कि बिल्कुल सच्ची है.

शाम को छुट्टी होने के बाद मेरे रहने की समस्या थी तो उस दिन तो हम लोग एक होटल में रुक गए. वसुन्धरा! मत रोइये … प्लीज़!” मैंने जेब से रुमाल निकाल कर वसुन्धरा की दोनों आँखे पौंछी ही थी कि वसुन्धरा फिर से फफक पड़ी और इस बार तो जैसे वसुन्धरा के अंतर के सारे दर्द, सारी पीड़ायें आंसूओं के साथ ही निकल पड़ी. मैं बोली- धीरे चोदो मेरे राजा … मैं सिर्फ तेरी रंडी हूँ … पर अभी चुत कच्ची है.

इसके ठीक बाद जैसे ही मैंने अपने पति की ओर देखा, तो पाया कि वो मेरी बहन प्रियंका के मम्मों को घूरे जा रहे थे. वो आज बहुत ही ज्यादा गर्म थी और मेरे लंड का सारा पानी अपनी चूचियों पर डलवा कर मम्मों को खूब मसला. इतने में मुझे याद आया कि अगले हफ्ते रक्षाबंधन है और मैं यह बहाना बताऊंगा तो मेरी जानू मना नहीं करेगी.

अब अपनी और तारीफ करके मैं आपको बोर नहीं करूंगा और कहानी पर आता हूँ.

साथ ही मैं उन पाठकों से क्षमा भी चाहता हूं जिनके मैसेज का मैं रिप्लाई नहीं कर पाया हूं. स्टूडेंट्स के जाने के बाद वो बोली- लड़कियां तो दीवानी हैं राहुल जी आपकी.

चांदनी भाभी- अरे विपुल कैसे हो … कब आए?मैं- मैं ठीक हूँ … मैं आज ही आया. आई लव यू प्रतोष!मैंने भी कहा- सेम टू यू डार्लिंग।तो दोस्तो कैसी लगी मेरी यह कहानी आप सब अन्तर्वासना पाठकों को?मुझे आपके जवाब का इंतजार रहेगा।आप सबका दोस्त प्रतोष सिंह फिर अगली बार हाज़िर होऊंगा एक भाभी की चुदाई के साथ! और आशा करता हूं कि आप सब मुझे आप अपना प्यार[emailprotected]पर जरूर भेजेंगे।तब तक के आप सब अपना ध्यान रखिए और पढ़ते रहिये कामुक और मजेदार कहानियां![emailprotected]. जिसका उपयोग हम दोनों अपने अपने मूत्र को एक दूसरे की गांड चूत में करने वाले थे.

मैंने अपनी उंगली उसकी चूत में डाली, उसने अपनी आंखें बंद की और मजे लेने लगी. सुमन ने बिना हिचकिचाये उसका लंड अपनी गांड में घुसा लिया और कमर हिलाते हुए उस पर कूदने लगी. इसके बाद वंश ने मुझसे बोला कि मम्मी आप रियली बहुत सुन्दर लग रही हो.

हिजड़ा का बीएफ सेक्सी फिर हम दोनों मोहल्ले वालों की नजर से बचते हुए रेस्टोरेन्ट पहुंचे और खाना खाया. मौसी पैंट के ऊपर से ही मेरे लंड को सहलाने लगीं, जिससे मेरा लंड फुंफकारने लगा, जो मौसी भी महसूस कर रही थीं.

जवान बहु की चुदाई

उस दिन उसने जीन्स टी-शर्ट पहनी हुई थी और मैंने पीला सूट डाला हुआ था. जैसे ही लंड में तनाव आया उन्होंने मुझे नीचे लिटा दिया और मेरी दोनों टांगों को उठाकर ऊपर कर दिया जिससे मेरी चूत पूरी तरह से खुल गई. वैसे हीना की चुदाई के वक्त मैंने किसी प्रकार की दवा का सेवन नहीं किया था.

