हिंदी में बीएफ दिखाएं बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो गांव वाली लड़कियों की

तस्वीर का शीर्षक ,

लंड सेक्सी बीएफ: हिंदी में बीएफ दिखाएं बीएफ, जिंदगी के कटु अनुभवों के साथ मैंने अपनी जॉब छोड़ दी और एक दोस्त की मदद से मुम्बई में नई जॉब कर ली.

शाहपुरा की सेक्सी वीडियो

राहुल ने अपने लिए कपड़े ख़रीदे, लेकिन मुझे मेरे लिए वहाँ कुछ नहीं मिला क्योंकि मैं केवल सलवार सूट और साड़ी पहनती थी. नई सेक्सी वीडियो देसीपर अभी मेरा नहीं निकला था, तो मैंने फिर से उसे किस किया और किस करते करते उसकी एक पैर को कन्धे पर रखकर मेरे लंड को उसकी चूत में डाल दिया और फिर धक्के लगाने लगा.

मैंने उसके होठों पर किस करना चाहा तो उसने रोक दिया और बोली- कोई देख लेगा!पास में ही एक बिल्डिंग है जो काफी दिनों से बंद पड़ी है. सेक्सी बफ हड फुलऔर घर में भी रात को रहना ज्यादा पसंद नहीं है।भाभी ने पूछा- ऐसा क्यों?मैंने कहा- मुझे घर पर नींद नहीं आती.

मैं जैसे ही झड़ने पर पहुंची तभी परीक्षित ने चूत चाटना बन्द कर दिया और मुझे उससे थोड़ा दूर किया और खुद भी बैठ गए और रानी को उनकी तरफ खींच लिया तो मैं बिना कुछ बोले चिंटू के तरफ 69 की पोजीशन में आ गई.हिंदी में बीएफ दिखाएं बीएफ: उसने अपने होंठ मेरे होंठों पे रख कर उन्हें चूसना चालू कर दिया और दूसरे हाथ से मेरे बूब्स दबाने लगा.

मैं गोलियां खा लूँगी।उस रात को मैंने दो बार चुदाई की और सुबह जल्दी उठकर अपने काम पर लग गया। फिर ये सिलसिला ज्यादा दिन चला.मुझे और सुन्दर दोनों को पसीना हो रहा था क्यूंकि बरसात और उमस की वजह से ऐसा हो रहा था.

युगांडा सेक्सी - हिंदी में बीएफ दिखाएं बीएफ

5 इंच हो गया था। लंड मेरे पज़ामे में तंबू बन गया था। मैंने भाभी को बिस्तर पर गिरा दिया और उनके ऊपर चढ़ गया। मैंने फिर उनके होंठों को चूमना शुरू किया और दोनों हाथों से उनके मम्मे पूरी ताकत से मसलने लगा।सोनू भाभी मेरे नीचे तड़पने लगीं। वे मेरी कमर को अपने हाथों से सहला रही थीं और नाखूनों से नोंच रही थीं। भाभी इस चुदाई के आलम में ठंडी आहें भर रही थीं- आअहह.सुनीता मेरी तरह पढ़ी लिखी मैरिड लड़की है और एक ऑफिस अस्सिटेंट के तौर पे जॉब करती है.

उसके कान की लौ चुभलाते हुए मैंने उसका दायाँ स्तन कुर्ते के ऊपर से ही अपनी हथेली से ढक दिया, विरोध स्वरूप उसका हाथ मेरे हाथ पर आया और दूर हटाने को लड़ने लगा, हाथापाई करने लगा, पर जीत मेरे ही हाथ की होनी थी और हुई भी… जीत की ख़ुशी कुछ यूं जैसे मैंने वो क्षेत्र, वो प्रदेश, वो अंग जीत लिया हो. हिंदी में बीएफ दिखाएं बीएफ वो मना कर रहे हैं। मुझे कुछ शॉपिंग करनी है।तो मम्मी मुझे फोर्स करने लगीं।मैं तो तैयार ही था, फिर मैं तैयार होकर उसके साथ बाइक से निकल लिया। सिटी हमारे घर से 8 किलोमीटर दूर है। उस दिन प्रीति ने एक टाइट जीन्स और ब्लैक कलर की टॉप पहन रखा था।जब हम कुछ दूर निकल गए तो उसने मुझे अपनी बांहों में पकड़ लिया। उसने अपने चेहरे पे दुपट्टा बाँध रखा था, जिससे उसे कोई पहचान ना सके।क्या बताऊं फ्रेंड्स.

दिल में हमेशा घबराहट सी होती है। ऑफिस में काम करने का मन नहीं करता है, मगर सरकारी नौकरी है.

हिंदी में बीएफ दिखाएं बीएफ?

लंड का पानी निकलने को होता तो मैं वहीं रुक जाता!थोड़ी देर में भाभी धीरे से बोली- और तेज कर… तेज कर…और उनकी चुत ने लंड को जकड़ लिया. प्लीज़ सॉरी ना अच्छा आप बताओ मैं आपकी सब बात सुन लूँगी।टीना- क्यों सुन कर मुझ पर अहसान करेगी क्या? तू जा यहाँ से अब!सुमन ने टीना को पीछे से पकड़ लिया और उसके गालों पे किस करते हुए उससे रिक्वेस्ट करने लगी तो टीना को हँसी आ गई।टीना- हा हा हा छोड़ मुझे. बाहर तेज बारिश हो रही थी और बहुत अंधेरा भी था। बस की लाइट भी बंद थी और हल्का उजाला था.

मेडिकल शॉप से एक सेक्स वर्धक दवा ले के खा ली क्योंकि पिछली रात ही स्नेहा को दो बार चोदा था और आज रात उसकी कड़क जवान भाभी जो कि जनम जनम से लंड की प्यासी थी, उसकी भी पलंगतोड़ चुदाई करके उसकी तपती चूत को शीतल करना था. दूसरी ओर से अजय घुस आये और सीधा साराह की चूत में अपनी जीभ घुसा दी, साराह सिहर गई. अ…’ कहते हुए मेरा विरोध कर रही थी मगर मेरे हाथ को अपने लोवर से बाहर निकालने की कोशिश नहीं कर रही थी।मैं भी सही मौका देखकर धीरे से नीचे बैठ गया और साथ ही पिंकी की पेंटी व लोवर को भी एक झटके में मैंने नीचे खींच लिया जिससे पिंकी जोर से ‘अअओ.

