ट्रिपल एक्स बीएफ मूव्ही

छवि स्रोत,बीएफ फिल्म वीडियो में बीएफ बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

टीचरों की सेक्सी: ट्रिपल एक्स बीएफ मूव्ही, उन्होंने मां के हाथों को पकड़ रखा था और वो अपनी गांड को हिला-हिला कर मॉम की चूत को चोदने में लगे हुए थे.

बीएफ वीडियो भाई बहन की

भाभी ने खुद अपनी सलवार निकाल दी और मुझे सीधा लिटा कर मेरे ऊपर आ गईं. हिंदी बीएफ मां बेटाश्वेता दीदी- क्या हुआ प्रिया आज तुम्हारा चेहरा मुरझाया हुआ क्यों है?दीदी- कुछ नहीं.

असल में प्रकाश की बीवी भी इन्शयोरेन्स कम्पनी में थी और वो नहीं जाना चाहती थी प्रकाश के साथ. सेक्स बीएफ ब्लू पिक्चर बीएफबॉस ने अपने हाथों से मुझे एक ग्लास वाइन पिला दी और फिर उन लोगों ने भी पी.

जबकि किसी भी नारी को उसकी मर्जी के बिना टच करने पर सबसे पहला काम उसका चिल्लाना ही होता है.ट्रिपल एक्स बीएफ मूव्ही: मैंने कहा- चलेगा भाभी … इतना ही भरोसा है मेरे ऊपर … तो अगली प्लानिंग मुझे करने दो.

कुछ देर तक उसकी चूचियों को पीने के बाद मैंने उसकी पतली कमर पर किस किया.फिर तभी हम दोनों ने वो सुना, जिसे सुनकर हम दोनों को विश्वास ही नहीं हुआ और सर चकराने लगा.

बीएफ ओपन देसी - ट्रिपल एक्स बीएफ मूव्ही

पापा के बेडरूम में एक छेद है जो विण्डो एसी की साइड में है, वहां से पूरे बेडरूम का एक एक कोना दिखता है.अभी तो हम दोनों देर होने की आशंका के चलते हड़बड़ी में संदीप के घर पहुंचे.

कोई दस मिनट तक उसकी चुचियों के मुनक्का चूसने के बाद सारे जिस्म पर चुंबनों की बारिश कर दी. ट्रिपल एक्स बीएफ मूव्ही फिर मैं रूम का जुगाड़ करने में लग गया क्योंकि मैं घर में रह रहा था और वहां पर चुदाई संभव नहीं थी.

आपको तो पता ही है कि शादी में बहुत सारे रिश्तेदार इकट्ठा हो जाते हैं और सबको कहीं न कहीं एडजस्ट करना होता है.

ट्रिपल एक्स बीएफ मूव्ही?

उसने मुझे पहले भी मेरे एक ब्वॉयफ्रेंड के साथ चुदते हुए देख लिया था, पर तब वो और छोटा था. इसी बीच मैंने स्नेहा भाभी की चूत में एक उंगली कर दी और अन्दर बाहर करने लगा. वैसी भी संजू काफी गर्म थी, आखिर कहीं ना कहीं वो भी अपने भाई को नग्न देखना चाहती थी.

लंड लेते ही भाभी ने एक मादक सिसकारी ली और धीरे धीरे ऊपर नीचे होने लगीं. मैंने पूछा- कैसा रस चाहिए आपको?वो बोले- मुझे तुम जैसी लड़की के बदन का रस पीना है. सच बता कितने लौड़ों को ले चुकी है अब तक बंध्या? अगर तूने मुझे सच बताया तो मैं किसी से नहीं कहूंगा.

रेखा लोगों के ताजमहल से लौटने से पहले मैंने हनी को एक बार फिर चोदा और इस बार आसन बदल बदल कर चोदा. एक दिन मैंने फोन पर उससे उसका फिगर पूछा, तो उसने 32-30-34 का बताया. सपना- हम्म … अभी तो पूरी फिल्म बाकी है … अभी तुमने मेरे जलवे देखे कहां हैं.

