बिहारी चुदाई बीएफ

छवि स्रोत,बाबा बीएफ वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी video हिन्दी: बिहारी चुदाई बीएफ, मेरे कोमल से पेट और पतली कमर पर उनके हाथ बार बार सहला कर जा रहे थे.

एक्स एक्स बीएफ दिखाओ

पहली बार में ज्यादा मजा नहीं आया क्योंकि सबका मूड था एक जल्दी वाला राउंड हो जाए, फिर दूसरी बार आराम से करेंगे. बीएफ सेक्स अंग्रेजी वीडियोउनकी बात मानकर ऐसे ही सूरज धीरे धीरे लंड निकालता और डाल देता, मुझे भी हल्का हल्का मजा आने लगा और मैं भी लंबी लंबी ‘आआहह … आहह.

मैं मीना बुआ की साड़ी को पीछे से उठाकर उनकी साड़ी के अन्दर घुस गया और सीधे उनकी चूत चाटने लगा. बीएफ सेक्सी गांव की लड़कियों कीमैंने दोनों को थोड़ा और खुशी देने के लिए अपने ऊपर कंट्रोल किया और सायरा की चूचियों को दबा-दबाकर और निप्पल को मुँह में भरकर उसके अन्दर से दूध निकालने की पूरी कोशिश कर रहा था.

मैंने मासी के मोबाइल से उस लड़के का नंबर निकाल लिया और अगले दिन उसको खोज कर अपने दोस्तों के साथ मिल कर अच्छे से उसकी धुलाई की.बिहारी चुदाई बीएफ: बिन्नी थोड़ा कसमसाई लेकिन उसके चेहरे और सी … सी … की आवाज से लग रहा था कि उसे लण्ड अन्दर डलवाकर अच्छा लग रहा था.

उसके गर्भ से मेरे पोते के जन्म से लेकर उसके स्कूल जाने तक मैं सायरा से अलग ही रहा था.अब उसका खड़ा लंड जो कि लगभग आठ या साढ़े आठ इंच का होगा, मैंने उसको महसूस किया.

हिंदी में हिंदी में बीएफ बीएफ - बिहारी चुदाई बीएफ

फ्रेश होकर चाय पीकर सभी साथ नहाये और ये तय हुआ कि कम से कम कपड़े पहने जायेंगे.मामा लोग अमीर थे और उनका घर भी दो मंजिला बना था जिसमें ग्यारह कमरे बने थे.

मां की लौड़ी तुझे मैंने अपनी रंडी नहीं बनाया … तो मेरा नाम भी राहुल नहीं. बिहारी चुदाई बीएफ भाभी हंस कर बोलीं- क्या बात है देवर जी … आज बड़े रोमांटिक लग रहे हो?मुझे उनसे ऐसे बोलने की उम्मीद नहीं थी.

मैं नाक चुत पर लगाकर चुत की खुशबू लेने लगा।फिर मैंने चुत पर जीभ लगायी ही थी कि चाची ने लम्बी सांस ली और सीसीईईईई की आवाज की.

बिहारी चुदाई बीएफ?

हॉट देसी भाभी की कहानी में पढ़ें कि लॉकडाउन में मेरे पड़ोस की भाभी ने मुझसे सामान मंगवाने के बहाने मुझसे दोस्ती की. मेरी शादी राजकोट में हुई है और मेरे पति मार्केटिंग के बिजनेस में हैं. अपनी लपलप करती जीभ के साथ अपनी लंबी उंगली को मेरी चुत में उतारने लगा, जिससे मैं एक अलग ही दुनिया में जाने लगी.

मैं यहां अकेला बोर हो रहा था तो सोचा आपको भी बुला लूं … तो कुछ बोरियत कम हो जाएगी. मगर उसके उलट वो तो पंकज के लंड को पूरा अंदर तक निगलने लगी और उसकी आँखों में देखती हुई उसे अपने मुँह में ही झड़ने का मूक आमंत्रण दे रही थी।थोड़ी ही देर में पंकज के भीतर से खौलता हुआ लावा फूट पड़ा और वो गुर्राते हुए … थरथराते हुए झड़ने लगा।मैं सब भूलकर उस दृश्य को गौर से देख रहा था क्योंकि आज तक सुमन ने कभी मेरा वीर्य अपने मुँह में नहीं गिरने दिया था. मैंने कभी उनके बीच में ऐसा खास तालमेल नहीं देखा कि जिससे पता लगे कि इनकी सेक्स लाइफ में अभी भी कुछ बचा हुआ है.

