साडी वाली सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी वीडियो 10 साल की लड़की

तस्वीर का शीर्षक ,

मां बेटे का एक्स: साडी वाली सेक्सी बीएफ, तेरा पूरा जीवन तेरे सामने पड़ा है अभी और मैं तुझे अपने पैसे उधार दे रहा हूं जब तेरी जॉब लग जाये तो बाद में वापिस कर देना, सिम्पल है न!”और मैं घर पर क्या जवाब दूंगी कि मेरे पास पढ़ाई के पैसे कहां से आ रहे हैं?” मैंने सवाल किया.

बीएफ एक्सएक्सएक्सी बीएफ

फिर सारा बोली- आमिर, अब दिलिया की बारी!तो दिलिया लेट गयी और मैंने उसके लिप्स को किस करते हुए एक झटके में पूरा लंड अंदर उतार दिया. एचडी सेक्सी बीएफ सनी लियोन5 इंच मोटा है, जो कि किसी लड़की को संतुष्ट करने के लिए काफी है। मैं एक साल से प्लेब्वॉय के पेशे में हूं। मुझे यह काम मजबूरी में शुरू करना पड़ा था। मुझे सेक्स करना बहुत पसंद है और मैंने यही काम करना सही समझा। इससे एक तो मुझे भी मजा मिलता है और दूसरा कुछ कमाई भी हो जाती है.

लेकर खड़ी क्यों हो?साली- ठीक है!इतना बोल कर तौलिया रख कर वो चली गयी. देवी का बीएफनम्रता मेरे अंडों के साथ खेलती रही और सुपाड़े को तब तक दांतों के बीच फंसाये रही, जब तक कि लंड ढीला होकर बाहर नहीं आ गया.

जब नींद खुली तो मेरे शरीर ने कहा कि बेटा चुदाई बहुत हो गई … चल कुछ खा पी भी ले.साडी वाली सेक्सी बीएफ: मेरी कमसिन जवानी और उनकी अनुभवी वासना हर बार हमें एक नए शिखर पर ले जाती थी.

धीरे धीरे मैं उसकी चुत को पैंटी से ऊपर से ही चाटने लगा और बाईट कर रहा था.कुछ देर बाद हम दोनों साथ में झड़ गए और दोनों ने एक दूसरे का पानी पूरा पिया.

सेक्सी बीएफ ब्लू फिल्म नंगी - साडी वाली सेक्सी बीएफ

मुझे तो बहुत मजा आ रहा था और उन्हें भी आनन्द आ रहा था ऐसा मुझे लगा.भैया ने पूछा- सेक्स करने में मजा आया या नहीं तुमको?मैंने कहा- हाँ, बहुत मजा आया.

मुझे लगा शायद मौसी पेशाब करने गयी होंगी और मैं उनके आने का इंतजार करने लगा. साडी वाली सेक्सी बीएफ अगले ही पल अर्जुन ने अपने मजबूत हाथों से मुझे उठाकर उल्टा कर दिया जिससे मेरी चूत अब उसके मुँह के ऊपर सेट हो गयी.

कुछ दिन बाद प्लांट में एक नयी लड़की ट्रेनिंग के लिए आयी। उसका नाम मैरी था। जब मैंने उसको पहली बार देखा तो लगा कि अब अमेरिका आना सफल हो जाएगा क्योंकि काफ़ी दिनों से चूत का मेरे लिये जैसे सूखा सा पड़ा हुआ था।पहले दिन तो वो लड़की अपना कागजी काम करके चली गयी.

साडी वाली सेक्सी बीएफ?

उसने मेरी एक ना सुनते अपना लंड मेरी गांड में लगा दिया और डालने की कोशिश करने लगा. आपको तो पता ही है कि जब मैं 19 साल की थी तो मैंने अपनेजीजा के साथ पहली बार सेक्सकिया था. अभी मैं माल चाट ही रही थी कि मेरे बेटे वंश ने मेरे ऊपर मूतना चालू कर दिया.

मैंने उसके जाते ही अन्तर्वासना की भाई बहन वाली सेक्स स्टोरी पढ़ी तो मुझे अपनी चूत में आग लग गई और मुझे उसके साथ सेक्स करने का मूड बनने लगा. धीरे धीरे सब मैनेज करने के बाद मैंने सारे रुके हुए बिलों का पैसा निकलवा लिया … जोकि करोड़ों में थी. तभी याद आया कि अंकल जी का कड़क लंड कैसे मेरे पेट पर चुभ रहा था और अब वही लंड मेरी चूत में घुसेगा.

