बुर की बीएफ

छवि स्रोत,भ से लड़कों के नाम 2021

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ ब्लू फिल्म चित्र: बुर की बीएफ, मेघा साइड डोर की तरफ से वीडियो फ्रेम में दाखिल हुई और वेबकैम की ओर चलकर आई.

लड़कियां कैसे पटाते हैं

मुझे अपने से बड़ी उम्र की लड़कियां बहुत पसंद हैं इसलिए मैं अपनी बड़ी बहन को चोदने में भी पूरा मजा लेता हूं. पंजाबी सेक्स वीडियोमेरा दूसरा मामी की चूत पर था और मैं मामी की चुत को सहलाए जा रहा था.

मुझे यूं पैदल जाते देख शायर ने मुझे आवाज दी- आज घर नहीं जाओगे क्या?मैं रुक गया- हां … घर ही तो जा रहा हूँ. गांव देहात का सेक्सीहमारे गार्मेंट स्टोर पर मस्त जवान माल भाभियों और जवान लड़कियों की इतनी भरमार रहती थी कि मुझे कभी मुट्ठ मारने के लिए पोर्न फिल्म देखने की जरूरत महसूस नहीं हुई.

मेरे लंड को सहलाती हुई भाभी बोलीं- आज मुझे अकेला मत छोड़ो, कई दिनों बाद मुझे अपनापन मिला है.बुर की बीएफ: जीजू, आगे कुछ और कहा न तो फिर देख लेना आप पिटोगे मेरे हाथ से आज!” वो बोलीं और उसने मेरे सिर के बाल पकड़ कर मेरा सिर अपनी चूत पर जोर से दबा दिया साथ ही उसके मुंह से ‘आआअ ह्हह्हह जीजूऊ ऊऊऊ … ये क्या कर दिया मुझे.

कुछ देर में हम सबने इकठ्ठे डाइनिंग टेबल पर बैठ कर खाना खाया और कुछ देर गपशप की.कुछ देर बाद हम एक दूसरे से अलग हुए और मैंने मामी को कुतिया बनने को कहा, वो तुरंत कुतिया बन गईं.

छोटे वाला वीडियो सेक्सी - बुर की बीएफ

मेरा लंड भी अपनी रिश्ते में बहन की कमसिन जवानी को पाकर पूरे जोश में आ चुका था.कुछ ही देर चूसा था कि ज़ारा ‘आह जान … मैं आ रही … हूं …’ इतना कहते-कहते वो झड़ गयी और मेरे पूरे चेहरे पर उसका पानी फैल गया.

आजकल उनका पानी बहुत जल्दी निकल जाता है, पर वो कोई बड़ी बात नहीं है. बुर की बीएफ लम्बे अरसे से शायद लौड़ा नसीब नहीं हुआ थामेमरानी ने अब तीव्र चुदास से भरकर हौले हौले धक्के देने शुरू किये.

आह्ह … दोस्तो, क्या चूचे थे उस भाभी के! एकदम से गोल गोल गेंद के जैसे और बहुत ही तने हुए.

बुर की बीएफ?

अपने दूसरे हाथ से उसकी चुत में ऊपरी भाग में उंगली डाल कर ऊपर से नीचे घुमाने लगा. मैंने उत्तेजित होकर अपने लंड को सहलाना शुरू कर दिया था और अब मुझसे रुका नहीं जा रहा था. तुझे धीरे धीरे एक-एक करके अपने कपड़े उतारने हैं और मैं तेरा वीडियो बनाऊंगा.

मर्द ऐसा नहीं होना चाहिए जो विश्वास के काबिल नहीं हो और जो हमें दो तीन बार चोद कर हमें ब्लैकमेल करने लग जाए. देसी सुहागरात कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने कॉलेज की एक नाजुक लड़की की बुर की सील अपने घर में अपने बेडरूम में तोड़ी. अब तक मैं अपने जीवन की कुछ सच्ची अविशवसनीय सेक्स घटनाओं को शेयर किया.

मेरी दीदी ने अमित के हाथ से गाड़ी की चाबी ले ली और बोलीं- गाड़ी मैं चलाऊंगी. जब गीतिका ने शीशे में अपनी चूत को नीचे झुक कर देखा तो मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा दी और कहने लगी- इसका तो तुमने रंग ही बिगाड़ दिया है, लेकिन यह बताओ कि अब मैं नीचे कैसे जाऊं?मैंने कहा- मेरे चेहरे पर भी तो कई निशान बना दिए हैं तुमने. मैंने बड़े प्यार से भाभी के चूतड़ों के बीच के किशमिशी छेद पर होंठ लगा दिए.