मैंने सभी कुछ उसको सच सच बताया।उसने भी अपना परिचय दिया वो केरल का एक बड़ा बिजनेसमैन था। उसने बताया कि उसकी पत्नी की मौत हो चुकी हैं और वो हमेशा ऐसे ही कॉल गर्ल के साथ सेक्स करता है।उसने मेरे गाल को चूमते हुए कहा- तुम्हारी जैसी कॉलेज की लड़की मुझे बहुत पसंद है. उन्होंने मेरे बाजुओं को बड़े प्यार से सहलाते हुए कहा- क्या तुमने कभी सेक्स किया है?अब मैं दीदी से इतना तो खुल गई थी कि केले वाली बात बता सकूँ.

सपना- अच्छा जी दूध पीना है वो भी सीधा मुँह लगा कर … चलो सब मिलेगा … पर अभी नहीं, बाद में.

डांस करते हुए स्वीटी आंटी की कमर हिलती उछलती हुए बड़ी लाजवाब लग रही थी.

आलिया दर्द के मारे जोरों से चिल्ला उठी- ओहह मर गई … उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैंने उसकी चीख सुनी तो डर के मारे आलिया की चुत से लंड निकाल लिया. आपने अब तक की चुदाई की कहानी के पहले भागआंटी के साथ चुदाई की सुनहरी रात-1में पढ़ा था कि मारिया आंटी ने मेरा लंड पकड़ लिया था और वे मेरा लंड चूसने लगी थीं. पापा ने मुझे बारहवीं अच्छे नम्बरों से पास होने पर मोबाइल गिफ्ट किया था, जिस पर भैय्या ने खूब फटकार लगाई थी.

तो इस पर वो बोली- क्यों … आपकी घरवाली कौन सा कम है?मैंने कहा- हां वो भी मस्त माल है … पर आपकी बात ही कुछ और ही है … काश आप मेरी बीवी होती, तो पलकों पर बिठाकर रखता. कभी वो मेरे लंड के टोपे पर उंगली से सहला रही थी तो कभी मेरे लंड की मुठ मारने लग जाती थी. मैंने ज़ोर से किस किया और इसी के साथ में मैंने उनकी चूची को मसलना शुरू कर दिया.

थोड़ी देर बाद वसुंधरा ने मेरी कमर पर से अपनी गिरफ्त ढीली कर के अपना मुंह हल्के से बायीं ओर घुमाया और एक लम्बी सांस ली.

दीदी ने अब कुछ पलों का ब्रेक लिया और अपनी अल्मारी की तरफ चली गईं, वो अल्मारी से कुछ निकालने लगीं. प्रिया भाभी बोली- देवर जी आराम से करो … आपका लंड आपके भैया से बहुत लम्बा और मोटा है. मैं भी पूरी नंगी उन दोनों के बीच में मचल रही थी।अब मेरे दूध के निप्पल को कस कस कर अभय ने नोचना शुरू कर दिया.

फिर उसने एकदम से मेरे लंड को पकड़ा और अपने होंठों में अंदर ले लिया. उसकी निगाहें मुझे जाने के लिए मना कर रही थी, पर बिछड़ना तो पड़ता ही है।मैं रायपुर में उतर गया. इस स्टेशन पे बहुत सन्नाटा और अंधेरा था तो मुझे उम्मीद थी कि यहाँ पर मेरी चुदाई भी हो सकती है।अब जैसे ही मैं ट्रेन से नीचे उतरी, वो दोनों आदमी भी मेरे पीछे पीछे उतर गये.

उसने अपने मुंह से मेरा मुंह दूर करने की प्रतीकात्मक कोशिश की लेकिन मेरे लण्ड से अपना हाथ नहीं हटाया और टटोल कर मेरे लण्ड के साइज का अन्दाजा लगाने लगी.

जब मैं लोवर ना उतार सकी, तो मैंने परमीत की चूत को अपनी मुट्ठी में लेकर भींच लिया. सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार, मैं निक (बदला हुआ नाम) अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूँ। मैंने यहां बहुत सी सेक्स कहानियां पढ़ीं, जिनको पढ़कर मेरा भी मन किया कि मैं मेरे साथ हुई घटना को आपके साथ साझा करूं.

ट्रिपल एक्स बीएफ मूव्ही मेरा दोस्त कान में कहने लगा लगता है, तू भी इसे देख कर पागल हो गया है. उन्होंने चहकते हुए कहा- जी आप गीत के बड़े भाई … और मैं परमीत की बड़ी बहन हूँ.