सीमा प्रियंका और सतीश के पास और मैं मुस्कान और मोनू के पास पहुँच गया. पर उसने बोला- डरो नहीं मुझसे, रात होने को है, अगर कहीं जाना है तो बता दो, नहीं तो कोई बात नहीं!मैं सोचने लगी कि बात तो सही है कि रात होने वाली है. पर उनको कुछ फर्क नहीं पड़ा, वे मेरे दोनों हाथों को मेरे सर के ऊपर ले आये और अपने एक हाथ से पकड़ लिया, दूसरे हाथ से मेरा स्तन मसलते हुए हल्के हल्के धक्के देना शुरू कर दिया.

मैं भैया से चुदवाकर बहुत थक गयी थी इसलिए मुझे नहाने के बाद तुरंत नींद लग गयी. मकान मालिक की पत्नी बड़ी ही आकर्षक दिखती हैं, उनका माप 38-32-40 का है.

इससे पहले मैं आजतक नहीं चुदी थी और मन में थोड़ी ख़ुशी थी कि आज पति अपने मोटे लंड से चोद-चोदकर जन्नत का मजा दे देगा.

हम दोनों मां बेटे अब पति पत्नी बन कर एक दूसरे के जिस्म का रसपान कर रहे थे.

मौसी ने मेरा हाथ अपने पेट पर रख दिया, मैं भी मौसी का इशारा समझ गया. मैंने उसके पैर फैलाए और लंड सैट करके एक ही झटके में पूरा का पूरा लंड उसकी चुत में उतार दिया. अपने प्रिंसिपल सर के साथ मैं उन्हीं की गाड़ी में अपने घर की ओर चल दी.

अनिल भैया ने तुरंत मेरे होंठों को किस किया और सान्त्वना दी कि सब ठीक हो जाएगा. उसने अंदर से कहा- आ गए जनाब!मैंने कोई जवाब नहीं दिया और बेड पर लेट गया।थोड़ी देर बाद जैसे ही बाथरूम का दरवाजा खोल कर रीना बाहर आई, मुझे पलंग पर देखकर एकदम से हैरान हो गई. वो बिना कुछ बोले मेरी जांघों के बीच बैठ गयी और लंड के सुपारे पर जैसे ही उसने अपनी जीभ चलायी, एक बुरा सा मुंह बनाते हुए अपने हाथ से होंठों को पोंछते हुए बोली- छी: मुझे अच्छा नहीं लगा, कैसा नमकीन, खारा सा लग रहा है। मैं नहीं चाट सकती इसको।मैंने शुभ्रा को अपनी जांघ के उपर बैठाया और उसके होंठों को चूमते हुए बोला- देखो, शुरू में ऐसा लगता है.

इन दिनों गांव में जल्द ही लोग खा पीकर सो जाते हैं … क्योंकि बाहर ठंड होती है.

अनिल की शादी के बाद मालूम पड़ा कि मंजू सगाई से पहले घर से दस दिन लापता रही थी. वो बोले- तू चिंता न कर, आज मैं तेरा यार आशीष हूं और तेरी जम कर चुदाई करूंगा. मैं- अच्छा चलो, अब जल्दी से बता दो फिर क्या हुआ?नम्रता- फिर मेरी चूत तो वैसे ही गीली हो चुकी थी, लेकिन राजेश अब भी मेरी गीली चूत पर ही जीभ चला रहे थे और फिर चटखारे लेते हुए मेरे निकलते हुए रस की तारीफ कर रहे थे.

फिर उन्होंने अपना लंड मेरे मुंह के पास किया और उसे चूसने के लिए कहा. मेरी पत्नी इस तरह की चुदाई से मजा लेकर बोली- इसलिये मैं तुम्हारे साथ आना चाहती थी. उसकी चूत के रस चूसने के मजे लेने के साथ-साथ उसकी चूत से निकलती हुई महक का भी मैं मजे ले रहा था.

मैं- नहीं बे चूतिये, लेकिन मैंने उसकी चूत और दूध के दर्शन जरूर किए हैं.

वो मेरी एक चूची को अपने मुंह में लेकर पी रहे थे और दूसरी को अपने हाथ से दबा रहे थे. मुझे उसकी चूत के दर्शन नहीं हुए क्योंकि उस लड़की का सिर मेरी तरफ था और टांगें दूसरी ओर.

साडी वाली सेक्सी बीएफ उनको पता लग गया था कि मैं बहुत ज्यादा गर्म हो गयी हूं और जल्दी ही झड़ने वाली हूं. फिर तेरी ऐसी चुदाई करूँगा कि तूने कभी सोचा भी न होगी … और मैं भी वैसा कभी कर नहीं पाया होऊंगा.

साडी वाली सेक्सी बीएफ मैंने चैक करने का पक्का इरादा कर लिया और रात को सबको खाना खिला कर मैं और मेरी ननद सुमीना टीवी देखने लगी. मैंने लंड को एक बार फिर से उसकी चूत पर सेट कर दिया और एक झटका मारा.