वो लंड खाने के लिए अपनी गांड ऊपर उठाने के साथ साथ नीचे की ओर खिसकने लगीं. कल्पना बोलीं- मैं तो अब बस तेरे साथ ही रहना चाहती हूँ … लेकिन ये हो नहीं सकता.

तो चलिए शुरू करते हैं जीजा साली का प्यार कहानी को।नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम नीलम है मेरी लम्बाई लगभग पाँच फुट है और मेरे बदन का साइज़ 32-30-32 है.

मैंने गीतिका से पूछा- गीतिका, सच सच बताना अभी तक एक रात में कितनी बार चुदी हो?गीतिका कहने लगी- राज, मैं सच बता रही हूँ, मेरे हस्बैंड ने कभी भी एक बार से ज्यादा नहीं किया और जब भी वह चुदाई करते थे तो एक दो मिनट से ज्यादा टाइम नहीं लगाते थे और झड़ जाते थे, यह तो पहली बार ही मैं देख रही हूँ कि कोई आदमी इस तरह से भी चोद सकता है, सच में मेरे लिए यह बहुत ही मजेदार एक्सपीरियंस है.

उसके बाद मेरे नौकर ने मेरी पतली सी ब्रा की डोरी खोल कर मेरी पीठ की मालिश करना शुरू कर दिया. बस मैं दर्द सह रही थी।कुछ समय तक लंड डाले रहे और फिर हल्के हल्के अंदर बाहर शुरू कर दिया।लंड छेद में बहुत ही टाइट जा रहा था. और तब से मैं रोज़ सोते समय ब्रा उतार कर सोती थी।मैं अपना नाईट सूट लाना भूल गयी थी तो दीदी ने अपनी गाउन दे दी थी.

उसने धीरे धीरे मेरी जाँघ पर हाथ रगड़ना शुरू किया, मुझे मज़ा आ रहा था. जब तक मैं संभल पाती, तब तक उसने एक जोर से धक्का लगा दिया और उसका लंड मेरी झिल्ली को फाड़ता हुआ सीधा बच्चेदानी से टकरा गया।मेरी तो जैसे साँस ही अटक गई थी. फिर मैंने उसके दोनों होंठों को चूस कर उसकी जीभ को भी चूस लिया जिससे हमारी किस और जबरदस्त हो गयी.

मैं पुलिस वाले को एक साइड में ले गया और उससे कहा- हवलदार साहब, ये लड़के लड़कियों के चक्कर में आप न ही फंसो तो अच्छा है.

रमेश का लंड हाथ में लेकर उसने मुंह में भर लिया और उसको जोर जोर से चूसने लगी. तुम शाम को खाना बना लोगी या लेते आऊं?अनीता बोली- शाम को तो मैं बना लूंगी … पर तुम मेरी बात ठीक से समझे या नहीं. नेहा गीत की बात सुन कर मुझसे मम्में मसलवाती हुई बोली- साली कुतिया इनको याद करके क्या चूत में उंगली लेती है?फिर गीत संजय के पूरी तरह खड़े हो चुके लौड़े को पकड़ कर बोली- अगर ले भी लूँ तो इसमें क्या बुरा है?मैंने नेहा को घुमा कर उसके मम्मे पर किस करके कहा- अरे साली डार्लिंग, अभी ये लौड़े आपके हाथों में हैं, अभी उंगली की जरूरत नहीं पड़ेगी, इनका मज़ा लो सालियों.

उसके बाद मैं अपने कमरे में जाने लगा मगर भाभी मुझे आज यहीं रुकने के लिए बोलने लगी. मैं भी उसके जांघों को पकड़ बिस्तर से उठा कर जड़ तक लंड पेलने लगा।हर ठाप पर भाभी कांप जा रही थी. मैंने हेलो बोला तो उधर से बहुत ही रसीली मधुर आवाज आई- राज जी, नमस्कार, मैं दीपिका बोल रही हूँ.

बीते वक्त में मेरे साथ कुछ ऐसी घटनाएं हुईं कि मुझे मेरी पहली सेक्स स्टोरी लिखने पर मजबूर होना पड़ा.

ये देख कर मैंने उनका ब्लाउज खोल दिया और उनकी ब्रा उतार कर उनके मम्मे चूसने लगा. लेकिन मेरी ऐसी कातिल जवानी का कोई फायदा नहीं क्योंकि मेरा पति मुझे संतुष्ट नहीं कर पाता है.