ट्रिपल एक्स बीएफ मूव्ही मैंने उसकी चूत में लंड को रखा और एक ही धक्के में पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया. मैंने कहा- क्या उस लौंडे ने तुमको चार बार झाड़ दिया?वो चहकते हुए बोली- हां, पता है वो आज कोई सेक्स की गोली खा कर आया था इसलिए उसका झड़ ही नहीं रहा था.

अब मुझे किसी को जवाब देने की जरूरत भी नहीं थी, इसलिए मैं बहुत शॉपिंग करती और उसी के दिलाए हुए कपड़े पहनती.

xxx बाप बेटी

पार्टी खत्म होते होते रात के 12:30 बज गये थे, लगभग सभी लोग जा चुके थे. ये सुनकर सपना की आंखों में वासना की खुमारी चढ़ने लगी और वो मुझे प्यार से देखने लगी. इस सेक्स कहानी मेंअब तक आपने पढ़ा कि दूध देने आने वाले लड़के रोहित और संजू ने अपनी चुदाई खत्म कर ली थी और रोहित संजू से चिपक कर उसकी चूचियों को पकड़ कर मेरी बीवी के होंठों पर एक किस लेकर बिना कुछ कहे कमरे से निकल गया.

अब उसको क्या बताऊं कि जो बिमारी उसको हुई है उसको प्रेम रोग नहीं ‘चुत का भूत’ कहते हैं. एक मिनट बाद आलिया को दर्द से मुक्ति मिल गई और अब मैं उतने ही लंड को चुत में अन्दर-बाहर करने लगा. उसने मेरे लहंगे के अंदर ही मेरे चूतड़ों को पकड़ कर अपनी जीभ को मेरी चूत में घुसा दिया.

वसुंधरा के दायें हाथ की दो उंगलियां मेरे होंठों और दांतों के बीच आ गयी.

फिर उसका लंड ढीला होकर बाहर आने लगा तो हम लोग चारपाई के ऊपर ही लुढ़क गये और तेज तेज साँसें भरने लगे. तब तक आप मुझे ईमेल जरूर करें … और हां मौका मिले, तो किसी भाभी को चोदे बिना न छोड़ें. मैंने उसकी चूचियों को जोर से अपने हाथों से दबाया और उसकी चूचियों को पीते हुए उनका रस निचोड़ने लगा.

हमारे घर के ताल्लुकात, उनके घर से बहुत अच्छे थे, जिसके कारण मैं उनके घर में कभी भी आज आ जा सकता था. फिर एक स्टेशन आया बीच में … मुझे वहां उतरना तो नहीं था पर मैं जान बूझ कर वहां उतर गयी. वो लंड अन्दर बाहर करते हुए लगातार बोले जा रहा था- आह … ले साली और अन्दर ले …मैं भी उसे ललकारने लगी- उन्हह … और जोर से चोद … आह … और जोर से … कुछ नहीं हो रहा तुम्हारे लंड से मुझे … साले गांडू … बस इतनी ही दम थी … चोद भोसड़ी के …अपनी गांड उठा उठा कर मैं भी पूरी ताकत से चुदवा रही थी.

हमने पालक पनीर की सब्जी, दाल रोटी चावल, पापड़ सलाद तैयार करके टेबल पर सजा दिया. तो मैं घर आ गई।रात को सोचती रही कि क्या मस्त लंड है संजय का! मेरे मन में सेक्स की भावना आने लगी तो मैं उठी और अपने पति के पास गई क्योंकि मेरे पति अलग कमरे में सोते हैं.

मैं सोचने लगा था कि यदि इस मादरचोद अंकल की जगह मैं अपनी मॉम की चुदाई कर रहा होता तो बहुत प्यार से उनकी चूत की चुदाई करता. भाभी- मैं माल हूं?मैं- नहीं … आइटम नंबर वन हो आप!भाभी- जा मैं तुझसे बात नहीं करती. मेरी आंखें किसी भूखे कुत्ते से चमक उठीं और मैं कपड़े उतार कर उनकी चूत पर झपट पड़ा.

मम्मी चिल्ला चिल्ला कर आवाज कर रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… चोद दो मुझे … आआह … तेरा लंड पूरा अन्दर तक जा रहा है.

