सेक्सी बीएफ इंडियन एचडी

छवि स्रोत,अनुष्का सेन का सेक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स जंगल में मंगल: सेक्सी बीएफ इंडियन एचडी, तो उसने बोला- सर आप भी साथ में चलिए न?मैंने बताया- नहीं आप जाइए, मैं आज टिफिन नहीं लाया.

नंगी मम्मी

वह मेरे होंठों के रस को ऐसे चूसने लगा जैसे एक भंवरा शहद को चूसता है. मुंबई ब्लू फिल्ममैं व्याकुल होकर बोली- आह … अंकल … बहुत अच्छा … लग रहा है … और अन्दर घुसाऽऽऽओ आप अपनी … जीभ.

जब तक मैं विरोध कर पाती, मेरी पैंटी मेरी कमर से निकल कर उनके हाथ में थी. चुड़ैल का कहानीउस समय दीपाली बार बार पीछे मुड़ मुड़ के देख रही थी और मैं उसको नोटिस कर रहा था.

मैंने कहा भी था कि थोड़ी देर का दर्द है, थोड़ा औऱ दर्द होगा, फिर कभी नहीं होगा अभी मजा आने लगेगा.सेक्सी बीएफ इंडियन एचडी: फिर दूसरा जोर का झटका दिया तो मेरे लंड का एक चौथाई हिस्सा उसकी चूत में चुका था.

सब कुछ ले लेना, हा हा हा! अच्छा यार अब नींद आ रही है, सुबह फोन करती हूँ, ओके बॉय.पर मैंने अभी भी अपने कपड़े नहीं पहने थे, मेरी चुदाई की भूख अभी शांत नहीं हुई थी.

नंगि बीपी पिक्चर - सेक्सी बीएफ इंडियन एचडी

इस बात पर उसने एक मुस्कान बिखेरी और जवाब के तौर पर लंड को यूं ही अपनी चूत में सैट कर लिया.उसने जवाब दिया- यस मास्टर!मैं- हाऊ वॉज लास्ट नाईट? (पिछली रात कैसी बीती?)वो- इट वॉज़ वंडरफुल मास्टर! (बहुत ही अद्भुत मालिक!).

आह्ह्हह माँआआआ आआ … अर्जुन उफ्फ … जोर से चोदो मेरे राजा … फाड़ दो मेरी चूत को … आह्ह्हह उम्म्म आह्ह्ह!” मेरी ऐसी आवाजों से कमरा भर गया. सेक्सी बीएफ इंडियन एचडी मोनी मेरे लंड से चुदती हुई अपने हाथ-पैरों को समेटकर बिल्कुल इकट्ठा हो रखी थी.

संगीता चाची बोलीं- अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा … रहा ही नहीं जा रहा मुझसे … तू जल्दी से चोद दे मुझे.

सेक्सी बीएफ इंडियन एचडी?

मैं जानता था कि रात को छेड़ने के बाद जब उसने कुछ नहीं कहा तो वह लव-लेटर भी आसानी से ले लेगी. तभी मैंने अपनी जीभ उसकी चूत की दरार में डाल दी और उसकी चूत चाटने लगा. जब मैंने कुर्सी पर बैठ कर उनके लंड की सवारी की तो मुझे बहुत मजा आया.

जब उसके दिल में तुम्हारे लिए जगह बन जाए, तब शादी के लिए उसकी सहमति लेना उचित रहेगा. उधर से दिलिया ने भी मेरे शरीर को सहलाना शुरू कर दिया और मेरे निप्पल से खेलने लगी. तभी हम दोनों ने एक दूसरे की आंखों में देखा और किस करना शुरू कर दिया.

इसके बाद मैंने उसकी तारीफ करते हुए रेस्ट रूम में चलने का उसे इशारा किया. और साथ ही मैंने मोनू की बात सुन कर कहा- अच्छा … तो फिर आज फिर फाड़ देते हैं इसकी गांड!सीमा लंड चूत में डलवा कर सिसकती हुई बोली- उफ्फ … सालो, जो कर रहे हो पहले वो कर लो. हमारी कोशिश रहती है कि हम दोनों ज्यादातर घर में ही सेक्स का मजा ले लें.

अगर आज ही सब कर लिया तो बाकी दिनों में करने के लिए कुछ खास नहीं रह जायेगा. ये सुन कर सहेली के पापा ने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी और मैं मादक सिसकारियां भरने लगी.