बुर की बीएफ नैना बोली- रमित मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ … बस जो भी पल या लम्हा तुम्हारे साथ बिताने का मिले, उसे भरपूर जी लेना चाहती हूँ. उंगलियों से चूत को फैलाने और गांड को चौड़ी करने के बाद उसने वो डेमो देना शुरू किया.

बुर की बीएफ मैं उनके दरवाजे तक पहुंच गया- क्या हुआ?चाची ने मुझे कमरे में अन्दर बुलाया. तुम्हें इलाज कराने से मतलब है या नर्स, डाक्टर से?तो मैंने किसी दूसरे अस्पताल के लिए कहा जिसमें महिला डॉक्टर हो.

मैंने बियर का कैप खोला और चियर्स बोल कर हम दोनों बियर की चुसकियाँ लेते हुए खाना खाने लगे.

દેશી સોદવાનો વીડિયો

मैंने पहले तो चूत की चुम्मी ली, फिर उसकी दरार पर नीचे से ऊपर तक जीभ को एक गति से सरपट दौड़ा दी. इससे पहले वो कुछ बोलती मैंने उसको अपनी बांहों में भरा और उसे दीवार से लगाकर उसके होंठों को चूमने लगा. अब कविता मेरे दोनों चूतड़ों को फ़ैला कर मेरे गुदा द्वार पर बहुत सारा थूक और लार गिरा देती और उसे बहने देती.

वो बोली- पहले हम खाना खा लेते हैं और उसके बाद फिर प्रोग्राम शुरू करते हैं. काफी देर तक हम अपने मुँह में ली हुई मलाई को एक दूसरे के मुँह में थूक थूक कर एक्सचेंज करते रहे और बाद में मैंने उस रस को पी लिया. करीब आधे घंटे बाद उन्होंने करवट ली और सीधे अपना पैर मेरे लंड पर रख दिया.

अब आगे की कुकोल्ड स्टोरी इन हिंदी:फिर थॉमस ने बोला- ठीक है फिर मैं कल अपना बैग पैक करके कुछ दिनों के लिए तुम्हारे घर रहने आ रहा हूँ.

मैंने भाभी का तौलिया हटा दिया और खुद पैंट और टी-शर्ट उतार कर अपने साथ लाया हुआ शॉर्ट्स पहन कर सलोनी भाभी की टांगों की तरफ बैठ गया. हम दोनों कुछ देर नहीं हिले परन्तु कुछ देर बाद भाभी की चूत कुलबुलाने लगी और उन्होंने अंदर से चूत को भींच कर हरकत की जिससे मेरे लण्ड पर जबरदस्त कसाव हुआ. मुझे दर्द हो रहा था तो मैं चिल्लाने लगी।लेकिन वे नहीं रुके और तेज तेज धक्के लगाने लगे।मैं उनसे कहती रही- मरो नहीं … रुक जाइए! प्लीज स्टॉप … प्लीज स्टॉप।लेकिन वे नहीं रुके; उन्होंने सारा वीर्य मेरी चूत में निकाल दिया।इस बीच में मैं दो बार झड़ गई थी। मेरी तो जैसे जान ही निकल गई थी.

उसने एक उंगली मेरी योनि में घुसा दी और दूसरे हाथ से योनि की पंखुड़ियां फ़ैला कर जुबान से चाटते हुए उंगली अन्दर बाहर करने लगी. आंटी कहने लगी- राज, तुम चलो ऊपर, गीतिका थोड़ी देर में तुम्हारा दूध लेकर आ जाएगी. काफी अरसे से मुझे अन्तर्वासना पर आने के लिए समय नहीं मिल रहा था इसके लिए मैं माफी चाहती हूं.

मुझे ये सुगंध कुछ जानी पहचानी सी लगी … तो मैंने पैंटी को अच्छे से देखा. मैं आप लोगों को बता दूं कि ये मिडी गहरे लाल रंग की थी और बहुत ही छोटी सी थी.

इतने में छोटी चाची ने मेरे लंड के सुपारे को अपनी जुबान से चाटना शुरू कर दिया. वो बहुत अच्छी लड़की थी बहुत शालीन और अच्छे परिवार से।उससे बात करके पता चला कि वो 30 साल की है और शादीशुदा है, भोपाल में ही रहती है।उसके पति दवाई कम्पनी में मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव के पद पर है।उससे आगे काफी बातें हुईं।फिर हम काम की बात पर आ गए।उसने मुझसे मेरी फीस पूछी इस सवाल का मेरे पास कोई जवाब नहीं था। क्योंकि वो मेरी पहली क्लाइंट थी, और मुझे डर था कहीं वो मना न कर दे. जैसे जैसे दिन बीत रहे थे मेरे अन्दर भाभी को भोगने की बेचैनी बढ़ती जा रही थी.