जब सुबह मेरी नींद खुली तब 10 बज रहे थे तो मैं बाथरूम में फ्रेश हुई और तैयार होकर उन अंकल से विदा ली. इस का कारण पुरुष के डी एन ए में है, शैय्या पर अपनी सहचरी के साथ अपनाये गये ऐसे आक्रामक क्रिया-कपालों से पुरुष को अपने पौरुष का अहसास होता है. अंशी बोली- तुमने तो अपना माल मेरे अन्दर ही डाल दिया है, अगर मुझे कुछ हो गया तो?मैंने उसे रुकने का कहा और बाहर मेडिकल स्टोर से उसको गर्भनिरोधक गोली लाकर दे दी.

उसने धीमे स्वर में पूछा- तुम्हारे साथ और कौन आया है?मैंने कहा- कोई नहीं … क्यों पूछ रहे हो?फिर उसने अपनी कुर्सी से उठ कर मुझे गले लगा लिया. आपको तो पता ही है कि शादी में बहुत सारे रिश्तेदार इकट्ठा हो जाते हैं और सबको कहीं न कहीं एडजस्ट करना होता है.

इस सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको मिताली भाभी की चुत चुदाई की कहानी लिखूँगा. इसके बाद राकेश ने अपनी पैन्ट व अण्डरवियर उतार दिया और मेरे ऊपर चढ़ गया. उसकी इस बात पर तो मेरा लंड पूरा हरकत में आ गया और मैं संजू को खड़े खड़े ही बेतहाशा चूमने लगा और नाईटी के ऊपर से ही उसके गदराई चुचियों को मसलने लगा.

सेक्स वीडियो xxx

जो मैं आपको अगली कहानी में बताऊंगा।आपको ये चालू लड़की की मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी? अपने विचार जरूर दें.

मेरे दोनों हाथ घूम कर वसुंधरा के दोनों कूल्हों पर जमे थे और अपनी उँगलियों और हथेलियों के नीचे मैं स्पष्टतः वसुंधरा की पैंटी का इलास्टिक महसूस कर रहा था. एक बार तो मुझे अच्छा नहीं लगा लेकिन फिर जब उसने मुझे चूमना शुरू किया तो मैं मन ही मन उसके मजे लेने लगी. मैंने कहा- तू? तू यहाँ क्या कर रहा है?”वो दरवाजा बंद करके मेरी तरफ बढ़ा।मैं बाहर की ओर जाने लगी.

प्रीति ने कहा- कोई आ जाएगा छोड़ो मुझे मैंने कहा राज तीन दिन के लिए बाहर गया है हमको किसी का डर नहीं है मैंने प्रीति की चूचियों को दबाने लगा और होंटों को अपने होंटों में भर लिया. मैं- अरे तो क्या हुआ … मैं भी तुम्हारी जैसी ही ढूंढ रहा था … खुल कर चुदने वाली आज मिली है. बीएफ पंजाबी हिंदीकाफी बड़ा घर था जिसके आधे हिस्से पर मेरा कब्जा था और बाकी आधा बड़े भैय्या का था.

दस मिनट की धाकपेल चुदाई के बाद मैंने भाभी की चुत में ही सारा माल डाल दिया. प्रकाश की बीवी ममता बहुत हंसमुख और जिंदादिल और उम्र में प्रकाश से चार पांच साल छोटी थी.

जीजा जी अपनी बहन आलिया के मम्मों को सहलाते हुए उसके गालों को चूमने लगे. वो बोली- मगर नानू … आपके सामने … कैसे उतारूं!मैंने कहा- इसमें शरमाने की क्या बात है, मैं तुम्हारा नाना हूं. उसके बाद ससुर के लंड ने बहू की चूत के अन्दर अपना जलवा दिखाना शुरू किया। थप थप की आवाज और सायरा के उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज से कमरा गूंजने लगा।थोड़ा सा खुलापन हम दोनों के बीच हो चुका था।कुछ देर बाद मैंने सायरा को गोद में लेकर धक्का लगाने लगा, मैं धीरे-धीरे मजे का डोज बढ़ाने लगा।पापा … बहुत मजा आ रहा है.

वो बड़ी तेज तेज स्वर में सिसकारियां लेने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआआ मज़ा आ रहा है. चुदाई पूरी होने के बाद हम दोनों एक अलग ही ऐसा आनन्द का अनुभव कर रहे थे … जैसे कि न जाने कब से अधूरे थे और अब चुदाई के बाद परिपूर्ण हो गए हों. इतनी हिम्मत तुम में कहां से आ गई?मैंने कहा- आपकी सेक्सी चुदाई के नशे ने मुझे निडर बना दिया है.

