हिंदी फिल्म बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,बड़ी बड़ी चूची वाला बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

इंग्लिश हिंदी बीपी: हिंदी फिल्म बीएफ हिंदी, नीचे से मैंने चाची की साड़ी को खोल दिया और उसके पैटीकोट का नाड़ा खोल कर उसे नीचे किया तो उसकी पैंट पर हाथ जा लगा.

नंगी बीएफ वीडियो हिंदी में

जरा सोचिए कि जब आप अपने घर में ही अपनी शारिरिक इच्छाएं पूरी कर सकते हैं, तो फिर बाहर किसी गैर के साथ क्यों सम्बन्ध बनाना. बीएफ वीडियो 3gpमैं- सर लेकिन!सर बात काटते हुए- देखो कोई परेशान होने की जरूरत नहीं है.

मैं अपने घर चला गया, लेकिन मैं घर जाने के बाद अपने रूम में यही सोचता रहा कि ये सब क्या था. बीएफ सेक्सी नई नई बीएफपूरी ताकत से वो मेरी गांड में लंड पेल रहा था, मुझे मजा आ रहा था, वह पूरे दम से रगड़ रहा था, मुझे मजा आ रहा था.

मैं हंसने लगा और बोला- जाओ कह दो भौजी … मैंने भी तुमको पेशाब करते हुए और चुत में उंगली करते समय का वीडियो बना लिया है.हिंदी फिल्म बीएफ हिंदी: उसकी बात खत्म हुई ही थी कि उसकी बीवी बोल पड़ी- आप यहीं रहिए ना साथ में … कहीं मत जाइए.

मगर लाला को पता चल गया और एक बार उसने मुझे बुला कर बहुत डांटा और बोला- साले, अगर तुम लोग ढंग के होते, तो तुमसे अपनी बेटी की शादी मैं कर भी देता, एक तो तेरी माँ रंडी और दूसरी तेरी बहन.मैंने उसे समझाया कि इसका मतलब है कि तेरे पीरियड का ये आखिरी दिन है.

सेक्सी बीएफ सेक्सी पंजाबी - हिंदी फिल्म बीएफ हिंदी

एक दिन सेक्स चैट करते हुए मैंने मामी को खुले शब्दों में चोदने की बात कह दी.उसके इस दबाव से सुपाड़े का मुँह मेरी बच्चेदानी के मुँह से जा चिपका और मैं न चाहते हुए भी खुद को रोक न पाई.

मैंने दिन भर हवा में प्रैक्टिस के बाद जैसे ही मैम की चूत को चूसना शुरू किया, तो मुझे मजा आने लगा. हिंदी फिल्म बीएफ हिंदी यही हाल मेरा भी था … और क्या बताऊँ … जब बिस्तर का हाल देखा, तो मैं दंग रह गयी.

उस दिन उसने मेरे साथ बड़ी मस्ती की, जिससे मुझे उसके साथ सेक्स यानि भाई बहन की चुदाई करने का मन करने लगा था.

हिंदी फिल्म बीएफ हिंदी?

करीब 5 मिनट बाद उसने एक हाथ से मेरा सर दबाया और मेरे मुँह में झड़ गया. मैंने उसको लाल रंग की ब्रा पैंटी पहन कर आने का बोला था और वो सच में पहन कर आई थी. जब वो उठ कर मेरा स्वागत करने लगी तो उसकी चूचियां भी साथ में उठ कर हिलने लगीं.

अब हम दोनों ही मिलने को बेताब थे, लेकिन मिलना एक कठिन काम था क्योंकि वो भोपाल में रहती थी और मैं इंदौर में था. सोनू अकेली रहेगी तो उसकी चूत तक पहुंचने का रास्ता और साफ हो जायेगा. बार-बार मन में सोनू के ही ख्याल आ रहे थे इसलिए बेड पर लेटते ही लंड खड़ा हो गया.

”उसने अपना लंड थोड़ा बाहर निकालकर फिर से मेरी चूत के अन्दर डाल दिया. मेरी फूफी की बेटी न्यूज रिपोर्टर है और वो मेरे साथ किराये के मकान रहती हैं. वो हंसी और उसने मुझे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने कहा- नहीं.