फिर चहकते हुए बोली- नम्रता खुश हुई तुम्हारी गांड में कुप्पी डालकर, अब मैं तुम्हारी गांड के अन्दर मूतूँगी. ऐसे चोदूँगा कि मेरे नाम की दीवानी हो जायेगी।फिर हमारी थोड़ी सी बातचीत हुई जैसे कि ‘मुझे मैसेज क्यों भेजा था?’ और ‘मिलना क्यों चाहते थे?’तो मैंने कहा- तुमसे दोस्ती करना चाहता हूं. whatsapp वीडियो कॉलिंग डाउनलोडिंगजिसको नहीं पता वह मैं बता दूं कि यह पोजीशन लड़कियों का फेवरेट होता है, क्योंकि इसमें वह अपने मनचाहे तरीके से लंड का इस्तेमाल कर सकती हैं और अपने आपको चरम सीमा की तरफ जल्दी ले जा सकती हैं.

थैंक्यू अंकल जी, पर इत्ती भी सुन्दर नहीं हूं मैं … जो आप इतनी तारीफ़ कर रहे हो.

मूवी खत्म होने से थोड़ी देर पहले मैंने अपने आपको ठीक किया और हम घर निकल गए. इस उम्र में कुछ लड़कियां बहक जाती हैं तो कुछ अपना टाइम ठीक ठाक निकाल लेती हैं.

वो बोली- तो फिर इतना भोला क्यों बन रहा है? अब मेरी चूत का क्या? इसका पानी निकलवा जल्दी से।कहकर वो नीचे आकर मेरी बगल में लेट गई और मैंने हेतल के मोटे चूचों को मुंह में भर लिया. मैं- हाय कैसी हो?दीपाली- मैं ठीक … और तुम?मैं- मैं भी एकदम मस्त हूँ. पवन ने मुझे अपने करीब खींचा और मेरी पीठ पर हाथ घुमाने लगा। थोड़ी देर बाद हमने अपने होंठों को अलग किया, हमारी आँखें मिली तो मैंने शर्म से आँखें बंद की और उसके सीने में अपना मुँह छुपा दिया। लेकिन अभी भी मेरा हाथ उसके लंड को मसलने में लगा हुआ था.

जब चाची रुक गई तो मैं नीचे से धक्के लगाने लगा और नीचे से उनकी चूत को चोदते हुए मैं उनकी चूचियों को भी पीने लगा.

यह सब इतनी जल्दी में हुआ कि ना मुझे कुछ सोचने का वक्त मिला और ना ही उन दोनों को समझ आया. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:पड़ोस की भाभी की गर्म चूत में मेरा लंड-2. वो मुझसे कहने लगी कि तू मुझे ऐसे क्यों देख रहा था?मैंने कहा- गलती हो गई यार.

सेक्सी वीडियो हिंदी रोमांसउसके बाद फिर धीरे-धीरे लिंग चुसवाना और योनि चाटते हुए उसका रस पीना मेरे लिए आम बात हो गयी।तो मेरे प्यारे दोस्तो, ये थी मेरे पहले संभोग की कहानी. पैंटी के उतरने के बाद मैं अपने पैर का अंगूठा चाची की बुर में देकर सहलाने लगा.

सेक्सी वीडियो दिखा दो सेक्सी

वे कभी मेरी घुमटी को अपने दांतों के बीच लेकर काटते, उसके बाद अपनी उंगलियों के बीच मेरी घुमटी को फंसाकर उस पर अंगूठे के नाखून से खरोंच करने लगते. फिर मैंने आवाज़ लगाने के लिए जैसे ही मुँह खोला, वैसे ही अमित मेरे मुँह को दबाकर मेरे से रिक्वेस्ट करने लगा कि प्लीज दीदी ऐसा मत करो. थोड़ी देर बाद मेरा दर्द मजे में बदल गया और मैं खुल कर ‘उँह आआह आआह आ आआह.