मैंने बोला- तुझे वो पसंद नहीं हैं क्या?सनी बोला- पसंद तो बहुत हैं … मगर वो मुझे चोदने देंगी कैसे?मैंने बोला- तू उनको ये बोल कर डरा कि तुझे वरुण और आपकी चुदाई के बारे में सब पता है. मैंने मौका पाकर पैंट की चेन खोल ली और लंड को बाहर निकाल कर भाभी के हाथ में दे दिया. अगर मेरे जैसे जवान लड़के के घर में कोई जवान चंचल नौकरानी काम कर रही हो तो किसी की भी नियत खराब होना काफी संभव सी बात लगती है.

उसने झड़ते ही मेरा लंड मुँह से निकाल कर अलग कर दिया और बिस्तर पर पसर गई. अपनी गांड को चौड़ी करके दिखाते हुए उसके चेहरे पर शर्मिंदगी के भाव थे.

संध्या चाची चाचा से बोली कि मैं तो भाभी को अधनंगी देख कर हैरान रह गई.

उसके चूसने के अंदाज से ही पता लग रहा था कि वो कितनी चुदासी हो गयी है.

लेकिन रोहिणी, निशि और मुझे दारू की जरूरत ज्यादा पड़ने वाली थी, तो हमने एक एक पैग और लगा लिया. लेकिन प्रियंका मैं चाहती हूँ कि मेरा पहला सेक्स रोमांटिक हो … हॉट हो … तड़प के साथ ज्यादा हो और दर्द थोड़ा कम हो. एक घंटे से भी ज्यादा समय हो गया था मुझे … और अभी तक मैं शायरा के साथ सिर्फ़ ऊपर ऊपर से ही प्यार कर रहा था.

बड़ा अजीब सा स्वाद था, हल्का नमकीन और कसैला सा … शायद उत्तेजना में ये नहीं महसूस होता है, पर अभी लग रहा था. मुझे उल्टी होने लगी तो मैंने लंड बाहर निकाल दिया और मेरी सांस फूलने लगी. मैंने उसे बहुत जल्दी से ऊपर से नंगी कर दिया और उसके नंगे मम्मों को अच्छे से चाटने लगा; उसके निप्पलों को चूसने लगा.

”कुछ देर बाद सलोनी आई तो मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और उसकी स्कर्ट ऊपर उठा दी.

मैंने दिल में ही सोचा कि आज तो शायरा की गुलाबी गुलाबी पिंकी को मैं अपने लंड से लाल लाल कर दूँगा … और उसको‌ फिर से अपनी बांहों में कस लिया. अब मुझे ही देखो … मैंने तुम्हें प्रपोज़ किया और तुमने‌ जब जवाब नहीं दिया, तो मैं तुम्हारा दोस्त बन गया और ये तुम पर छोड़ दिया कि मैं दोस्त हूँ या प्रेमी? अब ये डिसीजन तुम करो. जयपुर में हमारा नाम भी बहुत अच्छा है और ये क्लब हम केवल अपनी सेक्स लविंग नेचर और सेक्स में नए अनुभवों के लिए ही चलाते हैं.

बाथरूम में लगे शीशे को देख कर मुझे मुस्कराहट आ गई … क्योंकि एक तो मैं पूरी नंगी थी और ऊपर से चुदाई करवा के आई थी. वो बोली- मैंने जिस दिन से तुम्हारे लंड को देखा था उसी को याद करके रोज रात में अपनी चूत में उंगली किया करती थी. मैं भी उसके लंड को तेजी से चूसने लगी और उसका माल मेरे मुंह में गिरने लगा.

कुछ पल बाद मां ने मुझसे धीमी आवाज में पूछा- तुझे कल रात के बारे में याद है कि तुमने क्या किया था?मैंने कोई जवाब नहीं दिया.

कुछ देर के बाद उसने मेरे बालों को रिहा करके मुझे गिरते हुए पानी मैं अपना लौड़ा चूसने दिया. उसने मेरी आवाजें सुनी तो मेरी चुत को चूसना छोड़ कर मेरे होंठों को चूसने लगा और उसने मेरे मुँह को बंद कर दिया.

बिहारी चुदाई बीएफ काफी देर तक उसने लंड चुसवाने का मजा लिया और मैंने भी लंड चूसने का मजा लिया. मैंने भाभी की गांड में तकिया लगाया हुआ था, तो उनकी चूत ऊपर उठ कर आ गयी थी.