यूं लगा कि वसुन्धरा इससे खुश नहीं हुई और वसुन्धरा ने इसका विरोध अपनी कमर, अपनी योनि को मुझसे अच्छी तरह सटा कर जताया.

एचडी एचडी सेक्सी वीडियो

नितिन के लिंग के आकार को लेकर मैं अपने आपको बहुत भाग्यशाली महसूस करती थी पर शर्मा सर का लिंग तो नितिन के लिंग से बड़ा महसूस हो रहा था. अगले दिन जब उन्होंने मेरे साथ छुपा-छिपी खेलने के लिए कहा तो मैंने ये कहकर मना कर दिया कि मेरे पैर में दर्द हो रहा है. एक बार हुआ ये कि सुधा को किसी काम की वजह से अपने घर जाना पड़ा, तो उसकी फ्रेंड मुझे रात को पानी भरने की जगह पर मिली.

मैं उसके कमरे मे गया जहां पर शुभ्रा अकेली आंख बन्द किये हुए लेटी थी. मैंने अपने हाथ को लहँगे के अंदर ही बाहर (लहँगे) की तरफ उठा कर ऊपर से नीचे, दाएं से बाएं फिरा कर देखा, कहीं कोई अटकाव नहीं था लेकिन चुनरी तो अभी भी लहँगे के अंदर ही फंसी हुई थी. इसलिए मेरी शादी इस घर में पक्की हो गयी क्यूंकि ये लोग कुछ नहीं मांग रहे थे.

मैं अभी तक नहीं झड़ा हुआ था और संजना यह बात जानती थी … तो उसने सीधे से आकर मेरा लौड़ा अपने मुँह में लिया और सीधे चूसने लगी.

मुझे पापा की मजबूरी भी समझ आती थी; चपरासी की नौकरी में उन्हें तनख्वाह मिलती ही कितनी सी थी, ऊपर से पांच छः लोगों का परिवार, उन्हें खुद दारू पीने की लत थी और मेरी बड़ीबहन की शादी का कर्जा भी अभी चुकाया नहीं गया था. तो मैं कुछ दिन की छुट्टियों में गांव आ गया। गांव आने के बाद भी गलफ्रेंड से अकेले मिलने का कोई प्लान नहीं बन पा रहा था मैंने उसे अपने अकेले मिलने को बोला पर वो ही कुछ बहाना नहीं बना पा रही थी।अब तो यहाँ भी मेरे लंड को धोखा होने वाला था।आखिर में जब सिर्फ 5 दिन रह गये मेरे वापस जाने में … तब गर्लफ्रेंड की कॉल आई और मैंने कॉल उठाई. धीरे-धीरे मैंने लंड को आगे पीछे करना शुरू किया और इस तरह मैंने पूरा लंड उसकी गांड में उतार दिया.

मेरी चूत गीली हो गयी थी और हम दोनों लोग सेक्स करते-करते एक दूसरे को किस भी कर रहे थे. इधर शुभ्रा के मुंह से निकला- मादरचोद!कहते हुए एक बार फिर उसने अपने दांतों को भींचना शुरू किया और एक बार मैंने फिर से उसके निप्पल को मुंह में लेकर चूसना चालू किया. नम्रता पलंग पर पेटकर बल लेट गयी और अपनी टांगों को फैला कर दोनों हाथों से कूल्हे को पकड़ कर फैला लिए और बोली- शरद आ जाओ, मैंने गांड खोल दी है.

आह मुलायम-मुलायम, गोल-गोल मम्मों पर हाथ पड़ते ही हथेलियां उसको मसलने के लिए मचल उठे. उसके मुंह में लंड जाते ही मेरे मुंह से काम की ज्वाला सिसकारियों के साथ आनंद के रूप में आवाज बनकर मेरे होंठों से फूटने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… स्स् … आह्ह … जूली … मेरी जान! उफ्फ ओह्ह …कभी वो लंड को पूरा मुंह में भर लेती तो कभी सुपाड़े की खोल को खींचकर अग्रभाग पर अपनी जीभ चला देती.

बस फिर क्या था, लंड महराज ने नम्रता की गांड की घिसाई करना शुरू कर दिया. मैंने उससे पूछा कि हम कहां जा रहे हैं?उसने बताया कि वो मुझे अपने घर ले जा रही है. बात इतनी आगे आ गई थी कि हमारे मोबाइल नम्बर भी एक्सचेंज हो गए और हम फ़ोन पर बात करने लगे.

जब भाभी आ गईं और मैं कुछ नहीं बोला, तो भाभी ने पूछा- क्या हुआ?मैंने अपना ध्यान उनकी चुचियों से हटा कर भाभी से बोला- पानी चाहिये.