स्नेहा के जाने के बाद मैंने न जाने कितनी ही औरतों की चूत की प्यास बुझाई है.

इतना बोल कर मैं जाने लगा तो वो बोली- फिर तुम कहां पर जा रहे हो?मैंने कहा- मैं वापस छत पर चला जाता हूं. वो कहने लगा- बंध्या, ज्यादा नाटक मत कर, मैं जानता हूं कि तू और तेरी चूत दोनों ही गर्म हैं.

कोई दस मिनट पीठ दबाने के बाद, भाभी बोलीं- वो दवाई वाला तेल भी लगा दे. क्या मस्त चूचे थे उसके … एकदम गोलमटोल सफेद!मैं जोर जोर से उसके चूचों को चूसने लगा. इसी बीच मैंने पूरा का पूरा पेटीकोट उनकी कमर तक ऊपर कर डाला और मालकिन की गोरी गोरी बड़ी मादक गांड पूरी तरह से नंगी हो गई.

मैं बिस्किट मुँह में लेकर आधी उसे खिलाई, अपने मुँह में पानी भर कर उसे पिलाया. सुमित बोला- कितने दिन के लिए?सामने से जवाब मिला- महीना भर तो चल जायेगा भाई तेरा. इसके साथ ही मैं उन सभी से माफ़ी भी मांगती हूँ, जिन्हें मैं रिप्लाई नहीं कर पाई.

ट्रिपल एक्स बीएफ मूव्ही मुझे लगने लगा कि मालकिन की गांड की दरार में मेरा लंड ऊपर नीचे करूं … पर मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी. उसने कहा- अपनी ही सहेली से गाली खाने में हर्ज ही क्या है … और गीत डार्लिंग वैसे भी मुझे तू गालियां नहीं दे रही थी, मुझे तो तेरे प्यार की बेचैनी ने गालियां दी हैं.

सेक्सी सनी लियोन की सेक्सी

फिर उसने वन्दना को हम दोनों की स्टूडियो वाली मुलाकात के बारे में बताया. अब मैं अकेले घर में क्या करता … तो पूरे घर को लॉक कर के, खड़की दरवाजे सब बंद किए और नंगा हो गया. मैंने कामिनी के दोनों पैर अच्छे से फैला कर लंड को बुर के मुहाने पर सैट कर दिया.

ये कहते हुए मैंने परमीत का लोवर खींचा, पर परमीत ने लोवर पूरा उतरने से बचा लिया. अब पीछे वाला मेरे गांड पर जानबूझ कर बार बार अपना हाथ तो कभी अपना लंड टच कर रहा था. बीएफ पिक्चर साडीवालीइससे पहले कि मैं अपनी इस सेक्स कहानी को शुरू करूं, सबसे पहले मैं आपका परिचय अपनी दीदी और उस आदमी से करा देता हूँ, जिसके बारे में मैं आपको अपनी इस सेक्स कहानी में बताने जा रहा हूँ.

तो मैंने अपनी बहन कोमल को दोबारा अपनी चुत और गांड की चुदाई की पूरी कहानी बताई कि पूरी रात क्या क्या हुआ मेरे साथ! एक एक स्टेप उसे बताया.

एक कहानी खत्म होने पर मैंने एक दूसरी कहानी को पढ़ना शुरू किया, पहली वाली कहानी देवर भाभी पर आधारित थी, किन्तु अब जिस कहानी को मैं पढ़ रही थी, इसमें अपनी सहेली की चुदाई लाइव देखकर एक लड़की की कामवासना जागृत हो गई थी. फिर हमने कुछ देर तक बैठ कर बातें की और फिर उसके साथ मैंने कुछ बातें शेयर कीं.

बस उसी दिन भैया रोज रात को दीदी को पूरी मस्ती से रौंदते हैं … लंड पेलते हैं. मैं अब ये समझ गया कि आज रात जो कुछ भी होने जा रहा था, वो उन अंकल के लिए बिल्कुल ही रंगीन रात जैसा होने जा रहा था. बार-बार मेरा अंगूठा उसकी चूत पर फंसे जांघिया को उठा कर अंदर तक एक राउंड लगा कर आ रहा था.