भाभी ने ड्राअर से कंडोम निकाला, उसे मुंह से फाड़ा और मेरे लंड पर चढ़ा दिया. भगवान ने मेरे साथ ही बुरा किया, पता नहीं किस पाप का बदला लिया है मुझसे.

हम दोनों पानी पीने के बाद एक दूसरे को किस करने लगे और उसके बाद फिर से चुदाई करने लगे.

रीता- क्या यार चार्ज के लिए बात करते हो … आ जाओ … पैसे की फ़िक्र मत करो.

मैं स्पीड बढ़ाता चला गया, धक्के अब और ज़ोरों से मारने लगा, जिससे लंड पूरा अन्दर तक समाए जा रहा था. उसने अपने गुलाबी रसीले होंठों से मेरे लंड को चूम लिया और मुँह के अन्दर ले गई. उसका सांवला चेहरा था, पर वो बहुत ही सेक्सी और चमकीली जिस्म की मालकिन थी.

अब बची प्रीति … यह थोड़ी भारी शरीर की थी और कपड़े उतारने में संकोच कर रही थी. मैं फेसबुक पर अपनी क्रॉसड्रेसिंग आईडी से काफी लोगों से बात करती थी. कुछ देर बाद मैंने उससे पूछा- बेबी तुमने झांटें कब से साफ़ नहीं की?श्वेता बोली- मेरे चोदू चचा … आज तुमसे ही झांटें साफ़ करवाने का जी कर रहा था.

मगर ये कहानी तब की है, जब मैं शहर में रह कर 12 वीं की पढ़ाई कर रहा था.

मैं विभोर का लंड चूसने लगी और वो भी मजे लेकर अपना लंड मुझसे चुसवाने लगा. कुछ देर लंड अन्दर ही रहा, फिर उन्होंने ऊपर नीचे करना जैसे ही शुरू किया, मुझे लगा कि मैं झड़ रहा हूँ. उसकीनंगी जवानीदेख कर मेरे मन में फिर से चुदाई का ख्याल आने लगा मगर उसने मना कर दिया.

मैंने अपना मोबाइल फोन निकाल लिया और उन दोनों की वीडियो बनानी शुरू कर दी. मोनिषा आंटी की चीख निकल उठी ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’उन दोनों की इतनी उत्तेजना देख मेरा लंड भी खड़ा हो गया. भाभी धीरे से बोली- तुम ये क्या कर रहे हो?मैं झट से बोला- रेनू भाभी, मूली अन्दर ही अन्दर सड़ जाएगी.

ये मोटा होने के साथ साथ इतना अधिक कर्वी है कि इसके घुसने से अच्छी अच्छी चूत भी चुदने घबरा जाती हैं.

मैंने वहां से एक चाय ली और चाय पीने के लिए वहीं पड़ी एक कुर्सी पर बैठ गया. उसके मुँह से ये सब सुनकर मैंने पूजा से कहा- कभी कभी गलत इंसान मिल जाता है … हमेशा ऐसा नहीं होता.

हिंदी फिल्म बीएफ हिंदी निर्मला ने उसकी तरफ सवालिया नजरों से देखा, तब राजशेखर ने एक उपाय बताया कि क्यों न हम दोनों के साथ कोई तीसरा व्यक्ति भी आ जाए, जो इस उबाऊ यौनजीवन को रोमांटिक बना दे. मैंने कहा- चाची अगर ज्यादा दर्द हो रहा है तो मैं आपके सिर में बाम लगा देता हूं.

हिंदी फिल्म बीएफ हिंदी इससे मॉम के मम्मों पर ढकी तौलिया बार बार मेरे हाथों में फंस रही थी. कैसे मुझे मेरी किस्मत ने एक नहीं बल्कि तीन लाजवाब चूतों को चोदने का मौका दिया और मैंने भी उस मौके का भरपूर फायदा उठाया.

पहली नजर में प्यार और वासना की कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया देकर कहानी की सार्थकता पर प्रकाश डालें.