वो भी पति की मर्ज़ी से!मैंने न न बहाने बनाते हुए खुद को राज से थोड़ा दूर किया. सच में दोस्तो … जो मजा चूत चटाई में है वो किसी और चीज में नहीं।बीच-बीच में मैं उसकी चूत चटाई को छोड़ कर उसके चूत के दानों को हाथ से सहला रहा था और कभी कभी तो अपनी अंगुलियों को अन्दर बाहर कर रहा था. अपने कमेंट्स में अपनी राय छोड़ें और इसके साथ ही आप मुझे मेरी ईमेल पर भी मैसेज कर सकते हैं.

मेरे पिताजी तो काम करके आते ही खाना खाकर सो जाते हैं क्योंकि वो काफ़ी मेहनत का काम करते हैं और उनकी उम्र भी हो चुकी है. कुछ देर के बाद जब मैंने लंड को बाहर निकाला तो पता चला भाभी इस बीच में तीन बार झड़ चुकी थी.

फिर खाना खाते वक्त दिखने वाले सेक्सी मम्मों को देख कर मैं गर्म हुए जा रहा था. इधर नम्रता को भी जब मेरी गर्म पेशाब का अहसास अपनी चूत में हुआ, तो वो आह-ओह, आह-ओह करने लगी. इस चुदाई ने हम दोनों को इस सुख को फिर से एक बार लेने को तैयार कर दिया था.

कहानी सेकसी

थोड़ी देर बाद उनकी चूड़ियों और पायलों की झनकार मुझे सुनाई देने लगी.

मैंने वाशरूम में ही एक ज़ोरदार हस्तमैथुन करके अपने लिंग को खूब ठन्डे पानी से अच्छी तरह से धोया और फिर तौलिये के साथ अच्छे से सुखा कर, कपड़े बदल कर मैं कमरे में आया तो सामने मेज पर एक भाप उड़ाती कॉफ़ी का मग रखा था और टेबल से दूसरी ओर दोनों हाथों में कॉफ़ी का मग लिए, सोफे के ऊपर पाँव मोड़ कर शिफ़ौन की साड़ी में बैठी वसुन्धरा गहरी नज़रों से मेरी ओर देख रही थी. आपके बहुमूल्य कमेंट्स के जरिये ही मुझे पता लगेगा कि मेरी मेहनत कहां तक कामयाब हो पाई है इसलिए मेरी बंगाली हॉट सेक्स स्टोरी पर आप अपना फीडबैक देना जरूर याद रखें. फिर मेरी जानू की आवाज आई- भाभी, आपके पपीते तो बहुत बड़े हो गई हैं, लगता है मेरे भैया रोज़ इसकी खातिरदारी करते हैं.

अब लड़की की चूत की कहानी:मैं एक मकान की तीसरी मंजिल के एक कमरे में रहता था. तब भी चाची जोर से चिल्लाई और कहा- धीरे कमबख्त … मेरी गांड फाड़ेगा क्या?मैं भी कहाँ सुनने वाला था, मैंने वैसे ही गांड चुदाई चालू रखी. बीएफ सेक्सी फुल एचडी वालीवंश मेरी गांड के नीचे हाथ लगाकर मुझे पेलते हुए बोला- यस डार्लिंग जोर जोर से.

मेरी एक छोटी सी लापरवाही जैसे वसुन्धरा के उरोजों पर मेरी सिर्फ एक गर्म सांस या उसकी योनि के इर्द-गिर्द मेरी हथेली की एक हल्की सी रगड़ या उसके कूल्हों पर मेरी उँगलियों का उचटता सा स्पर्श वसुन्धरा को बेक़ाबू कर सकता था … और मैं ऐसा हरगिज़ हरगिज़ नहीं चाहता था. कुछ देर बातें करने के बाद मैंने उससे उसका अड्रेस लिया और मिलने का समय फिक्स किया, जो कि अगली रात का फिक्स हुआ था.

मैंने सोचा कि शायद उनकी पत्नी घर पर ही होगी इसलिए वो फोन नहीं उठा रहे हैं. मैं गांड उठाते हुए बोली- हाँ मेरे राजा तेरे लंड के बाद अब मुझे और कोई लंड भाएगा भी नहीं. ”अच्छा?”वह ज्यादा ही फिगर कोंशियस है।” उसने मुस्कुराते हुए कहा।तभी आपकी तरह बिल्कुल स्लिम ट्रिम है। लगता ही नहीं आपकी बेटी है ऐसा लगता है जैसे आपकी छोटी बहन हो.

मुझे उसकी इस अदा पर उस पर बड़ा प्यार आया और मैं उससे चिपक गया, जिससे मेरे लंड का रस हम दोनों के सीनों में रगड़ गया. उसने नजर भर कर मुझे पूरा से नीचे से ऊपर तक देखा, फिर घुटनों पर बैठ कर मुझे एक रिंग दिया और कहा- आई लव यू. लंड जब चूत में उतर जाता तो चाची इधर उधर हिलते डुलते हुए लंड का पूरा मजा चूत में फील कर रही थी.