एक बार देर रात वीणा और मैं फेसबुक पर चैटिंग कर रहे थे। हम इतनी उत्तेजित बातें कर चुके थे कि उस समय हमारी उत्तेजना चरम पर थी। वीणा ने मुझसे मेरे लिंग का फोटो मांगा जो कि मैंने उसे भेज दिया। उस फोटो से वह बहुत सम्मोहित हुई.

इसके बाद दूसरे माल ने मेरे पास आकर मेरे हाथ अपने मम्मों पर रखवाया और मैं उसके मम्मे मसलने लगा.

भाभी भी चुपचाप लंड चूसने लगीं, वो लंड चूसने में बहुत ही एक्सपर्ट थीं, तो कुछ ही टाइम में उन्होंने मेरी आहें निकाल दीं. वो बोला- पहले कुतिया बनकर चूस इसे। अपने थूक से नहला दे इसे साली कुतिया। तेरी गांड तो पहले से ही गीली है।रिया झुककर कुतिया बन गयी और अपने बाल संवारते हुए लण्ड को अपने प्यासे मुंह में गले तक ले गयी।वो लण्ड चूसने की उस्ताद थी। पापा का लंड उसे वाकई बहुत कड़क लग रहा था। उसने अपनी जुबान का भरपूर उपयोग किया। रमेश के आण्डों को सहलाते हुए वो उसका लंड मस्ती में चूसने में पूरी मग्न थी. वसुन्धरा जी! आपने मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया?”इतनी अच्छी शाम, इतना अच्छा साथ … आप कोई और बात कीजिये न प्लीज़! ” वसुन्धरा का मन नहीं था उस टॉपिक पर बात करने को और ऐसी बातों में ज़ोर-ज़बरदस्ती नहीं चलती.

फिर सुबह एक कप चाय और प्यारी सी मुस्कान के साथ रेखा ने मुझे जगाया और फिर हम दोनों साथ-साथ चाय पी. इस बार मैं हाथ ऊपर की तरफ ले कर आया और ब्लाउज के ऊपर से उसकी चूचियों को थाम लिया. एक बात और बताना चाहता हूँ कि मैं कोई साहित्यकार नहीं हूँ, बस अपनी बात अपने शब्दों में लिखने की कोशिश करता हूँ.

फिर उसने लंड को बाहर खींच लिया और उसकी पैंटी रिया की गांड में ठूंस दी.

मैं खड़ा होकर उसके पास चला गया और घुटने के बल बैठ कर दिशा की चुत चाटने लगा. मीरा भी अपने सामने खड़े रितेश की लुंगी में हाथ डाल के उसके चूतड़ों को सहला रही थी. तभी अंकल जी ने मेरी कचौरी जैसी फूली चूत अपनी मुट्ठी में भर ली और उसे हौले हौले मसलने लगे, सहलाने लगे जिससे उसके भीतर का गीलापन बाहर तक बहने लगा और मेरी सलवार भीगने लगी.

वह अचानक से बाहर गया और जल्दी से उसने गाड़ी के दरवाजे बंद किए और बोनट को नीचे करके गाड़ी को लॉक किया और अंदर आकर दरवाजे और खिड़कियां बंद करने लगा. वसुन्धरा ने तत्काल अपना दायां हाथ मेरी गर्दन के गिर्द लपेट लिया और अपने बाएं हाथ की उँगलियों को दाएं हाथ की उँगलियों में लॉक कर लिया. मैं तो कुछ धक्कों के बाद अकड़ कर अपना वीर्य त्यागने लगा, पर हीना की गति में कोई फर्क ना आया.

मैंने दोबारा से लंड एक बार फिर से पूरा लंड बाहर निकाल कर निशाना लगाया.

कुछ पल बाद जब मैं होश में आयी, तो वो मेरी गांड में थूक डाल कर मेरी गांड मार रहा था. हालांकि उसके इस प्रयास से उसकी चूत से लंड बाहर आ जा रहा था।लेकिन एक बार जब वो समझ गई तो एक एक्सपर्ट की तरह वो भी मुझसे खेलने लगी।कई मिनट तक जूली मेरे लंड पर कूदती रही और मैं आनंद में गोते लगाता रहा.

सेक्सी बीएफ इंडियन एचडी मैंने भी पार्टी की तैयारी कर ली और कुछ सामान खाने के लिए ले आया और पीने के लिए ड्रिंक्स भी ले आया. राधिका अपनी चूत में उंगली कर रही थी, वो बोली- ओके … सबसे पहले किसकी सील खोलोगे, अपनी बहन का या अपनी साली की?मैं- किसी की भी खोल दूंगा.