अ…’ कहते हुए मेरा विरोध कर रही थी मगर मेरे हाथ को अपने लोवर से बाहर निकालने की कोशिश नहीं कर रही थी।मैं भी सही मौका देखकर धीरे से नीचे बैठ गया और साथ ही पिंकी की पेंटी व लोवर को भी एक झटके में मैंने नीचे खींच लिया जिससे पिंकी जोर से ‘अअओ. मेरे पति ने मुझे इंटरनेट पर दूसरे मर्दों के खूब लंड दिखाए पर मुझे उनमें कोई इंटरेस्ट नहीं था, मैं तो सिर्फ विनोद की खुशी के लिए देख लेती थी. फिर धीरे-धीरे हम सेक्स की बातें भी करने लगे, वह बहुत ही जल्दी कामुक हो जाती थी.

अब आगे:मैंने मानसी के शरीर को चूमते हुए नीचे सरकना शुरू किया और जैसे जैसे मैं नीचे जा रहा था, वो और उग्र होती जा रही थी. ! आज रात का मेरा सरप्राईज यही है!उसने ये कहते हुए अपनी दीदी आभा की ओर इशारा किया।अब मैं थोड़ा होश में आया, मैं खुश तो था पर मैंने कहा- पहली बात तो ये है कि मैं तुम्हें कल्पना ही कहूँगा। और मुझे ये समझ नहीं आ रहा है कि अगर आभा सब जानती है तो फिर स्कूल के सामने इसने मुझे पहचाना क्यों नहीं? और यहाँ कोई नहीं रहता या आज ही नहीं है। वो प्यारा सा बच्चा भी तो था ना.

मैंने स्नेहा की कमर के नीचे से सलवार खिसकाई तो उसने भी सहयोग देते हुए कमर को ऊपर उठा कर सलवार नीचे से निकल जाने दी.

मैंने निचोड़ दिया या तेरे इस चोदू घोड़े के लन्ड ने मेरी फुद्दी को चोद-चोद कर दो-दो बार पानी निकाल दिया… उफ़ बहुत जालिम चोदू है यार…’ सोनिया धीरे से मेरे ऊपर से उतर कर बराबर में लेट गई।‘पर राजा… आज तेरे ऊपर चढ़ कर चोदने असली जवानी की चुदाई का मजा आ गया… जैसे मेरे सपनों की चुदाई थी… मैं हमेशा ऐसी चुदाई के बारे में सोचा करती थी.

आआआ… ह्ह्हहह…’ करके चिहुँक पड़ी और दोनों हाथों से अपने लोवर पेंटी को पकड़ने की कोशिश करने लगी, मगर तब तक वो उसके घुटनों तक उतर चुके थे. मित्रो लड़की के बूब्स के बाद उसकी चूत ही ऐसा अंग है जिसे देखने छूने की हसरत हम सभी की होती है. दोस्तो, मैं आप सभी के सामने इस चुदाई स्टोरी के जरिये अपनी सेक्स लाइफ खुली कर रहा हूँ.

‘देखो स्नेहा, जब बात चल ही पड़ी है तो मैं तुम्हें सब डिटेल्स में समझा दूंगा लेकिन प्रॉमिस करो कि मेरी किसी बात का बुरा नहीं मानोगी?’ मैंने उसे प्यार से कहा. मैंने देखा कि माँ अपने हाथों से आलोक के लंड को ऊपर नीचे कर रही थी, माँ ने अपनी साड़ी खोल दी और अपने ब्लाऊज निकाल कर चूची नंगी कर ली. नहीं तो कहोगे कि बातों में लगाकर मैंने ही आपको जाने के लिए लेट कर दिया।गुलशन- अरे चाय तो ठीक है.

एक घंटे बाद रूम का फोन बजा… विवेक और साराह बाहर आ रहे थे, अजय ने फटाफट बरमूडा और टॉप और रूबी ने एक फ्रॉक डाली और दोनों बाहर आ गए.

वहाँ जाकर लेटो। चलो अंधेरे में आपको रास्ता नहीं मिलेगा, मैं आपको आपकी खटिया तक छोड़ देती हूँ।इतना कहकर मीना ने मेरा हाथ खींचकर मुझे उठाया और बोली- चलो भी, इतना क्यों शर्माते हो।अब उसने मुझे झोपड़े के पीछे खटिया पर लगाये गए बिस्तर पर ले जाकर बिठा दिया।मीना बोली- अब मैं तो चलती हूँ जीजा जी अपना ख्याल रखना. उन्होंने मुझे जब देखा तो स्माइल देते हुए कहा- मुझे लगा कि तुम नहीं आ रहे!मैंने कहा- आना तो मुझे था ही, जरुरी काम जो है. साफ नजर आने लगा था कि डबल एनल मेरी पत्नी को खासा पसंद आ रहा था, और वैसे भी मेरी धर्मपत्नी कभी भी दकियानूसी ख्यालातों में विश्वास नहीं रखती, उसे प्रयोगात्मक सेक्स बहुत पसंद है, उसका कहना है कि लंड लेने में कभी कोई नहीं मरता, वो तो सिर्फ जिंदगी दे ही सकता है.

जब वो बैठ गई, तो रामू काका बोले- अबे भोंसड़ी के, कोई बच्ची नहीं बैठी है तेरी गोद में, एक जवान औरत बैठी है, उसे छू कर देख, अपने ये बड़े बड़े हाथ उठा और उसके बदन को दबा कर सहला कर देख!मैं कुछ कहता इस से पहले ही गीता ने मेरा हाथ पकड़ा और अपने सीने पे रख लिया और अपने हाथ से मेरा हाथ दबाया, जिससे मेरे हाथ से उसका बोबा दाब गया. मुझे उस इन्सान का चहेरा साफ़ नहीं दिखाई दे रहा था तो मैं साइड से एक पेड़ के सहारे देखने लगी. अम्मा की बात सुन कर मैंने हाथ मुंह धोये और बैठक में बैठ गया जहाँ अम्मा मुझे चाय दे कर फिर काम में लग गई.

कुछ लड़कियों से दोस्ती हुई जो अभी अभी जवानी में प्रवेश कर रही थी, कुछ अकेली लड़कियों से तो कुछ शादीशुदा भाभियों और आंटियों से मेरी अच्छी दोस्ती हुई.