बिहारी चुदाई बीएफ मामी ने फिर से लंड चूसने से मना कर दिया और बोलीं- प्लीज़ मुझे आज मत बोलो … मैं कल पक्के में तेरा लंड चूसूंगी … लेकिन आज नहीं प्लीज़. अब वो धीरे धीरे मेरे गले, फिर मेरी छाती तक पहुंच गया और मेरे बाएं निप्पल को अपनी जीभ से चाट कर उसे अपने होंठों में दबा लिया.

अब आगे सेक्सी इंडियन वाइफ स्टोरी:विक्रम फ्लैट के अन्दर दाखिल हुआ, वो बोला- वाह भाभी, आप कितनी सेक्सी लग रही हो.

अंग्रेजी सेक्सी वीडियो भेजो सेक्सी

उस दिन तो उस दिन तुमने बिना कुछ पूछे ही थप्पड़ लगा दिया, उस दिन भी मैं तो तुम्हारे अच्छे के लिए ही कर रहा था. पर मौसी के घर की साफ़ सफाई के दौरान मुझे उसके हाव भाव से ऐसा लगा कि वो मेरे साथ राजी हो सकती है. इसी बात का फायदा उठाते हुए मैंने अपना दूसरा हाथ नीचे ले जाकर उसकी पैंट का बटन खोलकर अंदर सरका दिया। मैं अब पैटीं के ऊपर से ही नौशीन की गीली हो चुकी चूत को महसूस कर सकता था।थोड़ी देर ऊपर से ही सहलाने के बाद मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी के अंदर घुसा दिया।यह पहली बार था जब मेरा हाथ किसी की नंगी चूत पर लगा हो।चूत को स्पर्श करते ही मेरी धड़कन तेज हो गई थी.

उसके गोल-गोल और उठे हुए कूल्हे को छूते हुए और थोड़ा चिढ़ाने के अंदाज में बोला- क्या बात है सायरा, तुम्हारी गांड तो काफी उठ गयी है. मैं क्या मुंह दिखाऊंगा पापा को?मोनी- क्यूं, वो खुद ही देख लेंगे कि क्या है उनके लैपटॉप में. एक तरफ लंड अन्दर जाकर फड़फड़ा रहा था, तो चूत भी उछाल मार-मार कर लंड को अपने में समा लेने की भरपूर कोशिश कर रही थी.

इसी तरह 10 मिनट तक क़िस करने के बाद मैं भाभी के शरीर पर किस करने लगा.

वो- और वो कैसे?मैं- देखो, पिछले दो दिन में तुम हर पल हंसती आ रही हो कि नहीं?वो- हां ये तो है, मैं तो हंसना भूल ही गयी थी … मगर जब से तुमसे दोस्ती की है … तो फिर से हंसना सीख गयी. बहुत समय चाटने के बाद मां ने मुझे बांहों में भर लिया और चूमने लगीं. पता है न … जब लोग खुशबू से पहचानने लगें, तो प्यार हो जाने का डर लगा रहता है.

उसने इशारा किया कि वो तैयार है और फिर मैं भी वो कामुक रोल प्ले करने के लिये तैयार हो गया. उसने पहले अपने लंड पर जैली लगायी और मेरी गांड में अपना लंड डालने की कोशिश करने लगा. राजू चाचा- अरे जानेमन जिसकी तेरे जैसी गर्म बीवी हो … उससे सब्र कहां.

इसलिए मैंने कल लाई हुई वाइन लेकर विमला के साथ ही पीना चालू कर दिया. लेकिन जब से लंड ने तेरी गांड की खुशबू सूंघी है, उसका मन अन्दर जाने को कर रहा था.

संजू बोली- वो कहां रहता है?मैंने कहा- अब उससे अलग हुए चार साल हो गए … पता नहीं किधर होगा. मैंने हंस कर धीरे से भाभी को बिना कुछ कहे उनकी गांड में अपना लंड डाल दिया. उसका लंड काफी बड़ा और लम्बा था जो मुझे मेरी चूत में पूरा अंदर तक लग रहा था.

फिर उसने एक काले डिल्डो को दीवार पर लगाया और फिर वो उसको चूसने लगी.

