बीएफ वीडियो नंगी वीडियो

छवि स्रोत,ब्लू सेक्स ब्लू वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

चाची की चुदाई की कहानी: बीएफ वीडियो नंगी वीडियो, वापस आने के बाद मैंने उसको मेसेज किया जिसमें मैंने काफी कुछ गलत भी बोला.

हिंदी बीएफ आवाज में

उसकी हो ज़ा।लेकिन मैंने कहा- हमारे रिश्ते का अंजाम नहीं है।उसको भी पता है लेकिन कहती- कोशिश करके देखा जाए?मैंने कहा- जितना साथ लिखा है, उतना समय अच्छे से बिताएँगे। इस रिश्ते को लोग नहीं समझ सकते. सेक्सी व्हिडीओ हिंदी बीएफ व्हिडीओउस वक्त मेरे एग्जाम चल रहे थे, इसलिए मैं तो शादी में जाने वाला था ही नहीं!उस रात करीब सात बजे मेरी पूरी फॅमिली और चाचा चाची और मनीषी शादी में जाने के लिए तैयार हो गये लेकिन अचानक से मनीषी की तबीयत खराब हुई और उसे दवा देकर सुला दिया गया.

अगले साल उसका रिश्ता कहीं और हो गया और फिर जल्द ही उसकी शादी होने वाली थी इसलिए उसके घर वालों ने उसकी नौकरी छुड़वा कर उसे घर बुला लिया था. नंगी बीएफ वीडियो हिंदीलेकिन हम लोग सिर्फ दोस्त हैं और कुछ नहीं।तो भाभी चुटकी लेते हुए बोलीं- और क्या होता है.

मेरे अंदर की हवस भी जग रही थी जो मुझे उसकी लोअर की तरफ देखने को मजबूर कर रही थी.बीएफ वीडियो नंगी वीडियो: चूत इतनी चिकनी हो चुकी थी कि सुपारे को अंदर घुसने में ज़्यादा तकलीफ़ नहीं हुई.

दोस्तो,मैंने आपको कुछ दिन पहले एक हिंदी सेक्स स्टोरी भेजी थीमस्त फ़ीगर वाली पड़ोसन भाभी की मस्त चुत चुदाईआप सभी को मेरी कहानी बहुत पसंद आई क्योंकि मेरे पास आपको बहुत मेल भी आये मैं उसके लिए आप सभी का दिल से धन्यवाद करता हूँ.लेकिन पहली बार में लंड फिसल गया।अब मैंने सोचा कि नरमी से काम नहीं चलने वाला है.

हरियाणा का बीएफ वीडियो - बीएफ वीडियो नंगी वीडियो

थोड़ी देर बात के बाद ही मैं उसके होंठ चूसने लगा। मेरा और उसकी जीभ आपस में लड़ने लगीं।अगले ही पल मैं अपना हाथ उसके दूध पर डाल कर दबाने लगा। मेरा लंड खड़ा हो गया था। उधर चुची के दबने से उसके मुँह से ‘आह.30 से पहले नहीं आ पायेगा।नेहा बाइक पर बैठती हुई बोली- कहाँ चल रहे हो?रवि मुस्कुरा कर बोला- तुम्हारे घर!रास्ते से नेहा के कहने पर रवि ने समोसे लिए और दोनों घर पहुँच गए।घर के अन्दर आते ही रवि ने नेहा को कस के भींच लिया।नेहा हंसती हुई बोली- जल्दी क्या है, अभी तो दो घंटे तुम्हारी हूँ.

पेट चूमते हुए भाभी की चुत पर आ गया।मैंने देखा कि भाभी की चूत मस्त बालों वाली चुत है।मैंने पूछा- भाभी आप झांटें साफ नहीं करती हो?तो बोलीं- आजकल तुम्हारे भैया को तो टाइम ही नहीं मिलता. बीएफ वीडियो नंगी वीडियो थोड़ी देर में उसका मुझे मेसेज आया- तुमसे मिल कर बहुत बहुत अच्छा लगा… वाकयी तुम बहुत आकर्षक हो.

तो मेरे मन में उसे चोदने की चाहत जग गई थी।एक मजे की बात ये थी कि जैसे मैं उसे चोदना चाहता था, वैसे वो भी मुझसे चुदना चाहती थी।जब भी उसे मौका मिलता.

बीएफ वीडियो नंगी वीडियो?

मैंने उसे उसकी चूत में उंगली डालने को कहा, फिर दो उंगली डालने को कहा… स्वाति के मुझ से सिसकारियाँ निकलती रही और वो अपनी चूत में उंगली करती रही. मैं भाभी के दाने से उनकी उंगली हटाई और अपनी उंगली से उनका दाना रगड़ने लगा. यह मेरी पहली चुदाई की कहानी है। मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगों को पसंद आएगी।मेरा नाम डीजे है.

औरों के जैसे उसके बूब्स पर नहीं देखते हो।मैंने कहा- अभी तो तुम्हारे देख कर करता हूँ।तो हँस पड़ी. अब वो भी मस्त हो रही थी तो मैं वक्त बरबाद ना करते हुए उसकी चुत पर हाथ फेरने लगा. वैसे उसे पता भी होता तो भी वो यही सोचता कि मालिश से उसका लंड कितना ताकतवर हो गया है, उसे इसमें शर्म की कोई बात नज़र नहीं आती।रसोई में रमा बर्तन धो रही थी और रमा की पीठ उसकी तरफ थी.

तो मैं तो एकदम से दंग रह गया।फिर भाभी बोलीं- देवर जी प्यार तो मैं भी आपसे बहुत करती हूँ. फिर मैं वापिस अपने घर आ गया तो मुझे भाभी का फ़ोन आया कि वो माँ बनने वाली हैं और घर में सब बहुत खुश है. लेकिन उसने मेरा लंड मेरे लोवर के ऊपर से ही पकड़ लिया था, तो मैंने लंड चुसाना ठीक समझा।मैंने देखा कि वो मेरे लंड को मेरे लोवर से बाहर निकाल कर उसे सहलाने लगी। इसमें मुझे मजा आने लगा और मेरी आँखें बंद हो गईं।यह मेरा पहला चान्स था कि जब कोई लड़की मेरे लंड को पकड़ कर हिला रही थी। उसने लंड को जीभ से टच किया तो मेरी आँखें बंद होने लगीं.

‘बापू मैं सच में यही चाहती थी पर डर भी रही थी इसिलए मना करने का नाटक कर रही थी. लेकिन थोड़ी ही देर में निकाल दिया।राम ने उतनी देर में उसके बोबे इतने अधिक मसल डाले थे कि मम्मे लाल हो गए थे।दिव्या को देख ऐसा लग रहा था कि वो नशे में हो।फिर राम ने अपना लंड उसकी चुत में पेल दिया, दिव्या को थोड़ा दर्द हुआ और वो चीखने लगी- आ उहह.