मैंने आसमान की तरफ देखा तो गर्मियों की शाम लाल रोशनी की चादर ओढ़े हुए आसमान को अपने आगोश में लेती हुई दिखाई दे रही थी. वो नहीं बताना चाहो तो मत बताओ लेकिन इतना तो बता दो कि अपने इस अंग से खेलते खेलते तुम्हें लास्ट में कैसा फील हुआ था? जैसे उस वीडियो में उस लड़की की योनि से रस की फुहारें छूटती हैं वैसी ही पिचकारियाँ तुम्हारी चूत से भी …सॉरी चूत नहीं तुम्हारी योनी से भी निकली थीं?’मैंने चूत शब्द जानबूझ कर कहा था.

हिंदी में बीएफ दिखाएं बीएफ थोड़ी देर हम ऐसे ही एक-दूसरे से लिपटे रहे और एक-दूसरे की पीठ पर हाथ फेरते रहे. इससे उनका भी जोश बढ़ गया और साहिल अभी तक धीरे-धीरे धक्का लगा रहे थे, अब थोड़ा जल्दी जल्दी आगे पीछे होने लगे और मेरी भी कमर तेज तेज चलने लगी।अब मैं अपनी जलन और दर्द को भूल चुकी थी और मेरे चूत के अन्दर जो चक्की चल रही थी मैं उसका आनन्द लेने लगी.

हिंदी में बीएफ दिखाएं बीएफ उसका तगड़ा शरीर, उसका सेक्स करने का जोश देख कर मैं उसका गुलाम हो गई थी, उसके लंड की, उसके गंदे बोलने की मुझे लत लग गई थी. मैंने उसे गोद में उठा कर बिस्तर पर पटका और उसकी टाँगों के बीच में आ गया.

वहाँ पर मेरे साथ काम करने वाले एक दोस्त आलोक है, आलोक ने मुझे पूछा- क्या बात है अशोक, तेरा ध्यान कहीं और है… तबियत तो ठीक है न?मैं ये बात आलोक को कैसे बताता, मैं चुप रह गया, मन में सोचा कि शाम को जाकर चाची से माफ़ी माँग लूँगा.

सेक्सी वीडियो सेक्सी एचडी सेक्सी

शराब का घूंट लेते हुए मेरी तरफ आगे बढ़ी और मुझसे बोली- अब तक कितनी लड़कियों को चोद चुके हो?इससे पहले मैं कुछ बोलता, ‘सॉरी यार! एक मिनट रूको. मैं छब्बीस का था। फिर वे मेरी पैन्ट के ऊपर से चूतड़ों को सहलाते-सहलाते दोनों चूतड़ों के बीच अपनी उंगली रगड़ने लगे।मैं जानबूझ कर बटन धीरे-धीरे लगाता रहा, फिर वे उंगली करने लगे।उसके बाद मेरे चूतड़ मसलने लगे और बोले- मस्त. कुछ देर बाद वो उठी और अपनी चुत को पेटीकोट से साफ़ करके सोफे पर मेरे बगल में बैठ गई.

’वो चूचे हिलाते हुए बर्तन धोती रही और मैं उनकी चूचियों का मजा लेता रहा. पर अभी हमारा दर्द बन्द नहीं हुआ था और दोनों फिर से दर्द से कराहने लगीं, और दोनों के फिर से आँसू निकलने लगे थे, हम दोनों रोती हुई हमारी गांड को चुदवा रही थीं और चीख भी रही थीं- आअह्ह्ह आःह्ह्ह आह्ह्ह्ह्ह् आआह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह्ह आःह्ह्ह आह्ह्ह अहह ऊओह्ह्ह ऊओह्ह्ह उम्मन आह्ह्ह आअह्ह्ह आअह्ह्ह प्लीज धीरे चोदो बहुत दर्द हो रहा है, आह्ह्ह अहह आअह्ह. वो मुस्कुराई।मैंने उसके गाल पर किस किया और उसने मेरे गाल पर किस किया।बस मुझे इशारा मिल चुका था.

आजा चूस ले।उसने मेरा हाथ अपनी चुची पर रखा तो मैंने मसल दी।उसने कहा- आउच आराम से दबा राजा!मैंने चुची की घुंडी मरोड़ी तो सिसिया दी- उफ़फ्फ़ आउच.

मगर ये जानना बहुत ज़रूरी है। उन दोनों के बीच सम्बन्ध कैसे हैं आज से तू रोज रात उनके कमरे में कान लगा कर सुनेगी। वो क्या बातें करते हैं, उनके बीच सेक्स होता है या नहीं, एक दिन नहीं. बदन पर कहीं भी प्यार करो, चूमो या सहलाओ लड़की की चूत इन अठखेलियों का स्वतः संज्ञान ले लेती है और गीली हो जाती है, लंड के स्वागत के लिए उसका प्रवेश सुगम बनाने के लिए रस का सिंचन करने लगती है. मेरा पानी पूरा उसके लंड और गोटियों पर गिर गया।मैं संतुष्ट हो चुकी थी.

मैं चुपचाप गाड़ी में बैठ गई और ऋषि का दोस्त, जिसका नाम अंशुल था, आगे की सीट पर ड्राइवर के साथ बैठ गया. तुम मेरे होंठों को कम से कम तीन मिनट तक चूम सकते हो। मेरे मम्मों को जितना चाहो उतना दबाकर मसलकर अपने अरमान निकाल सकते हो. थोड़ी ही देर बाद दरवाजे की घण्टी बजी, मैंने दरवाजा खोला और देखा तो चिंटू और परीक्षित दोनों थे, हमने उन्हें अंदर बुलाया जैसे ही वो अंदर आये रानी तुरन्त चिंटू को हैप्पी बर्थडे बोल कर उनके होंठों पर किस करने लगी, तभी परीक्षित ने उन दोनों को अलग किया, उसके बाद मैंने भी उनको होंठो पर एक लम्बी किस देकर उन्हें बर्थडे विश किया.

क्या बात है तू इत्ती सी तो है और कॉलेज भी आ गई, वैसे तेरी एज क्या है?टीना- अबे चुप साले. अच्छी तरह से छेदों को अपनी जीभ से नर्म करने के बाद, राजू ने अपनी दो-2 उँगलियों को अपने भाई की पत्नी की गांड में घुसेड़ कर उसे रवां किया और फिर पहली बार भाभी की प्यासी चूत में अपना फनफनाता हुआ लंड घुसेड़ कर चोदना चालू कर दिया.