पर रवि ने बेशर्मी से अनिल को जाने को कह ही दिया तो अनिल भी खड़ा हुआ और पिंकी को बाय बोल कर चला गया. इस बात से मुझे भी थोड़ी जिज्ञासा हुई कि ये ऐसा क्या इनाम दे सकती है. अब वो अपनी चुत गांड की चुदाई के लिए कहने लगी- बस अब मुझसे सब्र नहीं होता, प्लीज़ जल्दी मेरी चूत में लंड डाल दो.

पूरा छह फीट दो इंच लंबा-चौड़ा, काफी हैंडसम, ब्लैक जींस और हाफ टी-शर्ट में था. उसके गर्भ से मेरे पोते के जन्म से लेकर उसके स्कूल जाने तक मैं सायरा से अलग ही रहा था.

”सर, पैन्टी वहीं छोड़कर आनी है?”सिर्फ पैन्टी ही नहीं बल्कि सलवार भी वहीं खूँटी पर टाँग आना. बाहर हो-हल्ला ज्यादा होता देख कर कमल उन सभी औरतों से बोला- एक बार सभी चुप हो जाओ, मेरे यहां हल्ला नहीं मचाओ, मेरे मेहमान को जो पसन्द आएगी वही काम आएगी. वो शादीशुदा थी या फिर कली से फूल बनने का इंतज़ार कर रही थी, ये तो नहीं पता था.

सेक्सी फोटो चूत वाला

मैं- क्यों क्या हुआ?वो- एक तुम हो जो मेरी, मेरे खाने की तारीफ करते करते नहीं थकते और एक मेरा हज़्बेंड हैं जिन्होंने कभी ये भी नहीं कहा कि खाना अच्छा बना है, बस भुक्कड़ की तरह ख़ा लेते हैं और ये भी नहीं पूछते कि मैंने खाना खाया कि नहीं.

चाचा जी बोले- तैयार है बेटा सुहानी!मैंने कहा- जी चाचा जी, पेल दो अपना लंड. मैं थोड़ी पड़ोस के घर होकर आती हूं, मुझे काम है।तभी भाभी ने अपनी सास से बोला- मम्मी जी, वहीं से किराने का कुछ सामान ले आना. वो- तुम्हें कैसे पता वो मेरा था?मैं- अब इस घर में दो ही तो औरतें हैं, एक तुम और दूसरी मकान मालकिन.

थोड़ा सा कुम्लाहते हुए सायरा बोली- पापा, छोड़िये ना प्लीज … थोड़ी देर रूक जाओ. तुमने जो एक बार किया, वो बार बार भी कर सकते थे और मैं तुम्हें रोक भी नहीं पाती. देसी बीएफ पटना केमैं उससे चिपट गया और उसकी गांड में लंड लगाकर उसकी चूचियों को भी भींचने लगा.

नमस्ते दोस्तो, मैं रूपा एक बार फिर से अपनी सहेली के ब्वॉयफ्रेंड से अपनी स्कूल सेक्स की हिंदी कहानी में आपका स्वागत करती हूँ. मैंने बात की गंभीरता को समझते हुए अपनी आंखों से मौन स्वीकृति दे दी.

लवर हॉट सेक्स स्टोरी के पिछले भागगर्लफ्रेंड की बुर की सील तोड़ने की तैयारीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं पूजा को एक होटल के कमरे में लाकर उसके होंठों से होंठ लगा कर चूम रहा था. मैं अम्मी बनना चाहती हूं।थोड़ी देर बाद वो किचन में गई और दूध लेकर आई. इन कपड़ों में वे उतने दुबले नहीं लग रहे थे, बड़े छरहरे और स्लिम ट्रिम बॉडी वाले थे.

कैसे?हैलो फ्रेंड्स, मैं मधु जैसवाल एक बार फिर से अपने मौसेरे भाई के साथ इस सेक्स कहानी में स्वागत करती हूँ. तो मैं उसी होटल के बाहर आकर बैठ गयी क्योंकि सामान लादे लादे होटल देखने के चक्कर में मैं थक गई थी. अगली सुबह सूरज ने मुझे घर के पास छोड़ दिया और मैं धीरे धीरे घर चली गयी क्योंकि अभी भी हल्का सा दर्द था.

चाचा जी बोले- ऐसे करेगी, तो कैसे मजा आएगा … शुरू शुरू में अजीब लगता है, बाद में तो तू लपक कर लंड चूसा करेगी रंडियों की तरह.