फिर 12 बजे तक इसी तरह अन्दर बाहर करता रहा, लेकिन इस बीच मैं एक बार भी नहीं झड़ी. हमारी धुआंधार चुदाई होने के बाद हम अब तीनों थक चुके थे और कुछ भी करने की हालत में नहीं थे. मैं सोचती थी कि यदि ये किसी को पता चल जाएगा, तो मेरी और मेरे परिवार की बदनामी भी हो सकती थी.

मैं अकेला क्या क्या करूँ यहाँ?तो मैं बोली- मैं कैसे आऊँ … कपड़े अभी गीले हैं. तभी वो बोली- लाला, लंड को अन्दर बाहर करो।बस फिर क्या था, धीरे-धीरे लंड अन्दर बाहर होने लगा और फिर अपने ही आप अन्दर बाहर होने में स्पीड आ गयी। बहन की चूत और मेरे लंड के मिलन से पैदा होने वाली मधुर आवाज- फच-फच छप की ध्वनि आना शुरू हो गयी. और अब यहां कोई नहीं है तो चुपचाप आकर बैठ गए हो। जब चुप चाप बैठना ही हैं तो यहां लेकर क्यों आते हो?मैं कुछ नहीं बोला और ना ही उसके तरफ देखा.

आप लोग मेरी कहानी को इतना सराह रहे हैं, उसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद. मेरे मुँह से कामुक आवाजें निकलने लगीं- आअह्ह … मेरा बेटा आअह्ह … आई लव यू.

मेरी उम्र अभी 24 साल की है, मैं सूरत की रहने वाली हूँ, मेरा फिगर साइज 34-30-36 है.

भाभी गाउन पहने हुए खुले और गीले बाल … गाउन के ऊपर से उनकी खड़ी चुचियां साफ दिख रही थीं. एक्सएक्सएक्सएक्सेक्समैं उसके मम्मे दबाने के साथ ही उसके कानों पर होंठों पर अपने दांत गड़ा देता था. इंडियन नंबर सिस्टम चार्टतो कभी दाँत से कूल्हों को काट लेता या फिर कूल्हों को मम्मों की तरह मींजने लगता. कुछ देर बाद अचानक मेरी नजर बॉस पे पड़ी तो वो मेरे सीने को घूरे जा रहे थे.

इसलिए अब तो जो माल मिले उसको उसके हिसाब से चोद सकता हूँ।मैं काफ़ी समय से अंतर्वासना का लेखक रहा हूँ.

मैंने अपने कमरे की लाइट बुझा दी और पूरी नंगी होकर अपनी चूत सहलाने लगी. मैं दीपिका के ऊपर छा गया और अपनी दोनों कोहनियों को उसके दाएं बाएं रखकर उसे अपनी बाजुओं में जकड़ा और उसके होंठों पर अपने होंठ रखकर एक झटके में पूरा लण्ड उसकी टाइट चूत में उतार दिया. मीता- हम्म … पर …मैं- देखो … मुझे पता है कि तुम मेरे घर क्यों आ रही हो … और वहां क्या करोगी.

तो शर्मा सर भी उतनी ही फुर्ती से उठे और दरवाजे मैं पैर फंसाकर मुझे दरवाजा बंद करने से रोक दिया- इतनी जल्दी भी क्या है … मुझे भी तुम्हें सुसु करते हुए देखना है. साले को चुदाई के बीच फोन करने की क्या जरूरत थी?मैं रूका और बोला- उस बेचारे को क्या मालूम कि तुम चुद रही हो, फोन उठा लो. उसने जाते हुए मुझे अलग बुलाया और मुझसे कहा- मेरे बेडरूम में मैंने सारा सामान रखा है, जिसकी तुम्हें जरूरत पड़ सकती है.

સુપર સેક્સ વીડિયો

” कल के लिए भी कई मस्ती देने वाले आईडिया हैं तेरी रानी के पास … बस तू देखता जा कैसे कैसे तेरी ऐश करवाती तेरी मालकिन. मैंने अपनी बड़ी भाभी को अठारह साल की उम्र में चोदा था, तब से अभी तक बहुत औरतों को चोद चुका हूँ. लेकिन मुझे मजा नहीं आ रहा था, इसलिए मैंने कुप्पी को झटके से बाहर निकाला, तो पेशाब छलकते हुए बाहर आ निकली और थोड़ी बहुत पेशाब, जो उसकी बुर के अन्दर थी, वो भी बाहर आ गयी.