मैंने फिर कहा- नहीं यार तुम गलत समझ रही हो … मैं तो सिर्फ ये जानना चाह रहा था कि मेरी बदनामी की आग कहां तक फैली है.

मैंने भी पार्टी की तैयारी कर ली और कुछ सामान खाने के लिए ले आया और पीने के लिए ड्रिंक्स भी ले आया. तभी उसने मुझसे कहा कि वो झड़ने वाली है … और मैं उसको उल्टा कर दूं और सीधे मिशनरी पोजीशन में चोदूं.

उन्होंने गांड चटाई का जो चरम सुख मुझे दिया … उसे याद करके मेरी गांड आज भी उस दिन के लिए मुझे दुआएं देती है. मेरा गिलास में अभी तक पेग देख कर बोली- मादरचोद, मुझे चोदना है तो पहले पी. तो भाभी ड्रामाई अंदाज में कहने लगीं- आप ऐसा मान लो कि हमारी कोई सैटिंग नहीं हुई है और तुमने मुझ पर गलत नजर रख कर अपने भैया को नींद की गोली देकर सुला दिया है.

चाची गर्मागर्म सिसकारियां भरने लगीं ‘उहह आहह इसस्स्सस्स …’पूरा कमरा उनकी मादक आवाजों से भर गया था. करीब बीस मिनट बाद बॉस ने लेपटाप बंद किया और बोले- आज तो कोई है नहीं, जाओ तुम ही चाय बना लाओ. बस आज कैसे भी करके उसको चोदना था … क्योंकि कल वो वापस जाने वाली थी.

साडी वाली सेक्सी बीएफ मैं छटपटाते हुए चिल्लाया- हाँ हाँ रानी मैं हूँ तेरा पालतू पिल्ला … अब प्लीज़ लंड का कुछ इलाज कर … कमीना मारे डाल रहा है … देख डार्लिंग टट्टे कैसे फूल गए हैं … हाय हाय हाय अब नहीं रुका जा रहा … प्लीज़ जल्दी कर ना. फिर मैं उसके मम्मों को छोड़कर उसके पेट पे चुम्बन करने लगा, उसकी नाभि में जीभ डाल के घुमाने लगा.

फिल्मी हीरोइन सेक्सी वीडियो

दीपाली मुझसे दया की भीख मांगने लगी- नहीं समीर प्लीज ऐसा मत करो, छोड़ दो मुझे … नहीं तो मैं चिल्लाऊँगी … देख लेना. लंड बड़ी तेज़ी से उसका पूरा मुंह पार करता हुआ धड़ाम से उसके गले से जाकर टकराया. फिर वो मुझे गालियां देने लगी- छोड़ दे मादरचोद, पहली ही चुदाई में मेरी जान निकालेगा क्या?मैंने कहा- आज नहीं छोड़ूंगा तुझे, पहली बार किसी विदेशी गोरी की चूत मिली है.

जब संतोष जी मेरी चूत चाट रहे थे … तो मैं तो मानो जैसे किसी और ही दुनिया में विचरने लगी थी. अब मैं भी जोश में आ गया था, तो मैंने भी उनके बाल पकड़ कर जोर जोर से लंड को भाभी के मुँह में अन्दर बाहर करना चालू कर दिया. न्यू बीएफ न्यू बीएफफिर मैं अपने कमरे में आया, तो वो मुझसे बोली- मैं कहां सोऊंगी?मैंने उससे कहा- इसी बिस्तर पर.

मेरी चूचियों पर लगे अपने वीर्य से मेरे मम्मों की अच्छे से मालिश करके मेरी गांड पे हाथ मार कर संतोष जी बोले- चूत के बाल छोटे छोटे कर लेना, एकदम साफ मत करना.

हालांकि मोनी ने अपने हाथ पैरों को समेट कर मुझे रोकने का प्रयास किया लेकिन मैं भी हार कहाँ मानने वाला था. मगर मैं फिर भी उनके लंड को आगे-पीछे करती रही यही सोच कर कि जीजा जी अभी शायद स्तनपान में व्यस्त हैं.

मुझे यह बाद में रानी ने बताया कि चुदाई के बाद अक्सर लड़कियों को सुस्सू आने लगती है. थोड़ी देर बाद भाभी के घर में मुकेश जाता हुआ दिखा, मुझे समझ आ गया कि भाभी ने मुझे घर क्यों भेज दिया था. इसलिए मुझे शादी से पहले ही लंड-चूत और सेक्स के बारे में पूर्ण ज्ञान हो गया था.

हम दोनों लोग पहले भी अकेले में एक दूसरे से बात करते थे तो हमें अकेले में एक दूसरे से बात करने में कोई परेशानी नहीं थी.