सेक्सी बीएफ इंडियन एचडी मैं भी बोला- हां कैसे करेगा … मुकेश जो है … मुझे सब पता है, हफ्ते में दो बार आता है … सब देखा है मैंने. जब तक मैं विरोध कर पाती, मेरी पैंटी मेरी कमर से निकल कर उनके हाथ में थी.

फिर वो नीचे आयी और बारी-बारी से अपने दोनों छेद में मेरे लंड को लेती रही और मुझे कस कर चोदती रही.

शिल्पी राज भोजपुरी सेक्सी वीडियो

गर्लफ्रेंड की सहेली की चुदाई कहानी के अगले अंक में प्रतिभा की चुत का भोसड़ा बनाने की विधि का वर्णन करूंगा, तब आप मजे से अपने लंड चुत में जो भी करना हो, सो कर लेना. उसके ख़िलाफ़ जो बातें थीं वे ये थी कि एक तो वह दो जवान बच्चों की माँ थी. वो मेरा पूरा साथ दे रही थी।रात के 11:30 बज रहे थे। यह रास्ता शहर के बाहर हो कर जाता था, बिल्कुल सुनसान था। मैं बीच सड़क पर अपनी बहन के होंठ चूस रहा था। क्या मस्त अहसास था।कुछ देर के बाद उसने मेरे होंठ छोड़े.

प्रतिभा की बात सुनकर मुझे लगा कि खुशी और मेरी वार्तालाप को मैं ही समझ सकता था, प्रतिभा केवल सुनी हुई बात जानती थी. ऐसे ही दो दिन निकल गए, तीसरे दिन रात को ऑफिस से घर लौटा, तो देखा श्रीमती जी मुँह फुला कर बैठी हैं, वो कुछ बात भी नहीं कर रही थी. मैंने उसे पहले तो जी भर के चूमा और फिर अपनी एक उंगली चूत की दरार में डाल दी.

फिर उसने अपने बारे में बताया कि वो केमिकल इंजीनियरिंग की छात्रा है।उस दिन वो टॉप और जीन्स पहन कर आई थी.

वो लगातार सिसकारने लगी- आ … आ … आ … येस … ज़ोर्डन … कमॉन।मैं कभी उसके निप्पल काट रहा था तो कभी उसकी गर्दन के पास काट रहा था। हम दोनों पागल हो रहे थे. तुषार की बात सुनकर मैंने कहा- ठीक है … मैं भी देखती हूँ कि तुममें भी कितना पावर है. उसी साइड में बीच वाली बर्थ पर उसकी माँ और नीचे वाली बर्थ पर उसकी दादी सो रही थी शायद.

घर आकर मैंने आइंदा के लिए सौगंध खा ली कि अब से किसी गैर से नहीं चुदुंगी. लेकिन जैसे ही मैंने वसुन्धरा को पीछे घूम कर देखा तो पाया कि वसुन्धरा की चुनरी, वसुन्धरा की पीठ की ओर से लँहगे के अंदर फंसी हुई थी. अंकल के घर के सामने खड़ी होकर मैंने डोर बेल बजायी, अंकल ने दरवाजा खोला, अंकल सिर्फ लुंगी और बनियान पहने थे.

तभी पापा की नींद खुल गयी और उनके चेहरे पर कई महीने बाद मुझे एक मुस्कान दिखी तो मैं अपना सारा दर्द भूल गयी. जब मैंने अच्छे से उसकी चूत चूस ली, तो मेरे सिर को अपने हाथों में लेकर बोली- मेरी जान गिलास वाला दूध भी इसी तरह पीओगे कि गिलास से ही पीओगे?मैं- मजा तो तुम्हारी चूत के ऊपर गिरते हुए दूध को पीने में है.

उसने मुझे एक बहुत ही सेक्सी सैट दिया और बोला- अगर चाहो तो यहीं पहन कर चैक कर सकती हो. मैं जानता था कि रात को छेड़ने के बाद जब उसने कुछ नहीं कहा तो वह लव-लेटर भी आसानी से ले लेगी. ऐसा कहने पर उसने करवट ले ली और मुझे फिर उसकी बगल में लेटने के लिए कहा.

उसके मुंह से एक शब्द ना निकला।मगर मैं ये सब छोड़ कर उसके रूप को निहारने लगा.

मैं गुस्से में बोली- आप लोग क्या सामान बेचते हैं, इतने मंहगे सामान देते हैं और घटिया क्वालिटी का सामान बेचते हैं. वो बिस्तर पर लेट गईं और बोलीं- अब तक जो किया है, उसको रिपीट करो … लेकिन इस बार थोड़ा जल्दी. चुदने के बाद विनीता मुझसे आंखें नहीं मिला रही थी, वो अपने कपड़े उठा कर अपने नंगे शरीर को ढकने लगी.