उसने हंसते हुए मुझसे कहा- चलो ठीक है और … और बाक़ी को क्या बोलोगे?मैं- तुम्हारी बुर को बिट्टी बोलूंगा.

मैं- अच्छा ऐसा नहीं है … तो ज़रा तुम्हीं बताओ कि ये रात रात भर नींद ना आना … किसी की यादों में खो जाना, ये सब क्या है. तभी नेहा की गांड में संजय ने एक झटका लगाया जिससे नेहा की चीख निकल गयी और वो बोली- उफ्फ्फ … आह्ह्ह … मर जाऊँगी मैं सालों, गीत साली रहने दे तू!मैंने संजय को झटका लगाने से मना किया और नेहा को बोला- साली पहले भी तो तूने बहुत बार गांड और चूत एक साथ चुदवाई है, आज क्या हो गया?नेहा बोली- आ जाओ, लंड डाल दो, मना नहीं करुँगी … अह्ह्ह … उफ्फ्फ … ये डिल्डो की बात और है. मैंने कहा- ऐसे नहीं, यहां साथ में ही एक कोठी के ऊपर मेरा रूम है, जब भी तुम चाहो पार्क की बजाए मेरे कमरे में मिल लिया करो.

रिया ने अपनी गांड के छेद को रवि के लंड पर सेट किया और धीरे धीरे पूरा लंड अपनी गांड में समा लिया. फिर मुझे झटके से धक्का बिस्तर पर देकर लिटा दिया और मेरी छाती पर चूमने लगीं.

मुझे देखते ही चाची एकदम से घबरा कर वहां से तेज कदमों के साथ चली गईं. वो बोली- मैं तो समझी थी कि आप अभी तक आये ही नहीं हो लेकिन फिर ये गजलों की आवाज सुनी तो खिड़की का पर्दा हटा कर देखा तो आप आये हुए हैं. कमाल की बात थी कि सूरज मेरा बॉयफ्रेंड था, पर फिर भी आज तक मैं उसके सामने नंगी तक नहीं हुई थी क्योंकि बात वहां तक पहुंचने से पहले ही वो झड़ जाता था.

हिंदी वीडियो बीएफ सेक्स

अब आगे की बाभी Xxx हिंदी कहानी:रात भर मैं दीपिका और उसकी गदराई जवानी और लाजवाब हुस्न के बारे में सोचता रहा और उसे हासिल करने का तानाबाना बुनता रहा.

कुछ देर बाद वो जब मुझसे अकेले में मिलने आईं, तो बोलीं कि एक नम्बर से कॉल आएगा, उससे बात कर लेना. उसने बच्चों को खाना खिला कर उन्हें उनके कमरे में सोने के लिए छोड़ दिया और वापिस मेरे पास आ गई. कुछ देर बाद मैंने उससे कहा- सुनो, घोड़ी बन जाओ!ज़ारा- मल्लिका कौन है?मैं- तुम!ज़ारा- तो चोदेगा कौन?मैं- तुम!ज़ारा- तो आप लेटे रहो मैं ऊपर आती हूं!मैं- जैसी आपकी मर्जी मल्लिका-ए-मकान!उसने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी गांड पर टिका लिया.

मैंने उसकी चूत का पानी निकाल कर ही छोड़ा।धौंकती सांसों को संयत करके रीना बोली- मम्मी दोनों को पूछ रही हैं कि अभी तक घूम कर नहीं आए क्या? दोनों जा कर मिल लो. उनकी तनी हुई चूचियां कहीं से भी उनकी उम्र की चुगली नहीं कर रही थीं. एचडी सेक्सी गर्ल वीडियोलेकिन मैं उसी रफ्तार से तेज़ी से अंदर-बाहर करने लगा।फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च की आवाज तेज हो गई.

मुझे भी अच्छा लग रहा था क्योंकि पीछे वाला लड़का भी अब मेरे चूतड़ों को धक्का लगा रहा था. रोहन उसकी बात सुनकर टेंशन में आ गए और बोले- ठीक है हम लोग मिल लेते हैं.

उम्मीद है आपको मेरी पिछली कहानीफिटनेस सेंटर में भाभी को पटायाकाफी पसंद आयी होगी. कविता की योनि इतनी गीली थी कि मेरे सहलाने की वजह से पानी बाहर तक फ़ैल गया था और काफी चिपचिपी दिख रही थी. उसने अपनी मोटी गांड को साइड में कर लिया और मुझे उसके चूतड़ और अच्छी तरह से दिखने लगे.