उसने अपनी आँखें खोली, बोली- क्या है यह?मैं बोला- तुम्हारा वीर्य है ये, लो इसे चखो!‘छीः मैं नहीं चखती!’‘क्यों?’ मैंने पूछा.

‘जंगली बिल्ली’ यही नाम देना चाहूंगा कोमल को… उसका अंदाज़ बहुत आक्रामक था, वो मेरे जिस्म को चूम रही थी, चूस रही थी, काट रही थी, मेरे जिस्म में लव बाईट बनते जा रहे थे और मैं सिसकारी भर रहा था.

‘ओउच…’फिर उसने बैठने को कहा, फिर चुन्नी उतारी, बहुत चूमा और फिर मुझे लिटा कर पजामी उतार दी और पेंटी भी. वो चिल्ला पड़ी और अजीत का पूरा लंड सुनीता की गोरी मलाई सी चुत में प्रवेश कर गया।शायद सुनीता को लम्बे लंड के एकदम से ठोके जाने से दर्द हुआ होगा, उसके मुझ से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ निकल गई और अजीत कुछ समय के लिए रुक गया, फिर वो धीरे-धीरे धक्का मारने लगा।अब इसमें सुनीता भी भी मजे लेने लगी।यहाँ हम दोनों भी बहुत ही सेक्सी हो रहे थे. इतना चुदने के बाद उसका शरीर अकड़ने लगा जो साफ़ साफ़ बता रहा था कि वो झड़ने वाली है, उसके उछलने की गति कम होने लगी पर मेरा लंड अब भी तना हुआ था.

नताशा भी बड़े प्यार के साथ अपने देवर के वीर्य को अपने मुंह में लेकर सटकती रही. और वो अब गर्म हो गई है… तुमने देखा ना कैसे अपनी चूत को मसल रही थी! अगर किसी और के साथ कुछ उल्टा सीधा किया तो प्रॉब्लम होगी. मेरी पत्नी के बदन का साइज एकदम मॉडल… हीरोइन जैसा है, दुबला और कामुक शरीर, जिसको काफी लम्बी अवधि तक और अलग अलग मुद्राओं में चोदा जा सकता है.

ऐसी मर्दाना छाती कम ही देखने को मिलती है।मैं उनके निप्पल पिए जा रहा था.

अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा पेंटी में थी और मैं उसे इस रूप में देख कर पागल सा हो गया था. विकास ने भूमि को तिरछा लेटा दिया और उसकी गांड में थूक लगाकर अपना लंड घुसाने लगा. शायद वो लंड पकड़ने में शर्मा रही थी।उसके मम्मों का नाप 28 इंच का था.

वंदु की चूत से आ रही एक तीव्र गंध मुझे और भी दीवाना बना रही थी और मेरे नवाब साहब को और भी ज़्यादा तड़पने को मजबूर कर रही थी. लेकिन मैंने उसकी माँ को नहीं बताया।फिर हमारी बात यूँ ही चलने लगी।एक दिन उसकी मम्मी से मैंने बोल दिया- जब मैं आपके घर आया था. साली रांड… पता नहीं कितनों का लंड ले चुकी होगी… बिल्कुल फटी चूत… पर दिखने में मस्त लग रहा था.

तब वो भी गांड उठा कर मज़े लेने लगी। कुछ ही देर में वो अकड़ गई और शायद झड़ गई।अब मैं भी झड़ने वाला था और वो भी फिर से गरमा गई थी। कुछ ही धक्कों बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए।हम दोनों एक-दूसरे से चिपके पड़े रहे। बाद में उठा कर हम दोनों ने अपने कपड़े पहने। उसने जाते वक्त मुझसे मेरा मोबाइल नम्बर माँगा.

यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!इसी तरह करीब महीने में दो तीन बार वो मुझे चोदने देती थी, फिर करीब तीन महीने बाद जब उसके पीरियड नहीं आए तो मुझे पता चला कि मैं पिता बनने वाला हूँ. अपने छोटे भाई की ख़ुशी के लिए उसको रूम में बुलाकर पहले मुझे चोदा था फिर उससे मुझे चुदवाया था.

बीएफ वीडियो नंगी वीडियो अब मैं कहानी की मुख्य बिंदु पर आता हूँ!निश्चित दिन और समय पर मैं उसके घर पहुँच गया. जब मेरा स्टॉप आया तो मैं उतरने ही वाला था कि उसने मुझे अपना नंबर दिया और कहा- अगर अब अहमदाबाद आओ तो मुझे चोदने जरूर आना।जिस पर मैं उसे एक किस करके उतर गया।दोस्तो, यह थी मेरी ट्रेन के सफर की चुदाई की कहानी.

बीएफ वीडियो नंगी वीडियो नाम है मेरा राज… मैं अपने को बहुत सुंदर तो नहीं कहूँगा पर 25 साल साँवला रंग का सामान्य कद काठी का लड़का हूँ. जैसे ही मेरा लण्ड प्रतिभा की गांड में गया, उसकी चीख निकल गई और फिर धीरे धीरे उसे मजा आने लगा, और थोड़ी देर के बाद मैं उसकी गांड में झड़ गया।उस रात मैंने प्रतिभा की 5 बार चुदाई की, 2 बार प्रतिभा की गांड मारी और 3 बार चुत…प्रतिभा इस बीच कई बार झड़ चुकी थी और उसका पति मनोहर कई बार मुट्ठ मार चुका था.

उसे बहुत मजा आ रहा था, वो अपने चूतड़ उछल रही थी, सिसकारियाँ भर रही थी- हाँ भैया… करो… मजा आ रहा है…मेरी बहन की चुत का स्वाद कुछ अजीब सा था, उसमें से लिसलिसा सा पानी आ रहा था.

चुदाई वाली सेक्सी पिक्चर हिंदी में

तुम टेंशन मत लो और अपना अंडरवियर उतार दिया। अब मैं बिल्कुल नंगा हो चुका था। फिर मैंने उसका पजामा उतारा। उसने काफ़ी रोकने की कोशिश की, पर मैं नहीं माना और उसका पजामा उतार ही दिया। फिर उसकी पेंटी भी उतार दी।अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी पड़ी हुई थी। वो बिल्कुल अप्सरा की तरह लग रही थी, बिल्कुल गोरी।उसने अपना एक हाथ अपनी चूत पर रख लिया और एक हाथ अपनी चुची पर रख लिया. भाभी ने एक कातिल मुस्कान देकर कहा- हाँ, दे दीजिए मुझे एक प्यारा सा बच्चा. 30 बजे मैंने, उसको डिनर के लिए कॉल किया, तो कहती- मेरी फ्रेंड और उसका ब्वॉयफ्रेंड आया है, मैं उनके साथ जा रही हूँ।मैंने कहा- ठीक है।मैं यह जानने के लिए राम से मिलने गया कि वो क्या कर रहा है.

