बड़े लंड वाला बीएफ

छवि स्रोत,सेक्स वीडियो हीरोइन का

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन कॉलेज गर्ल सेक्सी: बड़े लंड वाला बीएफ, पर वो कुछ बोल नहीं रही थी।मेरा एक हाथ उसको पकड़े हुए था और मैं दूसरे हाथ से उसकी पीठ सहला रहा था, साथ ही उसी हाथ को उसके चूतड़ों पर फेर रहा था।धीरे-धीरे उसको भी मज़ा आने लगा और वो मेरा साथ देने लगी।जब मुझे लगा कि बाजी मेरे हाथों में है.

राजस्थान सेक्सी वीडियो

हमारे शरीर एक दूसरे की भाषा को इस कदर शिद्दत से समझने लगे थे कि हमारे मन को सिर्फ आनन्द और आहों कराहों और मादक सिसकारियों की आवाज ही सुनाई देती थी बस!मेरी मीता बहुत खूबसूरत थी, चुटकी भर सिंदूर थोड़े से दही में मिलाकर जो रंग बनता था उस सुनहरे रंग से बनी मेरी गीता के शरीर के मादक कटाव और उतार चढ़ाव ने जो कातिलाना रूप अपनी जवानी में अख्तियार किया था उसे देखकर मुर्दों की बेजान नसें भी फड़क उठती. चुदाई की सच्ची कहानीउसकी शादी के पहले तक हम दोनों में जो सम्बन्ध था वो पति पत्नी से कम नहीं था और गरलफ्रेंड बॉयफ्रेंड के रिश्तों से काफी ऊपर था.

मैंने कहा- लेकिन तू कर क्या रहा है वहां…वो बोला- गांड मरवा रहा हूं साले, आजा तू भी मरवा ले. मर्द फिल्म अमिताभ बच्चन कीबहुत दर्द हो रहा है।उसकी चीख ट्रेन के शोर में दब गई।उसे भी दर्द हो रहा था और इस बात का डर भी था कि कोई देख ना ले.

जब पूजा ने मेरे बदन के लिए कॉमेंट किया तो मैंने बोला- नहीं पूजा डियर तुम तो किसी भी फिल्म एक्ट्रेस से बहुत ज़्यादा सुंदर हो.बड़े लंड वाला बीएफ: com को भी बधाई हो जिसके जरिए सभी को कामुक कहानिया पढ़ने को मिल जाती हैं।मेरे पड़ोस में कई लड़कियाँ रहती हैं.

शायद उससे भी रहा नहीं गया था इसलिए वो भी अब खिड़की से मेरी और प्रिया की चुदाई देखने के लिए आ गयी थी.मैंने सोचा अभी टाइम ज्यादा नहीं है, तो मैंने उसकी पैंटी को उतार दिया और अपनी पैंट को खोल कर नीचे कर दिया और अपने अंडरवियर को भी नीचे कर दिया.

सेकसी फिलम विडियो - बड़े लंड वाला बीएफ

मेरे और रोज़ी की लगभग एक हफ्ते तक रोज बातें होती रहीं। धीरे-धीरे वो सेक्स चैट करने लगी।मैंने उससे पूछा- कभी तुमने सेक्स किया है?उसने कहा- हाँ किया है.तो मैंने चाची के हाथ हटा दिए और पूरा लंड अन्दर करके चुप्पे लगवाने लगा।उनके थूक से मेरा लंड एकदम गीला और चिकना हो गया था।चाची ‘गूं.

अब वो पूरी नंगी हो गई।फिर मैंने उससे कहा- मेरे कपड़े निकालो। उसने मेरी बनियान और लोअर निकाला। मेरा लण्ड बिल्कुल टाइट हो कर उसके सामने खड़ा था।मैंने उससे कहा- इससे खेलो।उसने धीरे से मेरा लण्ड पकड़ा और सहलाने लगी।मैंने उसे फिर पलंग पर लिटा दिया और उसको चुम्बन करने लगा, वो मेरा साथ देने लगी, वो मुझसे लिपटी जा रही थी।मैं धीरे-धीरे उसकी चूचियाँ दबा रहा था। फिर मैं उसकी चूचियों पर होंठ फिराने लगा. बड़े लंड वाला बीएफ आप जाईए और देखिए कि वह कहाँ है?मित्रो, इसके बाद क्या हुआ क्या संतोष भी.

श्श्शशश … आह्ह्ह्ह …’ की एक जोर की सिसकारी भरकर अपनी दोनों जांघों के बीच मेरे सिर को दबा लिया.

बड़े लंड वाला बीएफ?

जहाँ हमको कोई नहीं जानता था।होटल के गेट पर पहुँच कर भाई बाइक पार्क करने चले गए। वहाँ सब लोग मुझे ही देख रहे थे और गंदे-गंदे कमेन्ट पास कर रहे थे। इतनी देर में भाई आ गए और हम दोनों होटल में प्रविष्ट हो गए।मेरा हाथ भाई के हाथों में था और भाई का हाथ मेरी कमर पर था। मैं उनके साथ खुश थी।तभी एक वेटर आया और बोला- हैलो मेम. सो मैंने वैसलीन ली और फिर उसकी गाण्ड में और अपने लण्ड पर लगा ली। अब उसकी गाण्ड पर लण्ड को रख कर जोर से एक झटका मारा।‘ऊऊऊहीईईई ईईईईई म्म्मम्मा आर्रर्रर्रर्र. तो दोबारा नहीं करना क्या आपको?भाई- डरो नहीं दीदी, तेरी गाण्ड इतनी प्यारी है.