शाम होते होते मेरे पति ने मेरी बहन की चूत को दो बार चोदा और एक बार मेरी चूत भी रगड़ी.

उसने मेरे हाथ को पकड़ लिया और मुझे अपनी ओर खींचते हुए बोला- दीदी सुन तो सही. इतनी हिम्मत तुम में कहां से आ गई?मैंने कहा- आपकी सेक्सी चुदाई के नशे ने मुझे निडर बना दिया है. आप जब नहाने गए थे, तब मैं घर ही आपको सरप्राइज देने के लिए छुप गई थी.

बीएफ ब्लू पिक्चर बिहारीमैंने उसको फाइल लेने के बहाने अपने पास सोफे पर बैठा लिया और प्रेजेंटेशन पर काम करने लगा. मैंने उसको बेड पर पटका और उसकी टांगों को उठा कर अपना लंड उसकी चूत में पेलना शुरू कर दिया.

एक्स वीडियो चलने वाला

थोड़़ी ही देर में मम्मी पर लुढ़क जाते हैं फिर मम्मी उनको हटाकर बाथरूम चली जाती है, पापा निरोध उतारकर पेपर में लपेट देते हैं और पजामा पहनकर सो जाते हैं. उसकी रेशम सी मुलायम त्वचा को छूने का मजा ही कुछ और था, हाथ जैसे रुई पर घूम रहे थे. मैंने कहा- फिर देख क्यों रहे हैं? करो ना बेबी … मुझे भी बहुत अच्छा लगता है.

बाद में मोना ने बताया कि वो खिड़की उसने डोली के ही खोली थी … ताकि डोली हमारी चुदाई देख ले … और मेरे लिए डोली तैयार हो सके. अन्दर चुदाई की कहानी लिखी जाने वाली थी, जिसे मैं अगले भाग में लिखूंगा. थोड़ी देर में उसे बहुत मज़ा आने लगा और अब बोल रही थी- आह … और तेज करो … फाड़ डालो … मेरी चुत बहुत परेशान करती है … और तेज आआआह.

उसकी चीख निकलने वाली थी लेकिन मैंने पहले ही उसका मुँह अपने मुँह से बंद कर दिया था. एक तो भैया का सुपारा इतना मोटा कि मेरे मुँह के अंदर पूरा आए ही मुश्किल से … और फिर जब हलक तक चला गया तो साँसें तो रुकनी ही थी।भैया को पता लगा कि मैं सहन नहीं कर पा रहा तो तुरंत मेरे मुँह से लंड निकाला और मुझे किस करने लगे।मैं लोड़े का स्वाद भूल पाता, इससे पहले ही भैया ने मुझे फिर से चूसने के लिए बोला. सपना- अच्छा … तो देर क्यों कर रहे हो आओ ना देखूँ … कितना दम है तुममें और तुम्हारे लंड में … आओ मसलो मुझे.

चाची की गांड में लंड घुसते ही उन्हें तेज दर्द हुआ, वो चिल्लाई- उई मर गयी … निकालो निकालो. मैंने देखा उसने उस दिन गुलाबी रंग का सूट पहना हुआ था, वो बहुत कामुक लग रही थी.

उसने काफी कोशिश की मेरी ब्रा को खोलने की लेकिन हुक कहीं पर अटक गया था.

तब मैंने उससे पूछा- कल तुम कहीं जा रहे हो क्या?प्रीत- नहीं … क्यों क्या हुआ?मैं- आज यहीं रुक जाओ, सुबह भाई कॉलेज चला जाएगा, तब मैं घर में अकेली रहूंगी … इसलिए पूछा. एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ जबरदस्तवो एकदम मस्त होकर आवाज करने लगीं- आह … जानू आज से मैं बस तुम्हारी हो गई … मुझे जब चाहे तब चोद लेना … आज से मैं तुम्हारी रंडी हो गई … मुझे तुम जब भी बुलाओगे, मैं चुदने चली आऊंगी. हिंदी ऑडियो बीएफ सेक्समैंने कहा- शुरुआत कैसे करूं?उन्होंने कहा- मेरी एक सहेली है, जिससे मैंने तुम्हारे बारे में चर्चा की थी. मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और फिर से पूछा- बोलो ना बहन … भाई का लंड कैसा लग रहा है.