मैं छब्बीस का था। फिर वे मेरी पैन्ट के ऊपर से चूतड़ों को सहलाते-सहलाते दोनों चूतड़ों के बीच अपनी उंगली रगड़ने लगे।मैं जानबूझ कर बटन धीरे-धीरे लगाता रहा, फिर वे उंगली करने लगे।उसके बाद मेरे चूतड़ मसलने लगे और बोले- मस्त. इस वक़्त मैं भी रात की सारी घटना को भुलाकर बस इस पल का आनन्द लेना चाहता था. मेरी सेक्स स्टोरी में आपने अब तक पढ़ा था कि चचिया ससुर बहू सेक्स के बाद उन दोनों की बच्चे को लेकर बात चल रही थी।अब आगे.

ये तो उसका लंड ही जैक हैमर है तो वो बेचारा क्या करे!!! कोई बात नहीं राजू.

अंकल का लंड आधा अन्दर चला गया था। इधर अंकल ने आंटी की दोनों चूचियां दबा रखी थीं, साथ ही मुँह बंद कर रखा था। उसके बाद करीब 5-7 धक्कों में ही आंटी की चुत में पूरा लंड अन्दर कर दिया था।अब तो आंटी मस्त होकर चुत चुदाई करवा रही थीं. ‘देखो गुड़िया बेटा, तुम्हारे बदन के हार्मोन्स कामरस बहुत ज्यादा बनाते हैं और वो तुम्हारी इसमें भरा पड़ा है. दिल में हमेशा घबराहट सी होती है। ऑफिस में काम करने का मन नहीं करता है, मगर सरकारी नौकरी है.

तो मां ने कहा- ठीक है, अगर तेरा मन नहीं लग रहा है तो हम आज ही शाम को वापस घर चल पड़ेंगे. इन्होंने तुझे मेहमान बनाकर भगवान की पूजा की तरह सेवा की है और तू इन्हें ही धोखा देना चाहता है, नहीं.

उसकी पतली कमर किसी को भी दीवाना बनाने के लिए काफ़ी थी और उसकी पैंटी का उभार साफ दर्शा रहा था कि अन्दर चुत किसी डबलरोटी जैसी फूली हुई है।टीना- वाउ अब लगी ना हमारे टाइप की. ’सचमुच पत्नी को अपने बेस्ट फ्रेंड के साथ शेयर करके आज सेक्स करने में बहुत मजा आ रहा था।अमिता की गांड और चूत में दोनों तरफ से दो लंड फिट हो चुके थे और अमिता हम दोनों मर्दों के बीच हो गई थी, सैंडविच बन गई थी, वो दर्द से कलप रही थी।अब अमिता को भी बहुत मजा आ रहा था और शायद थोड़ा दर्द भी हो रहा था. उसके बाद जो हुआ उससे मुझे समझ में आया कि इन दोनों ने यह लव बेंच क्यों बनाई है.

सपना भाभी के सेक्सी फोटो

दिन में मैं अपने दोस्त के साथ होता, तब मैं बात करता था और रात को मेरा दोस्त मेरी बात आगे जारी रखता था.

नहीं फिर से तुझे इसे चूस के ठंडा करना होगा और अबकी बार ये जल्दी नहीं पानी छोड़ेगा समझी. यह कह कर उन्होंने मेरे चूचे दबा दिए और कहा- कोई अच्छी सेक्सी सी ड्रेस पहन कर आओ. मैंने रीना रानी के मस्त निप्पल्स को ज़ोर से भींचा और निप्पल्स से ही घसीटते हुए इतनी ज़ोर से अपनी तरफ खींचा की फूल सी कोमल रांड खींचती हुई मेरे कंधे से टकराई.

इस बीच चाची मेरे लंड पर हाथ ले जा कर सहलाना शुरु कर दिया था, उसने पैन्ट का जीप खोल कर लंड बाहर निकाल लिया और हाथ में लेकर सहलाते हुए बोली- वैसे तेरे बाप के लंड में तो दम नहीं है, उसका तो सबसे छोटा है, तेरे माँ को एक बेटा नहीं दे सका, तब तेरे चाचा ने तेरी माँ को चोदा, तब तू पैदा हुआ. ‘आइये आइये रेखा जी… आपका हमारे बेडरूम में स्वागत है… आइये यहाँ मेरे बगल में तशरीफ़ रखिये. सेक्सी ब्लू फिल्म देसी वीडियोसंजय तो कॉलेज से आकर पूजा के साथ मज़ा ले रहा था, साथ में आप भी मज़ा ले रहे थे। अरे भाई सुमन भी तो कॉलेज से वापस आई है.

जब वो झुकती तो उनके भारी बूब्स दिख जाते, मैं नज़र भर कर उनको देखता. उसकी गान्ड मैंने दोनों हाथों से चौड़ी करके योगिराज उसकी गान्ड के छेद पर टिका दिया और मोहन को इशारा किया तो मोहन ने पीछे से कोमल के कंधों से दबाव दे दिया.

हैलो मित्रो, मेरा नाम योगू है मैं एक स्टूडेंट हूँ और महाराष्ट्र से हूँ. करीब 6 बजे मैं उठा, टॉयलेट जाकर आया तो देखा मामी नहा कर दूसरे रूम में शीशे के सामने अपने बाल संवार रही थी. अजीब सी खुशी थी उसकी आँखों में… उसने मेरी आँखों में देखा और मुझे आँख मारी.

अब हम दोनों सम्पूर्ण नग्न अवस्था में थे और एक दूसरे को खा जाने की तैयारी में थे. तो मेरी मोना रानी जो औरत अपने पति के अलावा किसी पराए मर्द के साथ सोती है ना. अब मैं आंटी के बारे और भी कॉन्फिडेंट हो गया और उनके बारे मैं सोचकर अपना लंड हिलाने लगा.

उन्होंने मुझे देखते ही गले लगाया, गले लगते ही मेरे सीने से उनके बूब्स टच हुए, मेरा लण्ड तो झटका मार के खड़ा हुआ और वो शायद मौसी ने महसूस कर लिया, थोड़ी स्माइल दी और कहा- आ गया तू? अब टाइम मिला है मौसी से मिलने का?मैंने कहा- मौसी, सॉरी थोड़ा लेट हो गया!उन्होंने मुझसे चाय पानी पूछा और कहा- अब कहीं मत जाना, तुझसे बहुत सारी बातें करनी हैं.