चाहे जो हो जाए।इसलिए सबका सोना जरूरी था। करीब आधी रात को मैं उठी और बेडरूम की लाईट जलाकर देखा कि पति बहुत गहरी नींद में थे। मैं लाईट बंद करके बाहर निकल आई और हॉल में मद्धिम प्रकाश में मैंने टोह लिया. और वो भी अपनी चूत का रस छोड़ बैठी।हम दोनों एक-दूसरे का रस पी गए।भाभी सिसियाते हुए बोली- अब और ऐसे मत तड़पाओ न. त्यावरून हात फिरवत त्याने माझ्या ब्रेसियरचा हुक काढला आणि माझे दोन्ही कडक थान आपल्या पंजात घेऊन तो जोरजोरात चोळू लागला.

श्श्शशश … आह्ह्ह्ह …’ की एक जोर की सिसकारी भरकर अपनी दोनों जांघों के बीच मेरे सिर को दबा लिया. लेकिन मैं नशे में चोदता रहा और उसकी रसीली चूचियाँ दबाता रहा।उसने अपना पानी छोड़ दिया तो मेरा पानी भी निकल गया।अब वो अपनी चूत मेरे मुँह पर रख कर अपना पानी चटाने लगी।फिर बीस मिनट बाद आनवी आई और अपने कपड़े उतारने लगी।मेरा चूत चाटने को मन कर रहा था. वो भी उठ कर टॉयलेट गया।टॉयलेट से आकर उसने मुझे सीधा बिस्तर पर लेटाया.

बल्कि मुठ्ठ मारने वाली स्टाइल से उसे आगे-पीछे करके अपने हाथों से रगड़ रही थीं।मेरे लण्ड से चिपचिपा पानी निकल कर उनके हाथ में लग रहा था। मैं मस्त हो ‘अह्ह्ह. मैं उसको पूरी तरह खुली करना चाहता था, इसलिए मैंने उससे पूछा- तुम्हें अपने बॉडी पार्टस के नाम पता हैं क्या?पायल- हां पता हैं.

बात उन दिनों की है, जब मेरा बड़ा भाई ऑस्ट्रेलिया से 4 साल बाद वापिस आया था.

काफी देर रगड़ने के बाद रवि की गति बढ़ने लगी तो मैंने कहा- पानी मत अंदर गिराना!उसने लौड़ा निकालकर मेरे मुँह में ठूँस दिया और जीजू पीछे आकर लौड़ा चूत पर रखने लगे.

उसे महसूस हो रहा था कि जिस तरह वह अपने पति को याद कर रही है, उसी तरह मीठानंद भी अपनी पत्नी को बहुत याद करते होंगे. मैं बहुत जोश में आ गया था। मैंने उसे लिटाया और उसके ऊपर मैं लेट गया। मैं अपना लण्ड उसकी चूत में डालने लगा. फ़िर हम दोनों वहाँ से खड़े हुए और मैं उसे किले में बिल्कुल अन्दर बने कमरे की तरफ़ ले गया।बहुत देर बाद मुझे किले में नीचे की तरफ़ एक अन्धेरा और बहुत बड़ा कमरा दिखा.

इस सेक्स स्टोरी के पिछले भागअनजान लड़की से ट्रेन में दोस्ती और चुदाई-1में आपने पढ़ा कि मैंने प्रिया के घर में उसकी जबरदस्त चुदाई की थी. मैंने उसकी एक चूची को जोर से दबा दिया, तो उसकी आह निकली और मुँह खुल गया. खाली कैन रख दिया था।सुबह जब हमारी काम वाली आंटी आईं तो उसने कहा- कैन को काट कर गिलास बना लो.

मैंने उसके दूध सहलाए और चूमते हुए पूछा- ये सब तुमने किससे जाना है?बोली- मेरी एक सहेली ने बताया है और वो इस सुख को पा भी चुकी है.

मेरी चूत तो इतनी गर्म थी कि मैं खुद चाहती थी कि मेरी अब चुदाई हो जाए बस. ’ कहते थे।सब कुछ ठीक-ठाक ही चल रहा था। अचानक मेरे पापा की तबीयत कुछ ज्यादा ही ख़राब हो गई और उन्हें अस्पताल में दाखिल करवाना पड़ा। हम लोग तो काफी घबरा गए थे. चूसने और गाण्ड मरवाने की क्लिप देखना बड़ा अच्छा लगता था। कुछ हॉर्नी किस्म की थी ये सोनू।मैं ऐसी ही किसी लड़की की तलाश में था। सोनू मेरे जाल में आकर फंस गई। जाल भी मैंने ऐसा बुना था कि सोनू की चूत बार-बार चुदासी होती। वो मुझसे हमेशा सेक्स की बातें करती।मैं एक शादीशुदा आदमी था.

उसकी निगाहों से ऐसा लगा जैसे वो पूछना चाह रही हो कि मेरा लंड खड़ा क्यों नहीं हो रहा है?मैं प्रिया के दिल‌ की बात समझ‌ गया था ‘ये नाराज है तुमसे, पहले तुम‌ इसे अपने होंठों से प्यार करके मनाओ!’ मैंने शरारत से हंसते हुए ही प्रिया से कहा‌. जैसे ही मुझे अपने लंड पर प्रिया के गर्म गर्म और गीले प्रवेशद्वार का अहसास हुआ, खुशी के मारे मेरे लंड ने तुनक कर एक झटका सा खाया और मेरा सुपाड़ा फूल कर और भी मोटा हो गया. मैं अब फिर से खुश हो गया और प्रिया के होंठों को अपने मुँह में भरकर उन्हें जोरों से चूसने लगा.