सेक्स रंडी सेक्स

उसने टॉयलेट में कम से कम 35 मिनट लिए होंगे, जबकि एक टॉयलेट साफ करने में 5 से 6 मिनट लगता है. मैंने मौसी से पूछा- पंद्रह दिन बाद क्यों … अभी क्यों नहीं?तो वो बोली- तेरी बीवी को अच्छे से लंड लेना तो सीख लेने दे, उसके बाद बाहर भेजूंगी. मेरा एक हाथ उसके चूचों को दबाने लगा और दूसरे हाथ से मैं उसकी चूत को सहलाने लगा.

इससे उसे एक सुनहरा सा अवसर मिल गया और वो दोनों हाथों से मेरे एक एक स्तन को दबाते हुए मुझे चूमने लगा. फिर रास्ते में स्पीड ब्रेकर पर बाइक उछली तो उसकी बहन ने मेरी जांघ पर हाथ रख लिया. यह आइडिया सबको पसंद आ गया और सब ऐसे ही लेट गई और सबने अपनी-अपनी चूत को खोल लिया.

मैंने कहा- आपको पसंद आया?भाभी मेरे लंड को प्यार से सहलाने हुए उससे खेलने लगीं.

वो मुझे बहुत पसंद करती थीं, इसलिए वो मुझे समझाने की बहुत कोशिश करती थीं. उसकी मदभरी आंखें इस बात का इशारा कर रही थीं कि आ जाओ राजा तुमको इन्हीं आमों का रस चूसना है. मैंने उससे पूछा- तुम्हें तो गुंडों ने उठा लिया था?वो बोली- हां लेकिन मुझे बहुत मज़ा आया.

मेरी बहन को सब पता चल गया था लेकिन मुझे उसके सामने जाने में शर्म आ रही थी. मुझे पता था कि आज इसकी जम कर चुदाई करनी है, पर मैं सब्र रखे हुए था कि जब ये खुद चुदने के लिए मेरे साथ आई है, तो इसे पूरा गर्म करके ही आगे बढ़ना चाहिए. उसका सांवला चेहरा था, पर वो बहुत ही सेक्सी और चमकीली जिस्म की मालकिन थी.

हमारा स्कूल 4 किलोमीटर हमारे गांव से दूर था और केवल हम चार ही अपने गांव से पढ़ने जाते थे. और उसने एम टी वी स्पिलटविला के सीजन 6 को होस्ट किया था।शर्लिन चोपड़ा ने सरेआम मीडिया के सामने स्वीकार किया है कि वह बॉलीवुड में कास्टिंग काउच का शिकार बनी थी। उसने माना था कि उसे फ़िल्में लेने के लिए सम्बंधित लोगों के बिस्तर गर्म करने पड़े हैं.

दिन में जो घटना हुई थी उससे लग रहा था कि अन्नु भी वही चाहती है जो मैं चाहता हूं. मैंने जैसे ही राजशेखर का लिंग हाथ में पकड़ा, मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे मैंने कोई मोटा गरम सरिया पकड़ लिया हो. मैंने दस्तूर की टांगों को फैला कर उसमें थोड़ा थूक डाल कर गीला कर दिया.

मेरी समझ में आ गया कि लंड में दम हो, तो वो कितनी ही बार खड़ा हो सकता है.

ठीक वैसे ही दुल्हन जैसी सजना, जैसे मैं आपको बहुत बार दुल्हन के लिबास में चोद चुका हूं. मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसके कान में धीरे से कहा- भरोसा रखो … आज सब अच्छा होगा. उसके कहने के अनुसार मैं उसके बगल लेट गई और अपना स्तन उसके मुँह में दे दिया.

वो मेरे करीब आईं और मेरा हाथ मेरी आँखों से हटा कर बोलीं- सोनू एक बार देखो तो सही. अब मैडम को भी मेरे नंगे बदन से सट कर कुछ कुछ होने लगा था और फिर धीरे से उनके हाथ मेरे तने हुए लौड़े पर जा लगे तो उन्होंने एकदम से हाथ हटा लिया.