मैंने दूसरे हाथ से उसकी पटियाला सलवार का नाड़ा खोला और इससे पहले मैं उसकी सलवार को उसके जिस्म से अलग करता, उसने मेरे हाथों को पकड़ा और मुझे सवालिया निगाहों से देखते हुए बोली- कुछ होगा तो नहीं ना जान?मैं- जो हो चुका है, उससे ज्यादा कुछ नहीं होगा मानसी. तो रोज तेरे लंड को इस गरम चूत में लेती।मैंने कहा- अभी तो चुदाई के मज़े लो डार्लिंग।मैं ज़ोर-ज़ोर से आंटी को चोदने लगा।तकरीबन बीस मिनट तक यही सब चलता रहा। अब पनवेल आने वाला था सो मैंने ज़ोर से धक्के लगाने शुरू किए और आंटी से कहा- मेरा दूध कहाँ निकालूँ?आंटी ने कहा- अन्दर ही निकाल दो, मुझे बच्चे होने का अभी कोई डर नहीं है।कुछ ही धक्कों में मैंने आंटी की चूत को रस से भर दिया।वो बहुत खुश हो गई थी.

मुझे भी पता नहीं चला। थोड़ी देर बाद मुझे थोड़ी गर्मी लगी तो मैंने मुश्किल से थोड़ी आँख खोली तो मुझे शॉक लगा कि सुनयना भाभी मेरे पैर के पास सिर्फ ब्रा और पैंटी में बैठी थीं. पेंट नीचे खिसकाया उसका अंडरवियर नीचे खिसकाया।अब वह खुद उल्टा पलट गया तो मैं उसके ऊपर चढ़ गया। इधर-उधर देखा कहीं कोई नहीं था। मुझे तेल क्रीम न दिखी. लेकिन तुम इधर से मेरे कमरे में चलो, तब मैं तुम्हें वो काम बताती हूँ।फिर मैं शीना आंटी के साथ उनकी पतली कमर और बड़ी सी गांड को देखता हुआ उनके कमरे में चला गया।शीना- अच्छा तुम मुझे एक बात बताओ जो सब तुम थोड़ी देर पहले टीवी पर देख रहे थे, क्या तुम वो सब कुछ उसी तरह से कर सकते हो?तभी मैं यह बात सुनते ही स्वर्ग में पहुंच गया और मैंने कहा- हाँ क्यों नहीं, आप एक बार मुझे आजमा कर देख लो.

बैडरूम के की-होल से पेंटर हमें देख रहा था और हमारी बातें सुन रहा था. ये ग़लत है?मैं बिना कुछ सुने बस उनको किस करता रहा और उनके मम्मे मसलता रहा और उनकी मस्त नंगी गांड में धक्के लगाता रहा।अब वो भी आपे से बाहर हो चुकी थीं. राजे ने मेरे चूचे देख के एक ज़ोर की किलकारी मारी- जूसी रानी, जूसी रानी, देख बहनचोद अपनी बहन के चूचे… हैं न दिल को लुभाने वाले! हरामज़ादी का साइज 42 डी से कम न होगा… जूसी रानी, तुम दोनों बहनों ने दुनिया के बेहतरीन चूचे ले लिए भगवान से… दोनों के दोनों बदजात रंडियाँ… छू के देखता हूँ.

हिंदी में बीएफ दिखाएं बीएफ मम्मी पापा, बाजू वाले शर्मा जी का ऑपरेशन हुआ था तो जिला अस्पताल में उन्हें देखने गए थे. मैंने अंजलि की बुर के दोनों होंठों को फैलाया और अंदर का भाग नजर आया, बिल्कुल गुलाबी हल्के गुलाबी रंग का, उफ्फ्फफ्फ्फ़ क्या नज़ारा था… और बुर को चाटने का मेरा मन किया।और फिर अपनी जीभ अंजलि की बुर पर छुआ दी हल्के से!अंजलि तड़प उठी, वो ना चाहते हुए भी नीचे से बुर को ऊपर को उठाने लगी आह्ह्हह्ह.

हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू सेक्सी

कुशल बोला- हाय… काश हम फूल होते…उसका मतलब समझकर निष्ठा ने हंसते हुए उसे भी किस कर लिया और किचन में भाग गई क्योंकि उसे मालूम था कि अब अगर वो रुकी रही तो तबला बज जायेगा. मैंने दांतों को भींच कर सारा दर्द बर्दाश्त कर लिया।आकाश ने अपने लंड को चुत में अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे अब मुझे अच्छा लगने लगा. पहले तो वो थोड़ी डरी और फिर हाँ कर दी और कहा- तुम्हारे लिए तो जान भी हाजिर… गांड क्या चीज है!फिर मैंने मौसी की गांड भी मारी.

तो मां ने कहा- ठीक है, अगर तेरा मन नहीं लग रहा है तो हम आज ही शाम को वापस घर चल पड़ेंगे. एक बार तो सोचा ऋषि को फोन करके बुला लूँ, वैसे भी अब नाराज़ हुए काफ़ी दिन हो गये थे, पर फिर सोचा छोड़ो. जापानी सेक्सी वीडियो चाहिएतब मेरी बीवी ने कहा- लंड को थोड़ा गीला करो!तो मैं अपना लंड बीवी मुंह के पास ले गया, वो मेरा लंड मुंह में लेकर लोलीपोप की तरह चूसने लगी और गीला कर दिया.

लेकिन किस्मत ने जब जिससे जहाँ मिलना होता है, मिला देती है और शायद किस्मत को ऋषि को मुझसे मिलना था.

खैर रामू काका और गीता ने मिल कर खाना बनाया, खाया हम तीनों ने, क्योंकि मुझे खाना पकाना नहीं आता था. मेरी जानेमन, वो भी तो आखिर मानव अंग का ही छेद है, तो फिर होगा क्यों नहीं.

पहली बार वो किसी मर्द के पहलू में यूं बैठी थी और मर्दाना हाथ उसकी कामनाओं को जगा रहे थे. रेशमा- अरे हमें क्यों बीच में ला रही हो? तुम लोगों को नहाना है तो नहा लो!दीपा ने तभी उसके कान में कहा- अरे रेशमा, इतना अच्छा मौका मैं नहीं छोडूंगी. मैं हक्का बक्का उसे ऐसे ही देखता रहा और वो भी कामुकता भरी नजरों से कुछ देर ऐसे ही देखकर फिर से मुझे किस करने लगी, मैं फिर से उसके मम्मों को कपड़ों के ऊपर से ही मसलने लगा.