किस्मत का खेल देखो … मैं बिंदास थी लेकिन मुझे हैंडसम लेकिन झंडू पति मिला … और खुशी को हैंडसम और रोमांटिक पति मिला. मैं उसके कमरे मे गया जहां पर शुभ्रा अकेली आंख बन्द किये हुए लेटी थी. उसकी आँखों में चमक थी।कुछ भी हो मैं उससे प्यार बहुत करता था; मैंने हाथ आगे ले जाकर उसके हाथों को पकड़ा और चूम लिया।तब तक वेटर आ गया आर्डर लेकर। हमने एक दूसरे से बात करते हुए डिनर किया। वो बार-बार डांस फ्लोर की तरफ देख रही थी जहाँ कपल्स डांस कर रहे थे। मैं उठा और रोमांटिक अंदाज में उसका हाथ पकड़ के डांस फ्लोर पर ले गया।हमने थोड़ा डांस किया। वो बहुत खुश थी। फिर हम वहाँ से निकल गए.

चोदा चुदाई बीएफइतनी बात सुनने के बाद मैं उसके निप्पल को मुँह में भरकर चूसने लगा, तो मुझे हटाते हुए बोली- दो मिनट रूको. अंकल की उंगली से मेरी चुत की खुजली कुछ कम होने लगी तो मेरी कमर अपने आप हिलने लगी.

महिलाओं को कौन सा व्रत करना चाहिए

छुट्टी में घर जाते ही मैंने उसको एक व्हाट्सैप मैसेज किया- थैंक्स अर्चना, टिफिन के लिए. हालांकि ऐसे मदद तो मैं हर क्लाइंट की करता हूँ, पर उसे कुछ ऐसा लगा कि मैं उसे स्पेशल मदद कर रहा हूँ. मैंने फटाक से उनका पजामा नीचे सरका दिया और उन्हें मेरी तरफ मोड़ दिया और उनकी चूची चूसने लगा.

उधर उसके होंठ मानो कह रहे थे कि मुझे छोड़ दो … इतना ना चूसो … अब इन में रस नहीं बचा. उसके होंठों को चूसते हुए उसके चूचों को दबाया और अब असली गांड चुदाई शुरू होने वाली थी. मैंने मुंह पर कपड़ा बांधा और भैया के साथ कुछ दूर तक पैदल जाकर आगे हम लोग एक बात करने लगे.

फिर मैंने उसके गाल पर एक किस किया और अपने लंड को शलाका की बुर में धीरे-धीरे घुसाने लगा. कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि बहन की चूत को चोदने के बाद मैंने उसकी गांड को भी चोद दिया. हाथ में लहंगा ले कर खुद सीधे होने की प्रक्रिया में मेरा मुंह और मेरी आँखें, न होने के जैसी छोटी सी पेंटी के पीछे वसुन्धरा की झिलमिलाती योनि से चंद इंच ही दूरी पर होनी थी.

मैंने गोद में उठाये हुए ही उसको होंठों पर हल्का सा चुम्बन किया। उसने भी आँख बंद करके मेरा वेलकम किया। फिर बाथरूम में जाकर हम साथ में नहाये. मैंने कहा भी था कि थोड़ी देर का दर्द है, थोड़ा औऱ दर्द होगा, फिर कभी नहीं होगा अभी मजा आने लगेगा.

मैं भी नीचे से कमर हिलाकर उनको साथ देने लगी और उनके सीने को दाँतों से काटने लगी.

मेरी मकान मालिकन जिसका नाम बसंती था, उसने मुझे अपने यहां चिकन खाने का न्यौता दिया. बीएफ वीडियो नई लड़कियों कीमैंने कहा- क्या देख लिया था?भाभी हँसते हुए बोली- तुम्हें नहीं पता क्या?मैं- नहीँ भाभी, मैं तो यहाँ इसलिये आया था कि मां ने बताया कि बाजार से आपके लिए कुछ सामान लेकर आना है. बीएफ सी ब्लू पिक्चरउसको इस बात का अहसास हो गया कि उसका लंड खड़ा होने लगा था, तो वो मुझसे छूटने की कोशिश करने लगा, लेकिन मैंने उसको और जोर से अपनी छाती से लगा लिया. दो मिनट बाद ही मेरे लंड से वीर्य की धार निकली और शुरू का कुछ वीर्य उसके मुंह में गिरा और बाकी का उसके बूब्स पर।मैरी के गोरे गोरे बूब्स पर मेरा सफेद वीर्य गिरा तो वो उसको दोनों चूचियों के बीच में रगड़ने और मसलने लगी.

रिया उत्साहित होकर- क्या??रमेश- हाँ, सही सुना तुमने। चलो फैलाओ।रिया ने वैसा ही करते हुए कहा- ये लो।रमेश ने धीरे धीरे एक एक चम्मच करके सारी खीर रिया की गांड में ठूंस दी.