कनाट प्लेस में एक खूबसूरत रिस्ट वाच खरीद कर मैंने उसको गिफ्ट की जिसको उसने तुरंत पहन लिया.

एक दो ने तो जो मेरे शहर के नज़दीक रहती हैं, मुझसे चुदने की इच्छा भी जाहिर की जो शायद बहुत जल्दी पूरी भी हो जाएगी. मैंने देखा दीदी बहुत परेशान थी, तो मैंने बोला- दीदी एक बात पूछूं?दीदी- पूछो. आपने मेरी शैदाई बन चुकी गीत की कलम से इस सेक्स कहानी के पिछले भाग में पढ़ रहे थे.

मुझे थोड़ा दर्द हो रहा था, पर शायद संदीप को इसी में आनन्द आ रहा था. मैं समझ गया कि जीजा जी ने अपनी बहन आलिया की गांड में लंड पेल दिया है. मैं क्लास में बैठी संदीप की ही यादों में खोई रही, कौन आया क्या पढ़ाया, कुछ पता नहीं.

ब्लू फिल्म ओपन शॉट

इस समय वैसे भी हमारे अलावा कोई घर पर होता नहीं, चाचा तो सवेरे ही काम पर निकल जाते हैं और रात को ही लौटते हैं. दीदी बोली- अरे पी ले, जब तेरी चूत में लंड जायेगा तो दर्द का पता भी नहीं चलेगा. उनका आदेश सुनकर मैं बहुत ही खुश हुआ और मैं झट से जाकर पलंग पर बैठ गया.

मैं जैसे ही आलिया की चुत को चाटने लगा, तो आलिया एकदम से सिसक गई और बेडशीट को पकड़कर कसमसाने लगी.

अब हम उपहार लेकर उसके दुकान से निकल गए और वो दूर तक हमें देखता रहा.

मैं उसे यूं देख कर जितनी चिंतित थी, उससे ज्यादा मेरी चिंता इस बात को लेकर थी कि उसका लंड खड़ा नहीं था. दोस्तो, मेरी ये सेक्स कहानी यहीं खत्म कर रहा हूँ, आपको पसंद आई या नहीं … प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताइएगा. सेक्सी फिल्म बीएफ सेक्सी बीएफशाम को दीदी कोचिंग चली गई … मैं जल्दी से उनके कमरे में गया और उनकी किताब से उस कागज को निकाल कर पढ़ने लगा.

आलिया- आहह ओह भाई याह अम्मह आह ओह भैया आपने तो मेरी गांड की मां चोद दी. मनु की चुत चिकनी भी थी, शायद आज-कल में ही झांटों को साफ़ किया गया था. ममता खाना बहुत स्वादिष्ट बनाती थी पर राजन ने देखा कि प्रकाश ने बहुत कम खाना खाया और चुप ही रहा.

जब दूसरी बार मैं उसके घर पर गया तो उसने एक काले रंग की साड़ी पहनी हुई थी. अब आपका ज्यादा समय न लेते हुए मैं अपनी गर्लफ्रेंड के साथ हुए अपने पहले अनुभव को शेयर करना चाहूंगा.

कुछ देर के बाद मैंने दरवाजे की घंटी सुनी, तो मैंने दरवाजा खोल दिया.

हम दोनों ही सेक्स करना चाहते थे, पर कहीं जगह का जुगाड़ नहीं बन पा रहा था. वो मेरे इस हमले हड़बड़ा गईं और जोर जोर से ‘आहह … ओह्ह!’ की आवाज़ें करने लगीं. मालकिन- सुरेश … जरा मेरे पैर तो दबा दे … कम से कम दिन में अपने हाथों से इतना सा तो काम कर ही दिया कर!मुझे लग रहा था कि मालकिन मुझे बड़ी बड़ी गालियां देगी, पर वो तो सिर्फ पांव दबाने को कह रही है.

सेक्सी वीडियो बीएफ देहाती हिंदी इस बार मैंने अपनी 3 उंगली अंदर डाल दी और उसे अपने हाथ से चोदने लगा. अंकल ने कहा- बेटी आती जाती रहा करना!मैं जवाब में सिर्फ मुस्कुरा दी और वहां से चल दी.