नहीं तो मैं मार जाऊँगी।मैंने उसकी चूत पर लण्ड रखा और ज़ोर का धक्का मारा। उसकी चीख निकल गई और बोली- ओह्ह.

मुझे इस तरह से प्रतीत हो रहा था कि जो दर्द पीछे हुआ था, उसमें मानो दवा मिल गई हो. ’ करने लगी।अब लड़का चूत को सहलाने लगा, लड़की नाख़ून से नोंचने लगी, उसने पीठ पर नाख़ून गड़ा दिए।लड़का अपनी वासना में मस्त था और उसने अपने हाथ में लौड़ा पकड़ कर चूत के मुहाने पर रख दिया और अब वो लण्ड से चूत में घुसने का दरवाजा ढूँढ रहा था.

बड़े लंड वाला बीएफ मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं हवा में उड़ रहा हूँ।लंड चुसवाने का मजा वही जान सकता है. अभी तो इस कहानी की बस शुरुआत हुई है, अगर मुझे आप लोगों ने मेरा उत्साह बढ़ाया तो मैं इस कहानी को आगे भी लिखूँगा और सबके सामने लेकर आऊँगा।कहानी जारी है।[emailprotected]कहानी का अगला भाग :मेरी सगी बहन और मुंहबोली बहन-2.

बड़े लंड वाला बीएफ मेरी दीदी जब मेरे साथ थी तो हम दोनों को एक कमरा शेयर करना पड़ता था और मैं अपनी दीदी के डर से अपने बॉयफ्रेंड से बात भी नहीं कर पाती थी. संतोष आणि निलिमा या सर्व प्रकाराकडे पाहत होते, उद्या सूरु होणारा कार्यक्रम आजच सुरु झाला होता.

उस दिन के बाद से तो मैं और मेरा देवर हम दोनों का जब भी चुदाई करने के मन करता था और जब भी हम दोनों घर में अकेले रहते थे तो चुदाई करते थे.

स्थानी मारवाड़ी सेक्सी पिक्चर

इधर मेरे पति ने दुष्यंत से कहा- साले गुड़ की भेली देखते ही मक्खी की तरह भिनभिनाने लगा. लग रहा था जैसे मेरा ही इन्तजार कर रही हो।उसने मुस्कुरा कर मेरा स्वागत किया और मुझे अन्दर बैठा कर. मेरे कंठ से कामुक सिसकारियां निकलने लगीं ‘हूउ … उह … आहा … अहा … और ज़ोर से हां … हां … बस मेरा अब निकलने ही वाला है … आह … रवि मेरी जान आह … एयेए … आआ … आह मर गई … मेममरा … निकल गया … आह … बस हो गया!’मैं समझो कट कट कर रिसने लगी.

मैंने उसके कान में कहा- ज्योति जी एक बार और कोशिश करोगी?वो बोली- ठीक है. मैं जब थोड़ा नींद में उठी तो देखा कि मेरा देवर मेरी पेंटी को बहुत ध्यान से देख रहा है. मैंने मन बना लिया कि मैं उन्हें इस बात के लिए मजा चखाऊँगा।दूसरे दिन स्कूल जाते वक्त मैंने अपनी दाईं जेब की सिलाई उखाड़ दी.

’ की आवाज़ निकालने लगीं।मैं समझ गया कि उन्हें भी कुछ-कुछ ज़रूर होने लगा है और अब तूफान आने वाला है.

मेरे हर झटके पर उसका सारा बदन हिलता था, जिसे मुझको और जोश आ जाता था. पायल को अब मज़ा आने लगा था। वो हाथों पर ज़ोर देकर फिर से घोड़ी बन गई थी और पुनीत अब उसके कूल्हे पकड़ कर ‘दे दनादन. तब मैंने उसे बताया कि तुम्हारे जीजा को झाँटों वाली चूत ज्यादा पंसद है.

यह नवरात्रि की बात है, मुझे गरबा का खूब शौक है, मैं रोज तैयार होकर जाती हूँ. तब मैं पेपर जमा करने के लिए उनके पास गया, उन्होंने मेरी तरफ देखे बिना पेपर बंच में रख दिया।मैं क्लास से बाहर जा ही रहा था कि तभी टीचर की आवाज आई- सुनो. अपनी गाण्ड उठा कर ऊपर लौड़े पर धक्का देने लगी।लड़का समझ गया कि अब यह माल मेरा लण्ड खाने के लिए तैयार है।वो धीरे-धीरे अपने कपड़े उतारने लगा। लड़की लण्ड को हाथ में लेकर हिलाने लगी और अपने और खींचने लगी।लड़के ने उसे भी पूरा नंगा कर दिया चूंकि अब अँधेरा हो चला था.

मेरा लैपटॉप रखे हुए ही चाची ने टाँगें सीधी से एकदम मोड़ लीं और मेरा हाथ पकड़ लिया. मेरे देवर ने मेरी ब्लाउज निकाल दी और उसके बाद वो मेरे ब्रा को भी निकाल कर मेरी बड़ी बड़ी चूची को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा.

उसकी शादी के पहले तक हम दोनों में जो सम्बन्ध था वो पति पत्नी से कम नहीं था और गरलफ्रेंड बॉयफ्रेंड के रिश्तों से काफी ऊपर था. मैंने उसको समझाया कि पहली बार ऐसा होता है लेकिन थोड़े से दर्द के उसे भी मज़ा आयेगा।मैंने उसको चूमना जारी रखा और जब उसका दर्द कम हुआ तो मैंने एक झटके में पूरा लंड उसकी चुत में घुसा दिया. मैंने विकी की तरफ़ देखा तो वो मुस्कुरा रहा था और मेरे दिमाग़ में बम फूट रहे थे कि ये सब क्या हो रहा है? मेरे पति जानते है मेरे मसाज़ बॉय सेक्स के बारे में?अपने पति को मैंने बोला कि थोड़ी देर में आपसे बात करती हूँ.