तो पता नहीं फिर नौकरी मिलती है या नहीं? और घर की हालत भी ठीक नहीं है. अपना लंड बाहर निकाल के उसको भी नंगी कर दिया और उसको अपनी तरफ आने को बोला. आपसे भी मेरी यही सलाह है कि हमेशा सेफ सेक्स करें … चाहे लड़की कोई भी हो.

अब वे मेरी दोनों रंडियां एक ही वक्त में एक ही साथ मेरा लौड़ा चूस रही थीं. मैं बोला- तो क्या हुआ, कहानी में तो हीरो-हीरोइन गीला भी चाटते हैं।शुभ्रा- नहीं, मुझे अच्छा नहीं लग रहा है, प्लीज मान जाओ. भाभी के 36 के साइज के उभरे हुए बूब्स मुझसे सट गये। मैं तो आप सभी को बताना भूल ही गया कि मेरा और भाभी का रिश्ता बहुत ही अच्छा और हँसी-मजाक वाला है।भाभी से मैंने कहा- भाभी, आप हाथ-मुंह धो लो तब तक मैं आपके लिए कॉफी बनाता हूँ.

बनाने वाला कार्टून

उसे बहुत दर्द हो रहा था, पर पैसों के लालच में पट्ठी अपनी बुर फड़वा ही चुकी थी. मौसी ने चेहरा भले ही दूसरी तरफ कर लिया, पर मेरा हाथ अपने चुचे पर से हटाया नहीं था, जो कि मेरे लिए आगे बढ़ने का संकेत था. वो बोला- तू तो ऐसे कर रही है जैसे सच में ही मेरे लंड ने तेरी चूत को फाड़ दिया हो.

बुर खुल चुकी थी लंड बाहर निकालते ही उसमें से खून की धार बाहर आने लगी.

मगर चाची के चूचों को चूसते ही वो मुझे चोदना शुरू कर देती थी और मैं उनकी चूत के रसपान से वंचित रह जाता था.

लंड को थोड़ा चूसने के बाद सीमा नितिन से बोलीं- प्लीज अंशु … अब लंड डाल दे यार. हम दोनों लोग अक्सर शाम को ही मिलते थे क्योंकि हम दोनों का घर नजदीक था. जानवर वाला बीएफ सेक्सी वीडियोमीरा ने उसी शाम को रितेश को खाने पे बुलाया और कहा कि वो रीमा को भी साथ में लेते आए, तभी रात को हम अपने मिलने के बारे में भी सोचते हैं.

कुछ ही पल के बाद भाभी ने मेरे कपड़े भी उतार दिये और मुझे भी पूरा नंगा कर दिया. मेरी भी लाज शर्म अब उतार गई थी, तो मैंने भी अपनी उंगलियों से मेरी चुत की पंखुड़ियां खोल कर अन्दर की गुलाबी गुहा उनको दिखाने लगी. मुझे नहीं पता था कि उनकी पत्नी कब आएँगी और इधर भैया मुझसे बात कर रहे थे और मैं भी हंस-हंस कर उनसे बात कर रही थी.

कुछ पहले से ही सूजन थी ऊपर से जूली की कसी हुई चूत और साथ में सारा की चुदाई करके लंड लाल गाजर के जैसा हो गया था. तेरे मस्त चूतड़ और तेरी गांड के उभरे हुए छेद को देख कर मुझसे रहा नहीं गया.

थोड़ी देर बाद मैं काजल की पैन्टी को हाथ में लेकर अपनी नाक के पास ले गया.

मैंने उनसे पूछा- आप घर नहीं आ रहे क्या?उन्होंने कहा- नहीं ये मीटिंग बहुत इम्पॉर्टेन्ट है … मुझे जाना होगा. मेरे नंगे बदन को देखकर उसने मुझे अपनी बांहों में ले लिया और अपनी गोद में बिठाकर मेरे मम्मों को दबाने लगा. बंगाली हॉट सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि आखिर बंगालन भाभी की चूत में मेरा लंड घुसने का वक्त आ गया.

पंजाबी बीएफ सेक्सी फुल एचडी मैंने उस लड़की को कैसे चोदा, ये आप इस सेक्स कहानी को पढ़ कर जान जाएंगे. मैंने महसूस किया कि जीजा जी चूत चाटने में पहले के मुकाबले ज्यादा माहिर हो गये थे और उन्होंने दो मिनट के अंदर ही ऐसी तरह से मेरी चूत चाटी कि मेरे मुंह से सीत्कार निकलने लगे.