नहीं तो मैं मर जाऊँगी।मैंने उनकी बात को अनसुना कर दिया और उनकी चूचियों को चुसकने लगा।कुछ ही देर बाद दीदी का दर्द कम हुआ और मैंने फिर से एक ज़बरदस्त धक्का दे मारा। इस बार मेरा पूरा लंड दीदी की चूत के अन्दर घुस गया। दीदी को बहुत दर्द हुआ. अभी तेरी चिकनी टाइट गांड ही मारने में जो मजा है वो किसी में नहीं है. नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम विक्की है, मैं 24 साल का एक जवान और हट्टा-कट्टा दिखने वाला युवक हूँ.

हैलो, मेरा नाम पिंकी है। मेरी चुदाई की यह सेक्सी स्टोरी बिल्कुल सच्ची है। मैं अपने मॉम-डैड और भाई के साथ रहती हूँ। मेरी एक सहेली है, जिसका नाम नेहा है। वो और मैं दोनों साथ में पढ़ती हैं। मेरा फिगर 34-32-34 है और मेरी फ्रेंड का 36-34-36 का है।नेहा बहुत ही सेक्सी दिखती है.

‘ये क्या है?’ मेरा मुंह खुला का खुला ही रह गया, बहुत मोटा और काला लिंग था उसका, अभी नॉर्मल था फिर भी 5 इंच का था, पूरा खड़ा हो गया तो कितना मोटा होगा मैं सोचने लगी. तो दीदी की गांड और उसकी चुची ही दिमाग में आ जाती। फिर भी वो मेरी दीदी थी. तो मैं जल्दी से उठा और बाथरूम के दरवाजे के एक छेद में से देखने लगा। उन्होंने अपने सारे कपड़े उतार दिए थे और वे नीचे अपनी गांड हिला रही थीं, ऊपर अपने एक हाथ से अपने दूध दबा रही थीं.

अब मैंने मेरा पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया मुझे दर्द का अहसास हुआ मगर बहन की चुदाई के जोश में मैं आगे पीछे करने लगा. खैर मैंने भी‌ संगीता भाभी की चूत को‌ एक बार ऊपर से चूमा और फिर अपनी जीभ को ‌निकाल‌ कर धीरे धीरे चूत की ‌फांकों को‌ चाटने लगा. बैड पर बैठ कर भाबी बोलीं- अब क्या बताऊँ… कुछ बताने लायक हो तो कुछ न!तो मैं बोला- फिर भी?भाबी बोली- तेरे भैया वैसे तो अच्छे हैं लेकिन एक काम में पूरी तरह से कमजोर हैं.

उसने अपने हाथ की उंगलियों पर लगे मेरे रस को सूंघा और चाटने लगा!‘बड़ा स्वादिष्ट है तुम्हारा रस तो!’फिर उसने मेरी पेंटी उतारने का इशारा किया तो मैंने अपनी कमर थोड़ी ऊपर कर दी और उसने मेरी पेंटी उतार दी. मैं भी थोड़ा मस्तमौला टाइप ही रहता और हँसी मजाक भी खूब करता था सभी के साथ.

जब वो थक गई तो कहती- तुम आओ ना ऊपर!फिर तो दोस्तो पूरी रात आपको पता है कि क्या हुआ. उससे लगा।मैंने पूछा- आपका कॉलेज टाइम में बॉयफ्रेंड था?तो उन्होंने कहा- नहीं. इसलिए मैंने भी देर न करते हुए आंटी को अपनी गोद में उठा कर उनके कमरे में पलंग पर ले गया। फिर मैंने आंटी के होंठों को चूमना चालू कर दिया। आंटी सेक्स में मेरा पूरा साथ दे रही थीं और हम दोनों एक-दूसरे को पागल प्रेमी के जैसे किस करने लगे।थोड़ी देर बाद मैं आंटी के मम्मों पर हाथ रख कर दबाने लगा और आंटी चुदास में सीत्कारने लगीं- आआहह.

‘इसे कहते हैं लौड़ा, आपको कैसा लगा मैडम?’ उसने बेशर्मी से पूछा और मेरा खुला मुंह देख के बोला- मेमसाब, आपको तो सदमा लगा है!‘नहीं वो… मतलब!’ मैं क्या बोल रही थी मुझे ही पता नहीं था, मेरी नजर उसके लिंग से हटकर उसकी नजर से जा मिली.

नमस्कार दोस्तो, मैं रजत सिंह लखनऊ से हूँ, आज आप लोगों को अपनी सच्ची चूत चुदाई की कहानी बताने जा रहा हूँ. फिर जैसे मैंने कहा, वह करती गई, उसने आधे से ज्यादा माउस अपनी चूत में घुसा कर मुझे दिखाया… वो सिसकारियाँ भर भर कर अपनी चूत माउस से चोद रही थी. तेरे लिए तो कुछ भी कर सकता हूँ।गगन- संगीता ने चिठ्ठी भेजी है।मैं तो थोड़ी देर के लिए हक्का-बक्का रह गया। मेरा दोस्त अपनी ही बहन को पटाने को बोल रहा है। फिर मैं थोड़ी देर बाद बोला।मैं- अबे वो तेरी बहन है.

उसके गुलाब के किसी गुलाबी फूल की तरह कोमल लबों के रस को मैं पीता चला गया. हम दोनों कहीं चल रहे हैं।वो मान गई।दूसरे दिन सुबह वो आ गई। मैं उसे अपने दोस्त के फ्लैट पर ले गया, जहाँ कोई नहीं रहता था।कमरे में अन्दर जाते ही मैंने दरवाजा बन्द कर दिया। मैंने देर ना करते हुए सोमी को पकड़ लिया और उसके होंठों को चूसने लगा।हय.

मैं तुम्हारे साथ वक़्त गुजारना चाहती हूँ।मैंने उसकी तरफ देखा और बोला- ऐसा क्यों?फिर वो बोली- मुझे तुमसे बात करना बहुत अच्छा लगता है और मैं तुमसे प्यार करने लगी हूँ. अंजलि की सांसें तेज़ हो चुकी थी, उसके हाथ मेरे चूतड़ को जोर से दबा का अपनी तरफ खींच रहे थे… जैसे वो मेरे में समां जाना चाहती थी. अब मेरा लन फिर से खड़ा हो रहा था तो मैंने सीधा उसकी फुदी में डालना चाहा.

एक्स एक्स एक्स मुस्लिम सेक्सी वीडियो

और अब उसने निकर पूरी घुटनों तक खिसका दी।दीदी- दवाई तो लगा दी है, लेकिन अब पूरी फैला दी तुमने!यह कह कर वो साफ करने लगी.