मुझे देख कर सलोनी भाभी ने मुझे बैठने को कहा और हम दोनों एक दूसरे से बात करने लगे. शुरू में मुझे बहुत अजीब लग रहा था, पर मेरे पास और कोई रास्ता नहीं था, तो मैंने भी दोनों पर भरोसा कर लिया और हामी भर दी. मैं भी काफी उत्तेजना से भर गयी थी और मुझे ये अब ख्याल नहीं था कि मैं एक औरत के साथ हूं या मर्द के साथ.

जब मामा और मैं घर पहुंचे, तो नाना नानी और मामी का बेटा खाना खाकर नीचे बगीचे में चले गए थे.

उसके घुटने और पीछे का भाग इतना सेक्सी था कि मेरा दिल कर रहा था कि अपना लंड इसी में घुसेड़ दूँ. फिर मेरी गांड के नीचे तकिया रखा और मेरे ऊपर आकर मेरी चूत में लंड पेल दिया.

मैं झड़ने वाला था, मैंने उनसे कहा- मेरा होने वाला है … माल कहां लोगी?वो बोलीं- अन्दर ही छोड़ दे. मेरा नाम सुशांत है और मैं उत्तर प्रदेश का रहने वाला एक 25 साल का सामान्य सा दिखने वाला नौजवान हूं. मैंने केक का आधा भाग उसके होंठों में फंसा दिया और एक दूसरे को इसी तरह से खिलाया.

चूत पर नेहा का गर्म पानी लगने की वजह से गीत भी सिसकारते हुए बोली- आह्हह साली चुद गयी तू … भोसड़ी की … आह्ह … मैं भी गयी रे … आह्ह … ऊई मां … गईई मैं … आह्ह … ओह्ह गॉड … आह्ह माआआ … करते हुए गीत की चूत ने भी पानी छोड़ दिया. फ्रेंड्स … ये जो 18 साल से 20 साल तक की उम्र होती हैं ना … ये कमाल की होती है. मैं ऊपर से नंगी हो जाती और कंपाउंडर पट्टी बदल देता।एक दिन कंपाउंडर कह रहा था इसके स्तन बहुत गोरे हैं.

बुर की बीएफ उसके बाद आंटी कहने लगी- राज, क्या तुम मेरी बात का मतलब समझ गए हो, क्या तुम्हें मेरी पशुशाला का भैंसा बनना पसंद है?मैंने कहा- जी आँटी. मैंने जिया के मम्मे दबाते हुए उसकी चुत को जीभ से चोदना शुरू कर दिया.

विदेशी ब्लू फिल्में

उसके मुख से मस्त कामुक आवाजें निकल रही थीं- आह्ह मानव … ओह्ह … मानव … चोद दो … आह्ह … आई लव यू मानव … और जोर से … उईई … आह्ह … ओह्ह … यस … आह्ह चोदो … चोदते रहो. मैंने एक झटके में दोनों पैग हलक के नीचे उतारे और सिगरेट लेने के लिए नंगा ही उठा. मैं रोज मोबाइल पर गंदी फ़िल्म देखता और मुठ मार कर खुद को शांत करने लगा था.

पर मैंने बहुत ही धीरे से उसकी चूत को चूमा और लंड को उसकी चूत के मुहाने से टिकाते हुए धक्का दे दिया. फिर मैं उठा, तो विनीता मेरे पास आई और बोली- हाथ मुँह धो लो, मैं तुम्हारे लिए चाय बनाकर लाती हूँ. सेक्सी सेटिंग वीडियोडाक्टर ने कहा- अब तो समय अधिक हो गया है, तुम लेट आयी थी, अब कल आना।यह सुनकर मैं उदास हो गयी.

ज़ारा- आह … जान … आह आह!मैं- अपना चेहरा इधर करो मैं आ रहा हूं!उसने अपना चेहरा मेरी और किया तो मैं उसके होंठों को अपने होंठों में भर कर किस करने लगा और धक्के तेज कर दिये.

इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाती, उसके लंड ने वीर्य छोड़ दिया और इसके बाद ढीला पड़ कर छोटा हो गया. उससे पहले तेरे पति के सामने तुझे चोद सकूं, तू ऐसी कोई तरकीब निकाल!अनीता- उसकी चिंता आप बिल्कुल भी न करो फूफा जी.