मुझे उम्मीद नहीं थी कि वो सीधे ही लंड और चूत की बातों पर उतर आयेगी. मैं नहीं कर पाऊंगा … यदि फिस्स हो गया, तो सब हंसेंगे … आप रहने दें. मेरे कपड़े निकल गए।मैंने देखा कि उसका हाथ मेरे लंड पे था और मेरा हाथ उसके 2 गोल मटोल स्तनों को दबा रहा था।फिर सुशी अपने हाथों से मेरे लंड को मुठ मारने की तरह से हिलाने लगी लेकिन मेरा जल्दी ना छुट जाए तो मैंने उसको ऐसा करने से मना किया।थोड़े ही देर तक हम दोनों एक दूसरे के बॉडी पार्ट्स से खेलते रहे थे.

ગુજરાતી સેક્સ વિડીયો

मैंने उस बूंद को अपनी साड़ी के पल्लू से पौंछा और अपनी जुबान को उसके सुपारे पर गोल गोल घुमा दी.

एकता ने मंगल के चेहरे को पकड़कर अपनी चूत पर रख दिया तो वह एक पालतू कुत्ते की तरह उसकी चूत को चाटने लगा. चाची एक रंडी के जैसे मेरे लंड के पास आईं और मेरे खड़े लंड को पकड़ कर चूसने लगीं. अपने बेटे प्रकाश की छाती को नंगी कर दिया मैंने और फिर उसके जिस्म को चूमने लगी.

आप यही सोच रहे होंगे कि मैं कैसा भाई हूँ कि अपनी ही बहन के साथ चोदा चोदी का खेल खेल लिया. मेरे हाथ उसकी गांड को सहलाने लगे और उसका हाथ मेरे लंड को सहलाने लगा. देहाती सेक्सी बीएफ लड़कीमैं अपनी बहन के लिए लड़का देखने गया तभी मुझे उसकी बहन ने मेरा लंड खड़ा कर दिया.

एकता सबसे जवान लेकिन सबसे ज्यादा बोल्ड, कल्पना सबसे ज्यादा बेशरम और बेहया! बहरहाल जैसा चल रहा था वो आजकल नार्मल बात है, उसमें लिखने जैसा कुछ नहीं था. एकदम मस्त सफेद चुचियां थीं … और उन पर गुलाबी निप्पल एकदम क़यामत लग रहे थे.

उसने कार को घर के अन्दर किया, खुद पहले उतर कर घर का मेन गेट खोला और अन्दर जाने लग गई. विभोर जब मेरी चूची को दबा कर मेरी चूत को चोद रहा था तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. मुझे उम्मीद नहीं थी कि वो सीधे ही लंड और चूत की बातों पर उतर आयेगी.

ज्योति ने भी मुझे हाय बोला और कहा- तुम्हारे बारे में मैंने बहुत सुना है … तुम वास्तव में एक होशियार और दोस्ताना स्वभाव के आकर्षक लड़के हो. अब तो मैंने जांघें इतनी खोल दी थीं कि राजशेखर को मेरी योनि से अपने लिंग को घुसाने में जरा भी परेशानी नहीं हो रही थी. मैंने पूछा- घर में बाकी लोग भी होंगे ही ना?तो वो बोली- आप आ तो जाओ … बाकी सब समझ जाओगे.

कई दिनों बाद मुझे चुदाई का सुख मिल रहा था, इसलिए मुझे भी अपनी चूचियों के चूसे और मसले जाने से बड़ा मजा आ रहा था.

आंटी ने मुझे सारी बात बता दी थी और कहा था कि जब तक वो वापस न आयें तो तब तक मैं सोनू का ख्याल रखूं और घर में भी चौकसी के साथ रहूं. मिहिर ने उसकी पैंटी को पकड़ कर नीचे खींचा और पैंटी के हटते ही रेशमी बालों में छिपी मेरी बीवी की चूत को देख कर उसके मुंह से पानी टपकने लगा.