पर एक बार किसी चीज की आदत लग जाती है, तो फिर जल्दी से छूटती नहीं, कॉलेज में रहकर भी मन अंकल के ख्यालों में ही डूबा रहता. वो बोली- अर्पित मैंने अपना सब कुछ तुम्हें दे दिया है, अब मुझे छोड़ना मत!मैंने बोला- नहीं अदिति, मैं तुमसे शादी करना चाहता हूँ, बोलो तो कल ही अपनी माँ पापा को तुम्हारे घर भेज दूँ.

फिर शाम को जब मैं घर पहुंचा, तो माँ ने कहा कि बेटा तेरे पिताजी काम के सिलसिले में बाहर गए हैं, तो मैं तुम्हारे लिए खाना बना देती हूँ. वो अपने काम की वजह से हफ्ते में तीन चार दिन घर से बाहर ही रहते हैं. तो वो बोली- अर्पित प्लीज आज मैं तुम्हें पा के बहुत खुश हूँ, आज मुझे मत रोको मुझे और शैम्पेन पीनी है, चलो और ले के आएं.

सेक्सी बफ क्सक्सक्स वीडियो

आह-आह, बस ऐसे ही, जान खुजली बहुत ही बढ़ गयी है, अपने लंड से मेरी खुजली मिटाओ.

मैंने उसकी आंखों में देखा और बोला- रश्मि, क्या मैं तुम्हारी चूत में अपना लंड डाल दूँ?वह मेरी आंखों में देखते हुए मानो कह रही थी- तू चूतिया है क्या … तेरे साथ बिस्तर में नंगी लेटी हूं, तेरा नंगा लंड मेरी नंगी चूत के ऊपर रगड़ रहा है और तू अभी मुझसे यह पूछ रहा है?मैं फिर भी नहीं माना. उसके बाद तो मैंने अपने पति के अलावा किसी मर्द की तरफ आंख उठा कर भी नहीं देखा. मैंने भी थोड़ा खुल कर कहा- तुमको देखकर तो नहीं लगता कि तुम मुझे ज्यादा देर तक व्यस्त रख पाओगी.

फिर उसने मेरे कपड़े खोल कर मुझे भी नंगा कर दिया और खुद मेरे ऊपर आकर मेरी बॉडी पर किस करने लगी. अब मैं उसकी चूत पर चाकलेट रगड़ कर मजे से चूस-चूस कर खाने लगा। जहां मुझे चूत चटाई में अपार आनंद प्राप्त हो रहा था, वहीं उसे बहुत दर्द हो रहा था. सेक्सी दीजिएये सोच ही रही थी मैं … कि पिता जी ने सुमीना की टांगें चौड़ी कर दी और अपना मूसल जैसा लण्ड उसकी चूत पर रख दिया और धीरे धीरे रगड़ने लगे.

आज मैं तुम्हारे इंजन में अपना ऑयल डालकर इसको एकदम नया बना दूंगा, आज के बाद तुम्हारा इंजन बहुत ज्यादा एवरेज देगा. मैंने अपने लंड को वहीं पर रोक कर पहले शलाका के दोनों चूचे कस कर दबाये.

इसके कुछ दिन बाद गुप्ता जी का प्रमोशन हुआ और उनका ट्रांसफर मेरठ हो गया. गुप्ताइन ने पैकेट उठाया और देखा कि कॉण्डोम है तो रख दिया और बोली- इसकी जरूरत नहीं है, मेरा ऑपरेशन हो चुका है. फिर राज हमारे मम्मे दबाएगा, फिर पीठ सहलाएगा, इसके बाद गांड सहलाएगा और आखिर में हम सब राज का लंड चूसेंगे.

उस दिन मैं जालंधर से चला और चंडीगढ़ के सेक्टर 43 के बस स्टैंड पर उसके बताए हुए समय से पहले ही पहुंच गया. क्या तुम ऐसी किसी औरत को जानती हो?” रवि कहने लगा।ठीक है मैं आपको बताऊंगी. उसने इशारे से पूछा- कहाँ?तो मैं जवाब देने के बजाय उसके घर पहुंच गया.

मैंने भी मौके का फायदा उठाया और बायीं कोहनी मंजू के बूब्स पर टिका दी.

शर्मा सर ने बड़े आराम से मेरा नग्न शरीर को बेड पर लिटाया और तेजी से मेरी जांघों के बीच बैठ गए. फिर मैं उनको चूमने लगा, भाभी के दूध मसलने लगा और उनकी साड़ी ऊपर उठा के उनके दोनों पैर खोल दिए.