फिर बूढ़ा मेरे पेट को चूमते हुए मेरी फुद्दी की तरफ बढ़ा और उसने मेरी पाजामी का नाड़ा खोलते हुए मेरी पाजामी और पैंटी को नीचे सरका दिया. पेट भर खाने के बाद किचन के बेसिन में सब बर्तन धोकर वापिस नंगे ही टीवी रूम में आ गए. एक तरफ भाभी मेरे लंड को मोटा लंबा कर चुकी थीं और उनकी चूत ने जवानी के रस को निकालना शुरू कर दिया था.

होटल पहुंचने के बाद हमने रजिस्टर पर हस्ताक्षर किए और वेटर हमें रूम तक ले गया.

तब तक मैं अपना काम निपटा के आती हूँ।मैंने ओके कहा और खाने की ओर बढ़ गया. उसने एक कातिल सी स्माइल दी और अपनी गांड मटकाती हुई अंदर की ओर चली गयी. उन्होंने अनीता को अन्दर ले जाकर चूमा तो उसके मुँह से शराब की गंध आई.

কাঁচা আম সাধারণত টক হয় বচন করোमैं- हम्म … और जब तुम्हारे सीने पर चूमूंगा तो …वो- तो क्या?मैं- तो तुम्हें अच्छा नहीं लगेगा?वो- हम्म … बहुत अच्छा लगेगा. मैंने बूढ़े के सिर को पकड़ा और अपनी एक टाँग ऊपर उठाते हुए उसे पाजामी उतरने के लिए कहा.

तेलुगु में बीएफ

चूंकि मेरे पति घर पर नहीं थे, सो मैंने सोची कि इसमें आराम से सोऊंगी. मॉम की आवाज आई- मधु बेटा अपने भाई को क्यों परेशान करती हो … बेचारा कितना शरीफ है. सुबह सुबह तो सब ही अपनी अपनी जल्दी में होते हैं … इसलिए मेरे और शायरा के ऊपर किसी ने ध्यान नहीं दिया.

मुझे मौसा जी कहीं दिख नहीं रहे थे तो मैंने मौसी से पूछा- मौसाजी घर पर नहीं है क्या?वो बोलीं- हां वो 5 दिन के लिए बाहर गए हैं. देखते ही देखते दोनों गर्म हो गये और दोनों ही एक दूसरे के बदन पर हाथ फिराने लगे. मैंने उसे अपनी लोअर से बाहर निकाल लिया और सरक कर अपने लौड़े को दीदी की गांड के पीछे ले गया.

मैंने दीदी को ऐसे ही उठाकर सीधा दीवार से चिपका दिया और जोर जोर से चोदने लगा. वो अपने पति और सास-ससुर के साथ रहती थी परन्तु अब उनकी अपने पति के साथ उतनी बनती नहीं थी. आदमी- तुम्हें बीच में बोलने को किसने कहा? जब कुछ नहीं पता हो तो बेवकूफों की तरह नहीं बोलते.

मैंने जान बूझ कर एक डीप कट गले वाली शर्ट पहनी, दुपट्टा मैंने लिया नहीं, ताकि शमा का शौहर मेरे जिस्म की गोलाइयों को देखे और इस मोह जाल में फंस जाए. भाभी वैसे ही नंगी उठकर किचन में चली गईं और डिनर को टेबल पर लगाने लगीं.

अब मैं ऊपर से झटके लगाने लगा और नीचे से संजय नेहा की गांड में झटके लगा रहा था.

एक दिन मैं रोज़ की तरह खिड़की के पास ही बैठा हुआ था कि तभी मेरे मकान के सामने वाले घर की छत पर एक महिला घूमती हुई नज़र आयी. xxx vídeoकुछ आधा मिनट के बाद मैंने कहा- और कितनी देर लगेगी?तभी मेरे होंठों पर किसी के होंठ टच हुए. छोटे राजा सॉन्गजैसे ही उसका हाथ पकड़ कर मैंने अपने लंड पर हाथ दबाया … तो कविता भाभी ने खुद को मेरे और करीब कर लिया. भाभी को मैंने डॉगी स्टाइल में आने को कहा, तो भाभी एक पल की भी देर न करते हुए झट से कुतिया बन गईं.

जैसे ही वो दोनों‌ आगे गई … शायरा- क्या बकवास कर रहे थे ये तुम?मैं- मैं क्या बकवास कर रहा था … वो ही उल्टा सीधा बोल रही थी.