मैंने कहा- मैंने भी इन महीनों में कई रात तुम्हारे चुदाई के ख्वाब देखे, ये भी देखा कि तुम मेरा लंड चूस रही हो … और जब आंख खुलती, तो लंड गीला होता. मैं बोला- अपना दूध कब पिलाओगी?वो बोली- रात को, तुम्हारी बहन के सोने के बाद. वो मना करने लगी लेकिन मैंने उससे कहा कि एक बार बस मुझे अपनी मुनिया को देखने दो.

तो ये मजेदार सेक्स का खेल पूरी पूरी रातों में ऐसे ही तक दस दिनों तक चला. वो भी मेरा लंड को आइसक्रीम समझ कर पूरा मुँह के अंदर तक लेकर चूस रही थी. मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया उसने फ्राक पहना था और शॉर्ट्स का हुक खोल दिया था.

हिंदी फिल्म बीएफ हिंदी फिर एक दिन उसने मुझे बताया कि उससे एक गलती हुई है, वो अब किसी और के साथ भी है. मैं बेचैनी से 4 बजे का इंतजार करने लगा … क्योंकि आज कजरी की कजरारी गाँव की चुत की चुदाई करने को मिलने वाली थी.

मां बेटे की चुदाई की

वो धमकाने वाले स्वर में बोला- धंधा करना है ना … बोल दिया तो बोल दिया. बुआ बाथरूम में जाकर अपनी चुत को साफ करके वापस आ गईं और चादर बदल कर हम दोनों सोने लगे. उस दिन के बाद से मौका पाकर मैं देर सवेर मामी की चूत की आग को शांत करने लगा.

दिल तो मेरा भी करता कि मैं भी दीदी के जिस्म के उभारों को छू कर देखूँ. मामी बोली- क्या चाहिए मेरे राजा को!अब मामी भी उत्तेजित होकर बातें करने लगी थी और मामी के स्वर में एक कसक सी महसूस हो रही थी. सेक्सी बीएफ भाभियों कीमैंने लंड को जैसे ही माँ की गांड से निकाला, मेरे वीर्य की धार गांड से बहने लगी.

रीता चूंकि पुरानी चुदक्कड़ थी, इसलिए कुछ ही पलों में उसने मेरे लंड को झेल लिया.

मेरा ब्लाउज तो एक तरफ से फट ही गया था, सो उसे उतारने में ज्यादा देर नहीं लगी. यह जानते ही मैं एकदम खुश हो गई और अपनी टांगों से संजय की कमर को जकड़ कर उससे मस्ती से चुदवाने लगी.

अब तक की इस ग्रुप सेक्स स्टोरी के पिछले भागखेल वही भूमिका नयी-10में आपने पढ़ा कि रमा और रवि से उनकी उत्तेजना सहन नहीं हुई और उन दोनों ने किरदारों की भूमिका पेश किए बिना ही एक बड़ा ही जबरदस्त सम्भोग किया. मेरी बीवी मौसी से बोली- ठीक है, पर मुझे अभी चुदवाओ … मैं न जाने कब से तड़प रही हूँ. मैंने कहा कि तुम्हें कैसे मालूम है?भाभी ने कहा- बस मुझे मालूम पड़ गया है.

मैं- हां तो पूजा, ये बताओ तुम ऐसा क्यों कह रही थीं कि मेरी कोई फ्रेंड नहीं, तुम्हें आज तक कोई क्यों नहीं मिला?पूजा- अमित, मिले तो बहुत … पर हर कोई मतलब के यार थे.

मैंने कई मिनट तक उसके लंड को चूसा तो उसने मुझे हटा दिया और फिर नीचे फर्श पर गिरा लिया. बार-बार मन में सोनू के ही ख्याल आ रहे थे इसलिए बेड पर लेटते ही लंड खड़ा हो गया. दोस्तो, आपको मेरी चूत की चुदाई स्टोरी में मजा आया हो तो मुझे मैसेज करना और स्टोरी पर कमेंट करके बताना कि स्टोरी में कहीं कोई गलती न हो गई हो.

बीएफ फिल्म फुल एचडी मूवीमैंने भी मौक़ा देख कर उनकी चूचियों के किनारों तक अपने हाथों की पहुंच बनाना शुरू कर दी थी. मॉम ने मेरा सर वहां से नहीं हटाया, तो अपना सर मॉम की चूची पर दबाने लगा.