मेरी यह सेक्सी कहानी है मेरी ऑनलाइन दोस्त सुनीता की! सुनीता मेरी अन्तर्वासना सेक्सी कहानी की फैन है, और अक्सर मुझसे फ़ोन पे और चैट पे सेक्स करती है, मेरी हर कहानी पढ़ने के बाद मुझे फ़ोन करके उसकी तारीफ़ जरूर करती है.

रगड़ दे साली गांड को ढीली करके फेंक दे, लंड के लिए बहुत मचलती है।वह बोला- यह भी नहीं कर सकता, अगर तू खुद तैयार न होता तो तेरी गांड में लंड पेलना मुश्किल है। जब तू गांड सिकोड़ता है तो लगता है लंड कट जाएगा। बहुत ताकत है. जीजू सच में चूत को चूसने का बड़ा रसिया था और शायद उन्हें लंड पेलने से ज्यादा चूत को मुँह से ख़ुशी देने में ज्यादा मजा आता था. करीब 20 मिनट के बाद मेरा पूरा लंड अन्दर घुस गया था।आंटी दर्द से मचल रही थीं।फिर मैंने अपना पूरा लंड बाहर निकाला और एक जोर का शॉट मारा। मेरा लंड फिर से आंटी की गांड में पूरा अन्दर घुस गया।आंटी एकदम से उछल पड़ीं और बोलीं- ओह.

सेक्सी वीडियो बेटे ने मां को चोदा30 की ट्रेन से जयपुर के लिए निकल गया, 10 बजे जयपुर पहुँच गया, 11 बजे उस के दिए एड्रेस के अनुसार उसके घर के नजदीक पहुँच गया. गांड तो तुम्हारी मैंने फाड़ ही दी है।वो गुस्सा हो गईं और बोलीं- अपना लंड मेरी गांड से निकालो।मैं उनकी बात को अनसुना करते हुए जोर-जोर से धक्के मार रहा था और वो दर्द से तड़फते हुए छूटने के लिए असफल कोशिश कर रही थीं.

लड़का के सेक्सी

मन किया साली की चुत चाट लूँ।संजय- मेरी जान मैं तो उसको पहली बार देख कर ही समझ गया था, इसी लिए ये गेम खेला. ?? वैसे ठंड के दिनों में धूप अच्छी ही लगती है पर आपको सोना हो और धूप सीधे आपके चेहरे पर पड़े तब ठंड की धूप भी नहीं सुहाती।फिर मैंने आंखें मलते हुए नजर दौड़ाई. चुची चूसने के बाद मैं उसकी चुत में उंगली करने लगा, उसको बहुत मजा आ रहा था, निकिता बोली- मुझे अभी चोदो… मैं नहीं रह सकती!तो हम मूवी बीच में छोड़ कर अपने रूम पर आने लगे.

चाची आगे बोली- देख अशोक, तेरे चाचा महीने में कभी कभी ही आते हैं जिससे मेरी वासना बहुत प्यासी ही रह जाती है, देख अशोक, तूने वो कमी पूरी कर दी है… तू शर्मिन्दा नहीं हो… अब तू रोज आकर अपनी चाची को चोदा कर!मैं चाची को और वासना की नजर से देखने लगा, चाची मुझे और सेक्सी दिखने लगी. मुझे गांड में तेरा माल डलवाना है।तो मैंने उससे कहा- ओके।मैंने कंडोम को निकाल दिया और अंजलि की गांड पर और जैल लगा कर थोड़ी उंगली अन्दर डाली।तो अब भी वो ‘अअह. ऐसा करने में जितना आनन्द मुझे आ रहा था शायद उस से कहीं ज्यादा मामी को आ रहा था.

क्या मस्त कयामत लग रही थी। उसने घुटनों पर बैठ के मेरा लंड पकड़ लिया और चूसने लगी। वो लंड पकड़ कर ‘उउऊँ अहह ईईहह. वरुण मेरे ऊपर था इसलिए वो मेरे पति को देख नहीं पाया था!अब वरुण ने मेरे दोनों पैर हवा में उठा कर अपने कंधे पर रख लिए और जम कर मेरी चुदाई करने लगा. लो पहले मैं ही अपना खोल लेता हूँ।ये करके वो पूरा नंगा हो गया। मैं उसके लंड की चुभन को महसूस कर पा रही थी।मैंने कहा- रूको.

मौसी ने हमारे लिए रिक्शा का बंदोबस्त किया ताकि वो हमें बस स्टैंड तक पहुंचा दे. मोना रानी के शब्द आरम्भ:पाठकों की सेवा में मोना का नमस्कार! यह कहानी रेखा की है इसलिए वही इसकी हेरोइन है.

मेरी मलाई थोड़ी थोड़ी नमकीन है जबकि लौड़े वाली मलाई का स्वाद कुछ अलग सा होता है.

फिर भाभी मुझे आँख मारते हुए हंस कर बोलीं- आज रात भर में मेरा दर्द दूर कर दो. शादी की पहली रात सेक्सीकोई देखता तो उसे ऐसा लगता कि कई लड़कों ने मुट्ठ मार के लावा बिखरा दिया है. सेक्सी क्राइम अलर्ट दिखाइएमगर उसके पीछे एक तो दीवार थी और दूसरा मैं उसके नितम्बों को पकड़े हुए था इसलिये वो पीछे नहीं हट सकी. रानी ने कमर आगे की तरफ झुकाते हुए खुद को मेरे से चिपका लिया, उसका सिर मेरी ठुड्डी पर टिका था और चुची मेरी छाती को दबा रही थी.

चलो कुछ नहीं करूँगा, मुझ पर विश्वास करो।मैंने बोला- ठीक है अंकल चलो।हम दोनों उनके घर पर चल दिए। वो किसी बिल्डिंग में रहते थे, उनका घर भी बहुत अच्छा था।फिर उन्होंने मुझे बैठने को कहा और में उनके सोफे पर बैठ गया। वो मेरे लिए एक गिलास पानी लाए और बोले- कैसा लगा घर?मैंने बोला- अंकल आपका घर तो बहुत अच्छा है.

एक हाथों से लेफ्ट वाला दबा रहा था और दूसरी साइड वाले को अपने मुँह में लेकर प्यार से खा रहा था. स्वाति मुझे अपने पति से भी मिला चुकी थी क्योंकि हम दोनों अच्छे दोस्तों की तरह ही थे, कभी किसी के मन में कुछ गलत नहीं था. उधर रयान और ऋषिका चिपटे पड़े थे, निष्ठा का फोन देख कर रयान चौंका, फोन तो उठाना ही था, उसने ऋषिका को आहिस्ता से अलग किया और फुसफुसा कर कहा- निष्ठा का फोन है…ऋषिका रयान से चिपटी हुई थी… वो भी झटके से अलग हुई और रयान की छाती पर उसके बालों से खेलने लगी.