भाभी ने कहा- आज चूस ले भाभी के रसीले आम! पी ले सारा रस!मैंने जोश में आकर भाभी की ब्रा फाड़ दी. मतलब कोई न कोई यहाँ पर आता है, अब वो लड़का है या मर्द है या कोई औरत बस इसका पता लगाना था… इसलिए मैं ज्यादा वक्त खेत के पास ही बिताने लगा, दो तीन चक्कर लगाने लगा. तब मैंने उसके एक खास दोस्त को पेड़ के नीचे पार्किंग में देखा और उससे पूछा- सुधीर स्कूल क्यों नहीं आ रहा है?तब उसने मुझे एक चिट्ठी थमा दी और कहा- सुधीर ने तुम्हें देने को कहा था।मैंने कहा- तो तुमने मुझे पहले क्यों नहीं दे दी?तो उसने कहा- सुधीर ने कहा था कि जब स्वाति खुद आकर मेरे बारे में पूछे तभी यह चिट्ठी उसे देना, और जब तक ना पूछे इसे अपने पास ही रखना.

हम वहाँ से निकले, अभी थोड़ी दूर ही हम आये थे कि अचानक जोरदार बारिश शुरू हो गई तो हम एक पेड़ के नीचे रुक गये. दोस्तो, आपको भी पहली बार की गांड मराई याद होगी!वैसे तो हर बार की गांड मराई याद रहती है, मजा याद रहता है, दर्द याद रहता है. गुजराती बीपी ना वीडियोवहाँ आकर वो रोने लगी कि कैसे उसके ससुराल वाले उस पर जुल्म किया करते थे। मैं उसकी बातें वहीं एक तरफ बैठ कर ध्यान से सुनता रहा और बातें सुनने के साथ धीरे-धीरे उसको बार-बार देख भी रहा था।अचानक उसने मुझे देख लिया कि मैं उसे बार-बार देख रहा हूँ.

’ करते हुए सिसकारियां ले रही थी।फिर राम ने कहा- दिव्या मेरा लंड चूसो।उसने थोड़ा आना-कानी की तो राम ने थोड़ा ज़ोर से कहा।अब दिव्या ने राम का काला लंड अपने मुँह में लेकर चूसा. वे दोनों दीवार की तरफ मुंह करके खड़ी थी, उनकी पीठ मेरी तरफ थी, अब दोनों केवल पेंटी में थी.

आम्ही वेदना आहेत!मैंने मराठी लिखी है पर यदि कोई त्रुटि हो तो माफ़ कीजियेगा. धीरे धीरे हम दोनों नंगे हो गये और एक दूसरे को निहारने लगे।मेरा लंड 6 इंच लम्बा है और ढाई इंच के करीब मोटा… वो मेरे लंड को निहार रही थी।मैं बोला- क्या देख रही हो?तो वो बोली- यार उसका छोटा है और पतला भी… पर तुम्हारा तो यार बहुत मस्त है।मैंने कहा- हाथ में लेकर देख लो!रंजना- यार नहीं. मैंने बिना कोई देर किये उसके पजामे के ऊपर से ही बहन की चूत पर हाथ फेरना चालू कर दिया.

वो भी थक गई थी। फिर हम दोनों बाथरूम गए, एक-दूसरे को साफ किया। बाथरूम में भी मैंने और उसने काफी मस्ती की थी।हम दोनों काफी थके थे, तो हम सो गए। उस दिन से मैंने उसको लगातार दो दिन चोदा और हमने आज तक बहुत बार चुदाई की. उनके बूब्स 42 के हैं कमर 36 की है, गांड भी बहुत बड़ी है, उनको देख कर मेरा मन करता था कि उनको चोद दूँ लेकिन मैं अपने आप को कंट्रोल करता था, मुझे डर भी था कि आंटी मेरी शिकायत ना कर दें मेरी मम्मी से!एक दिन जब मैं आंटी के घर पर गया था तो मैंने देखा आंटी ने मैक्सी पहनी थी, उसके नीचे ब्रा नहीं पहनी थी. मैंने ये अभी पढ़ा और इतने में तुम आ गए, अब तुम ही कुछ करो।तो उसने कहा- मैं क्या करूँ?मैंने उससे कहा- तू उसे प्यार से समझा कि ये सब ठीक नहीं है.

नेहा तुरन्त बोली- दीदी, मैं अपनी फ्रेंड के घर जा रही हूँ, जब तुम लोगों का प्यार व्यार हो जाये तो बुला लेना!नेहा की यह बात सुनते ही सुमन पीछे ने सर घुमा कर और हँसते हुये मेरा लन्ड पकड़ कर उसको बोल दिया- जा!नेहा के जाते ही सुमन मुझ पर टूट पड़ी, मेरे लंड को मसलने लगी और बोली- इस दिन का कब से इंतज़ार था अमित… आज बहुत प्यार करो!सुमन ने चोदा चोदी का पूरा मूड बना रखा था.

चाची ने बाथरूम से मुझे आवाज़ लगाई कि उनके कपड़े बेड पर ही रह गए हैं, जो मैं उन्हें पकड़ा दूँ!मैं वो कपड़े चाची को पकड़ा दिए. ‘आज तुम्हारी स्मेल कुछ अलग ही आ रही है!’ मैं डर गई पर चेहरे पर कुछ नहीं दिखाया.

कि टेढ़ा है पर मेरा है।ये बात कुछ महीने पहले की है जब मैं इंजीनियरिंग का बैक पेपर देने ट्रेन में जा रहा था। उसी समय मेरे पास वाली सीट में मुझे एक लड़की अकेली दिखी, पर मैंने उससे कोई बात नहीं की और मैं सो गया।जब मैं सो कर वापस उठा और बाथरूम गया तो आर्मी वाला मेरी सीट पर आकर बैठ गया। जब मैंने उससे हटने को कहा तो उसने मना कर दिया और मैं उस लड़की की सीट पर जाकर बैठ गया।ऊप्स माफ़ करना मित्रों. ’ रमा ने आस की नज़रों से तरन की ओर देखते हुए कहा।‘रमा तू मेरे देवर रवि को तो जानती हैं न? बहुत पूछता है तेरे बारे में… मेरी मिन्नतें कर रहा है साल भर से कि तेरी उससे बात करवा दूँ, तू बोले तो करूँ बात?’ तरन ने रमा को आँख मारते हुए कहा।‘नहीं नहीं दीदी रहने दो!’ रमा ने घबराते हुए कहा. मैं प्यार से उसे अपने पास पकड़ कर खींचने लगा, वो भी प्यार से मेरे पास आ गई.

एक दिन फोटोस्टेट की दुकान पर दिल्ली में गेस्ट टीचर की जॉब के लिए फॉर्म भरवा रहा था, तभी नज़र सामने बैठी एक लड़की पर पड़ी. मैंने उसके पूरे बदन को इतना किस किया कि वो जोर जोर की आहें भरने लगी- आआह्ह्ह ऊह्ह्ह्ह पलीज़्ज़ चोदो मुझे… अब मत तड़पाओ!फ़िर मैंने उसे बोला- डार्लिंग वेट करो, तुम्हारी सारी इच्छा पूरी करूँगा. दरवाज़ा खुला था, वो अचानक से तौलिया में ही भाग कर बाहर बालकनी में आई और उसने न सुन पाने के लिए ‘सॉरी’ बोला।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने नोटिस किया कि तौलिया से सिर्फ़ बोबे छुप रहे थे.