जल्दी से लौड़ा चूत में पेल दो ताकि मेरा पानी भी निकल आए और आपका भी निकलने के करीब आ जाए।पुनीत- हाँ ये सही रहेगा चल तू जल्दी से घोड़ी बन जा.

हम दोनों ने ही चुदाई का सीन पहली बार ही देखा था और बहुत ही उत्तेजित हो रहे थे. पर बहुत बड़ी चुदक्कड़ है।सोनू की सीलतोड़ चुदाई के पहले ये बात मुझे मालूम नहीं थी। लेकिन एक बार सील टूटने के बाद मेरी ये समझ में आया कि सोनू की चूत को मेरा ही लंड भारी पड़ता है। अगर कोई दूसरा उसे चोदना चाहेगा भी. उसने भी मुझसे बात करने में रूचि दिखाई। मैं उसकी गाण्ड में हाथ फेरने लगा और उसको मजा आने लगा।वो भी बड़ी मस्त हो रही थी और अब तो वो मेरे हाथ के ऊपर अपना हाथ फेर रही थी।वो मुझसे बात कर रही थी, उसने बताया कि उसका नाम सानिया है और अपने मायके जा रही है।मैंने देखा कि टाइम कुछ 11 बजे के आस-पास था.

वैसे मैं मौका देख कर किसी न किसी को पटा लेती हूँ और उससे चुदवा लेती हूँ. फिर मैं संतोष को बाहर बने सर्वेन्ट क्वार्टर को दिखा कर बोली- तुमको यहीं रहना है और जो भी जरूरत हो.

तो कितना मज़ा आएगा।अनु- मुझे उस पल का बहुत ही बेसब्री से इंतजार है।मैं- इसका मतलब वो भी तुम्हें चोदना चाहता है. मित्रहो, आज या क्लब मध्ये मी नवीन अनुभवांसाठी आली आहे आज मला जो सटीस्फाई करेल त्याला पुढचा महिनाभर तो म्हणेल तेव्हा आणि म्हणेल तिथे मी अवलेबल असेल तो म्हणेल त्या प्रमाणे चोदवुन घेईल. मुझे अब अपना सामान‌ लेकर इतवार को सुमेर भैया के घर आना था क्योंकि सोमवार से मेरा कम्प्यूटर कोर्स शुरू होना था.

एसएस सेक्सी वीडियो चुदाई

आते समय मैंने देखा था कि चादर पर हम दोनों का वीर्य लगा था पर कहीं भी खून की एक बूँद तक नहीं थी। तो क्या मिलन पहले भी चुद चुकी थी?3.

आकांशा छुट्टी पर है।’आकांक्षा मेरे पति की पीए कम काम-सहयोगिनी थी। जब भी मैं बाहर होती. पर उम्र में ज़्यादा फ़र्क ना होने की वजह से हम दोस्तों की तरह ही रहते थे और बातें करते थे।वो देखने में पूरी मस्त माल थी और उसकी फिगर 34-26-34 थी. झाड़ियों में पहुँचकर मैंने उसकी चुन्नी उतारकर जमीन पर बिछा दी। फिर उसके सारे कपड़े उतार दिए।मैंने पहले उसको किस किया.

जैसे ही डिल्डो बाहर आया तो श्यामा मालती से बोली- उफ़ दीदी … क्या मस्त चीज लाई हो. साढ़े सात बज चुके थे, अब गाड़ी हरिद्वार पहुंच गई थी, तकरीबन सभी यात्री भी उतर चुके थे. गर्ल सेक्स एचडी।नहा कर मैंने खाना खाया और माँ को कल रात की घटना के बारे में बताया।माँ ने कहा- यह सब तो होता ही रहता है.

मैंने कहा- रानी, अभी तो मैं तेरी चूत बजाऊंगा … तू कुतिया बन जा मैं पीछे से तेरी लूंगा. सो मैं फ्लैट पर ही रुक गया था।उस दिन भाभी ने ब्लू साड़ी पहनी हुई थी.

मेरा नाम अम्मू है, मैं पंजाब के संगरूर ज़िले का रहने वाला हूँ, उम्र चौबीस साल है. फिर उसकी चूत के अन्दर ही झड़ गया।कुछ देर रुकने के बाद मैंने उसे पीछे घुमाया. गांव की रहने वाली एक लड़की जिसका नाम नीरू था, जो रिश्ते में मेरी साली लगती थी क्योंकि उसकी मम्मी और मेरी पत्नी एक ही गांव से थी तो वह मुझे जीजू कह कर बुलाने लगी.

उसने मुझे लंड सहलाते हुए देखा तो शायद वो ये जान चुकी थी कि मैं क्या घूर रहा हूं. तू मेरे सामने किस लिए पड़ी है?’‘तुमसे चुदने के लिए!’‘तुमको चोद कौन रहा है?’‘तुम. मैंने उस पर से तेल की बोतल से तेल अपने लंड और उसकी चुत में लगाया, फिर लंड उसकी चुत में रख कर ज़ोर से पेला.

इसलिए मुझे बढ़िया किस करना आता था।हम एक-दूसरे को किस किए जा रहे थे.

मैंने पहली बार चूत को देखा था, तो देखते ही मैंने उसकी चुत को चूम लिया. मैंने मुँह नीचे करके उनकी चूत पर पर होंठ रख दिए।वो पूछने लगीं- ये क्या कर रहे हो?तो मैंने कहा- आप बस मूत दो.