देसी बफ पिक्चर

मेरी उत्तेजना को उसने दोगुना बढ़ा दिया था और मैं उसे उत्साहित करने लगी. आज भी हम दोनों बातें करते रहते हैं लेकिन अभी तक दोबारा वहां जाकर उसकी चूत की चुदाई का मौका नहीं मिल पाया है. मेरा दिल तो बहुत चाहता था कि मैं भी अपनी मम्मी के साथ सेक्स करूँ, मगर ये संभव नहीं था.

अगली कहानियों में मैं बताऊंगा कि मैंने किस-किस अंदाज में उसकी चूत को चोदा और उसके अलावा और किन-किन चूतों के मजे लिये. दस मिनट के इंतजार करने के बाद जब मॉम नहीं आईं … तो मैं गुस्से से बाहर आया और देखा कि मॉम औऱ चाची गांव के पंडित से बात कर रही थीं. एक बार मैंने उसके निप्पल को काट लिया, तो वो ‘आउच …’ बोल कर बोली- आराम से चूसो … ये अब सिर्फ़ तुम्हारे ही हैं.

उसने कहा- तुम्हें अच्छी लगी?मैंने कहा- हां सच कहूँ तो दिल कर रहा है कि आपको सूंघता ही रहूँ. इसकी चूचियों को देख कर मैं तो एकदम गर्म हो गया और उसके चूचों पर टूट पड़ा. कार सेक्स की इस कहानी में पढ़ें कि मैं प्रिंसीपल मैडम के साथ कार में था कि रास्ते में अचानक बारिश शुरू हो गई.

इस बात ने मेरे अंदर दोगुना जोश भर दिया और मैं पागलों की तरह उसके चुचे नोंचने लगा. मेरा एक हाथ उसके सीने पर रखा था और मेरी एक जांघ उसकी कमर पर रखी थी.

मुझे इस वक्त बेहद आग लग चुकी थी और उसका कड़क लंड मुझे इस समय अपनी चूत की खुराक दिखने लगा था.

गांव में लड़कियों की पढ़ाई पर ज्यादा जोर नहीं दिया जाता था, इसलिए हम शुरूआती पढ़ाई के बाद पास के कॉलेज में पढ़ने चले गए. हिंदी भाषा में बीएफ सेक्सी वीडियोउन्होंने मुझे फिर से प्यार से कहा- नवीन प्लीज़ ये सब गलत है … ऐसा मत करो. सेक्सी बीएफ अंग्रेज कीफिर मैंने पूछा- उपन्यास पढ़ रही हो?उसने हल्की सी मुस्कान बिखेरते हुए सिर हां में हिला दिया. कोई 15 मिनट के बाद वो उठकर बाथरूम की ओर जाने लगी, तो उससे चला भी नहीं जा रहा था.

मैंने कहा- मैडम आप अपनी नहीं, मेरी नज़रों से देखो … सब आपके पीछे छूट जाएगा.

पूजा ने मुझसे अगली सुबह तक का समय मांगा।उस रात में डरा हुआ भी था और रात यह सोचते हुए निकल गयी कि सुबह या तो मेरी पिटाई होगी या मेरी भी कोई गर्लफ्रैंड बनेगी।सुबह 5 बजे उसका ‘आई लव यू’ का मैसेज आया और उस वक्त मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा। अब रोज़ाना एक दूसरे से बातें करने का दौर शुरू हो चुका था।पहले कुछ दिन तो हम दोनों के मध्य सामान्य सी बातें होने लगी. मेरी बहन पढ़ाई करने में ज्यादा ध्यान नहीं देती थी मगर वह देखने में काफी सुंदर और सेक्सी है. उसकी इस बात से मेरी थोड़ी हिम्मत खुली और मैंने उसे दिल का हाल कह दिया.