बीएफ वीडियो नंगी वीडियो अगर आप सोना चाहते हो तो और सो लो।पर अब मेरे आँखों में नींद कहाँ थी।हमने साथ में बैठ कर चाय पी. वो चूत को साफ करने लगी जिस पर उसका वीर्य और खून लगा था और मैं उसकी चूची पीछे से दबाने लगा। फिर उसको उठाया और किस करने लगा, फिर मैंने शावर चालू किया।हम दोनों नहाने लगे और एक दूसरे के गुप्तांगों के साथ खेलने लगे जिससे हम दोनों का फिर से चुदाई का मन हुआ।मैंने उसको दीवार से सटा कर खड़ा किया, उसकी एक टांग ऊपर करके उसको चोदने लगा.

कन्या की सेक्सी

तो मैंने एक और धक्का दे दिया।अबकी बार लंड लगभग आधे से थोड़ी ज़्यादा अन्दर घुस गया था। मुझे इतने में ही लगने लगा था कि अंजलि की बुर पानी सा छोड़ रही है. ’ करने लगी और मेरे लंड को जोर-जोर से दबाने लगी।मैं भी मस्त हो चला था. !इस पर उन्होंने कहा कि वो बीएससी ग्रेजुएटेड हैं, वो मुझे अच्छे से समझा सकती हैं।मॉम ने भी इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की।मैंने कहा- ठीक है.

’ करने लगी। मैंने धीरे से उसकी चुत को सहलाना शुरू किया और एक उंगली उसकी चुत में डाल दी।यह हिंदी चुदाई स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!दोस्तो, मैं खुश हो गया. चाचा और चाची और मम्मी पापा ने मुझे कहा कि अब मनीषी का ख्याल मुझे ही रखना पड़ेगा जब तक वे लोग शादी से वापिस ना आ जाएँ!यह कह कर वो सब शादी में चले गये और वे अगले दिन दोपहर को ही आने वाले थे. बीपी हिंदी सेक्सी बीएफआप टेंशन मत लो।मैंने उसे उसकी कंपनी में छोड़ दिया।अब दिव्या मुझे काफ़ी मिलने लगी और मैं उसे बार-बार ऑफिस तक ड्रॉप कर देता था।एक दिन दिव्या ने मुझसे कहा- सुशान्त आप रोज-रोज मुझे ड्रॉप करते हो अगर तुम्हारी गर्लफ्रेंड ने देख लिया तो क्या सोचेगी वो?मैंने कहा- क्यों मज़े ले रही हो यार, मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है।उसने कहा- झूट मत बोलो.

‘आज तुम्हारी स्मेल कुछ अलग ही आ रही है!’ मैं डर गई पर चेहरे पर कुछ नहीं दिखाया.

’ करने लगीं।थोड़ी देर चूसने के बाद मैंने अपना लंड उनके मुँह में दे दिया. और मैं वहां से जल्दी से निकल गया। वो लड़की मेरे पीछे-पीछे आ रही थी। मैं लकी के दोस्तों के पास बैठ गया और बातें करने लगा।वो लड़की अपनी सहेली के साथ खड़ी मुझे ही देखे जा रही थी। कुछ देर बाद जब वो चली गई.

जैसे ब्लू-फिल्म की शूटिंग हो रही हो।उसके बाद जब उससे रहा नहीं गया तो उसने मेरा सर अपने गले से उठा कर और मेरे मुँह को पकड़ते हुए अपने चूचों पर रख दिया. इसके बाद सारे रास्ते हम लोग हंसी मजाक करते हुए चुहलबाजी में लगे रहे. पर अब मेरा मन मूवी में लग नहीं रहा था, बड़ी मुश्किल से मैं मूवी देखने का नाटक कर रहा था, कभी कभी मेरा हाथ उसके हाथ से छू जाता पर मैं फ़ौरन अपना हाथ हटा लेता.

तू ही तो मेरा असली गबरू जवान है जो इतना मजा दे सकता है कि अभी तक मेरी मुनिया लप-लप कर रही है… क्या मस्त खड़े खड़े चुदाई कर डाली, वो भी एक बार सामने से और एक बार पीछे से… और इतना सारा रस भर दिया मेरी मुनिया में! सच राजू, यह तो जवानी का एकदम नया तजुर्बा है मेरे लिए!’हम दोनों प्यार में इतना खोए थे कि पता ही नहीं चला कब पायल आकर रसोई के दरवाजे पर खड़ी हो गई और हमारी बातें सुन रही थी।‘अच्छा तो यह बात है.

अब मैंने उसके टीशर्ट और शॉर्टस दोनों उतार दिए, अब वो सिर्फ़ मेरे सामने ब्रा और पेंटी में थी. ’ की आवाज़ गूँज रही थी। वो मुझे जोर-जोर से चोदते हुए कह रहा था- मजा आ रहा है ना?‘हाँ. तब तक मैंने किसी की चुदाई नहीं की थी लेकिन इतनी समझ थी कि कंडोम नहीं तो चुदाई नहीं!खैर, पेंटी तो तब भी उतारी, बालों से भरी चूत महसूस करके आनन्द आ गया.

सेक्सी वीडियो किन्नरों कीअमिता ड्रिंक नहीं करती थी लेकिन मेरे और मुदस्सर के जोर देने पर उसने भी काफी शराब पी रखी थी. और मुझे मालूम था कि वो गांड मारने नहीं देगी इसलिए मैंने एक और प्लान बनाया.

बुआ की चुदाई की सेक्सी वीडियो

जब मेरी परीक्षा हो चुकी थी और मैं बिल्कुल खाली था। उस समय मेरे पास कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी, तो मैं रॉंग नम्बर डायल करके बात करने लगा।मैंने बहुत सारे नम्बर लगाए. कार में बैठकर हमें करीब 15 मिनट इंतजार करनी पड़ी और राजू अपना बैग लादे पहुँच गया. आप लोग भी शुरू हो जाओ।डॉगी स्टाइल में सुनीता ने मेरी तरफ देख कर बड़ी ही सेक्सी मुस्कान दी, जैसे कि चोदने के लिए मुझे इन्वाइट कर रही हो कि आ जाओ.

आज तक मैंने कभी दूसरी औरत का कभी पिया ही नहीं।इस पर आंटी हंसने लगीं और मेरे सर पर हाथ रखकर मेरे बाल सहलाने लगीं। आंटी ने कहा- बहुत बुद्धू हो तुम. यारो, मैं हूँ दीप… मैं अपनी पंजाबी सेक्सी कहानी लै के आया वां! उम्मीद करदां कि सबनूँ पसंद आवेगी. बस मुझ जैसे कमीने को तो इशारा मिल गया कि गुरु कोशिश करो तो बात शायद बन जाए।मैंने वहीं खड़े-खड़े सिगरेट पीना शुरू कर दिया। अब वो लड़की बार-बार मुझे देख रही थी.