उन्होंने मेरी कमर के नीचे तकिया लगा दिया, जिससे मेरी चुत ऊपर की ओर उठ गई. पर जानबूझ कर मौका ढूंढता रहता था कि कब उसके मम्मों को देख या छू सकूँ। मौका मिलने पर छू भी लेता था। शायद उसे भी एहसास हो जाता था. मैं अपना लन्ड उसकी चूत में उतारता ही जा रहा था, मैंने अपने टट्टे तक उसकी चूत के साथ सटा दिए और मेरा लौड़ा उसकी बच्चेदानी तक उतर गया।वो पहले तो चीख रही थी परन्तु बाद में मजेदार सिसकारियाँ भरने लगी और कहने लगी- उ…ई… आ.

जो पति को सबसे ज़्यादा पसंद हो।6- दोनों पार्ट्नर्स को नहाना चाहिए और जिस्म के गैरज़रूरी बालों की सफाई ज़रूर करनी चाहिए।7- बेडरूम का वातावरण बहुत ही अहम रोल अदा करता है. मैंने भी सोचा कि ‘चलो यार, फ्री में टाइम पास करना चाहती है करने में क्या जाता है. इसलिए मैं यही पर से नहा कर कॉलेज जाऊँगा और खाना खाने भी आया करूँगा।तो मौसी बोलीं- ठीक है बेटा.

बड़े लंड वाला बीएफ या और कुछ भी बाकी है।मैं- मुझे लंड तुम्हारी गाण्ड में डालना है।यह कहते हुए मैंने सुपारा उसकी गाण्ड में फंसा दिया।कोमल- प्लीज. फिर मैंने मधु को अपने ऊपर लंड में बैठने के लिए बोला और उसके बूब्स दबाते हुए नीचे से धक्के लगाने लगा, मधु भी उचक उचक के चुदाई का मज़ा ले रही थी और मैं उसके उछलते हुए चूचों को पकड़ कर दबाने की कोशिश में था.

सेक्सी बीपी नागा

फिर उन्होंने भी अपने कपड़े उतार दिए, लेकिन उनका लंड पूरा खड़ा नहीं था. फिर यह सिलसिला चल निकला, मैंने कई बार आंटी को चोदा। फिर उस के बाद आंटी सिरसा चली गईं।तो दोस्तो. पर मेरी चूत में बहुत जलन हो रही थी।किसी तरह मैंने अपनी चूत साफ की और वापस आकर बिस्तर पर लेट गई।इतने में मैंने देखा कि उन दोनों के मूसल अब फिर से तन्ना रहे थे।प्रकाश ने मुझे बाँहों में भर लिया और चूमने लगा और नीलेश से कहा- अब तू आराम कर.

जो शिखा के चेहरे से आ रही थी। जिसको सपना ने भी पहचान लिया था। उसने शिखा से कहा- मैं बेवकूफ नहीं हूँ. आप सभी को तो पता ही है कि फ़ुटबाल वालों की टांगों में कितनी ताकत और स्पीड होती है. साला के लिए शायरीमैंने भी उनको फॉलो करते हुए उनके कपड़े उतार दिए। अब हम दोनों भी निर्वस्त्र होकर सोफे पर एक-दूसरे को सहला रहे थे और साथ ही किस भी कर रहे थे।मैंने सर से पाँव तक उनके सारे बदन को किस किया.

हालांकि वो मुझे नहीं देख पा रहे थे, पर उनके आव भाव से ऐसा लग रहा था, जैसे मुझे देख रहे हों.

’अब मैंने अपनी पोजीशन बदली और उसकी कुर्सी पर बैठ गया और उसे अपने लंड पर बैठने को कहा।वो जैसे ही लंड पर बैठी. मुझे दर्द हुआ लेकिन मैं चिल्लाती भी कैसे आगे … जीजू ने हलक में लौड़ा ठूंसा हुआ था.

मुझे पता ही नहीं लगा कि कब उसका पानी निकलने लगा और हर झटके में पच पच की आवाज निकलने लगी. और वो मुस्कुराती हुई चली गई।थोड़ी देर बाद मैं भाभी के पास गया और कहने लगा- भाभी, प्लीज़ आप भैया को ना बताना मेरे बारे. मैंने झट से उसे अपनी बांहों में कस के दबा लिया और उसके होंठों को चूमते हुए बोला- बेबी एक छोटा सा ट्रेलर और हो जाये.

फिर मैंने उसकी चूत के पास होकर चूत की एक चुम्मी ली और चूत चूसने लगा.

तो कहाँ सर्दी का पता चलता है।उसकी साँसें धौंकनी की तरह चल रही थी और मेरा भी हाल कुछ ऐसा ही था. मैंने प्रिया की ब्रा को नीचे किया और उसके एक चुचे को चूसना शुरू कर दिया. ’ मैंने झूठ बोल दिया क्योंकि मैं ये सब आंटी के मुँह से सुनना चाहता था।तो वो अपनी चूत को खुजाती हुई बोलीं- इसको चूत बोलते हैं.

सेक्सी हिंदी बोलने वाली’ की आवाज़ आने लगी। मेरा हाथ उसकी जींस के बटन खोलने लगा। ममता ने एक बेकार सी कोशिश की. मैं दर्द से छटपटा रही थी, पर अंकल की बांहों की मजबूती से फंसी हुई थी.