मेरे मामू अपने काम पर गए हुए थे तो मैं उसको बैठक में ले गया।मैं अपने साथ कॉन्डोम ले कर गया था. फ़ोन उठाते ही वो बोली- क्यों हो गयी चुदाई आखिर?मैंने भी बोला- कमीनी कहीं की … सारा खेल तेरा रचा हुआ था, खुद चुदी और मेरे साथ जबरदस्ती करवाई तूने. तब उसने सारी राम कहानी बतानी शुरू की और प्यार व्यार सरस्वती के साथ कभी नहीं था और शादी होने से पहले या बाद कभी दोनों में संभोग नहीं हुआ.

देवर भाभी का xxx

मैंने भी बहुत ही कॉन्फिडेंस से कह दिया कि ठीक है मत जा … मेरा क्या. मैं अपने हाथों कभी उसके मम्मों को सहलाता, कभी उसको किस करता हुआ मजा लेने लगा. मेरे लंड का साइज 6 इंच है और लंड खड़ा होने के बाद इसकी मोटाई 3 इंच हो जाती है.

मेरी गर्लफ्रेंड की चूत में पूरा लंड गया तो उसकी आंखों में पानी आने लगा.

उसने अपने होंठों को मेरी बीवी की गर्दन की तरफ बढ़ाया और एक मखमली सा चुम्बन अपने लाल होंठों से मेरी बीवी की गोरी सी गर्दन पर कर दिया.

मैं भी नहीं चाहता था कि मैं अपनी प्रेमिका को इतना ज्यादा दर्द दूँ। शुरू से चली आ रही हवस की जगह अब प्यार ने ले ली थी।मैंने उसकी चूत में से लंड निकाल लिया और उसकी मदद की दर्द से उभरने में! मैंने उसे अपने पास लिटा कर उससे प्रेम भरी बातें की और उसे विश्वास दिला दिया कि मैं उसका ख्याल करता हूँ. लंड रस चाटने के बाद रीता ने लंड को अपने मुँह से बाहर निकाला ही था कि सोनम ने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया. बीएफ वीडियो 2019 केपहली बार मैंने भाभी को एक हवस भरी चुदाई करने की नजर से देखा था उस दिन.

मैं विभोर का लंड चूसने लगी और वो भी मजे लेकर अपना लंड मुझसे चुसवाने लगा. मैंने दीदी से पूछा- यहां क्या कर रही हो?तो उसने मुझे डांट कर भगा दिया. मेरी बीवी का ब्यूटी पार्लर है और इससे ब्यूटी पार्लर में सेक्स करने का मौक़ा मुझे मिला.

वो पूछने लगा- अभी तक किसी की चुदाई की है या नहीं?मैंने कहा- नहीं यार कोई लड़की ही नहीं मिली, जिसे मैं चोद सकूं. इधर मामा ने कुछ देर तक चूचों को चूसा और फिर उसके निप्पलों को जीभ से चूसने लगे.

मैं बोला- तो फिर मुझे कहां पर सुलाओगी?वो बोली- जहां तुम्हारा मन करे वहां सो जाना.

मैंने कहा- नहीं … ये तो नेचुरल है कि किसी भी पुरुष का किसी महिला को नंगी देखकर अपने आप खड़ा हो जाता है. मैंने अपने दायें हाथ से उसकी पीठ की मालिश करना शुरू की और बाएं हाथ से अपने लंड को सहलाए जा रहा था, जो कि पैंट में ही खड़ा हो गया था. भाभी ऑफिस से शाम को आने के वक्त मेरे घर अपने बच्चों को ले जाने के लिए आती थीं.

आर्केस्ट्रा का बीएफ मैंने कहा- प्रिया मेरी जान तेरी चूचियों को मसलने में मुझे जन्नत का मजा मिल रहा है. इसीलिए वो मुझे अपनी तरफ खींचने की कोशिश करती थी, क्योंकि वो मेरा लंड लेना चाहती थी.

मैं अपना काम करती रहती हूँ और समय खत्म होने पर अपनी सहेली के साथ घर आ जाती हूँ. मेरी जीभ के उसकी चूत पर टच होते ही उसके बदन में एक झटका सा लगा और उसकी चूत से चूतरस निकल आया. चूंकि वो पूरी तरह से उत्तेजित हो चुकी थी और उसकी चूत भी पूरी तरह उसके चुत के रस से चिकनी थी, इसलिए मेरा लंड बिना कोई रुकावट के उसकी चूत को चीरता हुआ पूरा अन्दर चला गया.