मुझे उसकी चूत पर हाथ लगाते ही समझ आ गया था कि इसकी चूत बहुत टाईट है और फाड़ने में काफी मेहनत करनी होगी. इस तरह एक जवानी दहलीज पर कदम रखती कमसिन लौंडिया मेरे हाथ से निकल गयी, पर जाने से पहले वो मुझे मेरी जिंदगी के सारे मजे करा गयी. पर लंड जब खड़ा रहता है, तो बिना छेद चोदे नहीं छोड़ता … यही हुआ उसने मुझे फिर से पकड़ा और आराम से टोपे को अन्दर पेल दिया.

” और गिलास जांघों के बीच लगाया।नहीं अंशु मैं गिलास में नहीं … डायरेक्ट पिलाऊंगी। आ जा कामिनी!”और उसने अपनी पैंटी उतार दी।मैंने डॉक्टर आशा की चूत पे मुंह लगाया और वो धीरे धीरे मूतने लगी। मैंने पूरा पिया।अंशु तू भी इसकी प्यास बुझा दे!”नहीं आशा, मैं यहाँ से जाने से पहले इसे नहला दूंगी. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:पड़ोस की भाभी की गर्म चूत में मेरा लंड-2. उस दिन मैंने उसको नींद की गोलियां दीं और उससे कहा कि इन गोलियों को तुम अपने घर वालों को रात को खाने मैं मिलाकर दे देना.

सेक्सी बीएफ इंडियन एचडी उन्होंने मेरी चूचियों को जोर से मसला और मेरी गर्दन को पकड़ कर अपना लंड मेरे मुंह में डाल दिया. मैंने अब सर को थोड़ा उठाते हुए चूत में जीभ फंसाकर चूत की एक फांक को अलग किया और मुँह में भर कर चूसने लगा.

बिहारी सेक्सी वीडियो बिहार

मेरा मन तो कर रहा था कि अभी भाभी की चुत में गोते लगा लूँ, पर भैया कभी भी आ सकते थे, तो मैंने मन मार कर भाभी को छोड़ दिया. अतः हम एक दूसरे की बांहों में चिपक कर सो गए और इतने दिनों में जो घटित हुआ उसकी बातें एक दूसरे से करने लगे। करीब 2:00 बजे थे और बातें करते करते हमारे नीचे के सामान (लंड और चूत) फिर तैयार हो गए थे और हमने तीसरे राउंड की चुदाई की।आज की रात मैंने अपने दोस्त की बीवी की गांड नहीं मारी थी. अब मैं जोर-जोर से उसकी योनि को मसलने लगा।अब वह अपनी योनि को ऊपर उठाने लगी। जोश में आकर मैं कभी उसके दूध को मसल देता था तो कभी उसकी योनि में उंगली कर देता.

अब तुम मेरे जैसे अपने से दस साल बड़े इंसान के साथ तो वो सब करोगी नहीं … तुमको अपनी ही उम्र के साथ वाले के साथ करना है, सो मुझे कुछ बुरा नहीं लगेगा. मतलब वह हम दोनों के साथ चुदाई के लिए तैयार हो चुकी थी, अब हम दोनों सुमन को रात भर चोद सकते थे।देखते ही देखते हरकेश का हाथ सुमन के दूध पर चला गया और वह दूध को मसलने लगा. सनी लियोन का सेक्सी वीडियो चलने वालामैं सोच रहा था कि ये रोएगी और बोलेगी अब मैं तुम्हारे साथ नहीं आऊंगी, पर इसको तो मजा आ रहा है.

बोल सह लेगी थोड़ा सा दर्द?सरिता- हां सह लूँगी … पर मजा तो दिलवाओ और बताओ आजतक मैंने किसी को नहीं बताया है, जो अब क्यों बताऊंगी? आप चिंता न करो, बस खेल शुरू करो.

उसके बाद जब हम तीनों अपने रूम में आए, तो फिर से वो दोनों मेरे ऊपर टूट पड़े और सेक्स का नंगा नाच हुआ. मैं निढाल होकर शुभ्रा के ऊपर ही आ गया।ऐसे एक भाई ने बहन को चोदा पहली बार!कुछ एक या दो मिनट ही बीते थे कि मेरा लंड जो अभी तक तना हुआ था वो शिथिल होकर चूत से बाहर आ चुका था.

इस बार मैं दीपाली के मुँह मैं झड़ गया था, तो दीपाली मेरा वीर्य पी गयी थी. मेरी चूची और गांड का आकार भी बहुत अच्छा है, जिससे मैं और भी ज्यादा सेक्सी और कामुक लगती हूँ. मैंने बोला- क्या हुआ?वो गुस्से में- जानवर हो क्या तुम ऐसे दबाता है कोई?मैंने कहा- जानवर हूं या नहीं … यह तुम अब जाते वक्त बताना.