वो बहुत जोर जोर से मेरे चुचे दबा रहा था मुझे दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था.

हेतल ने मेरे लंड को अपनी चूत से निकाला तो वो सिकुड़ने की राह पर चल पड़ा था.

मैं कितना भी छुपाने की कोशिश करूं लेकिन मेरे बड़े-बड़े चीनी जैसे मीठे दूध मर्दों की नजर में आ ही जाते हैं और उनके मोटे-मोटे लंडो को खड़ा कर देते हैं. मुझे भी हिन्दी सेक्स कहानी बहुत पसंद होती है क्योंकि उसमें फील ज्यादा होती है और मूड बन जाता है. गेन यूट्यूब ऑडियो वीडियो डाउनलोडमलाई जैसे लेस की एक बड़ी बूंद टोपे के छेद से निकली जिसे उसने जीभ से उठाया और पी लिया.

मैंने भी शर्मा सर जैसे तगड़े मर्द के साथ पूरी तरह एन्जॉय करने की सोच ली. पर जो गाड़ी समय पर आनी थी, वो धीरे-धीरे डिले होने लगी, आखिरकार वो समय भी आ गया, जब नम्रता भी अपनी फैमिली के साथ स्टेशन पहुंच चुकी थी. थॉमस ने अपनी जीभ मेरी चुत पर रखी और चाटने लगा मेरी तो जान ही निकले जा रही थी और मुझे थॉमस से चुत चटवाने में बहुत मजा भी आ रहा था थॉमस अपनी जीभ से मेरी चुत की पंखुड़ियों को खोल कर अन्दर तक चाट रहा था.

थोड़ी देर बाद भार्गव ने मेरे दोनों पैर ऊपर किए और अपना लंड मेरी चूत में धीरे से सरका दिया. कभी अपनी गीली उंगलियों से मेरी चुत के दाने को छेड़ते, तो कभी अपनी बड़ी सी उंगलियां चुत के अन्दर लंड की तरह अन्दर बाहर करते.

फिर मैं गर्लफ्रेंड के साथ बेड पर लेटा रहा।कुछ समय बाद ही मैंने उसे फिर से गर्म करना शुरू किया.

मैंने देखा कि उनके बूब्स साफ दिखाई दे रहे थे लेकिन दी के निप्पल देखने में थोड़ी परेशानी हो रही थी. इस तरह साफ सुथरी नीट एंड क्लीन होकर मैं अंकल जी से मिलने निकलने ही लगी थी कि मन में एक बार खुद को आईने में देखने का मन हुआ तो ड्रेसिंग टेबल के आगे जा खड़ी हुई और खुद को हर तरफ से निहारा. कुछ टाइम इंतजार करने के बाद जब मौसी ने कुछ नहीं किया, तो मैंने फिर से एक बार उनके चूचों को पकड़ लिया और दबाने लगा.

सेक्स वाला फोटो थोड़ी देर बाद उसने भी काम ख़त्म कर लिया और उसकी भाभी भी रसोई में जाकर खाना बनाने लगी. मैंने अपना खड़ा लंड माँ चुत पर रखा और अन्दर डाला, तो मेरा लंड माँ की चुत में सट से चला गया.

मैं खाना ख़ाकर ऊपर जा रहा था, तभी सीढ़ियों के नीचे आवाज़ आई- आर्यन यहां!मैंने देखा तो सुधा थी. जब वो धक्के मारते-मारते थक जाते, तो मुझे अपने ऊपर कर लेते तो मैं उनके लंड की चुदाई करने लगती. की आवाज निकली लेकिन उसने दांत नहीं भींचे।मैं इस बार फिर रुक गया और उसकी चूची को मुंह में भरने लगा.