Xxx आंटी चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि आंटी अपनी नंगी चूत खोले मेरे सामने बिस्तर पर पड़ी थी. वैसे मुझे भी यह सब करते हुए अच्छा नहीं लग रहा, पर आपके लिए और बिजनेस के लिए मैं थॉमस से चुदने के लिए तैयार हूँ. मैं- फिर क्या! फिर तुम्हारी आंखों में आंखें डाल कर तुम्हें जी भर के देखूंगा … और …उसने बीच में टोक दिया- और क्या!मैं- और फिर बहुत कुछ करूंगा.

वो बोली- आह प्लीज़ छोड़ दो … मैं दूसरे तरीके से आपके लंड का पानी निकाल दूंगी. फिर न जाने क्या ख्याल आया कि मैं उन्हें देखने वापस कमरे तक चली गयी. एक बोला- शाही भाई, कहीं ये बाहर जाकर तो नहीं बता देगी?शाही सर बोले- नहीं बताएगी, पैसा बहुत कुछ कर सकता है.

चुदाई हिंदी सेक्स

उसने मेरे हाथों को पकड़ा और मुझे गाली देती हुई बोली- साली कुतिया, दुनिया भर के मर्दों और औरतों से चुदवा कर सती सावित्री बन रही है. मैंने घर पर कह दिया कि निशी का बर्थडे है, तो मैं पार्टी में जा रही हूँ और शाम को ज्यादा लेट हुआ … तो उसी के यहां रुक जाऊंगी. फिर क्या था … थॉमस मुझे उठा कर बेड पर ले गया और मुझे बेड पर लेटा कर मेरे ऊपर चढ़ गया और मुझे किस करने लगा.

ये कहते हुए शायरा कमरे में चली गयी और कुछ देर बाद ही एक हाथ में स्कूटी की चाबी ले आई.

वो मेरे होंठों पर उंगलियों को सहलाने के बाद मेरे बगल में चित लेट गयी.

मैं जैसे बिन पानी मछली की तरह तड़पने लगी और बोली- मादरचोदो, आओ … आकर मेरी चुदाई करो. हम दोनों अपने चुसाई के कार्यक्रम में इतने खो गए थे कि कब मैं उसके मुँह में और वो मेरे मुँह में झड़ गई, पता ही नहीं चला. कॉलेज वाली लड़कियों की सेक्सी वीडियोउसके चेहरे का वो कामुक अंदाज़!उसे देख मेरा ज्यादा देर टिके रहना मुश्किल हो रहा था.

वो गुस्सा करेगी … या मुझसे शर्माएगी? इसका पता तो उससे मिलकर ही चलेगा. एकदम से लॉकडाउन की स्थिति बन गई थी तो मैं समझ ही न सका कि ये मामला इतना लम्बा चलेगा. इस बात पर मैंने कहा- देखो हम दोस्ती रखेंगे, तुम जैसा चाहो बात करो, चाहो तो मिल भी सकते हैं … मगर ये मत सोचना कि हमें प्यार हो जाएगा.

बाहर ले जाकर मैंने कमल से खुल कर बोला- देख कमल, तुझे पैसों की जरूरत है … और मुझे नई नई चुतों की. अब मैंने उनसे उनकी पिक मांगी, तो उन्होंने अपनी दो-तीन पिक मुझे भेज दीं.

इस पर आंटी बोलीं- हां मैं डेली इस तरह की चुदाई चाहती हूँ और तुम्हें मैं चुदाई के और भी नये नये तरीके बताऊंगी.

मैंने अपने लंड को इंडियन हॉट गर्ल की चूत में सैट किया और रेलमपेल शुरू कर दी. मेरी बाइक स्पोर्ट्स बाइक थी, तो इस पर पैर एक साइड करके बैठना सम्भव नहीं था. कुछ ही पल के बाद भाईजान के लंड से रस की पिचकारी निकली और रस मेरे मुंह में जाने लगा.

सेक्सी एचडी मूवी वो मस्ती से आंखें बंद करके बस मुझे चूमे जा रही थीं, असली मज़ा ले रही थीं. ”दादी की चूत से अपनी ऊंगली बाहर निकालकर मैंने दादी से पूछा- दादी, पिछले 36 सालों में कभी आपकी उमंगों ने जोर नहीं मारा?नहीं बेटा, तेरे दादा के मरने के मरने के बाद मैं अपने मायके चली गई.