”उसके बाद मैं बेडरूम में बने बाथरूम में आ गया। मैंने जिस फोल्डर से फाइल्स और डाटा कॉपी करने के लिए सुहाना को बोला था उसका रीनेम (बदलकर) टॉम कर दिया था और उसमें सुहाना और उस लंगूर के कुछ फोटो और वीडियोज भी सेव कर दिए थे।अब तो मेरी सुहाना नामक बुलबुल उन्हें देखकर इस्सस … ही कर उठेगी।कॉलेज गर्ल सेक्सी कहानी का मजा लेते रहें.

उपिंदर, आज मेरी गांड मार लो!”क्यों?”मुझे पता नहीं था कि तुम मिलोगे, तो आज मैंने पिल नहीं खाई, कुछ गड़बड़ होने का खतरा हो सकता है. कहते हुए एक बार फिर मैं मुठ मारने लगा।शुभ्रा- ओके बाबा, अब तुम जैसा चाहो, वादा … मैं मना नहीं करूंगी. इस बीच फेसबुक के माध्यम से मेरी बहुत सी सहेलियां बन गई थीं, जो अपने बेटों के साथ सेक्स करती थीं.

होटल में जॉबमैं खड़ा होकर उसके पास चला गया और घुटने के बल बैठ कर दिशा की चुत चाटने लगा. वैभव ने खुशी से ये वादा भी किया कि वो एक बारे संदीप से नार्मल मीटिंग कराएगा.

रंडी चुदाई सेक्सी

अब वो मुझसे खुद को आज़ाद करने की नाकाम कोशिश करते हुए बोली- यहां ज़्यादा देर रुकना ठीक नहीं है. मगर ये कहानी मैं अन्तर्वासना के पाठकों के लिए लिखना चाहता था इसलिए हिन्दी में ही लिख रहा हूं. मैंने अपना बायां हाथ वसुन्धरा के सर के नीचे लगाया और झुक कर अपना दायां हाथ वसुन्धरा के दोनों घुटनों के पीछे से घुमा कर उसको अपनी गोद में उठा लिया.

ये सुनकर मैंने खुश होकर एक बार फिर से प्रतिभा को बांहों में भर लिया और कहा- तुम बहुत अच्छी हो. भाभी गाउन पहने हुए खुले और गीले बाल … गाउन के ऊपर से उनकी खड़ी चुचियां साफ दिख रही थीं. अपनी गरम गांड पर ठंडी आइसक्रीम के साथ ही मीरा की मदभरी जीभ से गांड को चटने से रितेश को भी बहुत मज़ा आ रहा था.

और मेरे बूब्स को जोर से मसल दिया अपने हाथों से!मैंने अपने बैग से दूसरे कपड़े निकाल कर पहने और कार स्टार्ट करके उससे विदा ले अपने मायके को निकल गई और शादी में बिजी हो गई. मैं यही सोच रहा था कि यहां कैसे मौसी की चुदाई हो पाएगी?मैंने मौसी की तरफ देखकर इशारे में ही पूछा- यहां कैसे?मौसी ने वहीं पड़ी एक मेज़ की तरफ इशारा किया जिस पर कुछ सामान पड़ा था. फिर वो भी वक्त आया कि रेखा के सब्र का बांध के टूटने का असर मेरे लंड पर पड़ने लगा था कि तभी मेरे लंड ने भी मुझे चेतावनी देनी शुरू कर दी.

सीमा तुरंत बोली- अरे जान, मैं तो मज़ाक कर रही थी, हम तो इतनी अच्छी दोस्त हैं यार, उस टाइम मज़ा बहुत आ रहा था, क्या करती, दिल करता था तुझे छेड़ने का. ”नहीं … नहीं आपको रोसोगुल्ले का यह एक पीस तो मेरे कहने पर लेना ही होगा.

मुझे लगा कि मुझे अपनी बेटी की चूत पर थोड़ी चिकनायी लगानी पड़ेगी, तभी उसके बाप का लंड उसकी चूत में जा पायेगा.

उसके जाने के बाद मैंने पक्का मन बना लिया था और सोच लिया था कि मैं अपने बेटे के साथ ही मजे करूंगी. एक्सएचएचडीएअनिल भैया भी मेरी गांड से पूरी तरह से सुख लेना चाहते थे, तो मेरे को पूरा तड़पा रहे थे. फिल्म रक्षाबंधनपर खुशी सिर्फ दिखावे के लिए बिंदास है, असल में खुशी भावुक और संस्कारी लड़की है. मैंने देखा कि सफेद दूध जैसे गोरे चूचे और उन पर गुलाबी निप्पल अपनी अलग ही कामुकता बिखेर रहे थे.