खाना खाने के बाद पति ने पेंटर को बोला- मोहन काम जल्दी खत्म करो!‘हाँ साहब, लेकिन क्या करें, आदमी लोगों का प्रॉब्लम है, देखता हूँ नहीं तो नाईट शिफ्ट में भी काम करता हूँ. सुमन तो अब शराफत के रास्ते से हट ही रही थी मगर इन दो दिनों में उसके साथ कोई खास बात नहीं हुई. मगर आप कोई हरकत ना करना, और उसका क्या हुआ वो किसी को कुछ बता ना दे?काका- मैंने उसका बंदोबस्त कर दिया.

की चुदाई सेक्सी फिल्म

तभी संजय ने कहा- क्या नाम है आपका?मैं कुछ बोलने ही वाली थी कि मेरे शौहर ने कहा- सबा!फिर पूछा- क्या करने आई हो, पता है?मेरे शौहर ने कहा- इसे रंडी बनाना है, इसे आज अपनी रंडी समझ कर इतना चोदो कि इसकी चूत और गांड दोनों खुल जायें!गांड का नाम सुनते ही मैं चौंक गई क्योंकि मैंने आज तक कभी गांड नहीं मरवाई थी. भाभी साड़ी को निकालते हुए बोलीं- हाँ बात तो सही है मैं ब्लाउज भी उतार देती हूँ. वो अब उसकी महकती खुशबू में खो गया और अपना संतुलन खो बैठा। उसने मोना को अपनी बांहों में ले लिया और जल्दी से उसके होंठों को चूम कर अलग हो गया।मोना- हा हा हा हा तुम एकदम से पागल हो.

अब 5 दिन बीत चुके थे और आज गुरुवार था और सोमवार को फीस भरने की आख़िरी तारीख थी.

रामू काका बोले- अरे घंटे की माशूक है, साली लंड की यार है, इसके खसम से कुछ बनता नहीं है, तो मेरे पास आ जाती है.

अजय बोला- साले गाड़ी की सीट गीली हो जाएगी, बाहर निकाल कर धो!अजय के दोस्त ने मेरे हाथ पकड़ कर मुझे गाड़ी से बाहर निकाला और मेरी चुत पर पानी डाल कर धोने लगा, फिर अजय ने मुझे गाड़ी के बाहर से ही अंदर सीट पर झुका कर मुझे घोड़ी बना दिया और अपना लंड मेरी चुत में पीछे डालने लगा. लेकिन राहुल ने मुझे जींस, टॉप और शॉर्ट्स दिलवाए, बोला- आप यहाँ तो ये सब पहन सकती हो! आप पर ये कपडे अच्छे भी लगेंगे. सेक्सी वीडियो प्रमोदअब यश ने मम्मी को नीचे उतारा और एक पेड़ के सहारे खड़ा करके एक टांग उठा के चोदने लगा.

तो मुझे बोल देती मैं तेरी मदद करने मॉंटी को भेज देती।सुमन- क्या दीदी आप भी ना सुबह सुबह ये सब लेकर बैठ गईं। मैं तो वैसे ही पापा की वजह से परेशान हूँ।टीना- क्यों क्या हुआ? तेरे पापा ने कुछ कहा क्या तुझे?सुमन ने रात की बात बताई और अपने पापा के विचार भी बताए जिसे सुनकर टीना सोचने लग गई, फिर उसे एक ख्याल आया।टीना- यार तू बुरा मत मानना. पतली कमर थी, पास में खड़ी बड़ी मस्त लग रही थी।वो धीमी आवाज में बोली- लो जी, पानी पी लो।और उसने गिलास मेरे हाथ में थमा दियारात अंधेरी थी. मौसी की चुदाई की मेरी सेक्सी कहानी आपको कैसी लगी, मुझे मेल करें![emailprotected].

धीरे धीरे मैंने धक्कों की गति तेज कर दी, तेज धक्कों के साथ जेसिका भी तेज तेज सिसकारियाँ ले रही थी ‘आआह्ह आअह्ह आआ अह्ह आआह आअस्स स्फ़फ़्फ़्. पतिव्रता बीवी की चुदाई गैर मर्द से करवाने की तमन्ना-5अब तक आपने मेरी बीवी की चुदाई स्टोरी में पढ़ा था कि मेरी बीवी संजू ने गुप्ता जी के लंड के आगे वाली चमड़ी को पीछे किया, पीछे करते ही एक अजीब सी दुर्गंध पूरे कमरे में फैल गई।अब आगे.

पर अभी आंटी की चुत ठण्डी नहीं हुई थी।फिर आंटी ने मुझे इशारा किया तो मैंने जल्दी ही उनके चुत पर अपना लंड रखा और धक्के देने लगा।दस मिनट बाद मेरा भी माल निकलने वाला था तो आंटी से पूछा कि कहाँ निकालूँ?तो उन्होंने कहा- मेरे मुँह में गिरा दे।मैंने जल्दी से उनके मुँह में मेरा लंड दे दिया और हाथ से हिलाने लगा.

मैं छुपकर देखने लगी।तभी अचानक से डिलीवरी बॉय की आवाज़ आई, वो भाई को मैडम बोलकर बुला रहा था। इसका मतलब उसको लग रहा था कि भाई लड़की है।अब मुझे सारी बात समझ में आई कि भाई ने मेरे कपड़े क्यों पहने हुए हैं। फिर मैं चुपचाप सब देखने लगी।उसके बाद मुझे भाई की आवाज़ आई। वो बिल्कुल लड़कियों की तरह बोल रहा था।उसने कहा- भैया मेरे पीरियड्स चल रहे हैं. पर वो यहीं नहीं रुकी, 5 मिनट तक उसने मेरे लंड को चूसा और फिर मुझे किस करने लगी. उसने अभी तक वही साड़ी पहनी हुई थी।वो मस्ती में अआ ईईई उम्म्ह… अहह… हय… याह… उउऊ जैसी कामुक आवाजें निकाल रही थी।अब मैंने उसकी साड़ी को उसके बदन से अलग क़र दिया.