लड़कियों के साथ सेक्सी वीडियो

कुछ देर बाद वो मुझसे आकर बोली- खाना तो केवल आपके लिए ही बनाया था, ये कम पड़ रहा है. उन्होंने बताया कि इधर नानी चाहती हैं कि मैं कुछ दिन यही रुकूं … तुम्हारे पापा आ रहे हैं. मेरे घर पर मेरी माँ और एक छोटी बहन है। पिता जी कुछ साल पहले गुजर गए तो घर की जिम्मेदारी माँ और मुझ पर आ गई.

मुस्कान बोली- इनकी फुदियों में लंड डाल दो, नहीं तो ये ऐसे ही बक बक करती रहेंगी दोनों!मोनू बोला- फुदियों में नहीं, फिर तो इनके मुंह में लौड़े देने पड़ेंगे. अंकल से चुदते वक्त पेट से रहने का ख्याल मेरे दिमाग में नहीं आया, पर दो तीन दिन बाद उसका डर मुझे सताने लगा था.

मेरे घर वाले कहीं जाते हैं तो वो लोग एक नौकरानी को मेरे साथ घर पर छोड़ देते है.

उसी समय उसकी इस आदत ने मुझको गरमा दिया था और उसके साथ सेक्स करने को उत्तेजित कर दिया था. उसने अपनी एक ऊंगली उसकी गांड के छेद में डाल दी जिसके कारण सुमन उचक गई और मेरा लंड निकाल कर बोली- प्लीज, वहां उंगली मत डालो!मगर हरकेश उसकी बातों को अनदेखा करते हुए जोर-जोर से गांड में उंगली करने लगा और अपनी जीभ को चूत के छेद में डालकर जीभ से चोदने लगा. निष्ठा का दर्द कुछ कम होता दिख रहा था और अब उसके चेहरे पर आनंद के लक्षण दिखने लगे थे.

जिंदगी में पहली बार किसी को ऐसे चुदते हुए देखा था, तो दिल जोर जोर से धड़क रहा था. मौसी ने अपनी आंखें बंद की हुई थीं और वे सांसों को कंट्रोल करने की कोशिश कर रही थीं. एक दो मिनट तक उसके चूचों को अपने मुंह में भर कर उनका आनंद रस लेता रहा.

ऐसे भी मैंने तो पहले ही ठान रखा था, जिसकी भी ये हरकत है, उससे चुद जाऊँगी.

हिजड़ा का बीएफ सेक्सी: भाभी के मुंह से यह बात सुनकर मेरा लंड तो वहीं पर टाइट होने लगा और कुछ ही पल में मेरी पैंट में तन कर एक तरफ निकल आया. रेड वाइन!तूने कभी कोई सी दारू चखी है राजे?” रानी ने एक सिप लेकर पूछा.

बिन्दू सामने के आँगन में बाहर आकर खड़ी हो गई और सहमी सी बार बार मेरे कमरे की ओर देखती रही. मुझे थोड़ा अजीब लग रहा था लेकिन भाभी की मादक सिसकारियां सुन कर मैं पूरी मस्ती से जीभ फिरा रहा था. पेंटी का कपड़े वाला हिस्सा मंथर गति से धड़क रहा था और योनि की दरार के आस-पास पेंटी का गुलाबी साटन कुछ-कुछ सील कर(नमी युक्त होकर) गहरे रंग का दिख रहा था.

तीन-चार मिनट की मशक्कत के बाद वो मेरे बदन से लिपटती चली गई और अपनी चूत को मेरे हाथ पर फेंकने लगी.

मैं उन लोगों की चुदाई की बातें सुनती हूँ, तो मुझे भी अपने बॉयफ्रेंड से चुदवाने का मन करने लगता है. मगर 16 हजार किस लिये बॉस?” मैं हैरत से बोली।तुम मेरे सर में मूव भी लगाती हो. मैं खुद अपने आपको कोसने लगा कि मैं अपनी मां के बारे में कितना गंदा सोचता हूँ.