पर चूत चपटी और लंड लम्बा होता है, तो लंड से निकलने वाली धार दूर तक मार कर रही थी.

पर खुशी के मन की बातों को जानकर मैं इतना तो समझ चुकी थी कि उसकी चाहत के सामने मेरी चाहत कुछ भी नहीं. उन्होंने मेरे पूरे शरीर पर साबुन लगाया और फिर मेरे लंड पे साबुन लगा कर मसलने लगीं. लेकिन पता नहीं क्यों शायद नारीसुलभ लाजवश वह मुझे अपनी चूत को भोगने नहीं दे रही थी.

फिर सोने से पहले मैंने उसके होंठों को चूमा और उसके पेट को हाथ से कसकर पकड़कर सो गया. बस मन कर रहा था कि लिंग को उसकी योनि में डाल कर उसकी योनि को चोद दूं. शलाका ने अपनी जांघ मेरी जांघ के ऊपर चढ़ा दी; उसके गाल मेरे गाल से आकर छूने लगे.

नई डिजाइन की साड़ियां

लड़की बहुत सुंदर थी, एकदम भरा हुआ चेहरा, मोटी मोटी आंखें, भरा हुआ सुंदर गदराया शरीर, अच्छी फूली हुई गांड, हर तरह से लड़की पका हुआ फल थी. थोड़ी देर बाद नम्रता अपने कपड़े सही करते हुए बोली- अपने घर बुला लिया है, दिखाओगे नहीं अपनी बीवी के लिए हुए सेक्सी कपड़े?मैं- ओह हां यार, तुम्हारा कामक्रीड़ा से युक्त मादक जिस्म मेरे सामने जब से आया है, मैं सब कुछ भूल जाता हूं. दोनों मिलते ही काफ़ी घुल मिल गए और अपने कॉलेज और पढ़ाई की बातें करने लगे.

फिर जब मुझे लगा कि मेरा छूटने वाला है, तो मैंने भी उसकी चुत को उंगली से चोदने की स्पीड बढ़ा दी.

क्योंकि ये मुझे समझ ही गया था कि मीता की चूत बहुत गर्म हो रही है और ऐसी गर्म चूत को वो मरियल सा लड़का सम्भाल नहीं सकता … जल्दी ही ढेर हो जाएगा.

हम दोनों ने घर का एक भी कोना ऐसा नहीं छोड़ा था, जहां पर हमने चुदाई न की हो. फिर मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पे किस किया, तो वो एकदम से मचल गयी. फ्रेंच रोलकिसी बड़े आंवले सरीखा सुपारा मेरी छोटी सी गांड में घुसा, तो मैं चीख उठा.

मेरी भाभी के साथ सेक्स की कहानी के पहले भागहोली पर देसी भाभी की रंगीन चुदाई-1अब तक आपने पढ़ा था धर्मेन्द्र भैया की पत्नी भावना भाभी ने कल रात मेरे लंड को चूसा था, जिससे मुझे आज भाभी की पूरी चुदाई की सम्भावना दिखने लगी थी. हम दोनों बेडरूम में आ गए और फिर से हम लोगों ने किस करना शुरू कर दिया. मुझे नहीं पता था कि उनकी पत्नी पड़ोस की किसी औरत के साथ बाजार गयी है.

मैंने कहा- अगर आप मुझे भरोसे के लायक समझती हैं तो मुझे बता सकती हैँ. कभी उसकी नंगी चूचियां मसलता, तो कभी उसकी नंगी चूत पर हल्के से थपकी देने लगा.

मेरी कहानी आपको पसंद आयी या नहीं, मुझे आपके कमेंट्स का इन्तजार रहेगा.

उसको बहुत अच्छा लग रहा था, वो मेरे सर को जोर से अपने चूत में खींच और दबा रही थी. अब मैं थोड़ा हकला गया, मुझे नहीं पता था कि वहां की बात यहां तक आ जाएगी. अब मैं अपनी जिन्दगी की घटनाओं को आगे बताते हुए कहानी के रूप में आपके सामने पेश कर रही हूँ.

ओमनी एचडी डाउनलोड मैंने सोनल को अपनी गोद में बिठा लिया था और उसकी नंगी पीठ पर हाथ घुमाने लगा. उसने लंड का सुपारा फंसते ही मेरी चूत में अपने लंड को डालते हुए एक करारा धक्का दे मारा, जिससे उसका आधा लंड मेरी चूत में चला गया.