अब आगे देशी चुदाई की कहानी:डाक्टर ने अगले दिन सुबह दस बजे आने के लिए कहा। कुछ निर्देश दिए जैसे कि खाली पेट आना है. फिर जैसे ही उन्हें होश आया कि मेरा हाथ उनकी चुत को छू रहा है, वो आह भरती हुई मुझसे छूटने की कोशिश करने लगीं. भाभी की चूत की गर्मी जैसे मेरे लंड को जला रही थी और मैं उस आग में जैसे भस्म हो जाना चाह रहा था.

सेक्सी मराठी एक्स एक्स एक्स

लेकिन आपके द्वारा उसे दी गई उतेजना में जो मज़ा उसे मिलेगा तो वो न नहीं कर पायेगी. मुझे मालूम था कि कुछ समय में ही मालूम पड़ जाएगा मैडम कि मैं आपका दोस्त हूं या सब कुछ हूँ. वीर्य निकलते ही रोहन शांत हो गया और उसने अपनी लुल्ली को पैंट के अंदर डाल लिया.

मेरी गोरी नंगी जांघें भाईजान के सामने थीं और मुझे देखकर उनका मौसम बन रहा था. मेरे शरीर को ऐसा लग रहा था मानो ये रिश्ता उसे स्वीकार था, वहीं मेरा मन इसे स्वीकार नहीं कर रहा था.

कोई 5 मिनट में गुड्डी की चूत ने पानी छोड़ दिया और मैंने थोड़ा सा उसकी चूत का पानी पिया.

जब चाहे बुला लें।रिया- छी …रेहाना- चल मेरा काम था तुझे बताना सो मैंने बता दिया. मैंने उन्हें उसी तरह आंटी की चुत को सहलाते हुए उन्हें अपने रूम में ले आया. मैं आप सभी का शुक्रगुजार हूँ कि आप सभी ने मेरी पिछली कहानीखूबसूरत किरायेदार भाभी को पटा कर चोदाको बहुत प्यार दिया.

उधर सूरज मेरे लिए एक ऐसा लड़का ढूंढ रहा था जो मुझे तबियत से चोद सके. वो धीरे धीरे दर्द को सहती हुई आगे आई और उसने मेरे मोटे लंड को अपनी कसी हुई चूत में सैट कर लिया. जैसे ही दीपिका कुछ लेने के लिए सीधी हुई उसे हल्का सरूर लगा और बैठते ही बोली- ओह्ह, मुझे कुछ लग रहा है।मैंने कहा- क्या लग रहा है?दीपिका- अच्छा लग रहा है.

इंडियन गे बॉयज सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपने एक दोस्त की चौड़ी छाती, उस पर घने बाल, मजबूत कंधे देख उसे पसंद करने लगा.

बुर की बीएफ: अगली दोपहर को लगभग 2 बजे मैंने उस नम्बर पर कॉल किया और उससे पूछा कि मैं फ्री हूँ, तो आपकी प्रॉब्लम सही करने अभी आ जाऊं क्या?उसने हां कह दिया. मैंने पूछा- क्या हुआ था?(आगे की भाई की चुदाई कहानी भाभी के मुख से) भाभी बताने लगी- जब मैं बिन्दू की उम्र में थी तो मैं गजब की सुंदर थी.

मेरे ग्रुप में रोनी और अरुण थे, निशि के ग्रुप में जैक और रोनित और रोहिणी के ग्रुप में कमल और नील थे. यह बात आप किसी को नहीं बताइयेगा।रेहाना का हाथ पकड़ कर खींचते हुए रमेश बोला- अरे कहाँ चली, जिस काम के लिए पैसे लिये हैं उसे पूरा तो करती जा?रेहाना- नहीं अंकल, यह गलत है. धीरे धीरे करके मैंने अपनी दोनों उंगलियों से मामी की गांड को ढीली कर दी.

हम दोनों ऐसे अपने-अपने बदन को एक दूसरे के बदन से रगड़ रहे थे, जैसे अपने अपने स्तनों को एक दूसरे के स्तनों से लड़ा रहे हों.

फिर मेरे मोटे गोल चूतड़ों को खोल कर बोला- शाहीन जी, क्या आप गांड भी मरवाती हो, आपकी गोल गांड देख कर मेरा मन आपकी गांड मारने का मन कर रहा है. निष्ठा तेरे लिए दूल्हा भी मैं ऐसा ही ढूँढ के लाऊंगा जो तेरी चूत को रस मलाई की तरह चाटेगा फिर चोदेगा तुझे!” मैंने मजाक में कहा. विनीता ने कहा- क्या मैं एक बात पूछ सकती हूँ … तुम बुरा तो नहीं मानोगे?मैंने भी कह दिया- पूछो … मैं बुरा नहीं मानूंगा.