इंडियन सेक्सी बीपी सेक्सी वीडियो

पर सुबह सुबह उसका लंड खड़ा था क्योंकि थोड़ी देर पहले ही वो रात वाली घटना के बारे में सोच रहा था. शीतल ने अपने एक साथ से साबुन और एक हाथ से लूफा (बदन को रगड़ कर साफ करने वाली चीज़) पकड़ी हुई थी, उसका पूरा शरीर भीगा हुआ था, उसका पेटीकोट भी भीगा हुआ था और उसके भीगे होने की वजह से वो शीतल के पूरे शरीर में चिपका हुआ था. थोड़ा दर्द सहन कर ले फिर मजा ही मजा है।मैंने एक जोरदार झटका मारा और अपनी बहन को कुंवारी दुल्हन बना दिया।अब उसकी चूत से खून निकल रहा था मैं रुक गया और उसके बत्तीस साइज के मम्मों का रस पीने लग गया।थोड़ी देर बाद वो शान्त हुई और बोली- भाई आपने मेरी फाड़ दी।मैंने कहा- क्या?शर्मा कर उसने अपनी चूत की तरफ उंगली की.

उधर जमील मियाँ अपनी एक औरत को जमीन पर लिटा कर उस पर पीछे से चढ़े हुए थे. मैं उनकी गोदी में ही रही और जहाँ मेरी मौसी का घर था, वहाँ तक गेट पर मैं यूं ही गोद में आ गई. मेरी चूत में दर्द कम हो नहीं रहा है तो मैं समाली अंकल से लिपट गई और जोर से चिल्लाने लगी- बचा लो मुझे मार डालेंगे मेरी चूत में दर्द है, अंकल बहुत दर्द हो रहा है.

जिसका गला बहुत बड़ा था और उसके आधे से ज़्यादा मम्मे तो उसमें से बाहर ही दिख रहे थे. जैसे ही पिंकी का पानी निकला तो मैंने अब पिंकी को नीचे बैठा दिया और उसके मुँह में अपना लंड डाल दिया, पिंकी बड़ी मस्ती से मेरे लंड को चाट रही थी!क्या मजा आ रहा था यारों… ऐसे लगता था कि जन्नत की सैर कर रहा हूँ।फिर मैंने उसके सर को पकड़ा और जोर जोर से झटके उसके मुँह को ही चोदने लगा, करीब 10 मिनट बाद मेरा सारा माल उसके मुँह में ही डाल दिया।अब आगे. क्योंकि यह तो बहुत चौड़ी हो गई थी और ढेर सारा वीर्य बाहर आ रहा था।मैंने मोनू से पूछा- तूने मुठ्ठ कब मारी थी।उसने कहा- दो महीने पहले.

उसकी टाँगों के बीच में आ गया।अब मैंने एकदम से चूत को चाटना शुरू कर दिया और मैं इस बार जोर-जोर से चूत को पूरा मुँह में भर कर चाट रहा था। उसका पानी और चाकलेट का टेस्ट बहुत मस्त लग रहा था। कभी-कभी तो मैं उसकी चूत के दाने को अपने होंठों में दबा कर खींच लेता. राकेश और उसका भाई खाना खा रहे थे और राकेश के पिताजी जिन्हें हम काका कहते थे.

मेरे घर में मैं और मेरी मां हैं, पिता जी मौत कुछ वर्ष पहले हो गई थी.

जिससे उसे भी मज़ा आने लगा।मैंने लंड पर भी अच्छे से तेल लगाया और कोमल की गांड पर रख दिया और ज़ोर लगाया. गुजराती सेक्सी डॉट कॉमअजीब सा माहौल हो गया।हम शायद भूल गए थे कि बगल वाले कमरे मैं उसकी मम्मी पापा सोये हुए हैं। मुझे उसका गरम मखमली बदन मानो जन्नत सा लग रहा था।मैं उसकी गर्दन से होता हुआ. इंडियन सुपर सेक्सीतब राज अंकल बोले- देख सोनू, मैं बोल रहा था न तुझे कि ऐसे चिल्ला रही है तो पड़ोसी भी उठ जायेंगे. अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, अतः मैंने धीरे से उसकी टांगों को खोला और अपने लंड के सुपारी को उसकी चूत पर सटा दिया.

साथ ही वे अपने हाथ की उंगलियों से गांड के छेद पर रख कर एक उंगली घुसा भी दी और बोले- उहहह सोनू.

थोड़ी देर मयूरी की रसीली चूत को चाटने के बाद, अब तक मयूरी की चूत ने 3-4 बार पानी छोड़ दिया था और उसकी माँ ने उसकी चूत के पानी का एक-एक बून्द अपनी होंठों और जबान से चाट-चाट कर साफ किया. मैंने एक दिन जीजू से पूछ लिया- मेरी दीदी आपको सेक्स में मजा नहीं दे पाती तो आप क्या करते हैं?जीजू कुछ नहीं बोल रहे थे तो मैंने थोड़ा जोर देकर पूछा तो उन्होंने कहा कि तुम यह बात किसी को मत बताना और उसके बाद बताया कि जब मेरी दीदी उनको सेक्स का मजा नहीं देती है तो वो अपनी भाभी को चोदते हैं. जो बड़े-बड़े काण्ड कर देता है।उनकी बात सुनकर हम दोनों ही हँस दिए। मैंने चाची की चूचियाँ दबानी चालू कीं.