मैंने बोला- हां ये तुम्हारे मस्त टच के कारण ही इतना सख्त हो गया है. जैसे ही लंड में तनाव आया उन्होंने मुझे नीचे लिटा दिया और मेरी दोनों टांगों को उठाकर ऊपर कर दिया जिससे मेरी चूत पूरी तरह से खुल गई. मैं उसकी गर्दन से मुँह हटाकर उसकी चूचियों पर पहुंच गया और कपड़ों के ऊपर से ही उसकी एक चूची को मुँह में भरने लगा, दांत से काटने लगा.

મીયા ખલીફા સેક્સી

मैंने न चाहते हुए भी उनसे पूछ लिया- आप वापस कब आओगे?मैं सोमवार को आऊंगा. मैं मन ही मन सोचती किस गांडू से शादी हो गयी मेरी?”इस तरह एक साल गुजर गया. जब बेबी रानी ने देखा कि बॉडी वाश सारा निकल गया और फिसलन घट गयी तो हरामज़ादी ने कंडीशनर भी पूरा का पूरा टपका दिया.

आप सभी ने मेरी पहली कहानी ‘मैं और मेरी प्यासी चाची’ को ख़ूब पसंद किया. इस बात को समझते हुए नम्रता ने अपनी चूत का मुँह मेरे मुँह पर रख दिया और खुद मेरे लंड के साथ खेलने लगी.

फिर सोचा कि माँ को गर्मी लग रही होगी, इसलिए पानी तो साफ़ करना ही पड़ेगा.

मगर हीना ने अपने दोनों हाथ मेरे सीने पर रख दिए और अपनी मुट्ठियों को भींच लिया, जिससे मेरे सीने के कुछ बाल उसके हाथों में आ गए. मेरी बेटी भी आह्ह्ह ह्हह्ह … आय्ह्ह… अय्य्य्ह ह्ह्ह करके हिल रही थी और अब मस्त चुदवा रही थी. इस बारिश में ही तो चुदाई का असली मजा आयेगा सर।वह मेरे से अलग हुई और उसने मेरी बनियान भी निकाल दी.

वह जब अपने मामा के घर जाने लगी तो मेरी माँ ने उसे रुकने के लिए कह दिया. यहां कोई पगडण्डी भी नहीं थी, सिर्फ झाड़ियाँ और ऊबड़ खाबड़ पेड़ों की बहुतायत थी. गांव में मंजू का कई लड़कों से अफेयर चला और कई बार वो रंगे हाथ पकड़ी गयी थी.

सिर्फ एक बार की बात है, जब तुम्हारी चूत की सील टूट जायेगी, चूत का छेद खुल जाएगा तो फिर दोबारा दर्द नहीं होगा.

सेक्सी बीएफ इंडियन एचडी: उन्होंने भी देर ना करते हुए वापिस मेरे लंड को सहलाना शुरू किया और कुछ ही देर में मेरा लंड वापिस तन गया. [emailprotected]भाई बहन का सेक्स कहानी का अगला भाग:छोटी बहन ने मस्तराम कहानी पढ़ते पकड़ लिया-2.

उससे बातचीत के दौरान मैंने उससे साथ सहानुभूति जताई और कहा कि आपका पति नादान है, जो आप जैसी खूबसूरत बीबी से तलाक़ चाहता है. जब दूध बिल्कुल खत्म हो गया, तो मैंने उसकी चूत और जांघ को अच्छे से चाटकर साफ किया और उसके पैरों के बीच से हटकर उसके बगल में बैठ गया. इस कहानी से पहले मेरी एक कहानीबिहारी नौकर ने मेरी कुंवारी चूत को चोदाप्रकाशित हो चुकी है.

अनिल भैया- बस इतना ही दम था … या अभी कुछ और बची है … अबे शेर का बच्चा है तू … कुछ भी नहीं हुआ.

बिल्कुल क्लीन शेव्ड और फूली हुई थी, अब मैं उसकी यौवन की घाटी में प्रवेश करना चाहता था. तब मैं उन्हें दीदी बुलाता था, मगर अब 5 साल बाद उनकी शादी पड़ोस के फ्लैट वाले भैया से हो गई है, इसलिए वे मेरी बहन कम भाभी बन गई हैं. पर ये बात मेरे और तुम्हारे बीच रहेगी, सो तुम इस बात को लेकर हमेशा बेफिक्र रहना कि तुम्हारा राज हम दोनों का राज रहेगा.