ज़ारा मेरे कान के पास मुंह लाकर फुसफुसायी- जान!मैं- हूम्म!ज़ारा- चोद दो मुझे!और मेरे कान पर काट खाया और खिलखिलाती हुई लेट गयी!मैं- शरारती लड़की!अब मैं भी उसके ऊपर लेट कर उसे किस करने लगा, उसने एक हाथ बढ़ाकर मेरा लन्ड अपनी चूत पर टिकाया तो बाकी काम मैंने पूरा कर दिया. फिर मैंने अपने कपड़े उतार दिए तो मेरा लंड एकदम खड़ा होकर तम्बू बना हुआ था.

मेरी जीभ उसकी चूत की दोनों फांकों को अलग करती हुई अंदर तक जा रही थी और उसके कामरस का स्वाद ले रही थी. मेरे लंड को अब जरूरत थी तो एक गर्म चूत की। बस मैं भी लग गया लड़की पटाने की लाइन में।आखिरकार मेरे कॉलेज की एक लड़की से मेरी बात बन गई।वह बहुत ही शर्मिली टाइप की लड़की थी इसलिए उसको सेट करने में भी टाइम लगा. जिस सीट पर वो बैठी हुई थी, मैं ठीक उसके पास ही खड़ा था … जिससे मुझे उसके ब्लाउज के गहरे गले में से उसकी चूचियों की गहरी घाटी बिल्कुल स्पष्ट नजर आने लगी थी.

उसके लंड में से मेरी चूत के रस और उसके वीर्य दोनों की सुगंध आ रही थी. मैंने फिर से मासी को गले लगा लिया और उनके कान में कहा- मासी, आप बाहर क्यों किसी से अपनी जरूरतें पूरा करने की सोचती हैं. उधर वो तीनों मेरी मां को ऐसे चोद रहे थे, जैसे कोई कुतिया चुद रही हो.

बिहारी चुदाई बीएफ मैंने उसे अन्दर खींचा और झट से गेट बंद करके उसे अपनी गोद में उठा लिया. मैं- अच्छा है … मेरे लिए भी आयशा के बाद ये एक नया एक्सपीरियंस होगा.

हिंदी सेक्सी मूवी पिक्चर सेक्सी

आपको तो पता है कि किसी लड़की से ऐसी बातों को सुनने के बाद किसको नींद आती है. आप अगर मेरी सुहागरात की कहानी लिखने का मेरा मकसद नहीं समझे हैं तो मैं आपको थोड़ा और क्लियर कर देती हूं. यह सारी बातें विस्तार से होने के बाद प्रियंका ने मुझे सब बता दिया था.

बैंक क्रेडिट कार्ड से मैंने क्रेडिट प्वाइंट खरीद लिये जो सेशन शुरू करने के लिए जरूरी थे. प्रियंका- बिना गांड चुदाई के मजा नहीं आएगा तेरे को … कुछ बाकी रह गया लगेगा. देसी स्कूल गर्ल बीएफचुत पर हल्के हल्के बाल‌ थे मगर गीले होने के कारण वो चुत की फांकों से ही चिपक गए थे.

मैं आप लोगों को बता दूं कि मेरा जिस्म थोड़ा सा भरा हुआ है।मेरा भरा हुआ जिस्म देखकर वह तो मेरे जिस्म पर टूट पड़े और मेरे बूब्स को मेरी ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगे.

मैं हमेशा उसको ही देखने और बात करने का … या उससे चिपकने का मौका तलाशने लगी. मैंने उसके होंठों को छोड़ते हुए उसकी छाती पर हाथ रखे और अपने गांड को उसके खड़े मोटे लंड पर उचकाने लगा.

समय ज्यादा नहीं मिला लेकिन इसी में हमने जितना हो सका एक दूसरे के होंठों को चूमा. मेरा अंडरवियर फ्रेंची था … और मामी को चोदने के सपने के चलते लंड पहले ही टाइट था. अनामिका- तू क्या मदद करेगी साली बोल … यहां मेरी चूत से अंगारे निकल रहे हैं.

अब मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू किया और धीरे धीरे उसकी चूत में लंड के धक्के लगाने लगा.

फिर उसने मेरी गांड को मेरी जांघों के पास से पकड़ लिया और मेरी चूत में लंड को तेजी से ठोकने लगा. मैंने कहा कि भाभी कल का किसने देखा आज मौक़ा है भाभी, गांड भी खुलवा ही लो. अगले दिन जब मैं उससे स्कूटी सिखाने ले गया तो मैं अपने साथ कुछ कंडोम के पैकेट भी ले गया.