उसके बाद उसने तौलिये को गीला किया और अपनी टांगें फैलाकर चूत अच्छे से साफ की. मैंने तेजी से उंगली चलाते हुए अपनी चूत को रगड़ डाला और मेरी चूत से पानी निकल गया. उस दिन मैंने ध्यान दिया कि वह मुझे नीचे ही नीचे तिरछी नजर करके देख रही है.

हिंदी में सेक्स ओपन

मैं उसकी एक चूची को मुँह में लेकर चूसने लगा और जब मुझे लगा कि वो भी अब थोड़ा सहन करने लगी है, तो मैंने फिर से एक तेज धक्का दे मारा और अपना आधा लंड उसकी फुद्दी में पेल दिया. ये सब इतना अधिक कामुक था कि मैं लिखना भी चाहूँ, तो बयान नहीं कर सकती. कोई दस मिनट किस करने के बाद थॉमस ने मेरी नाइटी के बटन खोलना शुरू किए और मेरी नाइटी उतार कर फर्श पर फेंक दी.

मैं अपनी सहेलियों के साथ रहते रहते लड़कों से फ्लर्ट करना सीख गयी हूँ. मैं जोर से चीख उठी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… हाँ!मैंने अपने पैरों से उनकी कमर को भींच लिया और उन्हें अपने बदन पर खींचा.

आप ऐसे अचानक आ गए?वो बोला- अच्छा हुआ साली रंडी तूने सूसू नहीं किया.

जैसे ही उसकी नाज़ुक और पतली दो उँगलियाँ मेरे होंठों पर आयीं, मैंने तत्काल दोनों उँगलियाँ अपने मुंह में डाल लीं और अपनी जीभ से चुमलाने, चूसने लगा. इसके ठीक बाद जैसे ही मैंने अपने पति की ओर देखा, तो पाया कि वो मेरी बहन प्रियंका के मम्मों को घूरे जा रहे थे. फिर मैंने उसके पैरों को पकड़ लिया और धीरे-धीरे उसकी गांड पर अपने लंड का दबाव बढ़ाने लगा.

मैं बार बार टॉवल को ठीक करती जा रही थी कि कहीं अचानक टॉवल खुल न जाये. प्यासी पड़ोसन सेक्स इन हिंदी कहानी में पढ़ें कि कैसे सेक्सी भाभी ने मुझे बड़े प्यार से बंगाली खाना खिलाया. मैंने देखा कि सफेद दूध जैसे गोरे चूचे और उन पर गुलाबी निप्पल अपनी अलग ही कामुकता बिखेर रहे थे.

फिर मैं झटपट टायलेट कर के अनिता के पास गया और उसे देख कर हंसने लगा.

साडी वाली सेक्सी बीएफ: लगभग बीस मिनट की ज़ोरदार प्यार की जंग के बाद मीना एक ज़ोरदार चीख के साथ झड़ गयी, पर मुझमें अभी भी जान बाकी थी और मैं लगातार धक्के लगा रहा था. मैंने और तेजी के साथ उसकी चूत में उंगली चलानी शुरू की तो उसकी आवाजें और थोड़ी बढ़ गईं- हां … आह्ह … हां मेरे भाई, अब मजा आ रहा है … तेजी से कर … आह्ह … चोद दे मेरी चूत को, इसका पानी निकाल कर पी जा … अम्म … अह्ह … उफ्फ … ओह् … करती हुई वो पूरी तरह से चुदासी हो चली थी.

इस कहानी में आपको मेरे पहले सेक्स कहानी बड़ी भाभी के साथ चुदाई की पढ़ने को मिलेगी, इसलिए आप अपने लंड को थाम कर तैयार रहिए. मैंने उसे रोका तो उसने कहा- हमें कोई नहीं देख रहा, थियेटर में बहुत अंधेरा हो रहा है यार. मैंने टीवी में हमेशा देखा था की सुहागरात वाले दिन दुल्हन का कमरा बहुत अच्छी तरह से सजा होता है.

मैंने कहा- अगर आप सभी को ठीक लगे तो इस राउंड में सभी लड़कियों की गांड में लंड डाले जाएँ?मुस्कान बोली- नहीं यार, दर्द होगा और मज़ा भी नहीं आयेगा.

कुछ देर मैं उसकी नंगी पीठ पर लेटा रहा, साथ में गर्दन के पास बाइट करता रहा. सारा और दिलिया भी उठी तो मरे तने हुए लण्ड को देख हैरान थी, सारा बोली- क्या हुआ? ये रात भर से ऐसा ही क्यूँ रहा है?मैंने कहा- जब ऐसी जबरदस्त हूरें साथ हो तो लण्ड कैसे ढीला हो? तुम्हें जितना चोदता हूँ उतना ही दिल और करता है. मैं उसकी गिरफ्त में से आजाद होते हुए अपने नंगे चूतड़ मटकाती हुई कमरे में गई और उसको भी अंगुली से अंदर आने का इशारा किया.