मैंने उछल कर उसके बालों को पकड़ लिया और उसका सर जोर से अपनी चूत में दबा दिया. मेरा साथ हुई इस घटना में जिस लड़की का जिक्र मैं करने जा रहा हूं, वो मेरे साथ ही मेरे ही कॉलेज में पढ़ती थी. मैंने पूछा- क्या हुआ जान?वो बोली- जाओ, मुझे अब चूसना ही नहीं तुम्हारा लंड.

दूल्हा दुल्हन फोटो स्टाइल hd

उसके बाद एक गोरा सा लड़का दीदी के पास आया और उनको लेकर एक तरफ चला गया. फिर हम तीनों ने साथ खाना खाया, सोनू थका होने के कारण जल्दी कमरे में चला गया. हम दोनों के बदन पसीने में भीग चुके थे लेकिन पहले सेक्स का मजा भी इतना मदहोश करने वाला था कि कुछ भी होश नहीं रह गया था.

इस स्टेशन से कुछ दूरी पे ही मेरा स्टेशन था और मुझे मालूम था कि यहाँ से अभी कुछ देर में दूसरी ट्रेन जाएगी तो मैं उससे चली जाऊंगी. उस दिन फिर मैं जल्दी से एग्जाम देकर दीदी के कॉलेज के पास पहुंच गया और गेट के बाहर खड़ा था … क्योंकि कॉलेज के मेन गेट में ताला लगा था.

अगर आप बुरा ना माने तो मैं रात यहीं रुक जाऊँ?उसने कहा- आप मुझे एक कंबल दे दो और मैं अपने ऑटो में ही सो जाऊँगा.

एक बार उन्होंने मुझसे ऐसे ही पूछा- रूचि, तुम कैसा सेक्स करना पसंद करती हो?मैंने उनसे कहा- सच बताऊं अंकल?उन्होंने मुझसे कहा- रुचि देखो, मैं तुम्हें अपना दोस्त मानता हूं. ”वो थोड़ा झिझकी लेकिन मेरे दोबारा कहने पर उसने अपनी पैन्टी करीब चार इंच नीचे खिसका दी जिससे उसकी बुर के बाल दिखने लगे. मैं भी अंकल से चुदाई के लिए तैयार थी, मेरी कामुकता मेरे काबू में नहीं थी क्योंकि काफी दिनों से मेरी चूत में लंड नहीं गया था.

नौकरानी समझ चुकी थी कि मेरा और इनका क्या रिश्ता है।मैंने इनको दूर किया।तब ये बोले- तुम गेस्ट रूम में चले जाओ और नहाकर फ़्रेश हो जाओ।मैं गेस्ट रूम आयी और बाथरूम में चली गयी।इतने में नौकरानी ने बाथरूम का दरवाजा खटखटाया. मैंने ड्रावर से कंडोम लेकर लंड पर लगा लिया और उसके बाद जिया के ऊपर चढ़कर उसके बदन को चूमने लगा. मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि मेरी बहन इस समय मेरे ऊपर बैठी है और आज वो मुझसे चुत चुदवाएगी.

तो असलम अंकल ने कहा- अब इसको चोद देते हैं, अब बर्दास्त करना मुश्किल हो रहा है.

ट्रिपल एक्स बीएफ मूव्ही: मुझे नहीं पता था कि इन छुट्टियों में मुझे एक खुशबूदार चूत मिलने वाली है. हुआ यूं कि चाची के पति फौज में हैं और वो उनको शांत नहीं कर पाते हैं.

कुछ ही देर में वसुंधरा के जिस्म में उठ रही काम-हिलोर कम होते-होते बिल्कुल बंद हो गयी. जब मैं हिम्मत करके उठने लगी तो मुझे अपने पूरे बदन में दर्द महसूस हो रहा था. उन्हीं दिनों मैंने फिट रहने के लिए और अच्छा फिगर बनाने के लिए जिम जाना शुरू कर दिया.

जब घोड़े से उतरा तो मेरे नीचे वाले घोड़े (लंड) के मुंह में झाग बन चुके थे.

मैंने केले को अपनी आंखों के सामने लाया, वो थोड़ा मुलायम सा हो गया था, वो अधपका केला था, नहीं तो अब तक तो कब का पिचक चुका होता. मैंने कहा- सच्ची?वो बोली- और क्या… मैंने तो अपनी मां को भी कई बार अपने मामा के साथ देखा है. अविनाश- मैं तुम्हारी दीदी की बैंड बजाऊंगा और तुम मेरी बहन की बजाना.