सेक्सी वीडियो पंजाबी सेक्सी वीडियो बीएफशायरा मेरे तारीफ करने से शर्मा गयी गयी थी … इसलिए मेरी बात को वो बीच में ही काटते हुए बोली- अब अगर फिर से तारीफ की … तो मैं नहीं जाऊंगी तेरे साथ. कुछ देर बाद जब हम दोनों चरम सीमा पर पहुंचने वाले थे, तो मानवेन्द्र मेरा इशारा पाकर तुरंत अपना कंडोम हटा कर लंड चुसवाने की पोजीशन में आ गया.

सेक्सी बातें mp3 में

रवि ने पिंकी से कहा- अगर मुझे कोई एतराज न हो … तो क्या तुम दो लंड से चुदवा लोगी!पिंकी बोली- धत्त … ये इंडिया है, यहां ऐसा नहीं होता. उसके कपड़े इतने टाइट थे कि उसके शरीर पर होने वाली कोई भी हरकत वो आसानी से महसूस कर सकती थी. चाचा जी बोले- सुहानी, तुम ही किस से शुरुआत करो, पर ध्यान रखना अगर लगे कि सूरज झड़ सकता है, तो तुरंत छोड़ देना.

मैंने उस लड़के के साथ कैसे मजे लिये?हैलो फ्रेंड्स, मैं सिमरन फिर से आ गयी हूं अपनी एक और गंदी सेक्स कहानी लेकर। अगर आप लोगों ने मेरी पिछली कहानियां नहीं पढ़ी हैं तो मैं बता दूं कि मैं एक इंडियन गर्ल हूं. हम जब दुकान पहुंचे ग्यारह बज चुके थे, कमल का नौकर दुकान चला रहा था. मैं ये सब पहली बार कर रही थी और मुझे ढंग से पता नहीं था कि क्या होने वाला है.

मैंने शायरा को किस करना शुरू किया, तो शायरा भी मुझे अब प्यार करने लगी. आज मैं जो बॉयफ्रेंड सेक्स स्टोरी सुनाने जा रही हूं वह बिल्कुल सच्ची है. राजू चाचा ने चाची का एक निप्पल पकड़ कर निचोड़ दिया और बोले- वो तो ठीक है, पर ये तो बता तूने भाभी की चूत देखी कैसे?संध्या चाची- एक बार में किसी काम से उनके बेडरूम में गई थी.

[emailprotected]हार्डकोर सेक्स इंडियन स्टोरी का अगला भाग:साले के दामाद ने कोरी चुत चुदवाई. पिछले भागसहेली के बॉयफ्रेंड के सामने जिस्म की नुमाईशमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं कंप्यूटर लैब में अपनी सहेली के ब्वॉयफ्रेंड अभिषेक की गोद में बैठ कर उससे कंप्यूटर चलाना सिखाने की कहने लगी थी.

इतने में वो मेरी गर्दन को चाटने लगा और इसकी गर्म गर्म सांसों से मैं मदहोश हो रही थी.

उसके बाद वो पीछे से ही मेरे ऊपर चढ़ गया और मेरी गांड में अपना लंड डाल कर मुझे चोदने लगा. मराठी एक्स एक्स एक्स बीएफअनामिका ने हंसते हुए मदहोश आवाज में बोला- जीजू, मैं सच में आपसे चुदना चाहती हूँ … और जी भर कर मजा लेना चाहती हूँ. किसिंग बीएफमर्दों को आकर्षित करने के लिए उनके होंठों पर सदैव लाल लिपस्टिक लगी रहती थी, डीप क्लीवेज वाले ब्लाउज पहनती थीं. मैंने सोचा कि साला पैसे तो लग नहीं रहे हैं, फिर से एप डाउनलोड कर लेता हूँ.

पर सायरा … वो पूर्ण रूप से नग्न थी और अपनी चूची को दबाते हुए अपनी चूत में उंगली डालकर अन्दर बाहर कर रही थी.

वो बोले- अरे सब ले जाएगी सुहानी तू अपनी चूत में, तुझे पता नहीं है, आज कल की लड़कियां बड़े से बड़ा लंड ले जाती हैं. फिर उसने अपने हाथ में थोड़ा सा थूक लिया और मेरी गांड पर लगा कर मसल दिया. मैं कुछ देर तक‌ तो चुत की फांकों को जीभ से ही कुरेदता रहा … मगर जब वो जीभ से नहीं खुली, तो मैंने हाथ का सहारा लिया और अपने अंगूठे व उंगली से चुत के होंठों को थोड़ा सा फैलाकर देखा.