और मैं उसके ऊपर उलटा होकर चढ़ गया। अब मैं 69 में होकर उसकी चूत चाट रहा था. बड़ी माल किस्म की आइटम लग रही थीं।फिर भाभी ने मुझे थोड़ा वर्क देकर कहा- मैं नहाने जा रही हूँ. इसी बीच मूवी खत्म हो गई, हम बाहर आ गये, उसने पूछा- कैसी थी मूवी?मैंने बोला- ठीक थी!तो वो मुस्कुराने लगी, बोली- मूवी में ध्यान भी था या बस ऐसे ही बोल रहे हो?मैं समझ गया कि उसका इशारा किस तरफ है.

तभी मेरा ध्यान उसके चेहरे पर गया, काफी चिकना था और जो उसकी हल्की-हल्की मूँछें थी, वो भी बिल्कुल साफ थी और सबसे बड़ी उसके जिस्म से बहुत ही सेक्सी सुंगध आ रही थी तो मैं उसके और करीब गया और एक कुत्ते जैसे सूंघने लगा. फिर मैंने उसके गाल खींचे फिर उसने मेरे दोनों गाल…फिर मैंने उसकी कमर में गुदगुदी कर दी तो उसने मुझे कई जगह गुदगुदी की.

फिर वो अपनी जीभ से मेरे निप्पल्स को छेड़ते हुए मेरे एक एक निप्पल बारी बारी चूसने लगा, मेरा हाथ अब उसके बालों में घूमने लगा था और मेरी आँखें सेक्स के नशे में बंद हो गई थी, उसने निप्पलों को चूसना छोड़ दिया और वापस किस करता हुआ मेरे पेट तक पहुंचा, फिर उसने अपनी उंगलियों को मेरे पेंटी की इलास्टिक में फंसाया और धीरे से मेरी पेंटी को उतार दिया.

मुझे पता था आप आज जल्दी आओगे क्यूँकि मैंने सुबह आपको बात करते सुन लिया था और मैंने आज छुट्टी ले ली. बीएफ सेक्स साड़ी मेंतनु दसवीं क्लास में थी और भरे-2 बदन की एक खूबसूरत लड़की थी, देखने में आयेशा टाकिया सी लगती थी, बदन भी वैसा ही था बस तनु के स्तनों का आकार कुछ अधिक बड़ा था।इतनी उम्र में ही तीनों भाई बहन पूरे विकसित जवान लगते थे. जानवर की बीएफ वीडियोभाभी ने अब मेरी निक्कर खोल के मेरे लंड को अपने हाथ में ले लिया और जोर जोर से चूसने लगी. ‘नहीं बहुत हो गया!’ मैं उसके हाथों को मेरे स्तनों से हटाने लगी, पर उसने मजबूती से मेरा स्तन पकड़ रखा था.

15 मिनट पूस्सी लिकिंग से मेरी सिस्टर सॅटिस्फाई हो गई और उनका लिक्विड बाहर बहने लगा.

गुरु जी ने कहानी ख़त्म की तो उसका ध्यान गुरूजी के हाथों पर गया जो इस समय उसकी कड़ी हो चुकी चूचियों पर थे।गुरु जी ने उसकी चूचियाँ छोड़ दी और कहा- शुद्धि कार्य पूरा हो चुका है, अब रमा का प्रसाद ग्रहण करने का समय है। पर यह प्रसाद केवल आँखें बंद करके ही लिया जा सकता है।गुरु जी ने रमा की आँखों पर पट्टी बांध दी और उसे घुटनों के बल बैठने को कहा. अब मैं उसे धीरे धीरे चोदने लगा और वो भी आहा आहह हह कर रही थी और ज़ोर ज़ोर से अपनी गांड हिला रही थी. मैंने बीसियों लड़कियाँ चोदी पर जो मजा अपनी दीदी की चुदाई करके मिला, वो किसी दूसरी से नहीं मिला।दोस्तो नमस्कार! मैं सुशान्त चन्दन एक बार फिर आपके सामने हाज़िर हूँ। इतने लंबे इंतज़ार के लिए मैं माफी चाहता हूँ। मेरी पिछली कई सारी सेक्स स्टोरी को आपने पढ़ा और इतने अच्छे-अच्छे कमेंट्स दिए कि मेरा मन आगे की बात भी आपके सामने रखने का होने लगा। अब तक आपने मेरी जितनी भी कहानियाँ पढ़ीं.

हम वहाँ खड़े होकर बातें करने लगते हैं फिर वो मेरा नंबर मांगता है तो मैं उसे अपना नम्बर दे देती हूँ! फिर हमारी फोन पर बातें होने लगती है! और हम फिर कॉलेज में भी एक दूसरे के साथ समय बिताने लगते हैं. र’और फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च की आवाजें!जब मेरा लंड चूत की जड़ तक जाता तो उसके चूतड़ से टकराकर आवाज़ आती पट पट… पट पट… पट पट… तो कभी फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… अह हहा हहह!अय्य… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आईईईई ईईईई, ऊऊऊ युयुयु ऊऊऊयू हाआआ अहा हह औय्या शहस हेहः ओह आह आहःवो उम्म्ह… अहह… हय… याह…ये दौर लम्बा चलना था… कोमल झड़ चुकी थी उसको अब उस अवस्था में खड़े रहना मुश्किल था. यह सेक्सी स्टोरी फोन पर दोस्त बनी एक महिला के साथ सेक्स की है, उसके साथ ही मैंने अपने जीवन का पहला सेक्स किया था.

53 सेक्सी सेक्सी

मैं उसकी दोनों चुची को पकड़ अपनी ओर खींचते हुए मसलने लगा, माही के मुँह से हल्की सी सिसकारी फूटने लगी, उसकी चूत उत्तेजना में गीली हो चुकी थी. तो उसके साथ हुई चुदाई को लिख दिया है।मित्रो, मुझे उम्मीद है कि आप सभी को मेरी सेक्स स्टोरी पसंद आई होगी। आपके ईमेल का इन्तजार रहेगा।[emailprotected]. ! तुम्हारा बर्थडे इस बार का बेस्ट बर्थडे होगा।मैंने मन में सोचा कि बेस्ट तो होगा ही साथ-साथ यादगार भी होगा मेरी जान।तभी ताऊजी का भाभी के पास कॉल आया कि उन्हें और ताइजी को कहीं बाहर जाना है और वो शाम तक आएंगे। वैसे भी उनके रहने या ना रहने से कोई फर्क नहीं पढ़ने वाला था। वो ग्राउंड फ्लोर पर थे और भाभी पहली फ्लोर पर।फिर भाभी और मैंने लंच किया.

खैर हम लोग समय से पहुँच गए, मैं उसके दोस्तों से मिला और फिर मैंने अंजलि से कहा- मैं पास में ही अपनी एक दोस्त के यहाँ हूँ, तुम जब फ्री हो जाओ तो मुझे कॉल कर देना!कह कर मैं वहां से निकल गया.