राजस्थानी ब्लू सेक्सी फिल्म

बहुत बार उंगली से या फिर और कोई चीज अपनी चूत में मेरी कामवासना बुझाने का प्रयास करती, पर उससे मेरी प्यास कहां बुझने वाली थी. वो मेरे चूचों को पीने लगा और धीरे धीरे नीचे से अपनी कमर को भी चलाने लगा. मैंने अपना हाथ सीधे उसकी पैंटी में पहुँचा दिया और उसकी चुत का मुआयना करने लगा.

दिन में समय मिला, तो मैं सो गई और शाम को उठी, तो सुरेश की आने की बात लेकर दोनों के लिए खाना बनाना शुरू कर दिया. फिर मैंने दूसरे चूचे को मुंह में भरा और पहले वाले को हाथ से दबाने लगा.

पहले उसकी पिंडलियों से होते हुए उसके घुटनों और फिर उसकी जांघों पर किस करते हुए उस पंजाबन भाभी की चूत तक जा पहुंचा था.

विद्या- आज मेरी चूत को पहली बार किसी ने इतना मज़ा कराया है, तो इसके लिए मैं इतना तो कर ही सकती हूँ. मैंने कहा कि आह … क्या मस्त चूचियां हैं … जिस बुर से मैं निकला हूँ आज उसी बुर को चोदने का सौभाग्य मिला. सच कहूँ तो उस वक्त बड़ा आनन्द आया, जब उसने मेरा स्तन चूसना शुरू किया.

उन्होंने कहा- क्या हुआ?मैं कुछ नहीं बोला … लेकिन मेरे लंड ने सब कुछ बोल दिया था. मैंने अपने घुटने मोड़े, हाथ उसके सीने पर रखा और अपनी कमर से दबाव बनाते हुए आगे की ओर धक्का लगाना चालू कर दिया. फिर धीरे से मैंने उनकी पेंटी पूरी तरह से निकाल दी और धीरे धीरे बुआ की चुत को सहलाने लगा.

वह कहने लगी- जान, मेरी चूत से खून निकल रहा है, क्या करूँ?मैं कपड़ा लाया, उसका खून साफ किया और उसको फिर से किस करने लगा.

हिंदी फिल्म बीएफ हिंदी: हम दोनों भी सामने वाले सोफे पर बैठ गये और आंटी अंदर किचन की तरफ चली गई. मैं अपनी वासना से डूबी नज़रों से भाभी के नीचे से ऊपर तक की एक एक चीज को देख रहा था.

मैंने सोचा ये मौका अच्छा है, मैंने चुपके से अपना मोबाइल निकाला और उन दोनों की फोटो खींच ली. मैंने ज़रीना की ब्रा को हटा कर देखा, तो मैं पागल हो गया कि क्या चुचे थे … एकदम गोरे और उन पर हल्के चॉकलेटी रंग के निप्पल एकदम कड़क टंके से दिख रहे थे. लेकिन अभी चूत की चुदाई का वक़्त था … मैंने फ़ौरन मुँह से थूक निकाल कर लंड पर लगाया और अपना पूरा लंड दस्तूर की चुत में ठोक दिया.

मैंने रिप्लाई दिया कि मुझे और कुछ नहीं, मुझे मेरी गुरुदक्षिणा मिलनी चाहिए.

मैंने मौसी से पूछा- पंद्रह दिन बाद क्यों … अभी क्यों नहीं?तो वो बोली- तेरी बीवी को अच्छे से लंड लेना तो सीख लेने दे, उसके बाद बाहर भेजूंगी. रंजन अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी चूत को बड़ी मस्ती से चोद रहा था. दो मिनट में भाभी भी छत पर आ गईं और बोलीं- तू ये सब ठीक नहीं कर रहा है, तूने बस एक बार का बोला था, ऐसे रोज रोज नहीं चलेगा.