मेरा लंड भी अपने पूरी शक्ति से सारा माल बाहर कम्बल में फेंकने लगा और जब तक दोस्तों मैं अपने आपको सम्हालता. पर अब मैं सिर्फ चुदाई करना चाहता था।मैंने चूत चूसने के लिए मना कर दिया और चाची पर लेट कर एकदम धकापेल चोदते हुए चूत पर कूदने लगा।चाची ने हँसकर मुझे रोका और कहा- सेक्स में इतनी जल्दबाजी नहीं करते।फिर उन्होंने आराम से मेरा लण्ड हाथ में लेकर अपनी चूत पर रखा।अब मुझे अहसास हुआ कि मेरा लण्ड तो बाहर ही खेल रहा था।मैंने पूरा लवड़ा चूत में पेल कर धीरे-धीरे धक्के मारने शुरू किए।चाची मदहोश होने लगीं. उसने मुझे धन्यवाद कहा और बैठ गयी।कुछ देर बाद मुझे भूख लग गई तो मुझे लगा मैं कुछ खा लेता हूं.

सेक्सी बंद करें

दादा जी ने मेरी तरफ गुस्से से देखा और मुझे बांहों से पकड़ कर बेड पर गिरा दिया और बोले- चल अब तुझे करता हूँ माफ़… वे ये कहने के साथ ही खुद भी मेरे ऊपर लेट गए. उसकी चूचियां भी अब अपना शेप लेने लगी हैं और बाकी का काम मैं करना चाहता हूँ।तो उन्होंने कहा- कैसे करोगे?मैंने कहा- बस देखती जाइए. जिसे वो पी गई और आधा उनकी चूचियों और पेट पर थूक दिया।फिर मैं अपने हाथों से उनकी चूचियों की मालिश करने लगा। करीब आधा घंटा ये सब चलता रहा।मौसा जी तो रात को आते थे अनु को भी आने में अभी 4 घंटे बाकी थे.

मुझे समझ ही नहीं आ रहा था कि यह हकीकत है या सपना … लेकिन जो भी हो, वह एक आनंददायक पल था और मैं उसे खोना नहीं चाह रहा था।मैंने अपना हाथ बढ़ाया और उसके स्तनों पर रख दिया, उसके शरीर में एक झनझनाहट मैंने महसूस की और अपने हाथों से मैंने उसके स्तनों को दबाना शुरु कर दिया.

तो हम रात को कैसे एंजाय कर पाएंगे।थोड़ी देर बाद वो अन्दर से ड्रिंक की बोतल ले आया.

तो बॉस ने इस बार मुझसे सब कुछ साफ-साफ बता दिया और कहा- नेहा हमारी कंपनी को एक बहुत बड़ा कांट्रॅक्ट मिला है. साथ ही मैंने उनको कस के पकड़ लिया और एक हाथ से उनके मुँह को दबा दिया, जिससे कारण वो छूट न सकें और चिल्ला न सकें. सऊदी अरब की सेक्सी मूवीमैं वहाँ बैठ कर वेट करने लगा और ऐसे ही 11 बज गए। फिर उस सेक्रेटरी को अन्दर से कॉल आया और मुझे अन्दर बुलाया गया।दोस्तों क्या बताऊँ.

और अन्दर-बाहर करने लगा।अब मानो वो पागल सी हो रही थी और उसके मुँह से ‘आआहह उउह्ह्ह. नीतू रानी अब बिल्कुल नंगी मेरे सामने थी, उसने आगे बढ़ कर मेरा शॉर्ट्स उतार दिया और मेरा लौड़ा अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. साथ ही वे अपने हाथ की उंगलियों से गांड के छेद पर रख कर एक उंगली घुसा भी दी और बोले- उहहह सोनू.

तब मैं पेपर जमा करने के लिए उनके पास गया, उन्होंने मेरी तरफ देखे बिना पेपर बंच में रख दिया।मैं क्लास से बाहर जा ही रहा था कि तभी टीचर की आवाज आई- सुनो. ’मुझे एक बार ऐसा लगा कि इस जमील से इसके लंड की लैंडिंग का गुर सीखना ही पड़ेगा।साला बड़ा लंडबाज है ये जमील!इतने में सोनू ने चुहलबाजी की- मोटू महाराज आप कुछ ज्ञान की बातें बताइए।सोनू ने मेरे लंड को पकड़ कर कहा।मैंने हँसकर कहा- बालिके.

उसका 32-28-32 का मस्त फिगर देखते ही मेरा तो खड़ा हो गया।फिर हम दोनों टैक्सी करके उसके फ्लैट पर पहुँच गए।उसने मुझसे कहा- तुम फ्रेश हो जाओ.

उत्तेजना के वश अब अपने आप ही मेरी कमर हरकत में आ गयी‌ और नीचे से धीरे धीरे अपनी कमर को उचका उचका कर मैंने अपने लंड को प्रिया के मु्ँह में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. फिर भी मैंने हाफ गिलास बीयर पी ली।अब नीलेश की बारी थी। वो बिस्तर पर सीधा लेट गया और उसने कहा- आ जा कुतिया. वो शरमा गई और बोली- हाय क्या मस्त नजारा है, तू लूट ले अपनी रंडी की जवानी के मजे.

सेकसी 2019 पर तभी मैंने महसूस किया कि पिंकी की साँसें काफ़ी तेज़ी से चल रही हैं और मेरी भी. दर्द की लकीर उसके चेहरे पर दिख रही थी।मैं- क्या हुआ?ममता कराहते हुए बोली- तुम्हारा लण्ड मेरे पति से बड़ा और मोटा है.

’ की तेज चीख निकल गई।गांड टाइट होने की वजह से लंड में भी थोड़ा दर्द हुआ, कोमल की आँखों से आंसू आ गए और कहने लगी- प्लीज निकाल लो… बहुत दर्द हो रहा है. खाना पीना कम्पलीट हुआ, फिर मधु मस्त दो गिलास बादाम और केशर वाला दूध पिलाई, हम दोनों ऐसे ही सोफे में बैठ के बात कर रहे थे. ऐसा व्यक्ति इस टाइप का सेक्स चाहने लगता है क्योंकि वो अपने आपको बेहद दर्द और तक़लीफ़ देना चाहता है। अगर फिज़िकल दर्द बहुत ज़्यादा होगा तो शायद वो मेंटली दर्द भूल जाएगा।दूसरा.