तभी वो अचानक वापस आया और मेरे पास आकर मुझे एक किस करके बोला- मैं रात को वापस तुम्हारे पास आ सकता हूँ क्या? अगर तुम चाहो तो … या तुम्हें अगर रेस्ट करना है … तो हम कल मिल सकते हैं!मैंने उसे किस करते हुए कहा- दरवाजा खुला ही रहेगा … तुम्हें जब आना है, तब आ जाना. फिर मैंने रश्मि को आगे की ओर करते हुए उसके होंठ चूसते हुए उसकी चूत में उंगली से चोदने लगा. रेशमा के ऊपर मुझे चढ़ा देख कर बोला- क्या हुआ?मैं बोला- साली, यह तो झड़ चुकी है … कोई और व्यवस्था कर … तो मेरा पानी छूटे.

ससुर बहू का सेक्सी दिखाइए

धीरे धीरे जब शादी पुरानी होती गयी तो जिन्दगी से वो रस भी धीरे धीरे कम होने लगा. आज की ये देसी कॉलेज गर्ल सेक्स स्टोरी पूरी तरह से काल्पिनक है और इसका वास्तिवकता से कोई लेना देना नहीं है. मैं पेशे से एक वैडिंग प्लानर हूँ और ये काम मैं अपनी बचपन की दोस्त नैना के साथ करता हूँ.

अब आगे:मैंने रागिनी से कहा कि अब वो मेरे मुंह पर चूत रखे और हेतल को लंड पर बैठने के लिए कहा.

कामसूत्र की सारी मुद्राएँ और घर का हर कोना इनकी काम क्रियाओं का गवाह बना.

मोना ने लाल रंग की नेट वाली ब्रा पहन रखी थी और उसकी चूचियां उसकी सेक्सी ब्रा से बाहर निकलने के लिए बेचैन थीं।मोना बोली- डेजी … अपने आशिक़ को थोड़ा मेरे साथ भी बाँट ले. मैंने अपने बैग से एक मोटी जैकेट निकाल कर पहन ली और फ्रेश होने के लिए बाथरूम में चली गयी. सेक्सी बीएफ मूवी हॉटउन दोनों की अभी एक फैंटेसी और रह गयी थी जो उन दोनों ने मुझे बताई थी.

मैं उसके उरोजों और निप्पलों को मींजते हुए उसकी पीठ पर अपनी जीभ फिरा रहा था. इन कपड़ों में वे उतने दुबले नहीं लग रहे थे, बड़े छरहरे और स्लिम ट्रिम बॉडी वाले थे. फिर मैंने अपनी हथेली पर थूका और उस थूक को अपनी चूचियों पर मलने लगी.

मुझे तो ऐसा लग रहा था कि आज के बाद मेरी चूत किसी के काबिल बचेगी भी या नहीं।जॉन्सन का घोड़े जैसा लंड मेरी चूत की उस गहराई तक पहुँच रहा था जहाँ तक आज से पहले किसी का लंड पहुँच नहीं पाया था।मैं बस उसके लंड को किसी तरह झेल रही थी. उसका गोरा बदन, झील सी नशीली आंखें, सुर्ख गुलाबी होंठ … सच में वो कोई अप्सरा लग रही थी.

वैसे भोपाल के टूरिज़्म के बारे में परिचय देने की शायद ही जरूरत पड़े क्योंकि हर कोई जानता है कि चाहे वो ऐतिहासिक धरोहर की इमारतें हों … या वन्य अभ्यारण्य या नेशनल पार्क, सबसे ज्यादा मध्यप्रदेश में ही तो हैं.

”सलोनी ने लण्ड के सुपारे पर घी रखा तो लण्ड की गर्मी से घी पिघलने लगा. मैं- नहीं … मैं कैसे कर सकता हूँ?वो- नहीं … नहीं … मार ही लो, मुझे भी तो याद रहेगा कि मैंने गलती की थी. मैंने उसके हाथों को पकड़ कर अपने मम्मों पर रख दिए और ऊपर झुक कर चुदवाती रही.

बीएफ वीडियो बंगाली में मैंने थोड़ी सी तारीफ करते हुए कह दिया- वाह … फिर तो बहुत अच्छी बात है. रवि बोला- ऐसे कैसे बेकाबू हो जाएगा तेरा मन! तेरी चूत तो बस मैं ही फाडूंगा.