लाइन के कारण में उसके साथ चिपक कर खड़ा था परन्तु मैं ग़लत नहीं सोच रहा था। पर मैं भी इंसान ही हूँ और मेरा लंड उसकी गांड से बार-बार टच होने से खड़ा हो गया था। मैंने जैसे-तैसे करके बहुत कंट्रोल किया और माता रानी से माफी माँगी। फिर हम दोनों ने दर्शन किए और कुछ कोल्ड ड्रिंक पी, बर्गर आदि खाया और वहां से वापिस चल पड़े।वापिसी में हम दोनों बस में ही आ गए और मनीमाजरा उतर गए। बस में बहुत भीड़ थी.

’दरअसल अब मुझे समझ आया था, मुदस्सर शुरू से ही गांड मारने का शौकीन था. हम पिछली रात की तरह फिर एक दूसरे को चूसने लगे और एक दूसरे के झड़ने के बाद सो गए।अब यह हमारा रोज का काम हो गया था और इस तरह 2-3 महीने बीत गए।फिर मैंने कहा- दीदी, आप मुझे बाकी का सेक्स कब सिखायेंगी जैसे पापा मां के साथ करते हैं?तो दीदी ने कहा- गुरप्रीत, मैंने आज तक किसी के साथ सेक्स नहीं किया, मैंने सोचा था कि पहला सेक्स अपने पति के साथ करुँगी. सेक्स वीडियो नंगा सेक्सकोई और लंड तुम्हारी बुर को चोदे या मैं चोदूं इससे क्या फर्क पड़ता है।मैं कुछ नहीं बोली और चुपचाप पड़ी रही। अब जीजाजी ने नीचे को होकर मेरी नाभि को चूमा और अपने हाथ से मेरी पेंटी को नीचे खींच दिया और अपने एक हाथ से उसे बाहर निकाल कर फेंक दिया।मेरी चिकनी बुर उनके लंड के शिकार के लिए उनके सामने रोते हुए आँसू रही थी।जीजा जी ने बुर की दरार में उंगली लगाई और गच से अन्दर घुसेड़ दी।‘आह्ह.

पहली बार हो रहा था यह सब!मैंने अपना लंड निकाल कर उसकी चूत में धीरे से डालना शुरू किया, वह तेज़ी से सिसकारी मारकर चिल्लाई और अपने हाथ से मेरा लंड हटाने लगी. लेकिन फिर एक झटके में वो मेरे अन्दर घुसा दिया और धीरे-धीरे धक्का देने लगी।मुझे बहुत मजा आ रहा था। वो आगे-पीछे करती रही और कुछ मिनट बाद जाकर मेरी चूत से पानी निकल गया।हम दोनों उस दिन बहुत खुश थे।वो बोली- ले. दोस्ती यारी में बहन की चुदाई फिर बीवी की चूत चुदा ली-1मेरा दोस्त दिल में बहुत खुश था, उसके इच्छा जो पूरी होने जा रही थी, मेरी मासूम गोरी बदन बीवी को वो चोदने की फिराक में था.

बहुत मजा आ रहा था। उसके आँखें बंद कर रखी थीं।मैंने कहा- अनु आँखें खोलो।लेकिन उसने आँखें नहीं खोलीं।मैंने कहा- अनु तुम्हें मेरी कसम है. पर सुधीर के मन में क्या है, यह मैं नहीं जानती थी।अब मैंने अपना दुपट्टा उठाया आँसू पौंछे और चिट्ठी पढ़ने लगी.

आप अपनी यात्रा पर जाओ।पापा ने मुझे और मॉम को भाभी की देखभाल के लिए बोल दिया।दूसरे दिन अंकल-आंटी यात्रा के लिए निकल गए। उस दिन निशा भाभी मेरे घर पर ही थी और मेरे एग्जाम थोड़े दिन में स्टार्ट होने वाले थे।मेरी मॉम ने मुझसे कहा- तुम अपने कमरे में मत जाना क्योंकि तू वहां जा कर पढ़ाई नहीं कर पाएगा।तभी निशा भाभी बोलीं- कौन से सबजेक्ट की पढ़ाई हो रही है?मैंने कहा- साइन्स.

आपके मेल्स का हमेशा की तरह मुझे इन्तजार रहेगा, भेजिएगा ज़रूर!आपका अपना राज[emailprotected]. दोस्तो, मेरे जीवन में सेक्स की कई घटनायें हो चुकी थी इसलिए अब ऐसी कोई भी भावना अपने आस पास जब भी हो तो महसूस होने लग जाती है अपने आप… मुझे इस वक़्त मामी की आँखों में सेक्स की भूख साफ़ नज़र आ रही थी. थोड़ी देर बाद उसे ज्यादा मजा आने लगा और मुझे भी… मेरा पानी उसकी चूत में छूट गया.

वीडियो में सेक्स करते हुए कोई तेरी पुरानी याद नहीं वापिस दूँगा। हमारा रिश्ता सिर्फ अच्छी यादों के साथ ही रहेगा।तो वो हँस कर चली गई।फिर रूम पर पहुँचने के बाद उसका फोन आया- सुनो कल से पीरियड चालू हैं. तुम्हें सारी चीज़ों की जानकारी देना हमारा काम है।मैं सिर्फ़ सिर हिला रही थी।कुछ देर तक खामोश रहने के बाद उषा दीदी मेरे पीछे चली गईं और उन्होंने एक झटके में मेरे स्तनों को अपने हाथों में भर कर बोलीं- बहुत मस्त है तुम्हारे ये स्तन.

जैसे ही सीढ़ी में चाची और मैं पहुंचे, मैंने चाची को पीछे से कमर में हाथ डालकर अपनी ओर खींच लिया. वो बेड पर लेटी हुई थी, मैं उनके पैरों की तरफ बैठा था और मेरे पैर भी रज़ाई में थे. आज मैं अपने जीवन की ससुर बहु सेक्स की सच्ची कहानी लिख रही हूँ, चाचा ससुर ने बहु की चुदाई कैसे की.

हिन्दी की कहानी सेक्सी अनतर्वासना

लेकिन इस अनजाने शहर में तो कोई मिलने से रहा, और मैं तुम्हारे लंड से ही काम चला लूंगी. जिसके देखने में मुझे बहुत मजा आ रहा था। सो मैं जानबूझ कर और भी उसको अपने पीछे भगा रहा था।कुछ दूर तक भगाने के बाद मैंने अपनी बनियान उतार कर दे दी और बोला- लो इसको पहन सकती हो, तो पहन लो।अब हम दोनों भाई-बहन सी-बीच पर ऊपर से नंगे थे।जब वो मेरे करीब आई तो उसको मैंने अपने सीने से लगा लिया. तब मैंने सोचा कि हो सकता है ऊपर वाले ने शायद कुछ बेहतर ही सोचा होगा मेरे लिए और मैंने दोबारा कोई गर्लफ्रेंड इसलिए नहीं बनाई कि अब जब भी मेरी शादी होगी तब ही सही… पर मैं अपनी पत्नी के अलावा किसी और से संबंध नहीं बनाऊंगा.