सेक्सी वीडियो दिखाइए साड़ी वाली

यह कह कर उसने मेरे लण्ड को रगड़ दिया।अब मैंने उसे घर छोड़ा और रात 8 बजने का इंतजार करने लगा और उसकी मोटी गदराई गाण्ड और मोटी चूचियाँ मेरे दिमाग़ और लण्ड में तूफान ला रही थीं।आख़िर वक़्त आ ही गया. उससे पूछने पर पता चला कि उसके पति किसी की शादी में अमरावती गए हुए हैं, 2 दिन में आएंगे. ’‘ये फोन सेक्स तुम्हें कैसा लगता है?’‘जानू तुम जब मुझसे पूछते हो ना कि तुम्हारे कितना अन्दर घुसा है.

फिर राज अंकल बोले- बता सोनू? बोल तू?उस समय मुझसे दो दो मर्द नंगे लिपटे हुए थे, मैं अपने होशोहवास में नहीं थी, मैं बिना सोचे समझे बोली- जैसा आपको ठीक लगे अंकल … मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं!इतना सुनते ही राज अंकल अंकित से बोले- यार तेरा घर है, तू यहीं का है, बता, यहाँ पर तो कोई रूम खाली नहीं तो अगल बगल घर कहीं कोई खाली जगह है क्या? कोई इंतजाम करा!तब अंकित बोला- बहुत रात हो गई है. क्योंकि अन्तर्वासना पर हमेशा ही बहुत ही नायाब और उत्तेजक कहानियाँ प्रकाशित होती रहती हैं इसलिए मैं हर बार अन्तर्वासना पर कहानियों के अलावा भी कुछ लिखने का प्रयास करता हूँ।तो आज मैं फिर से कुछ लिखने जा रहा हूँ.

अभी नींद लग ही रही थी कि अंकल कमरे में आए और लाइट ऑन कर दी। मैं चुपके से देख रही थी। फिर अंकल ने फोन निकाल कर किसी से पूछा कि दवा का असर कितनी देर में शुरू होता है?फिर और कुछ बात की और कमरे से निकल गए।मैं पीछे-पीछे गई और देखा कि वो भाई को जगा रहे हैं.

क्योंकि मेरी किसी असली लंड से पहली चुदाई थी, इसलिए मैं कुछ ज़्यादा ही उछल रही थी. हम दोनों लोग सांसें तेज चल रही थी और हम दोनों लोग सेक्स करने के मूड में आ गए थे. पूरा दिन कार वॉश करने के बाद कोई होश नहीं रहता है, सिर्फ़ थके हारे घर आके, जो खाना होता है.

इससे पहले मैं सिर्फ़ अन्तर्वासना से कहानियां पढ़ता था और अपने आपको उत्तेजित करके मुठ मार लिया करता था. आप ही चूस के खड़ा कर दो।” रोहित ने शिवम को कोहनी मारते हुए कहा।हम्म. अंकल के सीधे हाथ में मेरा उल्टा हाथ था, उसको छोड़े बिना उन्होंने उलटे हाथ से अपने पैन्ट की चेन खोली और पेशाब करने लगे.

जीजू का लौड़ा हाथ में पकड़ कर सहलाते हुए मैंने रवि के लौड़े को पकड़ झुक कर चूम लिया.

बड़े लंड वाला बीएफ: जब मैंने दोबारा पूछा, तो उसने बताया कि उसका पति उसे ज्यादा टाईम नहीं देता. मी कळवळले ‘आअह स्स्स्स्स्स्स्स्स’ प्रथमने माझी पुद्दी चोळायला सुरवात केली.

और बिना रुके धक्के मारने लगा।अब मुझे उसका लंड मोटा महसूस हो रहा था. वो मैंने आपको इतनी आसानी से कैसे कह दी? मेरे अतीत में जो कुछ भी हुआ वो मैंने आपको बता दिया. उसने भी मुझसे बात करने में रूचि दिखाई। मैं उसकी गाण्ड में हाथ फेरने लगा और उसको मजा आने लगा।वो भी बड़ी मस्त हो रही थी और अब तो वो मेरे हाथ के ऊपर अपना हाथ फेर रही थी।वो मुझसे बात कर रही थी, उसने बताया कि उसका नाम सानिया है और अपने मायके जा रही है।मैंने देखा कि टाइम कुछ 11 बजे के आस-पास था.

लेकिन सब्र का फल मीठा होता है।मैं उसे और भी मजे देना चाहता था, मैंने उसकी चूत पर मुँह रख दिया और उसकी चूत को चाटने लगा। उसके दाने को जोर-जोर से चूमने लगा.

अब हम दोनों ही काफी थक चुके थे इसलिए कमरे में आ गए और बेड पर नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर सो गए. जिनमें से कुछ हमारे एरिया के गुंडे टाइप लड़के भी थे। वो आते-जाते भी मेरी बड़ी बहन के साथ मज़े लिया करते थे और मेरी बहन भी उनकी हरकतों में मज़े लिया करती थे।मैंने कई बार अपनी बहन को लड़कों के साथ मॉल में भी देखा था. उसे चुन लेना, फिर तुम जो चाहो कर सकती हो।मुझे आईडिया तो पसंद आया और इसी बहाने के काले लंडों को जानने का मौका भी मिलेगा.