मुझे साफ़ दिख रहा था कि कविता थक चुकी है … मगर उसमें जोश बहुत ज्यादा था, मानो उसने हार न मानने की जिद पकड़ ली हो. सीधे होने के बाद मैंने उसकी जांघों पर दबाव बना कर कुछ जोरदार धक्के लगाये। फच्च-फच्च की मधुर आवाज गूंजी और उसके मुंह से भी आह-आह की ध्वनि उच्चारित हुई। फिर मैंने लिंग बाहर निकाल लिया।अब दूसरा सामान अलग स्टाईल से लो. तो मैंने क्या सोचा?दोस्तो, मैं अन्तर्वासना का बहुत पुराना पाठक हूं.

सेक्सी वीडियो चुदाई चूत लंड

जिस तरह से मेरे धक्के की ताकत होती, उसी तरह से सायरा के मुँह से आवाज आती. करीब 15 मिनट की चूत चुदाई के बाद मैंने लंड चुत से खींचा और उसके पेट के ऊपर झड़ गया. फ्रेश होकर चाय पीकर सभी साथ नहाये और ये तय हुआ कि कम से कम कपड़े पहने जायेंगे.

इस मौसम में कभी हम तीनों सामूहिक गोला मारते, तो कभी स्कूल की तरफ से बारिश के चलते छुट्टी हो जाती थी. इस बार हमारे किस से प्यार की बरसात हो रही थी और शायरा मेरे प्यार की बरसात में भीग रही थी.

अयान ने अपनी मां के सामने अपना सर हिलाते हुए हां में इशारा किया और आकर मेरे पैर दाबने लगा.

फिर वो धीरे धीरे मेरी चुत को सहलाने लगा, जिससे मेरे अन्दर की ज्वाला भड़क रही थी. क्योंकि शायरा जैसे मदमस्त कर देने वाली रूप की मल्लिका अब मेरी हो गयी थी. बिन्नी की सांसें फिर तेज हो गईं और उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगीं.

वो जोर-जोर से बोलने लगी- अहा भाई चोदो मुझे … आह फाड़ दो मेरी बुर को … हां भाई बहुत मजा आ रहा है … ऐसे ही करते रहो. मैं जोर से चिल्ला पड़ा, जिससे शायरा ने तुरन्त अपना एक हाथ मेरे मुँह पर रख दिया. अब जब तक मैं सीधा होकर मालिश करता, तो सायरा मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसती … और जब हल्का से आगे की तरफ झुकता, तो वो अपनी जीभ की टो मेरी गांड में चलाने लगती.

आखिर जब हमें आराम करते हुए 10-15 मिनट हो गए तो चाचा जी बोले- जाओ बेटा सुहानी, बाथरूम में जा के खुद को साफ कर लो.

बिहारी चुदाई बीएफ: मैंने पूछा- क्या चाहिए?हर्ष- आज जब मैं तेरे बाजू में बैठा था और तू लिख रही थी तो मुझे तेरे बूब्स दिख रहे थे. ना तो रवि के दिमाग में कोई प्लानिंग थी, न पिंकी की सोच में ये सब शामिल था.

मुझे बहुत दर्द हो रहा था और मैं रोते हुए बोल रही- प्लीज चाचा जी, आहह … बहुत दर्द हो रहा है … निकाल लो आहह … प्लीज. एक पुरानी चूत जवान लंड के लिए भले कैसे न तड़पती?धीरे धीरे फिर मैंने चाची के साथ छेड़छाड़ शुरू की. शायरा की उस नन्ही परी को देखने के बाद मुझसे अब रहा नहीं गया, इसलिए अपने आप ही मेरा सिर‌ उसकी जांघों के बीच झुक गया.

पापा को लैपटॉप चलाना आता नहीं था तो लैपटॉप घर में रहता था, जिसे अब मैं मूवी देखने और गेम खेलने के लिए इस्तेमाल करने लगा.

प्रियंका अनामिका की चुत में उंगलियां अन्दर बाहर नहीं कर रही थी वो बस चुत को कसके दबाए रही. शायरा के अब आई लव यू बोलते ही मैंने उसे फिर से गले लगा लिया और उसके गालों पर किस करते हुए उसे बिस्तर पर लेकर लुढ़क गया. मैं- और अगर मैं तुम्हें ऐसे ही छोड़ दूँगा तो बाद में तुम मुझे भी बेवकूफ कहोगी.