भोजपुरी सेक्सी भोजपुरी सेक्सी गाना थोड़ी देर मुझे किस करने के बाद उसने मुझे अलग किया और पूछने लगी- चिंटू कितनी देर में आएंगे?मैं- थोड़ी देर में आ जायेगा. तो मैंने मना कर दिया।आदित्य ने कहा- सोनाली जी… मुझ पर विश्वास रखिये… और आपको दवा की जरूरत है… आपके साथ वाले लोग भी बाहर गए हुए हैं और आप बिल्कुल अकेली हैं तो इसी बहाने हम लोग थोड़ी और बातें कर लेंगे।आदित्य के ज्यादा जोर देने पर मैंने उसे कहा- आदित्य आप सेकण्ड फ्लोर पर मेरे ही रूम में आ जाइये… तब तक मैं अपने कपड़े भी चेंज कर लूँगी।आदित्य वहाँ से उठकर अपने रूम में चला गया और मैं अपने रूम में आ गई.

मैं थोड़ी देर रुका, फिर उसके बूब्स चूसते हुए चोदता रहा, वो मज़े लेकर चुद रही थी।फिर मैंने उसको डॉग पोजीशन में किया और पीछे खड़ा होकर के लंड डाल दिया, एक बार फिर उसको दर्द हुआ पर सहन कर गई. फिर तुझे लंड महाराज के दर्शन भी करवा दूँगा।इतना कहकर संजू ने उसकी ब्रा निकाल दी. ’ जूसी ने कहा- रेखा यह वाइन ले… एक सिप ले, मुंह में घुमा और राजे के मुंह में डाल दे… उसके बाद ये तेरे होंठ चूसेगा.

सेक्सी ब्लू फिल्म ट्रिपल एक्स

फिर निकाल कर लंड पर खूब सारी वैसलीन मली और थूक लपेट दिया। अब मैंने अपना लंड उसकी गांड पर टिकाया। लंड टिकाया ही था कि वह गांड ढीला-कसती करने लगा। मैंने कहा- थोड़ी देर ठहर. सोना भाभी मुझसे दूर होकर खड़ी हो गईं। घड़ी में रात के 12:30 बज रहे थे।भाभी के बाल गीले थे. उसके बदन में एकदम से हलचल सी मच गई- हाय… राजे… हाय… अब और न तड़पाओ…उसने मुंह भींच के बड़ी मुश्किल से आवाज़ निकाली और फिर एक गहरी सीत्कार भरी.

वह अब मेरे छाती के ऊपर आ गया और उसने बिना कुछ कहे सीधा लंड मेरे मुँह के अंदर घुसा दिया. मैंने उसके मुँह पर हाथ रखा और उसे चुप होने को कह कर रुका रहा। वो थोड़ी देर बाद शांत हुई तो मैंने उसके मुँह के ऊपर से हाथ निकाला। अभी तक मेरा लंड उसकी गांड में ही था।थोड़ी देर बाद मुझे लगा अब वो नॉर्मल हुई तो मैं हल्के-हल्के से लंड को उसकी गांड में आगे-पीछे करने लगा।इस तरह करीब 5 मिनट बाद वो खुद बोली- अह.

लेकिन किसी तरह मैंने अपनी उत्तेजना से भरी हुई आवाज़ को रोका।मैंने भी अब उसके पैन्ट में हाथ डाल दिया था और उसके लण्ड को ऊपर-नीचे करने लगी। थोड़ी देर के बाद हम दोनों झड़ गए.

’उसकी चीखें निकलने लगीं- आह आह निकालो बाहर आह मैं मर गई आह सहन नहीं हो रहा. शायद मैडम को हल्का सा दर्द हुआ, मगर फिर भी उसने आनन्द भारी सिसकारी ली- इस्स… आह और डालो!मैंने और थोड़ा सा ज़ोर लगाया और मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया. फिर मैंने दूसरी उंगली डाली, फिर तीसरी उंगली डाली, तब वह फड़फड़ा रही थी.

अपने हाथों से मैंने उसकी गांड को पकड़ लिया था और अपने होंठों का पूरा दबाव उसकी चूत पे दे दिया था. अपने बाएँ हाथ से मेरी पत्नी के दाएं चूतड़ को पकड़े हुए राजू का लोहा-लाट लंड कठोरता के साथ, खूब भिंच-2 कर संकरे गुदामार्ग को छिन्न-भिन्न करता हुआ अन्दर-बाहर हो रहा था. सुन्दर के हाथ मेरे कूल्हों पर थे और वह मुझमें अब उठ उठ कर लंड पेलने लगा था.

और ऐसे अचानक पानी आता है तो अजीब लगता है। हाँ अगर पता हो पानी आएगा.

हिंदी में बीएफ दिखाएं बीएफ: बस पार्टी करती रहती हो शाम से मॉम की तबीयत खराब है।टीना- अरे पागल तो मुझे कॉल नहीं कर सकता था तू. इसके बाद मैंने उसको अपना लंड चूसने के लिए बोला तो उसने मना कर दिया.

उसको जब उसकी गर्दन पे रगड़ पड़ती है तब बड़ा मजा आता है और उसकी चुदास और बढ़ती है. ’करके लॉलीपॉप की तरह चूसे जा रही थी।दीदी ने अपनी जीभ से मेरा पूरा लंड साफ कर दिया और उसे वापस ताजे केला की तरह तैयार कर दिया और चूस-चूस कर मेरा लंड गरम लोहे की तरह कड़क बना दिया। मैं दीदी की चुची से खेल रहा था, जिससे दीदी भी अब कड़क हो गई थीं।‘अब तुमको फिर चोद कर मजा देता हूँ रानी. रानी ने फिर से लौड़ा चूसना शुरू कर दिया लेकिन बाकी का सारा शरीर निढाल हो गया था.

इतने में अमिता आ गई, उसने मुझे मुठ मारते हुए देख लिया, वह तुरंत वहाँ से चली गई, मेरी फटी और मैं दो दिन तक उसके घर नहीं गया.

देवर भाभी की यह हिंदी चोदाई कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!चाचा ने अम्मी की पेंटी भी फाड़ दी और मेरी अम्मी की चूत को कुत्ते की तरह चाटने लगे. अपनी आदत के अनुसार मैं निप्पल को उमेठने लगा तो उसने भी मुझे छेड़ते हुए मेरे होंठ पर हल्का सा काट लिया. और मैं बिना गलती के सॉरी भी क्यूं बोलूं?छोटी ने फिर मुंह बनाया और कहा- दीदी, अपना घमंड थोड़ा कम करो.