हैलो फ्रेंड्स, मैं आपकी प्यारी रजनी आप लोगों के लिए अपनी ज़िंदगी की एक सच्ची सेक्सी स्टोरी भाई बहन की चुदाई की लाई हूँ। इस स्टोरी में मैंने नींद में अपने भैया का लंड कैसे खाया ये लिखा गया है।मेरी फैमिली में चार मेंबर हैं. अमृता ने जैसे ही दरवाजा खोला तो जैसे ही हमारी नज़र मिली, वो थोड़ा शरमा कर रसोई में चली गई और वहीं से बोली- खाना तैयार है!हम दोनों ने साथ खाना खाया.

मुझसे रहा नहीं गया मैंने उनकी नाभि चूम ली और पेट को अपने चेहरे से लगा लिया.

जैसे ही मेरा लंड सुनीता की गांड में घुसा तो सुनीता ने सिसकारना शुरू कर दिया और मैंने अपनी एक उंगली सुनीता की चूत के दाने पर रख दी, जैसे जैसे मैं उसकी चूत का दाना अपनी उंगली से रगड़ रहा था, पीछे से वैसे ही उसकी गांड में लंड के झटके लगा रहा था, सुनीता को भी ऐसे चुदने में मजा आ रहा था. मेरा लंड तो पूरा बेक़रार हो चुका थाअंजलि के होंठ पीते पीते दोनों गर्म हो गए. बस हट जाओ।वो बुरी तरह रोने लगी।मैंने कहा- यार बस दो मिनट की बात है।वो चुप रही तो मैंने लंड निकाल कर गपाक से खींच कर 3-4 घस्से दे मारे। इससे एकदम से मुझे भी बहुत तेज दर्द हुआ.

पूरी वर्जिन है क्या तू?मैंने सिर हिला के ‘हाँ’ किया।उषा दीदी मेरे हाथों को पकड़ कर ले गईं और मुझे बिस्तर पर लेटा दिया। सभी मेरी चूत को ऐसे देख रहे थे मानो नई दुल्हन घर में आई है और सब उसको ही देख रही हैं।उषा दीदी ने अपना हाथ जैसे ही मेरी चूत पर रखा, मेरे बदन में कंपकंपी सी मच गई. जिससे मेरा लंड उसकी चुत पर रगड़ने लगा। मेरे लंड ने भी अपने जाने का रास्ता देख लिया था, सो मैंने वहीं सुरभि डार्लिंग को बालू पर लिटा दिया और लंड को चुत के मुँह पर रख कर एक जोरदार झटका दे मारा। मेरा पूरा लंड एक बार में दीदी की चुत में घुसता चला गया।उसके मुँह से जोर से ‘आअहह. लेकिन जरा मुझे फ्रेश हो लेने दो।’कुछ मिनट बाद वो मेरे करीब आई और उसने मेरे होंठ चूमे।मैंने कहा- मेरे कपड़े तुम उतारो।उसने बहुत जल्दी मुझे नंगा किया और मुझे खींचकर बिस्तर पर गिरा कर मेरे ऊपर आ गई।फिर अपनी चुची मसलती हुई बोली- तूने बहुत चोदा मुझे.

रुक क्यों गए?मैंने मना कर दिया तो वो खुद अपने उंगली से वो रस चाटने लगीं। मैं इसे देख कर बहुत गरम हो गया। तत्काल मैंने उनकी उंगली हटा कर अपने होंठ उनकी रस छोड़ती चुत पर रख दिए। उनकी चुत के रस का स्वाद लाजवाब था।फिर भाभी ने कहा- मेरे पति के गुज़रने के बाद से आज तक किसी ने इसको हाथ तक नहीं लगाया।मैं समझ गया कि भाभी की चुत बहुत टाईट है, मैंने अपनी एक उंगली उनकी चुत में डाली।वो बोलीं- आह.

बीएफ वीडियो नंगी वीडियो: फ़िर मैं अपने होस्टल आ गया, उसके बाद वो मुझे वीक में दो बार बुलाती और 1000 रूपए एक दिन के देती. सिटकनी लगाई और हम पर जैसे नशा सा छा गया। हम दोनों एक-दूसरे ऐसे चूम रहे थे.

अब वो भी हंसने लगी।मेरे लंड का टोपा अभी उसकी चूत की फांकों में फंसा हुआ ही था कि अचानक से मैंने बहुत जोर से झटका मारा और मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुसता चला गया। उसकी चीख निकलती, उससे पहले मैंने हाथ रख कर उसका मुँह बंद कर दिया।दो पल रुकने के बाद फिर मैंने अचानक से हाथ हटाकर उसके होंठों से अपने होंठ लगा दिए और चूसने लगा। उसे बहुत ज़्यादा दर्द हो रहा था. तुम टेंशन मत लो और अपना अंडरवियर उतार दिया। अब मैं बिल्कुल नंगा हो चुका था। फिर मैंने उसका पजामा उतारा। उसने काफ़ी रोकने की कोशिश की, पर मैं नहीं माना और उसका पजामा उतार ही दिया। फिर उसकी पेंटी भी उतार दी।अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी पड़ी हुई थी। वो बिल्कुल अप्सरा की तरह लग रही थी, बिल्कुल गोरी।उसने अपना एक हाथ अपनी चूत पर रख लिया और एक हाथ अपनी चुची पर रख लिया. मज़ा आएगा, आजकल तो ऐसा चलता है।फिर मैंने उनके मुँह में जबरदस्ती अपना लंड पेल दिया और मुँह चोदने लगा। मेरा लंड ज़्यादा मोटा होने के वजह से उनके मुँह में दर्द होने लगा। फिर मैंने उन्हें खड़ा किया और कहा- आंटी सेक्स करने मतलब चुदने का इरादा है या नहीं?तो वो बोली- राहुल इरादा तो है.

यह रंडी की चुदाई की सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने उसकी चूत में लंड एक झटके से घुसाया तो उसने थोड़ा सी दर्द की नौटंकी की- उम्म्ह… अहह… हय… याह…फ़िर मैंने अपने दोनों हाथ उसकी नाभि के बगल रखे और जोर जोर के झटके लगाने लगा.

थोड़े समय बाद मैडम भी दुबई चली गई और हम लोग कभी नहीं मिले, ना कोई कॉंटॅक्ट है हमारे बीच में अब!तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी मैडम की चुदाई स्टोरी… अपने विचार मुझे मेल करना![emailprotected]. अब वो डिस्चार्ज हो गई और उनके पूस्सी के पानी में फक्किंग से फूच फूच की आवाजें आने लगी. सो उसे उबकाई सी आने लगी। लेकिन मेरा माल उसके कंठ में चला गया था, वो तो वापिस आ ही नहीं सकता था.